add by google

add

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | 160 रुपये में दिल्ली पहुंचा रहीं डग्गामार बसें





बदायूँ,  | एआरटीओ की अनदेखी से दर्जनों डग्गामार बसें दिल्ली तक सवारियां ढो रहे हैं। इससे न सिर्फ रोडवेज को नुकसान हो रहा है, बल्कि सुबह साढ़े चार बजे से लेकर आधी रात तक डग्गामार बसें बेरोकटोक संचालित हो रही हैं। इन बसों में न सिर्फ रोडवेज बस के बराबर किराया वसूल किया जाता है, बल्कि सवारियां भूसे की तरह भरी जा रही हैं। परिवहन निगम की व्यवस्था न होने की वजह से मजबूरी में लोग इन बसों से जाने के लिए मजबूर हो रहे हैं।
बिल्सी, इस्लामनगर, बहजोई, संभल, गजरौला के रास्ते दिल्ली के लिए सुबह तड़के ही बस अड्डों पर लग जाती हैं। इन पर बिना टिकट दिए ही 160 से 180 रुपये दिल्ली तक के वसूल किए जाते हैं। उधर से यह बसें दिल्ली बार्डर पर खड़ी होकर गजरौला, संभल, बहजोई, बिल्सी बिसौली, सहसवान के रास्ते होकर बदायूं पहुंचती है। इन्हें रोकने के लिए अभियान चलाकर कार्रवाई की जाए तो तमाम डग्गामार बसों पकड़ में आ सकती हैं।
इन बसों के संचालक राजनीतिक रसूखदार होने की वजह से परिवहन विभाग इन बसों पर कार्रवाई करने से बचता रहता है। वहीं, रास्ते में पड़ने वाले जिलों के अधिकांश अधिकारियों को ले-देकर मना लिया जाता है। इन बसों से सवारियों के साथ ही रेडीमेड कपड़े, प्रोविजनल स्टोर सामान, किराना स्टोर, मोबाइल समेत तमाम माल आता है, जिससे वाणिज्यकर विभाग का नुकसान भी होता है। बावजूद इसके सभी विभाग चुप्पी साधे बैठे हैं, जिससे डग्गामार वाहन संचालित हो रहे हैं।

दिवाली पर त्योहार और ककोड़ा की तैयारियों में लगा हुआ है। हर महीने आठ से 10 डग्गामार बसों पर कार्रवाई की जाती है। आगे भी डग्गामार बसों के संचालन पर रोक लगाने के लिए अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।
-अमिताभ राय, एआरटीओ 

Comments

add by google

advs