add by google

add

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | लोकल फेरा लगा कर ही दिल्ली जाएगी बसें





बदायूं : भाई दूज की तैयारी में रोडवेज और रेलवे दोनों ने ही तैयारी कर रखी हैं पर रोडवेज की तैयारी और प्ला¨नग काफी मजबूत दिखाई दे रही हैं। रेलवे ने तय किया है कि हर रेलवे कोच में आरपीएफ जवान की मौजूदगी रहे ताकि होने वाली छेड़छाड़ की घटनाओं पर पूरी तरह से पाबंदी लग सके। रोडवेज प्रबंधन ने तय किया है कि दिल्ली जाने वाली कुछ सेवाएं कैंसिल की जाएगी और जो सेवा दिल्ली जाएगी वो पहले एक फेरा लोकल में लगाएगी।

उप्र परिवहन निगम ने भाई दूज वाले दिन भाई बहनों को दिक्कत न हो इसके लिए प्रबंध करते हुए क्षेत्रीय सहायक प्रबंधक को अपनी तरह से निर्णय लेने को कहा है। यही नहीं रोडवेज बदायूं डिपो को अधिकाधिक मुनाफा कमा कर देने के निर्देश दिए गए हैं। रोडवेज में कंडक्टर ड्राइवर और कार्यशाला के कर्मियों के लिए प्रोत्साहन योजना भी रोडवेज सेवाओं को काफी बल दे रही हैं। माना जा रहा है कि आर्थिक रूप से प्रोत्साहित किए जाने के चलते ही इस बार कोई कर्मी अवकाश पर नहीं है और यातायात बेहतर और सुगम होकर चल रहा है। यात्रियों की सहूलियत के लिए सुबह चार बजे से बसों का पूरी ताकत के साथ संचालन किया जाएगा। हर पंद्रह मिनट पर बस देने का निर्णय लिया है ताकि भीड़ न लगे और यात्रियों को कोई दिक्कत न हो। चारों ही तरफ बसों को दौड़ाने के लिए प्ला¨नग कर ली गई है। सर्वाधिक दिल्ली के लिए बसों को संचालित किया जाएगा और दिल्ली की ही कुछ बसों को लोकल में भी दौड़ाने की तैयारी है। इससे यात्रियों को सहूलियत मिलेगी तो साथ ही में दिल्ली के लिए निकलने वाले यात्री भी मिलते जाएंगे।

दिल्ली जाने वाली बसों के लोकल में भी फेरे लगवाएंगे ताकि यात्रियों को कोई परेशानी न होने पाए। हमारो पास वर्तमान में 142 बसों की फ्लीट है। पूरी ताकत से इसमें जुटा जाएगा। हमारी टीम वैसे भी बेहतर कर रही है कोई शिकायत नहीं मिली है।

 राजेश ¨सह, एआरएम

बदायूं डिपो

भाई दूज के दिन सफर करने के दौरान रोडवेज ने पहल की है। तय किया है कि सफर करने वाली हर बहन को सीट दी जाएगी। स्टैं¨डग में बसें न ले जाने और अगली बस का प्रबंध कराने को भी कहा गया है ताकि मुनाफा भी बेहतर मिले और जनता में रिस्पासं भी बढि़या जाए। परिवहन सेवा को बेहतर करने की दिशा में यह अनूठा प्रयास करने की योजना है। एआरएम ने बताया कि सफर के दौरान महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। सीटें फुल हैं तो कंडक्टर को इसकी जानकारी संबधित डिपो से शेयर करने को कहा गया है।

रेलवे स्टेशन पर भी भाई दूज की तैयारी की गई है। कासगंज की तरफ तीन ट्रेनें और बरेली की तरफ दो ट्रेनों के संचालन के बाद अब जीआरपी और हमारी आरपीएफ की जिम्मेदारी बढ़ गई है। तीन ट्रेनें कासगंज और दो ट्रेनें बरेली की संचालित हैं। इनके जरिए लगातार ही आवाजाही हो रही है। पर कोशिश करेंगे हर कोच में आरपीएफ जवान की मौजूदगी पहुंचे ताकि असामाजिक तत्वों पर नकेल पड़ सके। कोई अवांछित तत्व सामने आएगा तो कड़ी कार्रवाई करेंगे। सुबह के वक्त पहली ट्रेन के समय में अतिरिक्त भीड़ रहती है।

दिनेश चंद, इंस्पेक्टर

आरपीएफ पोस्ट बदायूं

Comments

add by google

advs