add by google

add

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | विधानसभा चुनाव : एक नहीं, छह चेहरों पर बीजेपी ने लगाया यूपी में दांव






बीजेपी यूपी में एक या दो नहीं बल्कि आधा दर्जन चेहरे लेकर चुनाव मैदान में उतर रही है. चुनाव को व्यक्ति केंद्रित न बनाने की रणनीति लेकर पार्टी ने साफ कर दिया है कि वो इस चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं करेगी.

पांच नवंबर से सहारनपुर से शुरू हो रही पार्टी की परिवर्तन यात्राओं में रथों के ऊपर छह प्रमुख नेताओं के चेहरे लगाए जा रहे हैं. ये हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय गृह मंत्री और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह, मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती, केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य.

पीएम और शाह के अलावा बाकी चार नेताओं के चेहरों को लगाने के पीछे बीजेपी की रणनीति जातीय समीकरण साधना है. जहां राजनाथ सिंह और कलराज मिश्र अगड़ों की नुमाइंदगी करते हैं वहीं उमा भारती और केशव प्रसाद मौर्य पिछड़े वर्ग की. बीजेपी अभी तक यही कहती आई है कि सीएम उम्मीदवार के बारे में संसदीय बोर्ड तय करेगा.

लेकिन परिवर्तन यात्राओं के पोस्टरों से साफ है कि बीजेपी किसी चेहरे को आगे नहीं करेगी. पार्टी महासचिव भूपेन्द्र यादव ने बताया कि परिवर्तन यात्राओं की शुरुआत 5 नवंबर से होगी. सहारनपुर से अमित शाह पहली यात्रा की शुरुआत करेंगे. 6 नवंबर को झांसी से दूसरी यात्रा, 8 को सोनभद्र से तीसरी और 9 नवंबर को बलिया से चौथी यात्रा शुरू होगी. ये सभी यात्राएं 24 दिसंबर को लखनऊ में समाप्त होंगी जहां परिवर्तन सभा को प्रधानमंत्री मोदी संबोधित करेंगे.


इन यात्राओं में कुल 17000 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी. यात्राओं के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की छह बड़ी सभाएं होंगी. साथ ही राष्ट्रीय नेताओं की 30 बड़ी सभाएं होंगी. इनमें शाह, राजनाथ सिंह, कलराज मिश्र की 10-10 सभाएं और उमा भारती की 6 सभाएं होंगी. यादव के मुताबिक 75 जिला मुख्यालयों में 4500 स्वागत कार्यक्रम होंगे.

हर यात्रा प्रति दिन 100 किलोमीटर चलेगी. सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा. इसमें भारतीय युवा मोर्चा के 15000 कार्यकर्ताओं को परिवर्तन सारथी बनाया गया है. ये सभी पंचायतों में जाकर परिवर्तन चौपाल करेंगे. इस मौके पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सपा-बसपा पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि 'सपा बसपा ने यूपी को ईस्ट बंगाल मोहन बाग़ान बना रखा है. एक बार हम एक बार तुम आएंगे.'

प्रसाद के मुताबिक, 'लोहिया का समाजवाद परिवार का बंधक हो गया और कांशीराम का दलित उत्थानवाद एक व्यक्ति का कल्याण बन कर रह गया.' प्रसाद ने कहा कि यूपी की पहचान परिवार, अहंकार, अत्याचार अपराध और भ्रष्टाचार बन कर रह गई है. आज यूपी को चाहिए गुड गवर्नेंस और आतंकवाद के खिलाफ एक स्वर में बोलना.

प्रसाद ने लोगों को कल्याण सिंह के शासन की याद दिलाई जब राज्य अपराधमुक्त था और राजनाथ सिंह के शासन की भी जिसमें दलित, पिछड़े वर्ग के कल्याण के लिए कार्यक्रम चलते थे. बीजेपी ने यूपी के लिए 'पूर्ण बहुमत, संपूर्ण विकास, भाजपा पर है विश्वास' का नारा दिया है.

Comments

add by google

advs