: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | रुदायन,पत्नी को बंधक बना युवक को काट डाला

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | रुदायन,पत्नी को बंधक बना युवक को काट डाला






इस्लामनगर थाना क्षेत्र के कस्बा रुदायन में दोस्त बनकर आए तीन हमलावरों ने घर के अंदर ही पत्नी को बंधक बनाकर सफाई कर्मचारी की गला रेतकर हत्या कर दी। नृशंस तरीके से घटना को अंजाम देने के बाद हमलावर फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने हत्या की वजह तलाशी लेकिन कोई वजह सामने नहीं आई। पुलिस ने मृतक की पत्नी की तहरीर के आधार पर तीनों अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर तफ्तीश शुरू कर दी है।
कस्बा रुदायन निवासी 25 वर्षीय श्रीपाल पुत्र राधेश्याम अपने पिता के देहांत के बाद वहीं की न्यू पीएचसी पर बतौर सफाई कर्मचारी लग गया था। बुधवार की सुबह तीन लोग दो बाइकों से उसके घर पहुंचे और उसको इस्लामनगर में सुरेश चाचा का मकान दिखाने की बात कहकर ले गए। देर शाम वह तीनों उसके साथ घर लौटे और खाना खाया। खाना खाने के बाद तीनों ने उसे पीटना शुरू किया तो पत्नी प्रीति ने पति को बचाने की कोशिश की। इस बीच तीनों हमलावरों ने प्रीति को एक कमरे में बंद दिया। इसके बाद चाकुओं से गला रेतकर श्रीपाल को मौत के घाट उतार दिया। खूनी वारदात को अंजाम देने के बाद वह तीनों बाइक से ही फरार हो गए। देर रात किसी तरह प्रीति के परिजन मौके पर पहुंचे तो सिर कटी लाश देखकर उनके होश उड़ गए। कमरे में चीख रही प्रीति को बाहर निकाला गया तो उसने घटना के बारे में परिजनों को जानकारी दी। मामले की जानकारी होने पर कस्बा के तमाम लोग मौके पर पहुंच गए। मामले की जानकारी होने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने सुरेश चाचा या फिर हमलावरों के बारे में पूछताछ की तो वह कुछ भी नहीं बता पाई। घटना की वजह काफी देर तक तलाशने के बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। पुलिस मामले को लेकर कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं है।
श्रीपाल की हत्या के बाद पत्नी प्रीति के मुताबिक हमलावरों ने जब उसको कमरे में बंद कर दिया तो काफी देर तक मारपीट की आवाज आती रही। इस बीच श्रीपाल ने एक बार तेजी से आवाज देते हुए कहा कि प्रीति मोय बचाए ले इसके बाद उसकी कोई आवाज नहीं आई। वह तभी समझ गई थी कि उसके ¨सदूर का कत्ल हो गया।
मौत के घाट उतारे गए श्रीपाल के पिता राधेश्याम न्यू पीएचसी पर सफाई कर्मचारी थे। उनकी मौत के बाद मृतक आश्रित कोटे में उसको नौकरी मिली थी। घर में सबकुछ ठीकठाक चल रहा था। दीवाली का त्योहार अपने दोनों बच्चों और पत्नी के साथ उसने धूमधाम से मनाया था। मुहल्लेवासियों की मानें तो उसकी किसी से रंजिश भी नहीं थी फिर भी इतनी बेरहमी से उसको मौत के घाट उतार दिया गया यह बात सभी के जेहन में गूंज रही है।
मृतक की पत्नी की तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। हत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है, जल्द ही मामले का वर्कआउट कर दिया जाएगा। पुलिस तेजी से काम कर रही है।
  संजय राय, एसपी देहात

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas