: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 08/27/16

इंप्रूवमेंट की परीक्षा सात केंद्रों पर हो रही रुविवि

     बदायूं : शुक्रवार को जिले के सात परीक्षा केंद्रों पर रुहेलखंड विश्वविद्यालय की इंप्रूवमेंट परीक्षा ह


बदायूं : शुक्रवार को जिले के सात परीक्षा केंद्रों पर रुहेलखंड विश्वविद्यालय की इंप्रूवमेंट परीक्षा हुई। सुबह की पाली में बीए, बीएससी फाइनल इयर की परीक्षा हुई। जबकि शाम की पाली में स्नातक द्वितीय वर्ष की परीक्षा हुई। परीक्षा केंद्रों पर विद्यार्थियों की सघन तलाशी ली जाती रही। केंद्रों के आंतरिक सचल दल नकलविहीन परीक्षा के लिए कक्षों में सर्च अभियान चलाते रहे।
राजकीय महाविद्यालय को पांच डिग्री कॉलेजों के विद्यार्थियों का परीक्षा केंद्र बनाया गया। इसमें राधा कृष्ण महाविद्यालय, अब्दुल्ला डिग्री कॉलेज, मुस्लिम डिग्री कॉलेज, राम भरोसे सिहं मेमोरियल डिग्री कॉलेज के विद्यार्थी परीक्षा दे रहे हैं। सुबह की पाली में स्नातक में सौ परीक्षार्थियों ने परीक्षा में भाग लिया। प्राचार्य डॉ. प्रमोद कुमार वाष्र्णेय ने कहा कि परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न हुई है। आंतरिक सचल दल लगातार चे¨कग अभियान चलाता रहा। वहीं दास कॉलेज में शांतिपूर्वक परीक्षा संपन्न हुई। प्राचार्य डॉ. जीएस रावत ने कहा कि परीक्षा बेहतर ढंग से हुई है। ऐस इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नॉलोजी परीक्षा केंद्र पर भी शांतिपूर्वक परीक्षा संपन्न हुई। गत दिवस केंद्र पर कुलपति ने छापा मारा था। हालांकि यहां व्यवस्थाएं और परीक्षा दुरुस्त पाई गई थीं। जिले के विभिन्न पच्चीस डिग्री कॉलेजों के छात्र-छात्राएं इंप्रूवमेंट परीक्षा में भाग ले रहे हैं।

परीक्षा संकलन केंद्र बना राजकीय डिग्री कॉलेज

    बदायूं : रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने राजकीय महाविद्यालय को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। रुविवि ने जिले में



बदायूं : रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने राजकीय महाविद्यालय को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। रुविवि ने जिले में राजकीय महाविद्यालय को संकलन केंद्र बनाया है। लिहाजा जिले के सभी सात परीक्षा केंद्रों की उत्तरपुस्तिकाएं राजकीय में जमा होंगी। रुविवि की मुख्य परीक्षा में भी कॉलेज संकलन केंद्र की जिम्मेदारी संभालेगा। कॉलेज प्रशासन ने इस जिम्मेदारी पर खुशी जताते हुए बेहतर व्यवस्था बनाए जाने का भरोसा जताया है।
जिले में रुविवि की परीक्षा के लिए अब तक दास कॉलेज संकलन केंद्र हुआ करता था। मगर अब राजकीय महाविद्यालय को संकलन केंद्र बनाया गया है। लिहाजा सभी सातों परीक्षा केंद्रों की कॉपी कॉलेज में जमा हो रही हैं। प्राचार्य डॉ. प्रमोद कुमार वाष्र्णेय ने कहा कि विवि ने जो जिम्मेदारी सौंपी है। उसे बेहतर ढंग से निभाया जाएगा। केंद्र पर कॉपी जमा करने की व्यवस्था की गई है। उसकी सुरक्षा व्यवस्था भी चौक चौबंद हैं।

स्वच्छता का पैमाना 16 परिषदीय स्कूलों में नापा जाएगा


बदायूं : जिले के संचालित 16 परिषदीय विद्यालय स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के लिए चुने गए हैं। आवेदन के स


बदायूं : जिले के संचालित 16 परिषदीय विद्यालय स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के लिए चुने गए हैं। आवेदन के समय विद्यालयों की उपलब्ध कराई गई सूचना के आधार पर ऑनलाइन रे¨टग की गई है। शासन की ओर से जिला बेसिक शिक्षा विभाग को आनलाइन सूची मुहैया कराई गई है। डीएम के अनुमोदन के बाद गठित टीम से विद्यालयों का निरीक्षण किया जाएगा। प्रधानाध्यापकों की मुहैया कराई गई सूचना व शासन से आई सूची का मिलान किया जाएगा और रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। सूचनाएं सही पाई जाने पर संबंधित विद्यालयों को स्वच्छ विद्यालय का पुरस्कार दिया जाएगा।
परिषदीय विद्यालयों के लिए स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना शुरू करने के बाद 31 जुलाई तक ऑनलाइन आवेदन लिए गए थे। आवेदन के समय ¨बदुवार सूचनाएं भरी गई थीं। विद्यालयों में बच्चों को दी जानी वाली सुविधाओं के आधार पर सिस्टम ने आटोमेटिक रे¨टग की है। जिसमें जिले के 6 विद्यालयों को ब्लू स्टार मिलने पर राष्ट्रीय स्तर व 6 परिषदीय विद्यालयों को यलो स्टार मिलने पर राज्य स्तर के पुरस्कार के लिए चयनित किए गए हैं, जबकि 3 विद्यालयों को आरेंज स्टार प्राप्त हुआ है। 90 से 100 प्रतिशत मानदंड प्राप्त करने वालों को ग्रीन स्टार दिया गया है, जिले के किसी भी विद्यालय को यह स्टार प्राप्त नहीं हो पाया है। ब्लू स्टार प्राप्त करने वाले विद्यालयों में 6 विद्यालयों ने 75 से 89 प्रतिशत और यलो स्टार वाले 6 चयनित विद्यालयों ने 51 से 74 प्रतिशत मानदंड पूरा किया है। 35 से 50 प्रतिशत प्राप्त करने वालों को ओरेंज स्टार दिया गया है। चयनित विद्यालयों की सूची आनलाइन प्राप्त करने के बाद डीएम के पास भेजी जाएगी। शासनादेश के अनुसार गठित कमेटी के सदस्य विद्यालयों में जाकर प्रधानाध्यापकों की सूची से मिलान करेंगे। आवेदन के दौरान मुहैया कराई गई सूचना गलत होने पर विद्यालय की निगेटिव रिपोर्ट भेजी जाएगी। संबंधित काम देख रहीं बालिका शिक्षा की जिला समन्वयक सीमा चौहान ने बताया कि जिले के 16 विद्यालयों की सूची प्राप्त हुई है। निरीक्षण के बाद रिपोर्ट भेजी जाएगी।
यह हैं निर्धारित तिथियां :
जिला स्तरीय पुरस्कार के लिए अंतिम तिथि 31 अगस्त निर्धारित की गई है। एक सितंबर से 30 सितंबर तक राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए विद्यालयों का चयन होगा। सात अक्टूबर को राज्य स्तर से रिपोर्ट मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजी जाएगी। 25 नवंबर को राष्ट्रीय स्तर पर विद्यालयों को स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार दिया जाएगा।

जांच दस के सिक्कों पर बनी भ्रम की स्थिति बरकरार


बदायूं : दस के सिक्के नकली होने पर बनी भ्रम की स्थिति अभी तक दूर नहीं हुई है। करीब महीना भर से बाजार


बदायूं : दस के सिक्के नकली होने पर बनी भ्रम की स्थिति अभी तक दूर नहीं हुई है। करीब महीना भर से बाजार में नकली सिक्के होने की अफवाहें फैली हैं। डीएम ने एसएसपी और एलडीएम से इसकी जांच कराने की बात जरूर कही थी। मगर आज तक हुआ कुछ नहीं। अलबत्ता बाजार में दस के सिक्कों का चलन बंद हो रहा है। न ही दुकानदार सिक्के ले रहे हैं और न ही ग्राहक। जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति सिक्कों के नकली होने की शिकायत करता है। तब इसे आरबीआइ को भेजा जाएगा। जांच की जाएगी।
बाजार में नकली सिक्कों की अफवाहों को लेकर दैनिक जागरण ने सप्ताह भर पहले खबर प्रकाशित की थी। डीएम सीपी त्रिपाठी से इस संबंध में बात की गई। उन्होंने कहा कि इसकी अभी तक लिखित शिकायत नहीं मिली है। फिर भी एसएसपी और जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक को इस बावत बताया जाएगा। जांच कराई जाएगी। सप्ताह भर बाद भी प्रशासन की ओर से नकली सिक्कों पर भ्रम की स्थिति नहीं दूर की जा सकी है। अलबत्ता बाजार में लगातार दस के सिक्कों को लेकर तीखी नोकझोंक के मामले सामने आ रहे हैं। दुकानदारों का कहना है कि नकली सिक्के का हवाला देकर ग्राहक ही नहीं लेता। दुकानदारों के पास सिक्कों के ढेर लगने लगे हैं। शुक्रवार को जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक ने कहा कि अगर कोई नकली सिक्का बताकर नहीं लेता है। मेरे कार्यालय में इसकी लिखित शिकायत करें। किसी को शक है कि दस का सिक्का नकली है। सिक्के के साथ वह भी शिकायत करे। बाजार में नकली सिक्के नहीं हैं। बस एक भ्रम बना है। जांच में सही सिक्का होने के बावजूद भी नहीं लिया गया, तो कार्रवाई की जाएगी।

कार्रवाई न होने पर दलित महिलाओं ने कोतवाली घेरी

            बदायूं : सिपाहियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज न होने से आक्रोशित दलित समाज की दर्जनों महिलाएं                             कोतवाली घेरी

बदायूं : सिपाहियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज न होने से आक्रोशित दलित समाज की दर्जनों महिलाएं कोतवाली पहुंची और कार्रवाई किए जाने की मांग की। पुलिस की ओर से जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने पर महिलाएं शांत हुई। इधर, सफाई कर्मचारियों ने सिपाहियों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।
कोतवाली पहुंची महिलाओं का कहना था कि 22 अगस्त की शाम नुन्हेर की दलित बस्ती में महिलाएं बैठी थीं। आरोप है कि तभी वहां पहुंचे कोतवाली में तैनात दो सिपाहियों ने महिलाओं के साथ छेड़छाड़, अभद्रता और मारपीट करते हुए कपड़े फाड़ दिए। पुलिस ने सिपाहियों की ओर से एक दर्जन लोगों के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कर लिया लेकिन दलित महिलाओं की ओर से तहरीर दिए जाने के बावजूद अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है। इसी को लेकर महिलाओं ने कोतवाली पर प्रदर्शन किया और सिपाहियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। प्रभारी कोतवाल कश्मीर ¨सह यादव ने महिलाओं को कार्रवाई का आश्वासन दिया। तब जाकर महिलाएं शांत हुईं।
इधर, उप्र सफाई कर्मचारी संघ के नगराध्यक्ष मुकेश और महामंत्री मनोज ने कहा कि दलित उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। महिलाओं की धक्का मुक्की में घायल सिपाही की ओर से मुकदमा दर्ज कर लिया गया। जबकि महिलाओं से की गई अभद्रता जैसी संगीन वारदात की प्राथमिकी तक दर्ज नहीं की जा रही है। उन्होंने चेतावनी दी कि सिपाहियों पर कार्रवाई न हुई तो आंदोलन किया जाएगा।


वेतन रोका , दस महीने से गैरहाजिर चल रही शिक्षिका, वेतन रोका

    बदायूं : परिषदीय विद्यालयों में शिक्षक-शिक्षिकाओं की उपस्थिति का सच धीरे-धीरे सामने आ रहा है। 



बदायूं : परिषदीय विद्यालयों में शिक्षक-शिक्षिकाओं की उपस्थिति का सच धीरे-धीरे सामने आ रहा है। अधिकारियों के निरीक्षण के दौरान बच्चे तो मौजूद मिलते हैं, लेकिन जिम्मेदार गायब मिलते हैं। दहगवां विकास क्षेत्र के ऐसे ही सात शिक्षक-शिक्षिकाओं पर वेतन रोके जाने की कार्रवाई की गई है। खंड शिक्षा अधिकारी के निरीक्षण दौरान वह विद्यालय से गैरहाजिर मिले थे। तो कुछ कई दिनों से विद्यालय से लगातार गायब चल रहे थे। एक शिक्षिका तो तकरीबन दस महीने से गैरहाजिर मिली। निरीक्षण आख्या के आधार पर बीएसए ने शिक्षक-शिक्षिकाओं पर कार्रवाई की है।
प्राथमिक विद्यालय मोहम्मदपुर कूड़ई के निरीक्षण के दौरान शिक्षिका कुसुमलता अगस्त माह के काफी दिनों में ही लगातार अनुपस्थित रहीं। उनका वेतन अग्रिम आदेशों तक रोका गया है। नसीरपुर टप्पा प्राथमिक विद्यालय में तैनात शिक्षक ने पूर्व में अन्य शिक्षक को उच्च प्राथमिक विद्यालय भोगाजीत नगरिया का चार्ज नहीं दिया था। उनपर भी अग्रिम आदेशों तक वेतन रोके जाने की कार्रवाई हुई है। समसपुर भूड़ के प्राथमिक विद्यालय में अनियमित रुप से विद्यालय आने पर प्रधानाध्यापक सीमा ¨सह, प्राथमिक विद्यालय शेखूपुरा की शिक्षिका अल्का ¨सह के 9 नवंबर वर्ष 2015 से अनुपस्थित रहने पर अग्रिम आदेशों तक वेतन रोका गया है। पूर्व माध्यमिक विद्यालय पडरिया में शिक्षिका नेहा रानी के चार दिन से अनुपस्थित रहने पर चार दिन का ही वेतन काटा गया है। प्राथमिक विद्यालय सूरजपुर टप्पा वैश्य की शिक्षिका डौली के अनियमित रूप से विद्यालय आने पर 15 दिन का वेतन रोका गया है। हसनपुर टप्पा वैश्य में प्रधानाध्यापक गौरव ¨सह के अनुपस्थित रहने पर एक दिन का वेतन काटने की कार्रवाई हुई है। खंड शिक्षा अधिकारी को सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं की सेवा पुस्तिका में प्रविष्टि करने के निर्देश दिए गए । प्रविष्टि के बाद रिपोर्ट बीएसए के समक्ष प्रस्तुत की जाएगी। बीएसए प्रेमचंद यादव ने बताया कि विद्यालयों के निरीक्षण जारी रहेंगे। लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

शहर में गैस रिफ¨लग करने वालों पर कसा शिकंजा

बदायूं : शहर में गैस रिफ¨लग करने वालों पर कानूनी शिकंजा कसा गया। एसपी सिटी के नेतृत्व में चले अभियान



बदायूं : शहर में गैस रिफ¨लग करने वालों पर कानूनी शिकंजा कसा गया। एसपी सिटी के नेतृत्व में चले अभियान में चार स्थानों पर छापा मारा गया, जहां से 28 गैस सि¨लडर समेत रिफ¨लग करने वाली 25 मशीनें बरामद की गई हैं। पहली बार सख्ती के साथ चले अभियान के बाद गैस रिफ¨लग करने वालों में खलबली मच गई। पुलिस ने गैस रिफ¨लग करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।
शुक्रवार को दोपहर के वक्त एसपी सिटी अनिल कुमार यादव, सिटी मजिस्ट्रेट अजय कुमार श्रीवास्तव, एआरटीओ अमिताभ राय के साथ रजी चौक के पास मौजूद एक दुकान पर पहुंचे। शिकायत थी कि यहां पर बड़े पैमाने पर गैस रिफ¨लग का कारोबार होता है। वाहनों में गैस रिफ¨लग होने से हादसे की आशंका भी लोगों ने व्यक्त की थी। पुलिस टीम ने दुकान पर चेक किया तो यहां से 14 सि¨लडर और 13 रिफ¨लग मशीनें जब्त की गईं। पुलिस टीम को देखकर दुकान पर बैठे युवक भाग खड़े हुए। सि¨लडर और रिफ¨लग मशीन जब्त करने के साथ ही पड़ोस में ही एक घर में छापा मारा। जहां से नौ सि¨लडर और मशीनें बरामद की गईं। इसके बाद ब्राह्मपुर में दो और ठिकानों पर छापा मारा गया। चारों स्थानों से सि¨लडर और रिफ¨लग मशीनें जब्त कर उनके खिलाफ कार्रवाई की गई।

आवेदन फॉर्म जमा करने के चक्कर में डाक प्रभावित

बदायूं : नगर पालिका में सफाई कर्मचारी के पदों के लिए आवेदन पोस्ट करने को शुक्रवार को प्रधान डाकघर पर


बदायूं : नगर पालिका में सफाई कर्मचारी के पदों के लिए आवेदन पोस्ट करने को शुक्रवार को प्रधान डाकघर पर अभ्यर्थियों की मारामारी रही। डाकघर के अंदर व बाहर आवेदकों की लंबी कतार लगी रही। डाक कर्मचारियों की ड्यूटी आवेदन जमा करने पर लगाए जाने की वजह से डाक भेजने का कार्य प्रभावित हुआ। सुबह की डाक को दोपहर में भेजा जा सका।
सफाई कर्मचारी के पद के लिए एक-एक आवेदक कई जगहों से आवेदन कर रहे हैं। जिसके चलते डाकघरों पर आवेदकों की भीड़ जमा हो रही है। जन्माष्टमी का अवकाश होने पर भीड़ की आशंका से शुक्रवार को दिव्यांग, महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग-अलग काउंटर लगाए गए और सुबह सात बजे से आवेदन जमा करने का सिलसिला शुरू हो गया। सभी कर्मचारियों को की तैनाती काउंटरों पर किए जाने की वजह से डाक भेजने में देरी हुई। दोपहर की शिफ्ट से डाक भेजी गई। इसके बाद भी डाकघर में खूब भीड़ रही, भीड़ भी इतनी कि गेट के बाहर तक लंबी कतार लग गई। घंटों तक लाइन में लगने के बाद आवेदकों का फार्म जमा हो सका। पोस्ट मास्टर ने बताया कि आवेदन की अंतिम तिथि 31 अगस्त होने की वजह से आवेदकों की ज्यादा भीड़ आ रही है। जिसके चलते ज्यादा काउंटर बनाए गए। उनपर कर्मचारियों की तैनाती की गई। जिसके चलते डाक भेजने का कार्य प्रभावित हुआ।

पति की जान बचाने को मौत से जूझ गई मीना

    बदायूं : सात फेरों के वक्त सात जन्मों तक साथ निभाने की कसम खाने वाली वाली मीना ने मरते दम तक वादा न



बदायूं : सात फेरों के वक्त सात जन्मों तक साथ निभाने की कसम खाने वाली वाली मीना ने मरते दम तक वादा निभा दिया। पति को मौत के करीब देख उसने ¨जदगी की परवाह नहीं की और मौत से लड़ने पहुंच गई। इसी जद्दोजहद के बीच वह खुद और पति की ¨जदगी हार गई। इस हादसे के बाद एक साथ दो लाशें देखकर अपनों के अलावा परायों के भी आंसू नहीं रुके।
लभारी निवासी विनोद पर खुद की ज्यादा जमीन न होने पर वह पेशगी या फिर बंटाई पर खेती करता था। आजीविका का साधन खेती के अलावा कुछ और न होने की वजह से उसका हाथ बंटाने पत्नी मीना अक्सर खेत पर पहुंच जाती थी। शुक्रवार को भी वह सुबह से खेत पर ¨सचाई कर रहे पति को खाना देने के साथ ही उसका हाथ बंटाने की मंशा से खेत पर पहुंची थी। पति को खाना परोसा और खुद ही पानी का मोर्चा खोलती रही। खाना खाकर विनोद जैसे ही खेत की ओर बढ़ा तो जर्जर तार टूटकर उसके पैर पर गिर गया। तार पैर पर गिरा तो तेज करंट ने उसको बचने का कोई मौका नहीं दिया। दूर खड़ी मीना यह समझ गई कि उसके पति की जान मुसीबत में है। यह देखकर वह बिजली के करंट की तरह फुर्ती से दौड़ी और पैर से तार छुड़ाने का प्रयास किया। इसी प्रयास के बीच करंट ने उसको भी अपनी चपेट में ले लिया।
तमाम हादसों के बाद भी जर्जर तारों की नहीं हो रही मरम्मत
साल भर के आंकड़े पर गौर करें तो बिजली के जर्जर तारों ने दो दर्जन से ज्यादा लोगों की जान ली हैं। वहीं दर्जनों मवेशी इनके शिकार हुए हैं। हर बार हर मौत के बाद हंगामा होता है और विभागीय अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया जाता है। इसके बावजूद कोई भी सुधार करने को तैयार नहीं है। इससे हादसों की संख्या बढ़ती जा रही है।

युवक पर गिरी हाईटेंशन लाइन, मौत

 बदायूं : जरीफनगर थाना क्षेत्र के गांव सलावतपुर में खेत से घर जा रहे युवक के ऊपर हाईटेंशन लाइन का ता



बदायूं : जरीफनगर थाना क्षेत्र के गांव सलावतपुर में खेत से घर जा रहे युवक के ऊपर हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर गिर गया। हादसे में उसकी मौत हो गई। हादसे के बाद परिजनों ने बिजली विभाग के अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा काटा। मामले की तहरीर अभी पुलिस को नहीं दी गई है।
शुक्रवार को शाम के वक्त गांव सलावतपुर निवासी भुवनेश (28) पुत्र रामदास खेत से काम करके घर लौट रहा था। इसी दौरान गांव के बाहर ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर अचानक उसके ऊपर गिर गया। करंट की चपेट में आने से वह गंभीर रूप से झुलस गया। परिजन आनन-फानन में उसको लेकर पीएचसी पहुंचे, जहां से जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। परिजनों ने विद्युत विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया।

कर्मचारी कैंप करें और रखें निगाह

बदायूं : डीएम सीपी त्रिपाठी ने बाढ़ क्षेत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने गंगा द्वारा धापड़ गांव के पास



बदायूं : डीएम सीपी त्रिपाठी ने बाढ़ क्षेत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने गंगा द्वारा धापड़ गांव के पास कटान स्थल पर बाढ़ खंड की ओर से किए जा रहे बचाव कार्यों का भी निरीक्षण किया। डीएम ने तहसील प्रशासन, बाढ़ खंड, स्वास्थ्य, पशुपालन और कृषि विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों को निर्देश दिए कि वह क्षेत्र में कैंप कर हालात पर निगाह रखें और प्राथमिकता के आधार पर ग्रामीणों को राहत उपलब्ध कराएं।
डीएम सीपी त्रिपाठी धापड़ गांव के पास कटान स्थल पर पहुंचे। यहां जलस्तर कम होने के बावजूद कटान हो रहा है। कटान करती गंगा बांध की ठोकर को काटती हुई बांध से करीब 50 मीटर दूर रह गई है। डीएम ने बचाव कार्य करा रहे बाढ़ खंड के इंजीनियरों को निर्देश दिए कि लगातार बचाव कार्य कराते रहे ताकि तटबंध और बांध को कोई क्षति न हो। डीएम ने यहां मौजूद ग्रामीणों से दवा वितरण, पशुओं का टीकाकरण के बारे में जानकारी ली। साथ ही यहां मौजूद सीएमओ को निर्देश दिए कि उनके कर्मचारी क्षेत्र में कैंप करके लगातार ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण करें और दवाइयां बांटे ताकि ग्रामीणों में कोई संक्रामक रोग न फैल सके। मुख्य पशुचिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि पशुओं का टीकाकरण कराएं। कृषि विभाग के अधिकारियों और तहसील प्रशासन को आदेश दिए कि संयुक्त टीम बनाकर बाढ़ में नष्ट हुई किसानों की फसल का आकलन करें और मुआवजा राशि दिलाएं। गंगा द्वारा धापड़ गांव के पास बांध की ठोकर पर कटान किया जा रहा है। इस मौके पर एडीएम आरपी यादव, सीएमओ एसके वाधवा, डीडी कृषि, सीवीओ, एसडीएम हरिशंकर यादव, तहसीलदार अहिवरन ¨सह, प्रभारी कोतवाल कश्मीर ¨सह यादव, राजस्व निरीक्षक वीरेंद्र पाल, महेंद्र ¨सह यादव, डा.आकिल, प्रदीप सक्सेना, सतेन्द्र पुरी आदि मौजूद रहे। गंगा का कटान रोकने के लिए एक करोड़ का प्रस्ताव बनाने के निर्देश भी अधीनस्थों को दिए गए।



वजीरगंज में स्वाट टीम ने पकड़े बाइक सवार बदमाश

बदायूं : कस्बे में पीछा करने के बाद स्वाट टीम ने एक बाइक सवार बदमाश को पकड़ लिया। उसके फरार तीन साथि



बदायूं : कस्बे में पीछा करने के बाद स्वाट टीम ने एक बाइक सवार बदमाश को पकड़ लिया। उसके फरार तीन साथियों में दो को वजीरगंज पुलिस ने दबोचा है। पकड़े गए बदमाश शातिर अपराधी बताए जा रहे हैं। दोनों पुलिस टीमें अलग-अलग ठिकानों पर बदमाशों से पूछताछ कर रही हैं।
शुक्रवार देर शाम स्वाट टीम दो बाइकों पर सवार चार बदमाशों का पीछा करते हुए बदायूं से निकली। बदमाशों को इस बात का अंदाजा नहीं था कि पुलिस उनका पीछा कर रही है। वह अंधेरे का फायदा उठाते हुए वजीरगंज बिजलीघर के पास रुककर किसी वारदात को अंजाम देने की योजना तैयार करने लगे। इसी दौरान स्वाट टीम ने उनकी घेराबंदी की तो फाय¨रग करते हुए तीन बदमाश फरार हो गए जबकि असलाह समेत एक को मौके से दबोच लिया गया। स्वाट टीम उसको पकड़ने के बाद वहां से वापस रवाना हो गई। कुछ देर बाद बदमाश फरार होने की सूचना पर वजीरगंज पुलिस ने कां¨बग शुरू की तो दो बदमाश वजीरगंज पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। पुलिस के मुताबिक पकड़े गए बदमाश शातिर अपराधी हैं। वह लूट की वारदातों को अंजाम देते हैं। वजीरगंज इलाके में भी वह हाइवे पर लूटपाट की योजना बना रहे थे।



तारों के जंजाल में कांप रही ¨जदगी

     बदायूं :  हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर कादरचौक में दंपति की मौत का यह पहला मामला नहीं ह



बदायूं : शुक्रवार को हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर कादरचौक में दंपति की मौत का यह पहला मामला नहीं है। पहले भी कई मामले प्रकाश में आए। पूरे जिले में बिजली के तारों का मकड़जाल पूरी तरह से व्यस्थित नहीं है। लापरवाही की दास्तां बयां करते तारों के जंजाल के आगे ¨जदगी कांप रही है। बिजली विभाग के जिम्मेदारों को इस बात की जानकारी है पर इस ओर कोई कारगर कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।
हाईटेंशन लाइन की चपेट आकर हो रही मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है। कारण है गलियों में तारों का बेतरतीब जंजाल। यह तार इस कदर अव्यवस्थित होकर झूल रहे हैं कि कोई भी छोटो सा बालक उसे पकड़ सकता है। आप्टिकल फाइबर केबल में यह तार हालांकि सुरक्षित हैं पर फिर भी इन तारों को बेतरतीब जंजाल खौफ पैदा करता है। खंभों के तारों को कम करने के लिए एक मोटा तार खंभों पर लटकाया गया, जिसकी फि¨टग सही न होने की वजह से नीचे झूल रहा है। विवेक बिहार जैसे तमाम मुहल्लों में ऐसी ही हालत है। जवाहरपुरी मुहल्ला से ब्रह्मपुरा मुहल्ला जाने वाले रास्ते से निकलने से लोग डरते हैं। इंद्राचौक से श्रीकृष्ण इंटर कॉलेज की ओर जाने वाले रास्ते पर ट्रांसफार्मर के तार इतने नीचे हैं कि कभी भी कोई उसकी चपेट में आ सकता है। विभागीय लोगों की यह लापरवाही किसी के परिवार को अपना निवाला बना सकती है।



लावारिस खड़ी मिली बोलेरो, चालक लापता

बदायूं : सोरों के मानपुर नगरिया की बोलेरो लावारिस हालत में खड़ी। चालक का देर शाम तक कोई पता नही


बदायूं : सोरों के मानपुर नगरिया की बोलेरो लावारिस हालत में खड़ी मिली। चालक का देर शाम तक कोई पता नहीं चल सका। पुलिस ने जीप को कब्जे में लेकर वाहन स्वामी को सूचना दी है।
सहसवान से हरदत्तपुर जाने वाले मार्ग पर दंड झील की पुलिया के पास गुरुवार को लोगों ने एक बोलेरो खड़ी देखी। शुक्रवार सुबह तक जब कोई उसे लेने नहीं पहुंचा तो राहगीरों ने इसकी सूचना कोतवाली पुलिस को दी। प्रभारी कोतवाल कश्मीर ¨सह यादव ने उसे कब्जे में ले लिया। तलाश के बाद पता चला कि वह सोरों थाना क्षेत्र के मानपुर नगरिया निवासी मुकेश पुत्र डोरी लाल की है। उसका चालक अर¨वद 24 अगस्त की शाम करीब चार बजे लेकर गया था। तब से अब तक वह वापस नहीं लौटा है। जीप स्वामी के मुताबिक चालक का मोबाइल भी स्विच आफ आ रहा है। देर शाम तक चालक का कोई पता नहीं लग सका था। न ही इस संबंध में कोई रिपोर्ट दर्ज हुई थी।



खजुरिया में बुखार से छात्र की मौत, आधा दर्जन बीमार

 बदायूं : नगर से बारह किमी दूर स्थित गांव खजुरिया में तीन दिन पहले अनोज के बारह साल के पुत्र देवू को



बदायूं : नगर से बारह किमी दूर स्थित गांव खजुरिया में तीन दिन पहले अनोज के बारह साल के पुत्र देवू को बुखार आया। स्थिति गंभीर होने पर परिवार वाले उसे बरेली ले गए। जहां उसकी हालत बिगड़ गई और गुरुवार को देवू ने दम तोड़ दिया। वह एसडीबी पब्लिक स्कूल में कक्षा चार का छात्र था। इधर परिवार वाले इस गम में डूबे हुए थे कि देवू की बहन अनुष्का को भी बुखार आ गया। घबराए हुए परिवार वाले अनुष्का को तत्काल नगर के एक हॉस्पिटल में ले गए जिसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। इधर गांव में ही अशोक कुमार ¨सह की नौ साल की पुत्री मोनम समेत गांव में आधा दर्जन बच्चे बुखार से पीड़ित है। गांव में बुखार का प्रकोप होने के बाद अभी तक गांव में स्वास्थ्य विभाग की कोई टीम नहीं पहुंची है। चिकित्साधिकारी डा.नवनीत कुमार ने बताया कि देवू की मौत की जानकारी नहीं थी। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम भेजकर बुखार से पीड़ित बच्चों का इलाज कराया जाएगा।



सड़क हादसे में दो लोगों की मौत

    बदायूं : जिले में मुजरिया और अलापुर थाना क्षेत्र में हुए सड़क हादसों में दो बाइक सवारों की जान चली ग


बदायूं : जिले में मुजरिया और अलापुर थाना क्षेत्र में हुए सड़क हादसों में दो बाइक सवारों की जान चली गई, जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
शुक्रवार को कादरचौक थाना क्षेत्र के गांव बेहटा डंबर निवासी 49 वर्षीय वालिस्टर पुत्र मोहम्मद जान खां बेटी दिल फिरोज को दवा दिलाने बदायूं आ रहा था। इसी दौरान अलापुर थाना क्षेत्र के गांव गभियाई के पास मौजूद ईंट भट्ठे के पास किसी अज्ञात वाहन ने उसकी बाइक को रौंद दिया। हादसे में वालिस्टर की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसकी बेटी गंभीर रूप से घायल हो गई।
संसू, मुजरिया : बिल्सी थाना क्षेत्र के गांव बीवीपुर निवासी 40 वर्षीय राकेश अपने गांव के ही सुनील के साथ मुजरिया आया था। मुजरिया से वापस घर लौटते वक्त गांव लहरा की पुलिया के पास सामने की ओर से आ रहे ट्रैक्टर ने उसकी बाइक को रौंद दिया। हादसे में राकेश की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसका साथी सुनील गंभीर रूप से घायल हो गया। हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल भेजने के बाद ट्रैक्टर चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।



थानाध्यक्ष बिल्सी पर मुकदमा दर्ज

   बदायूं : एसीजेएम द्वितीय अमरजीत ने थानाध्यक्ष बिल्सी के विरुद्ध कोर्ट में आख्या न भेजने व दस्तावेज ल


बदायूं : एसीजेएम द्वितीय अमरजीत ने थानाध्यक्ष बिल्सी के विरुद्ध कोर्ट में आख्या न भेजने व दस्तावेज लौटने पर मुकदमा दर्ज किया। साथ ही 29 अगस्त को कोर्ट में हाजिर होने के आदेश दिए हैं।
बिहारी लाल पुत्र रामचंद्र निवासी रूदेहना घंघोसी थाना बिल्सी ने रामपाल पुत्र कुंदन, छदम्मी, जगदीश पुत्रगण रामपाल, शांति पत्नी रामपाल, लौंगश्री पुत्री रामपाल निवासी सिरतौल थाना बिल्सी के विरुद्ध अर्जी देते हुए कहा कि उसने अपने लड़के नेम ¨सह की शादी लौंगश्री से की थी। आरोप है कि वह बिना बुलाए मायके चली जाती थी और झगड़ा करती थी। 12 जून 2016 की दोपहर ढाई बजे लौंगश्री की मां शांति, पिता रामपाल उसके घर आए और कहासुनी की जाने लगी। आरोप है कि डेढ़ साल पहले लौंगश्री सारे जेवर व पांच हजार रुपये ले गई थी। मारपीट करने में नेम ¨सह की मां रामश्री का डंडे से दांत टूट गया।
बिहारी लाल पुत्र रामचंद्र की अर्जी पर कोर्ट ने बिल्सी थाने से आख्या मांगी। इसके लिए पैरोकार 28 जुलाई को थाने गया। पर थाने से आख्या आई न ही कोर्ट का दस्तावेज कोर्ट को लौटाया गया। तब कोर्ट ने थानाध्यक्ष बिल्सी के विरुद्ध वाद दर्ज कराते हुए अपने आदेश में कहा कि दस्तावेज भेजे जाने के बाद यदि कोर्ट को वापस प्रेषित नहीं किया जाता है तो उसका समस्त उत्तरदायित्व थानाध्यक्ष पर है। थानाध्यक्ष द्वारा कोई आख्या प्रस्तुत नहीं की गई है और न ही कोर्ट का दस्तावेज लौटाया गया। मामले में व्यक्तिगत रूप से हाजिर होने के आदेश एसओ को दिए गए हैं।
  

रिमांड पर लिया गया दारोगा हत्याकांड का आरोपी



     बदायूं : बिनावर थाना क्षेत्र में हुए दारोगा सर्वेश यादव हत्याकांड के आरोपी सुधीर शर्मा को पुलिस ने र


बदायूं : बिनावर थाना क्षेत्र में हुए दारोगा सर्वेश यादव हत्याकांड के आरोपी सुधीर शर्मा को पुलिस ने रिमांड पर लेने के बाद दारोगा की पिस्टल से गायब हुए दोनों कारतूस बरामद किए हैं। पुलिस ने काफी देर तक घटना के संबंध में उससे पूछताछ की।
बीती 22 जून को बदमाशों ने तत्कालीन सब इंस्पेक्टर सर्वेश यादव को गोली मारकर मौत के घाट उतारा था। पुलिस ने इस मामले में तीन हत्यारोपियों को जेल भेजा था। शुक्रवार को मामले की जांच कर रहे सदर कोतवाल एसके उपाध्याय ने बरेली से गिरफ्तार कर जेल भेजे गए आरोपी सुधीर शर्मा को रिमांड पर लिया। कोतवाल उसको लेकर घटनास्थल पर पहुंचे जहां काफी देर पूछताछ करने के बाद उसकी निशानदेही पर दारोगा की पिस्टल से गायब दोनों कारतूस बरामद किए।




खूनी रिश्तों पर हावी हुआ लालच तो बहा दिया बेगुनाह का खून

     बदायूं : बिल्सी थाना क्षेत्र के गांव बन्नी ढकपुरा में खूनी रिश्तों पर लालच कुछ इस कदर हावी हुआ कि भत


बदायूं : बिल्सी थाना क्षेत्र के गांव बन्नी ढकपुरा में खूनी रिश्तों पर लालच कुछ इस कदर हावी हुआ कि भतीजे ने बेगुनाह चाचा की निर्मम हत्या कर दी। मरने वाले का कसूर सिर्फ इतना था कि वह अपने हिस्से की 12 बीघा जमीन खिदमत करने वाले चचेरे भाई ओमेंद्र को देने का फैसला कर चुका था। इसी बात का अंदेशा मन में लिए उसके भतीजे महेंद्र ने ट्रैक्टर से कुचल दिया।
अपने दो भाइयों के बेटे महेंद्र और धर्मपाल को छोड़कर लटूरी रिश्ते के चचेरे भाई ओमेंद्र के पास रहने लगा था। दो रोटी का सहारा मिला तो वह ओमेंद्र को ही अपना सबकुछ मानने लगा। धीरे-धीरे समय बीता तो चाचा लटूरी की संपत्ति का लालच उसके भतीजे महेंद्र के मन में ज्यादा ही संपत्ति का लालच आने लगा। उसने इस बीच अपने कुछ रिश्तेदारों से लटूरी पर दबाव बनाया कि वह अपनी संपत्ति की वसीयत उसके नाम कर दे लेकिन लटूरी बुढ़ापे में कोई और सहारा न होने की बात कहकर किसी की बात नहीं मान रहा था। दिन पर दिन इसी बात को लेकर तकरार होती रही और अंत में उसका परिणाम जो हुआ उससे खूनी रिश्ते दरक गए।




zhakkas

zhakkas