: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 09/02/16

नई किटों से विज्ञान सीखेंगे छात्र-छात्राएं

   बदायूं : उच्च प्राथमिक विद्यालय,- विज्ञान व गणित विषय की किट खरीद को मिले 61.38 लाख रुपये जासं,



बदायूं : उच्च प्राथमिक विद्यालय, एडेड विद्यालय, राजकीय हाईस्कूल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को विज्ञान विषय से संबंधित किटें देकर विज्ञान सिखाया जाएगा। उन्हें प्रयोग कराए जाएंगे। साथ ही कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों की छात्राओं को गणित की किट के माध्यम से नया ज्ञान दिया जाएगा। इसके लिए शासन ने बेसिक शिक्षा विभाग को तकरीबन 61 लाख 38 हजार 200 रुपये मुहैया कराए हैं। इस धनराशि से दोनों किटें खरीदकर विद्यालय में रखी जाएंगी।
देखरेख के अभाव में विद्यालयों में रखी विज्ञान विषय की किटें जंग खाने लगी हैं। जिसकी वजह से बच्चों को किताबी ज्ञान तो मिल रहा है, लेकिन प्रयोग नहीं कर पा रहे थे। जिसपर शासन ने संज्ञान लिया और प्रति विद्यालय आठ हजार रुपये जारी किया है। 756 उच्च प्राथमिक, 10 राजकीय व एडेड विद्यालयों को लाभांवित करने के लिए 61 लाख 4000 रुपये दिए गए हैं। किट में किताबें, माइक्रोस्कोप, थर्मामीटर, चार्ट, विभिन्न डायग्राम के अलावा पूरा सामान होगा। इसके अलावा बा विद्यालयों में गणित विषय की किट खरीदी जाएगी। जिसके लिए प्रति बा विद्यालय 1900 रुपये के हिसाब से जिले के 18 बा विद्यालयों को 34 हजार 200 रुपये दिए जाएंगे। धनराशि विद्यालय प्रबंध समिति की खातों में भेजी जाएगी। प्रधानाध्यापक विद्यालय में किटों को सुरक्षित रखेंगे। प्रशिक्षण के जिला समन्वयक गौरव सक्सेना ने बताया कि जिले को प्राप्त धनराशि जल्द ही विद्यालय प्रबंध समिति के खातों में भेजी जाएगी।
इंसेट..
शासन से ही चयनित हुई संस्थाएं
विज्ञान व गणित विषय की किटें खरीदने को शासन की ओर से ही सात संस्थाओं का चयन किया गया है। बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय को भेजे गए आदेश में संस्थाओं का जिक्र भी किया गया है। जिसके अनुपालन में दो संस्थाओं से किटों का सैंपल भी मांगा गया है। गुणवत्ता सही होने पर संस्थाएं सामान मुहैया कराएंगी।

परिषदीय विद्यालयों में भी डिजिटल कक्षाएं



बदायूं : वक्त के साथ पढ़ाई के तौर-तरीके भी बदलने लगे हैं। परिषदीय स्कूल से लेकर माध्यमिक तक सिर्फ किताबों से पढ़ने का दबाव नहीं रहता। बल्कि विभिन्न गतिविधियों के जरिए भी विषय की गहराई समझाई जाने लगी है। बिसौली क्षेत्र के हर्रायपुर स्थित उच्च प्राथमिक विद्यालय ने ऐसी ही नजीर पेश की। यहां डिजिटल कक्षाएं लगाकर विद्यार्थियों को पढ़ाया जाता है। स्कूल की इस पहल का दूसरे विद्यालयों ने भी संज्ञान लिया। अब पढ़ाई के साथ खेल और नियमित सांस्कृतिक गतिविधियां आयोजित कर बच्चों में ज्ञान का सार भरा जा रहा है।

डिजिटल कक्षाएं अभी तक सिर्फ कांवेंट स्कूलों तक ठिठकी थीं। पर परिषदीय स्कूल भी अपने स्कूलों को डिजिटल कक्षाओं से लैस करने लगे हैं। हर्रायपुर स्कूल के शिक्षक कुंवरसेन ने न सिर्फ स्कूल में डिजिटल कक्षाओं की व्यवस्था की। बल्कि गांव भर में भ्रमण कर लोगों को शिक्षा के लिए प्रेरित किया। उनका स्कूल जिले में नजीर बना है। वहीं गोंठा स्थित परिषदीय स्कूल में मनोज सेनानी के प्रयास से भी शिक्षा की स्थिति में सुधार आया है। स्कूलों में पढ़ाई के बदले तौर तरीकों को शिक्षा विभाग ने अन्य स्कूलों में भी अपनाने का निर्देश दिया। इसमें कहा गया कि पढ़ाई के साथ नियमित खेल कार्यक्रम कराएं। सांस्कृतिक कार्यक्रम कर बच्चों को प्रतिभाग कराएं। कार्यक्रमों के जरिए सवालों को हल करना सिखाएं। बच्चों की काउंस¨लग की जाती रहे। उसकी दिक्कत और समस्या का समाधान किया जाए। ताकि उनका मन पढ़ाई में लगे। तब उनके ज्ञान में तेजी से वृद्धि होगी। बीएसए प्रेमचंद यादव ने कहा कि कार्यक्रमों से बच्चों में रुचि बढ़ती है। सीखने की ललक पैदा होती है। शिक्षकों के प्रयास रंग ला रहे हैं।


सूचना न देने पर रुका प्रधानाचार्य का वेतन





बदायूं : दहगवां के अशर्फीलाल लक्ष्मीनारायण इंटर कॉलेज ने नई पेंशन के लिए ब्योरा उपलब्ध नहीं कराया है। लिहाजा शिक्षा विभाग ने प्रधानाचार्य का वेतन रोकने के निर्देश दे दिए हैं। गुरुवार को जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार ने प्रधानाचार्य को नोटिस जारी किया। स्पष्ट किया कि पेंशन से जुड़ी जानकारी उपलब्ध कराने को कहा गया था। मगर इस पर गंभीरता नहीं दिखाई गई। लिहाजा तत्काल सूचनाएं उपलब्ध कराई जाएं। डीआइओएस ने कहा कि प्रधानाचार्य का वेतन रोक दिया गया है।

आंचल कविता आज होगी प्रसारित

बदायूं : शाहबाजपुर निवासी शमशेर बहादुर द्वारा लिखी गई कविता आंचल का आज आकाशवाणी पर साढ़े नौ बजे प्रसारण होगा। कविता आठ मिनट की है। पिछले कई वर्षों की उनकी कविताएं लगातार आकाशवाणी पर प्रसारित हो रही हैं।

दोहरे हत्याकांड के आरोपी को पकड़कर भेजा जेल

     बदायूं: कोतवाली क्षेत्र के गांव कुआडांडा के दोहरे हत्याकांड के मुख्य आरोपी पुष्पेंद्र यादव को पुलिस



बदायूं: कोतवाली क्षेत्र के गांव कुआडांडा के दोहरे हत्याकांड के मुख्य आरोपी पुष्पेंद्र यादव को पुलिस ने पकड़कर जेल भेज दिया है। इसमें अन्य चार आरोपियों को पहले ही जेल भेजा जा चुका है।
क्षेत्र के आसफपुर रोड पर बाइक पर सवार गांव कुऑडांडा निवासी सुल्तान की पांच हमलावरों ने बीती एक जुलाई को हत्या कर दी। जबकि उसके पुत्र बब्लू को पीटकर अधमरा कर दिया था। जिसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। इसी गांव के ही पांच लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा पंजीकृत हुआ था। पुलिस ने गांव निवासी पुत्तन, भाय ¨सह, श्याम मोहन, रामतीरथ को जेल भेज दिया था लेकिन पुष्पेंद्र पुलिस की पकड़ से बाहर था। जिसको कोर्ट ने फरार भी घोषित कर दिया था। जिसके बाद पुष्पेंद्र गुरूवार को न्यायालय में सर्मपण की तैयारी में था। जिसको मुखबिर की सूचना पर कोतवाल जमीरूल हसन ने बदायूं रोड पर खडे़ हत्यारोपी पुष्पेंद्र यादव को पकड़कर जेल भेज दिया।

एटीएम हैक कर निकाले पच्चीस हजार


बदायूं: एटीएम हैक कर पच्चीस हजार उड़ाने के मामले में न्यायालय ने रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश दिया है। इस तरह की नगर में बढ़ती घटनाओं के कारण लोगों में खौफ है। नगर के मुहल्ला बद्रीप्रसाद कॉलोनी निवासी तुलाराम ने हाईवे पर स्थिति पंजाब नेशनल बैंक से तीन हजार रूपए निकाले। इसी समय कुछ लड़के भी एटीएम में घुस आए। धनराशि निकालने के बाद एटीएम हैक हो गया। थोड़ी देर बात तुलाराम के खाते से पच्चीस हजार गायब हो गए। तुलाराम ने थाने में तहरीर देकर शफीक अहमद पर यह हेराफेरी करने का आरोप लगाया था। बताते है कि पुलिस ने न तो रिपोर्ट दर्ज की और शफीक अहमद को पकड़कर छोड़ दिया। थाने में न्याय न मिलने पर तुलाराम ने न्यायालय की शरण ली। सीजीएम ने इस घटना की रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश दिया है। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। नगर में एटीएम से गड़बड़ी होने की घटनाएं जोरों पर हैं। इधर कई बैंकों में या तो सीसी कैमरे लगे नहीं या फिर खराब है, जिसके कारण ठगों को नहीं पकड़ जा रहा है।

सभी बूथों की रिपोर्ट डीएम ने की तलब



 बदायूं - चुनाव प्रबंधन की तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन, एसडीएम कर रहे बूथों का निरीक्षण
जासं, बदायूं : विधानसभा चुनाव की आहट पर चुनाव आयोग व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने में जुट गया है। जिला निर्वाचन अधिकारी (डीएम) सीपी त्रिपाठी ने एसडीएम को स्पष्ट किया है कि वह स्वयं बूथ पर जाएंगे। हर बूथ की व्यवस्था की रिपोर्ट देंगे। ताकि किसी बूथ पर अव्यवस्था की गुजाइश न रहे। बूथ स्तर की सभी व्यवस्थाओं को तेजी से दुरुस्त किया जाए। डीएम के निर्देश के बाद एसडीएम चुनाव प्रबंधन की व्यवस्था के कार्यों में सक्रिय हो गए हैं।
गत दिवस जिला प्रशासन की बैठक में मतदेय स्थल की व्यवस्था पर मंथन हुआ था। डीएम ने कहा कि हर बूथ पर मतदाताओं के आने जाने, मतदाताओं के इंतजार करने के साधन, दिव्यांग मतदाताओं की व्यवस्था सहित सभी पहलुओं पर व्यवस्था को बेहतर बनाया जाए। बिजली, पानी शौचालय की व्यवस्था देखी जाएगी। जहां कनेक्शन नहीं होगा। वहां बिजली कनेक्शन कराया जाएगा। खराब हैंडपंपर ठीक कराए जाएंगे। एसडीएम अपने मातहत अधिकारियों से निरीक्षण कराने के बजाय स्वयं बूथ पर जाएं। स्वयं स्थिति देखें। उसे सुधारवाएं। एसडीएम को हर बूथ के निरीक्षण की रिपोर्ट भी देनी होगी। एसडीएम सदर जंग बहादुर ने सखानू क्षेत्र में मतदान केंद्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि बूथ की सभी खामियों की दूर कराने के निर्देश दिए जा रहे हैं। डीएम सीपी त्रिपाठी ने कहा कि एसडीएम को स्वयं बूथ पर जाने की जिम्मेदारी दी गई है। ताकि किसी भी स्तर पर खामी न रहे।

zhakkas

zhakkas