: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 09/04/16

स्टाफ नर्सो की अनिश्चितकालीन हड़ताल शुर

     बदायूं : आल इंडिया नर्सेस फ्रंट के आह्वान पर जिला और महिला अस्पताल की नर्सों ने हड़ताल करते हुए                                                                              



बदायूं : आल इंडिया नर्सेस फ्रंट के आह्वान पर जिला और महिला अस्पताल की नर्सों ने हड़ताल करते हुए सातवें वेतन आयोग की मांग उठाई। धरना-प्रदर्शन में कर्मचारी संगठनों ने समर्थन देकर आंदोलन को और हवा दी। नर्सो ने कहा कि उनकी मांगें पूरी न होने तक आंदोलन जारी रहेगा।
शनिवार को जिला महिला अस्पताल परिसर में जिले भर की स्टाफ नर्से शामिल हुईं। सुबह आठ बजे से स्टाफ नर्सों का धरना शुरू हुआ। धरना-प्रदर्शन की अध्यक्षता करते हुए सुरेश चंद्र शर्मा ने कहा कि स्टाफ नर्सों की सातवें वेतन आयोग से संबंधित छह मांगें हैं इस समस्या का समाधान कराने में सरकार कोई रुचि नहीं ले रही है। उन्होंने कहा कि समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो नर्सो का आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान डिप्लोमा फार्मासिस्ट संघ के पदाधिकारी डा. विजय मिश्रा, डा. अरुण कुमार गुप्ता, राजकीय महासंघ के अध्यध अरुण अग्निहोत्री, महामंत्री संतोष शर्मा, प्रकाश वीर, गो¨वद, आबिद हुसैन आदि मौजूद रहे।




संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से युवक घायल





बदायूं : शनिवार देर शाम गांव निवासी 23 वर्षीय गो¨वद उर्फ गोल्डी पुत्र प्रमोद गौतम खेत से घर लौटा था। वह घर के अंदर नल पर पानी पी रहा था इसी दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में गोली चल गई। गोली गो¨वद की कमर पर लगी और वह घायल होकर जमीन पर गिर पड़ा। फायर की आवाज सुनते ही परिजन मौके की ओर दौड़े तो वह खून से लथपथ पड़ा हुआ था। कुछ ही देर में गांव के तमाम लोग मौके पर जुट गए। लोगों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। एसओ हरिभान ¨सह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने घायल को अस्पताल भेजने के बाद आसपास के लोगों



वन विभाग की टीम ने आरामशीन पर मारा छापा





बदायूं : शनिवार शाम को वन विभाग की टीम ने कस्बा कुंवरगांव की एक आरामशीन पर छापा मारा। इस दौरान आरामशीन पर संचालक गायब मिला। वन विभाग की टीम ने वहां पर लकड़ियों आदि की जांच की और वापस लौट गई। कुंवरगांव के मेन रोड पर एक आरामशीन पर देर शाम को वन विभाग की टीम ने छापा मारा। आरामशीन पर नीम की लकड़ी का कटान हो रहा है। जब वहां वन विभाग की टीम पहुंची तो वहां किसी प्रकार की लकड़ी नहीं मिली और संचालक भी वहां नहीं था। वन विभाग के रेंजर अधिकारी सत्येंद्र चौधरी ने बताया कि सूचना मिलने पर छापेमारी की थी लेकिन वहां किसी भी प्रकार की हरी लकड़ी नहीं मिली।



लग्जरी कार से बरामद हुए गोवंशीय पशु







बदायूं : दातागंज कोतवाली क्षेत्र के रास्ते लग्जरी कार से गोवंशीय पशुओं को ले जाने वाले चार तस्करों को भीड़ ने दबोच लिया। दूसरी कार में सवार दो तस्कर भागने में कामयाब रहे। पुलिस ने पकड़े गए चारों तस्करों से पूछताछ शुरू की है। शनिवार को दोपहर के वक्त दातागंज कस्बे से बरेली रोड की दो लग्जरी कार निकलीं जिसमें से एक में तीन गोवंशीय पशु भर हुए थे और दूसरी में पांच लोग सवार थे। लोगों की नजर जब गोवंशीय पशुओं से भरी कार पर पड़ी तो वह हैरत में पड़ गए। काफी दूर तक बाइकों से पीछा करने के बाद लोगों ने दोनों कारों को पकड़ लिया। दोनों कारों के चालक निकलकर फरार हो गए, जबकि दूसरी कार में सवार चार लोगों को भीड़ ने दबोच लिया। उनकी पिटाई करने के बाद पुलिस को सौंपा गया है। -





दबतोरी में दलित किशोरी से दुष्कर्म


गांव के ही युवक ने बांधकर रखा भूसा की कोठरी में


बिसौली  : कोतवाली की दबतोरी चौकी इलाके में शुक्रवार रात को शौच के लिए निकली 14 वर्षीय किशोरी के साथ गांव के ही एक युवक ने रेप किया। उसने किशोरी को रातभर कोठरी में बंधक बनाए रखा। सुबह किशोरी अपने घर पहुंची और परिवारवालों को पूरी बात बताई। इसके बाद पिता उसे लेकर बिसौली कोतवाली पहुंचा। तहरीर के आधार पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को मेडिकल के लिए भेज दिया। आरोपी भी दलित बिरादरी का है।
बिसौली की दबतोरी पुलिस चौकी इलाके के एक गांव की 14 वर्षीय दलित किशोरी शुक्रवार रात करीब आठ बजे अपने घर से शौच के लिए निकली थी। आरोप है कि गांव के ही राजकुमार ने उसे रास्ते में दबोच लिया। उसको खींचकर भूसे की कोठरी में ले गया। वहां उसे रात भर बंद रखा और तमंचे के बल पर दो बार दुष्कर्म किया। सुबह होने पर किशोरी किसी तरह निकल कर अपने घर पहुंची। उसने अपनी मां को घटना की जानकारी दी। इससे पूरा परिवार हतप्रभ रह गया। किशोरी का पिता उसे लेकर सीधे बिसौली कोतवाली पहुंचा। राजकुमार के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराने को तहरीर दी। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है। आरोपी की गिरफ्तारी अभी नहीं हो सकी है। किशोरी को मेडिकल के लिए भेजा गया है।
-----
रात भर लापता रही किशोरी, किसी को पता नहीं
दबतोरी। किशोरी के पिता की तहरीर पर पुलिस ने राजकुमार के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा तो दर्ज कर लिया है, लेकिन दुष्कर्म की यह घटना कई सवाल उठा रही है। गौर करने वाली बात यह है कि किशोरी रात भर घर से लापता रही, किसी को इस बारे में पता नहीं लगा। परिवार वालों ने भी उसकी तलाश नहीं की। आसपास के लोगों को भी कुछ पता नहीं लगा। सच्चाई क्या है यह तो विवेचना का विषय है।
-----
तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को मेडिकल के लिए भेजा गया है। आरोपी को गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है। सच्चाई मेडिकल रिपोर्ट और विवेचना के बाद ही सामने आ सकेगी।
-जमीरुल हसन, इंस्पेक्टर बिसौली

अस्पताल के फर्श पर प्रसव जच्चा बच्चा दोनों मर गए





बदायूं:  सेहत महकमा खुद कितना बीमार और असंवेदनशील हो चुका है इसकी नजीर शुक्रवार को एक बार फिर देखने को मिली। पीएचसी के गेट पर प्रसव पीड़ा से तड़पती महिला पर किसी कर्मचारी का दिल नहीं पसीजा, फर्श पर ही उसने एक बच्ची को जन्म दे दिया। घर वालों का आरोप है कि एक हजार रुपये की मांग कर रहे कर्मचारियों ने गंभीर हालत के बाद भी उसे न भर्ती किया और न उपचार ही दिया। दर्द से तड़पती महिला के रक्त स्राव शुरू हो गया और उसने फर्स पर ही बच्ची को जन्म दिया। बाद में मिन्नतें करने पर भर्ती तो कर लिया गया, मगर इलाज न होता देख परिवार वाले महिला और बच्ची को घर ले गए। नतीजा यह हुआ कि घर आते ही दोनों की मौत हो गई। शनिवार सुबह कस्बे के लोगों ने पीएचसी पर हंगामा किया तो पुलिस ने पहुंचकर मामला संभाला और स्टाफ नर्स व उसके पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

घर वालों ने कहा एक हजार नहीं थे तो भर्ती नहीं किया
-स्टाफ नर्स और उसके पति पर मुकदमा

अलापुर के वार्ड नंबर एक निवासी मुकेश की 38 वर्षीय पत्नी आशा देवी को शुक्रवार को प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया था। परिवार वालों के अनुसार स्टाफ नर्स मीरा यादव ड्यूटी से लापता थी। परिजनों ने स्टाफ नर्स को फोन करके बुलाया तो वह अपने पति बबलू यादव के साथ पीएचसी पहुंची। मीरा यादव ने आशा देवी को भर्ती करने से इनकार कर दिया। आशा अस्पताल के गेट पर फर्श पर पड़ी तड़पती रही। यहीं उसने एक बच्ची को जन्म दिया। प्रसव के बाद आशा का रक्तस्राव रुक नहीं रहा था। मौके पर काफी भीड़ भी जमा हो गई। परिवार वालों के अनुसार, बार-बार मिन्नतें करने पर भी अस्पताल स्टाफ नहीं पसीजा। आशा को अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया।

बाद में दबाव बनने पर मीरा यादव ने आशा देवी को अस्पताल में भर्ती कर लिया और इलाज के लिए एक हजार रुपये की मांग की। उनके पास एक हजार रुपये नहीं थे तो आशा का इलाज ही नहीं किया गया। इस पर रात में ही परिवार वाले आशा देवी को लेकर घर चले गए। शनिवार तड़के आशा देवी की हालत बिगड़ी और उसने दम तोड़ दिया। बाद में नवजात की हालत भी बिगड़ने लगी। मुकेश उसे लेकर अस्पताल आ रहा था पर बच्ची ने रास्ते में दम तोड़ दिया। कस्बे के लोगों ने दोनों शव अस्पताल में रखकर हंगामा किया। जानकारी मिलने पर एसीएमओ डॉ. नरेंद्र कुमार मौके पर पहुंचे। बाद में पुलिस ने स्थिति को संभाला। प्रभारी एसओ एपी सिंह ने बताया कि स्टाफ नर्स मीरा यादव और उसके पति बबलू यादव के खिलाफ विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। इधर, नर्स मीरा यादव ने रुपये मांगने के आरोप को नकारते हुए इस मामले को अपने खिलाफ कुछ लोगों की साजिश बताया है।
-----
मामले में जांच कराई गई है। एसीएमओ ने प्रारंभिक रिपोर्ट दे दी है। महिला को भर्ती कर लिया गया था। पता लगा है कि परिवार वाले उसे लेकर रात में घर चले गए थे। अगर किसी की लापरवाही सामने आती है तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। -सुनील कुमार, सीएमओ

भड़कीं आंगनबाड़ी वर्कर ,मानदेय कम, काम ज्यादा





बदायूँ,  : अपनी तीन सूत्री मांगों को लेकर दूसरे दिन भी आंगनबाड़ी वर्कर आंदोलित रहीं। हिंद मजदूर सभा से जुड़े संगठन महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ की बड़ी तादाद में आंगनबाड़ी वर्कर मालवीय आवास पर दूसरे दिन भी धरना प्रदर्शन में शामिल हुईं। जिलाध्यक्ष मिथलेश कुमारी ने कहा है कि कुल मिलने वाले मानदेय तीन हजार रुपये में प्रदेश सरकार का अपने हिस्से का करीब 8.30 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से मिलता है। उन्होंने आंगनबाड़ी वर्करों का पक्ष रखते हुए कहा कि 10 रुपये से कम भिखारी भी नहीं लेता है। अगर, प्रदेश सरकार चाहे तो वह प्रदेश सरकार की रकम छोड़ देंगी। प्रदेश सरकार इस रकम से अपना खजाना भर ले।  आंगनबाड़ी वर्करों ने मांग रखी कि हौसला पोषण योजना का काम और लेखा जोखा आंगनबाड़ी वर्कर करेगी और पैसा प्रधान के खाते में जाए तो कैसे चलेगी योजना। उन्होंने साफ किया कि आंगनबाड़ी वर्कर निर्वाचन आयोग का काम और स्वास्थ्य विभाग का काम नहीं करेगी। आंगनबाड़ी वर्करों ने ऐलान किया कि जबतक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जातीं तबतक वे आंदोलन पर रहेंगी। इस संबंध में उन्होंने बाद में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को दिया।


सपा में नहीं होगी वापसी, जनता देगी जवाब







बदायूं : 
अंदेशा था कि काफी दिनों बाद बदायूं आ रहे सांसद धर्मेंद्र यादव शहर विधायक आबिद रजा की खुली खिलाफत का जवाब देंगे, ये सही साबित हुआ। विधायक आबिद रजा के बगावती तेवर के बाद लगातार की गई बयानबाजी का सांसद ने आज बगैर नाम लिए सिलसिले वार जवाब दिया। उन्होंने सभी चर्चाओं पर विराम लगाते हुए कहा कि अब उनकी (आबिद) वापसी सपा में नहीं होगी। जो अपनी कौम का रहनुमा बनने के लिए अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं, उन्हें परदेसी और न जाने क्या-क्या कह रहे हैं, उनको यही लोग आइना दिखाएंगे। शनिवार को इस्लामियां इंटर कॉलेज में हुआ समाजवादी पार्टी का शहर विधानसभा कार्यकर्ता सम्मेलन ‘वफादार-गद्दार’ विषय पर ही सिमटकर रह गया। माइक पर आने वाले हर वक्ता ने खुद को पार्टी का ‘वफादार’ और सांसद पर सवाल उठाने वालों को ‘गद्दार’  की श्रेणी में डालने की भरपूर चेष्टा की। अधिकतर मुस्लिम नेताओं ने ये जताने की कोशिश की कि सपा की सरपरस्ती में ही उनकी कौम सिर उठाकर चल सकती है। वक्ताओं ने ये सवाल भी उठाया कि जिन लोगों ने जिले में विकास की नींव रखने वाले की मुखालफत की है, उन्होंने अपनी कौम और शहर के लिए कितना काम किया है? ये भी

आधार से ¨लक होंगे विद्यार्थियों के बैंक खाते

बदायूं : शासन ने विद्यार्थियों के बैंक खाते आधार कार्ड से ¨लक कराने का निर्देश जारी किया है। स्पष्ट



बदायूं : शासन ने विद्यार्थियों के बैंक खाते आधार कार्ड से ¨लक कराने का निर्देश जारी किया है। स्पष्ट किया है कि छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति व अन्य योजनाओं के लिए आधार से खाता ¨लक होना जरूरी है। शासन के निर्देश पर शिक्षा विभाग ने सभी विद्यालयों को पत्र जारी कर कहा है कि विद्यार्थियों के तत्काल आधार कार्ड बनावकर उनके खाते ¨लक कराएं। ताकि विद्यार्थियों को किसी योजना का लाभ मिलने में अड़चन न आए।
दरअसल माध्यमिक विद्यालयों में शिविर लगाकर आधार कार्ड बनवाने की प्रक्रिया चली थी। तब भी निर्देश थे कि विद्यार्थियों के आधार कार्ड बनवाकर उनका खाता ¨लक कराया जाए। पर कुछ विद्यालयों में ही आधार शिविर लगे। इसके बाद स्कूलों में आधार बनवाने का सिलसिला बंद हो गया। अब फिर से शासन ने यह कवायद शुरू की है।



जिला कारागार में कैदियों की हड़ताल से खलबली

बदायूं : आगरा सेंट्रल जेल से शुरू हुए आंदोलन की आंच बदायूं जिला कारागार तक पहुंची। कैदियों ने यहां




बदायूं : आगरा सेंट्रल जेल से शुरू हुए आंदोलन की आंच बदायूं जिला कारागार तक पहुंची। कैदियों ने यहां भी हड़ताल कर खाना खाने सेय इन्कार कर दिया। हड़ताल की सूचना मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पहुंचे डीएम, एसएसपी ने समझाकर हड़ताल खत्म कराई। कैदियों ने 14 साल की सजा पूरी होने के बाद रिहाई की मांग करते हुए अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा।
शनिवार सुबह से ही शुरू हुई हड़ताल के दौरान कैदियों ने कहा कि अन्य राज्यों में 14 साल की सजा काटने के बाद रिहाई का प्रावधान है, जबकि यहां पर सजा पूरी होने के बाद भी रिहाई नहीं की जाती है। उन्होंने मांग उठाई की अन्य राज्यों की तरह इस व्यवस्था को उत्तर प्रदेश में भी लागू किया जाए और शारीरिक स्वास्थ्य को ²ृष्टिगत रखते हुए 70 वर्ष के पुरुष कैदी व 60 वर्ष की महिलाओं की रिहाई का प्रावधान किया जाए। कैदियों ने कहा कि उनकी मांगें पूरी न होने तक आंदोलन जारी रहेगा। कैदियों की हड़ताल की सूचना जिला कारागार प्रशासन ने डीएम सीपी त्रिपाठी को दी तो वह हरकत में आ गए। कुछ ही देर में डीएम और एसएसपी सुनील सक्सेना जिला कारागार पहुंचे और कैदियों से बातचीत शुरू की। बाद में कैदियों ने ज्ञापन सौंपा तो डीएम ने उसे शासन तक भेजने का आश्वासन दिया।

केंद्र से बदायूं के लिए क्या लाए सांसद: आबिद


बदायूं : विधायक ने अपनी विज्ञप्ति में कहा है कि जिले में जो विकास हो रहा है, सांसद उसका श्रेय लेने क




बदायूं : विधायक ने अपनी विज्ञप्ति में कहा है कि जिले में जो विकास हो रहा है, सांसद उसका श्रेय लेने की कोशिश कर रहे हैं। जबकि विकास कार्यों का श्रेय विधायकों के साथ नगर विकास मंत्री आजम खां और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को जाता है। सदर विधायक ने कहा है कि मेडिकल कालेज, फोरलेन, सड़कें प्रदेश सरकार ने बनवाई हैं। इन विकास कार्यों के जो प्रस्ताव पारित करती है उनमें सभी विधायकों की भूमिका होती है। इसका श्रेय विधायकों और मुख्यमंत्री का है। उन्होंने अपनी ओर से नगर निकायों के विकास के लिए किए गए प्रयासों का जिक्र करते हुए सांसद को प्रदेश सरकार के कार्यों का श्रेय लेने का इतना ही शौक है तो उन्हें सांसद का नहीं अब विधायक का चुनाव लड़ना चाहिए। सात साल के कार्यकाल में उन्होंने सांसद की हैसियत से कोई उल्लेखनीय कार्य नहीं कराया। सपा के विधानसभा सम्मेलन पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा है कि यह भीड़ दूसरे विधानसभा क्षेत्रों से सत्ता के दबाव में भीड़ जुटाई गई है। उन्हें बदायूं में अपने जनाधार का अहसास हो गया है, अगर मेरी बात गलत हो तो उन्हें अपनी पत्नी या परिवार के किसी सदस्य को बदायूं सीट से चुनाव लड़वाना चाहिए।




नकदी जेवर समेत हजारों की चोरी


बदायूं: सीढ़ी लगाकर छत के रास्ते घर में घुसे चोरों ने नकदी जेवरात समेत करीब 30 हजार रुपये का सामान च




बदायूं: सीढ़ी लगाकर छत के रास्ते घर में घुसे चोरों ने नकदी जेवरात समेत करीब 30 हजार रुपये का सामान चोरी कर लिया। नगर के मुहल्ला पठानटोला हसीब पुत्र लईक बेग शुक्रवार रात घर में सो रहा था। घर के पीछे से सीढ़ी लगाकर चोर घुस आए और कमरे में रखी एक जोड़ी चांदी की पायल, 15 हजार रुपये की नकदी और मोबाइल चोरी कर लिया। इसी दौरान जाग होने पर चोर दीवार फांदकर फरार हो गए। पीड़ित ने रिपोर्ट दर्ज कराने को पुलिस को तहरीर दी। देर शाम तक मुकदमा दर्ज नहीं हो सका था।





एफआइआर दर्ज, शिक्षक नेता पर सीतापुर में


 बदायूं : वरिष्ठ शिक्षक नेता सतीश चंद्र मिश्रा पर एक और एफआइआर सीतापुर की कोतवाली में कराई गई है।                                                                                                                                                           चार



बदायूं : वरिष्ठ शिक्षक नेता सतीश चंद्र मिश्रा पर एक और एफआइआर सीतापुर की कोतवाली में कराई गई है। चार दिन पहले भी लखनऊ के हजरतगंज थाने में उनके खिलाफ एफआइआर कराई गई थी। इस बार वादी ने उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के नियमों को ताक पर रखकर जिलाध्यक्ष बदलने में पैड का गलत उपयोग करने का आरोप लगाते हुए पांच धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है।
शिक्षक नेता सतीश चंद्र मिश्रा की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। एक के बाद एक रिपोर्ट दर्ज हो रही हैं। संगठन के सीतापुर से जिलाध्यक्ष राजकिशोर ¨सह ने मुकदमा दर्ज कराया है। दो अन्य शिक्षकों पर एफआइआर कराई गई है। आरोप लगाया है कि शिक्षक संघ का फर्जी लैटरपैड छपवाकर अनिल कुमार मिश्र को पदाधिकारी बनाया है। जिससे संगठन को वैधानिक कार्य करने में परेशानी हो रही है। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा ने बताया कि पहले भी फर्जीवाड़े के चलते उनपर एफआइआर कराई गई थी। संगठन के पैड का लगातार ही फर्जी तरीके से गलत प्रयोग किया जा रहा है। वहीं सतीश चंद्र मिश्रा का कहना है कि वह सत्यमेव जयते पर अडिग हैं। उन्होंने कहा कि दिनेश चंद्र शर्मा का चुनाव कभी हुआ ही नहीं है। तो वह प्रदेश अध्यक्ष कैसे हैं। इसके खिलाफ कोर्ट में याचिका डाली है। कोर्ट का फैसला आने तक कुछ नहीं करेंगे। कोर्ट में सच्चाई सबके सामने आएगी।
-

बसपा, सदर सीट पर आज पत्ते खोल सकती है

   बदायूं : सदर सीट पर बसपा रविवार को अपना पत्ते खोल सकती है। कार्यकर्ता सम्मेलन एवं कैडर कैंप में                      नेता


बदायूं : सदर सीट पर बसपा रविवार को अपना पत्ते खोल सकती है। कार्यकर्ता सम्मेलन एवं कैडर कैंप में नेता प्रतिपक्ष एवं राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी शामिल हो रहे हैं। संभावना जताई जा रही है पूर्व मंत्री भूपेंद्र ¨सह दद्दा का टिकट घोषित हो सकता है। दबी जुबान से पार्टी के पदाधिकारी भी इसकी पूरी संभावना जता रहे हैं। सदर सीट पर अभी तक किसी भी पार्टी का टिकट घोषित नहीं किया गया है। सपा से सदर विधायक आबिद रजा निष्कासित किए जा चुके हैं, इसलिए यहां पार्टी नए उम्मीदवार को मैदान में उतारने के लिए मंथन कर रही है। रविवार को मिशन कंपाउंड में बसपा का कार्यकर्ता सम्मेलन है। अन्य सीटों पर बसपा अपना टिकट पहले ही घोषित कर चुकी है।

zhakkas

zhakkas