: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 09/30/16

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,रक्तदान कर जीवन दान दें




 बरेली | बिना किसी को बताए मदद करना कितना सुकून देता है, इस बात का एहसास तभी होगा जब रक्तदान करेंगे। इसके लिए मौका भी अच्छा है, नवरात्रि का। पितृ विसर्जन के बाद शुभ कार्यों की शुरुआत नवरात्र से हो रही है। आप भी शुभ कार्य शुरू कर सकते हैं और रक्तदान करके किसी को जीवन दे सकते हैं। अमर उजाला फाउंडेशन और जिला अस्पताल के सहयोग से शाहजहांपुर रोड स्थित अमर उजाला परिसर में एक अक्तूबर को स्वैच्छिक रक्तदान दिवस पर शिविर लगेगा। तमाम संगठनों और महादानियों ने इसमें शामिल होने की इच्छा जाहिर की है। मदद करने वाले इसमें शामिल हो सकते हैं। सुबह 10 बजे से शाम को 4 बजे तक आईएमए की टीम मौजूद रहेगी।

रक्तदान में ख्याल रखें 


  1. खाली पेट रक्तदान न करें
  2. ज्यादा खाकर भी न करें 
  3. रक्तदान के 24 घंटे में कुछ हल्का खा लें 
  4. जिस हाथ में सिरिंज हो उससे कुछ न उठाएं 
  5. एक साल में केवल तीन बार रक्तदान करें 
  6. ये नहीं कर सकते रक्तदान
  7. पीलिया के मरीज
  8. गर्भवती महिला 
  9. स्तनपान कराने वाली महिला 
  10. आपरेशन करा चुके लोग
  11. टैटू गुदवाने के छह माह तक नहीं 
  12. टाइफाइड के मरीज 
  13. एक यूनिट रक्त के चार फायदे

एक यूनिट रक्त आम तौर पर सिर्फ एक व्यक्ति के लिए होता है लेकिन यह चार जिंदगी बचाता है। दरअसल रक्त में पाए जाने वाले अलग-अलग तत्व होते हैं जो जान बचाते हैं। पैथालॉजिस्ट डॉ. यूवी सिंह बताते हैं कि रक्त लेने के बाद उसमें से आरबीसी, प्लाज्मा, प्लेटलेट्स और क्रायो प्रेसीपिटेट को अलग किया जाता है। फिर जिन्हें प्लेट्लेट्स की जरूरत होती है उसे प्लेटलेट्स और जिसे प्लाज्मा की उसे प्लाज्मा चढ़ाया जाता है। डॉ. सेठी बताते हैं कि रक्तदान करें या न करें लेकिन एक समय के बाद शरीर से पुराना रक्त नष्ट होता है। इसलिए अच्छा है कि हर तीन माह में रक्तदान किया जाए।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आंवला बांग्लादेश की महिला से जबरन करा रहा था शादी, पकड़ा गया





बरेली/आंवला। बांग्लादेशी महिला को मेहमानदारी में आंवला बुलाकर जबरन शादी की कोशिश विफल हो गई। शादी कराने वालों के चंगुल से भागी महिला को गुरुवार शाम जबरन बाइक पर बैठाकर ले जाने की कोशिश की तो वह बाइक से कूद पड़ी। ग्रामीणों ने महिला को बचाया और आरोपी को पकड़ लिया। मोतीपुरा में बृहस्पतिवार शाम बाइक पर दो लोग एक महिला को लेकर जा रहे थे। चौराहे पर ग्रामीमों की भीड़ देखकर महिला बाइक से कूद गई और चीखने लगी। ग्रामीणों ने बाइक सवार लोगों को भी पकड़ लिया। यह लोग कुछ बता नहीं रहे थे और महिला की भाषा किसी को समझ नहीं आ रही थी। ग्रामीणों ने हलका दरोगा बृजभान सिंह को बुला लिया। सेंधा से बंगाली चिकित्सक को बुलाया गया तो उन्होंने महिला से बात की। पता लगा कि महिला का नाम जयंती है और वह बांग्लादेश के जिला सपाकिरन के थाना बसरा के गांव खुसकरी की निवासी है। बाइक चला रहा व्यक्ति किटौना गांव का राकेश और पीछे बैठा युवक उसका भतीजा धर्मेंद्र निकला। जयंती ने राकेश पर उसे बहाने से लाकर जबरन शादी की कोशिश का आरोप लगाया और धर्मेंद्र को क्लीनचिट दे दी। कहा कि तीन दिन से भूखी थी। धर्मेंद्र ही छिपकर कुछ खिला देता था। बृहस्पतिवार तड़के वह अपनी दुधमुंही बेटी को लेकर भाग आई। यहां गांवों में मदद को भटक रही थी कि शाम के वक्त राकेश ने उसे फिर खोज लिया और जबरन घर ले जा रहा था।

दरोगा ने महिला को गांव की महिलाओं की सुपुर्दगी में दे दिया तो धर्मेंद्र को बुलाने पर हाजिर होने की बात कहकर घर जाने दिया। देर रात वह राकेश को लेकर कोतवाली आए। यहां बंद कमरे में कोतवाल बृजराज सिंह ने उससे बात की।
सूत्रों के मुताबिक राकेश ने पुलिस को बताया कि उसकी शादी बीस साल पहले बिसौली के पृथ्वीपुर निवासी सूरजमुखी से हुई थी। उसके कोई संतान नहीं थी। इसे लेकर वह परेशान रहता था। बताया कि कंधरपुर निवासी उसके परिचित पप्पू उसका परिचित है। पप्पू की पत्नी नीतू बांग्लादेश की है। नीतू ने उसे सलाह दी कि उसकी चचेरी बहन जयंती से वह उसकी शादी करा सकती है। राकेश नीतू के साथ दो महीने भर पहले बांग्लादेश गया तो पता लगा कि जयंती की शादी हो चुकी है, उसके दो माह की एक बेटी भी है। राकेश की मानें तो नीतू ने जयंती को कुछ दिन अपने यहां रहने की दावत दी और बहाने से उसे साथ ले आई। यहां उसे राकेश के हवाले कर दिया। राकेश जयंती को अपने घर में बंधक बनाकर रखे था और शादी का दबाव डाल रहा था। वहीं जयंती कह रही थी कि वह शादीशुदा और एक बेटी की मां है, इसलिए शादी नहीं कर सकती।
23 हजार देकर किया बार्डर पार
राकेश ने पुलिस को बताया कि बांग्लादेश तक आने जाने में उसकी करीब साठ हजार रुपये खर्च हो गए। इसमें से 23 हजार की रकम एक दलाल ने ली और जयंती समेत उन्हें बार्डर पार कराने में मदद की। पप्पू भी उसके रुपये पर मौज उड़ा रहा था। हालांकि उसने सफाई दी कि जयंती के साथ कोई जोर जबर्दस्ती नहीं कर रहा था।
अभी इस मामले में तस्वीर साफ नहीं है। महिला से जानकारी करने के साथ राकेश से भी पूछताछ की जा रही है। जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बृजराज सिंह, प्रभारी निरीक्षक आंवला


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | रुहेलखंड विश्वविद्यालय में अनुशासनहीनता में हुई दस पर कार्रवाई






बरेली : रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने रैगिंग की घटना पर निर्णय सुना दिया है। रैगिंग से दोषमुक्त करते हुए दस विद्यार्थियों पर एंटी रैगिंग नियमों का पालन न करने और अनुशासनहीनता के आरोप में एक-एक हजार रुपये जुर्माना लगाया है। जबकि तीन विद्यार्थियों पर एक मिड टर्म से वंचित कर दिया है। आरोपी दो विद्यार्थियों को कक्षा प्रतिनिधि पद से बर्खास्त कर दिया गया है। इसी के साथ ही रैगिंग के आरोपी सभी छात्रों का निलंबन भी खत्म हो गया है।
विश्वविद्यालय में गत 26 और 28 अगस्त को हुई घटनाओं में पीड़ित छात्रों ने रैगिंग का आरोप लगाया था। विवि प्रशासन ने दस छात्रों को निलंबित कर दोनों घटनाओं पर जांच बिठा दी थी। करीब महीने चली जांच और मंथन के बाद निर्णय हुआ। चीफ प्रॉक्टर प्रो. बीआर कुकरेती ने बताया कि दोष सिद्ध होने पर कड़ी कार्रवाई की गई है। भविष्य में दोबारा ऐसी गलती पाए जाने पर निलंबन के लिए चेताया गया है। उन्होंने कहा कि अगर छात्र सेमेस्टर परीक्षा से पूर्व जुर्माना नहीं अदा करेंगे, तो परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

  • यह था मामला

    26 अगस्त को इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटेशन इंजीनिय¨रग प्रथम वर्ष के छात्र ने सीनियर्स के विरुद्ध रैगिंग की शिकायत की थी।
    28 अगस्त को नवीन छात्रावास से बीटेक प्रथम वर्ष के दस छात्रों को बीडीए छात्रावास बुलाए जाने का उजागर हुआ था मामला।
यह चला कार्रवाई का सिलसिला

इलेक्ट्रॉनिक्स इंस्ट्रूमेंटेशन के जिन दो छात्रों के आवास पर जूनियर छात्रों को बुलाया गया, उनको सभी विषयों में मिड टर्म परीक्षा से प्रतिबंधित कर दिया गया। यहां पहले से मौजूद छह छात्रों पर एक-एक हजार रुपये जुर्माना लगाया गया। एक को कक्षा प्रतिनिधि पद से हटाया गया। जबकि इलेक्ट्रॉनिक इंजीनिय¨रग द्वितीय वर्ष के जिस छात्र ने नवीन छात्रावास के जूनियर्स को बीडीए हॉस्टल में बुलाया। उसे भी मिड टर्म से वंचित कर एक हजार का जुर्माना लगाया गया। जिस जूनियर के जरिए छात्रों को हॉस्टल में बुलाया गया उसे कक्षा प्रतिनिधि पद से हटा दिया गया। नवीन छात्रावास के छात्रों को वार्डन को बिना बताए बीडीए हॉस्टल में जाने पर कड़ी कार्रवाई की हिदायत दी गई।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | मंत्री गायत्री को लेकर राज्यपाल का बड़ा बयान कहा, जनता सब देख रही

राज्यपाल ने कहा, मैं संविधान के दायरे में रहकर करता हूँ काम, समय आने पर जनता स्वयं जवाब देगी, जनता सब देख रही है।




बरेली (जेएनएन)। राज्यपाल राम नाईक ने देहरादून जाते समय बरेली में मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को लेकर बड़ा बयान दिया है। राज्यपाल ने कहा, मैं संविधान के दायरे में रहकर करता हूँ काम, समय आने पर जनता स्वयं जवाब देगी, जनता सब देख रही है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | सीमा से सटे हजारों गांव खाली, कल से अब तक का पूरा घटनाक्रम





राष्ट्रीय, | माकूल वक्त और जगह तय करते हुए भारतीय सेना ने पहली बार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में घुसकर उड़ी आतंकी हमले का बदला ले लिया। सेना के विशेष दस्ते ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) से तीन से पांच किलोमीटर आगे बढ़ते हुए पीओके के सात आतंकी ठिकानों पर सर्जिकल हमले कर घुसपैठ को तैयार बैठे 38 आतंकियों को मार गिराया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री और सेना ने वादा किया था कि उड़ी के 18 जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी और जवाबी कार्रवाई के लिए वक्त और जगह हम तय करेंगे। बुधवार-बृहस्पतिवार की दरम्यानी रात को सेना के जांबाज नौ पैराकमांडो की पांच क्रैक टीम ने पीओके में घुसकर तकरीबन चार घंटे तक ऑपरेशन चलाया जिसमें आतंकियों का बचाव करने आए पाकिस्तानी सेना के दो जवान भी मारे गए।

पीओके के भिंबर, तत्तापानी, केल, और लीपा स्थित आतंकी शिविरों पर सर्जिकल कार्रवाई की गई। कार्रवाई को रात 12.30 बजे से सुबह 4.30 बजे तक अंजाम देने के बाद जांबाज पैराकमांडोज सुरक्षित लौट आए। गैर-आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, सेना के विशेष दस्ते ने इस कार्रवाई में 100 से अधिक आतंकवादियों के साथ ही पाक सेना के 9 जवानों को भी मार गिराया।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | नर्सिंगहोम में चल रहा बिना लाइसेंस का मेडिकल स्टोर पकड़ा





बदायूँ,| औषधि विभाग ने एक नर्सिंग होम में बिना लाइसेंस के चल रहा मेडिकल स्टोर पकड़ा है। यहां से करीब 1.50 लाख रुपये की दवाइयां बरामद हुई हैं। विभिन्न कंपनियों की 110 प्रकार की दवाइयों को बिना लाइसेंस के नर्सिंगहोम में मेडिकल स्टोर खोलकर बेचा जा रहा था। ड्रग इंस्पेक्टर की ओर से दो लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए सिविल लाइंस थाने में तहरीर दी गई है।
सिविल लाइंस के मीरा सराय में एक नर्सिंग होम में चल रहे मेडिकल स्टोर पर ड्रग इंस्पेक्टर पवन कुमार ने गुरुवार को टीम के साथ छापामारी की। मेडिकल संचालक लाइसेंस नहीं दिखा सका। विभाग ने पड़ताल की तो पता चला कि मेडिकल का संचालन बिना लाइसेंस के हो रहा है। यहां से 110 प्रकार की विभिन्न कंपनियों की दवाइयां जब्त कर ली गईं। बरामद दवाइयों की कीमत करीब 1.50 लाख रुपये बताई जा रही है। ड्रग इंस्पेक्टर पवन कुमार की ओर से सिविल लाइंस थाने में नर्सिंगहोम संचालक डॉ. सुमन और वार्ड ब्वाय पवन यादव के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने को तहरीर दी है। बरामद दवाइयों को पुलिस ने सील कर दिया है।
बिना लाइसेंस मेडिकल पर कड़ी कार्रवाई
बदायूं। ड्रग इंस्पेक्टर पवन कुमार ने चेतावनी दी है कि बिना लाइसेंस मेडिकल का संचालन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि कुछ लोग यह समझते हैं कि नर्सिंगहोम में बिना लाइसेंस के मेडिकल का संचालन किया जा सकता है। जबकि ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि किसी भी नर्सिंगहोम में बिना लाइसेंस मेडिकल का संचालन नहीं हो सकता। 

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार अंबिका विहार में चल रहा था सैक्स रैकेट






बरेली, महानगर में सैक्स रैकेट चलाते पकड़े गए संजीव कुमार उर्फ सोनू साथी हनीफ के साथ मिलकर अंबिका विहार में जिस्म फरोशी का धंधा कर रहा था। बुधवार की रात चार लड़कों के साथ दो लड़कियां इसी रैकेट की थीं। पुलिस ने छहों को थाने से जमानत देकर छोड़ दिया। सार्वजनिक स्थल पर अश्लील हरकतें करते पकड़ी गईं लड़कियों में एक कैंट इलाके के गांव की रहने वाली थी। उसकी सोनू की मां की थाने से जमानत करा ले गई। दूसरी लड़की दिल्ली की रहने वाली थी। उसकी जमानत बदायूं के लड़कों ने कराई। शुएब, वसीम, आशिक मिलक, रामपुर के रहने वाले थे। जबकि पुष्पेंद्र सीबीगंज का रहने वाला है। इनको भी थाने से ही पुलिस ने जमानत पर छोड़ दिया।   

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,सर्जिकल स्ट्राइक के बाद बरेली में चली मैराथन बैठकें


हमले के बाद जताई खुशी


बरेली, सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सीमा पर पर तनाव के मद्देनजर गुरुवार को सेना, पुलिस - प्रशासन की मैराथन बैठकों का दौर चला। त्रिशूल एयरबेस और आर्मी एरिया होने के कारण मेरठ की तर्ज पर बरेली में सिविल डिफेंस का ढांचा तैयार करने का फैसला लिया। वहां की तर्ज पर बरेली की सिविल डिफेंस का खाका तैयार करने के लिए डिटेल मंगाई जा रही है। उसी के  आधार पर रिक्त पदों को भरे जाएंगे। आपात सेवाओं और व्यवस्थाओं को अपडेट किया जा रहा है।

त्रिशूल एयरबेस और आर्मी एरिया परिसर में सतर्कता बढ़ा दी गई है। आसपास के मकानों में रह रहे लोगों पर निगाह रखी जा रही है। 24 घंटे सेना पुलिस और सामान्य पुलिस की संयुक्त पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है। स्थाई व्यवस्था के लिए सिविल डिफेंस को मजबूत करने पर जोर दिय गया। खाली पड़े पदों पर सभी ट्रेड के सक्रिय लोगों को शामिल किया जाएगा। इसमें भर्ती की जिम्मेदारी एडीएम सिटी को सौंपी गई है। पंद्रह दिन में इन पदों पर भर्ती के साथ-साथ हर ट्रेड का प्रशिक्षण देंगे।
इमरजेंसी प्लान बना
सेना और प्रशासन ने शहर के प्रमुख चिकित्सक, अस्पताल, एंबुलेंस और सुुविधाओं का ब्योरा नए सिरे से तैयार होगा। भारी और हल्के वाहनों का इमरजेंसी प्लान तैयार किया गया है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए जेसीबी, लोडर तथा अन्य वाहनों की जानकारी जुटाई गई है। शहर एवं जिले के संवेदनशील स्थान, पुल आदि का डाटा भी तैयार किया गया। इन सभी स्थानों पर सतर्कता बढ़ा दी गई है।
खुफिया रिपोर्ट, त्योहारों पर सतर्कता
केंद्रीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार पर दुर्गा पूजा, नवरात्र, मोहर्रम तथा अन्य भीड़ भाड़ वाले इलाकों में आयोजनों के दौरान कड़ी नजर रखी जा रही है। पिछले दिनों स्लीपिंग माड्यूल के आतंकियों के होने की संभावना के मद्देनजर संदिग्ध स्थानों पर नजर रखी जा रही है।
सेना और एयरफोर्स सतर्क, छुट्टियां रद्द
आर्मी एरिया और एयरफोर्स ने सतर्कता के साथ-साथजवानों को सामान्य परिस्थितियों में छुट्टी पर न भेजने का आदेश आ गया है। उड़ी में पाकिस्तान की ओर से किए गए आतंकी हमले के बाद से ही सेना क्षेत्र में अलर्ट घोषित कर दिया गया था। सेना ने सतर्कता बरतते हुए सैन्य क्षेत्रों को जाने वाले रास्तों पर चौकसी कड़ी कर दी थी लेकिन भारतीय सेना की ओर से किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद बदले हालात में सेना मुख्यालय से अगले आदेश को लेकर यहां भी सेना सतर्क हो गई है। माना जा रहा है कि अगर बार्डर पर लड़ाई की नौबत आई तो उत्तर भारत मुख्यालय से भी बटालियन को रवाना होना पड़ेगा। बृहस्पतिवार को पूरे दिन सेना में आंतरिक स्तर पर मीटिंगों को दौर चलता रहा।
खुफिया सूत्रों का कहना है कि उत्पन्न हुए हालात में सेना पूरी तरह से सतर्क और तैयार है। सेना मुख्यालय का जवानों को सामान्य परिस्थितियों में छुट्टी न देने का फरमान यहां भी आ गया है।

                                            सोशल साइट्स पर छाईं 56 इंच की बातें 


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | भारतीय सेना के इस जज्बे को सलाम-जितेंद्र यादव






बदायूं: भाजपा नेता पूर्व एम एल सी ने पाक अधिकृत कश्मीर मेंभारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान में अंदर घुसकर आतंकवादियों के शिविर नष्ट किए जाने पर भारतीय सेना को सलाम किया और कहा कि भारतीय सेना के इस कार्यबाही से देश की जनता का सिरगर्व से ऊंचा हो गया है।और हमारी सेना ने पाकिस्तानी आतंकवाद को औकात दिखा दी हैभारत केजवानों पर होने वाले हमले का सेना ने उसकी भाषा में जबाब दिया।श्री यादव ने कहा कि यह दिन भारत माता का दिन है।हमारे देश के जबानों का दिन है।इस मौके पर  भाजपा नेता जितेन्द्र यादव ने भारतीय सेना द्वारा उरी हमले में शहीद हुए जवानों की शहादत का बदला लेकर40 आतंकियों को मार गिराने और उनके आतंकी कैम्पो को नष्ट कर मार गिराने पर देश के जबानों और मोदी को दी बधाई है ।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आज का राशिफल जाने कैसा रहेगा आज आप का दिन



  • मेष.लोग आपके सम्मान को ठेस पंहुचा सकते है ,स्वास्थ्य का ध्यान रखिये।

  • वृषभ.संतान के कार्यों से मन प्रसन्न रहेगा । बुद्धि कौषल दिखाने का अवसर प्राप्त हो सकते है ।
  • मिथुन.जमीन जायदाद के कार्यों में सफलता मिलेगी। घर में कोई सदस्य बढ़ सकता है ।
  • कर्क.संचार माध्यम से कोई सूचना मिलेगी । सहयोगी अधिक मिलेंगे । आत्मविश्वास बढेगा।
  • सिंह.बैंक बेलेन्स बढेगा। मार्केटिंग स्किल उत्तम रहेगी । मन पसंद भेजन की प्राप्ति होगी ।
  • कन्या.मान सम्मान में वद्धि के अवसर की प्राप्ति होगी,मनपसंद उपहार की प्राप्ति संभव है।
  • तुला.शॉपिंग करने की योजना बलवती रहेगी, नींद अच्छी आयेगी ।
  • वृश्चिक.आय के स्रोत में वृद्धि होगी,आपकी किसी मनोकामना की पूर्ती संभव है ।
  • धनु.यश-कीर्ति में वृद्धि होगी, नौकरी के लिये किये गये प्रयास सार्थक होंगे
  • मकर.धार्मिक यात्रा होगी । अचानक कोई चीज मिल सकती है
  • कुंभ.गुप्त धन की प्राप्ति हो सकती है  , यात्रा होने की संभावना है ।
  • मीन.जीवन साथी के साथ गुजारने के लिये समय निकालेंगे,रोजगार के क्षैत्र में सफलता मिलेगी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली कॉलेज में सेमिनार कक्ष बना चुनाव कार्यालय

बरेली कॉलेज प्रशासन छात्रसंघ चुनाव की तैयारियों में जुट गया है। सेमिनार 




बरेली : बरेली कॉलेज प्रशासन छात्रसंघ चुनाव की तैयारियों में जुट गया है। सेमिनार कक्ष को चुनाव कार्यालय बनाया गया है। चुतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को चुनाव कार्यो का जिम्मा सौंपा जाने लगा है। साथ ही दस साल पहले कॉलेज में हुए चुनाव की प्रक्रिया के कुछ पहलुओं को अपनाने पर मंथन चल रहा है।
बरेली कॉलेज के चुनाव अधिकारी वर्ष 2006 और उसके बाद हुए चुनाव की व्यवस्था का अध्ययन कर रहे हैं। ताकि छात्रसंघ प्रत्याशी, मतदाताओं के लिए दिशा निर्देश जारी किए जा सकें। लिंग दोह समिति की सिफारिशों का भी अध्ययन किया जा रहा है। हालांकि आगामी तीन अक्टूबर को संचालन समिति की बैठक में छात्रसंघ चुनाव पर मुहर लगनी है। चुनाव अधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा ने बताया कि प्राचार्य के निर्देशानुसार चुनाव प्रक्रिया चल रही है। अभी चुनाव के सभी पहलुओं पर विचार किया जा रहा है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | 13 साल के संघर्ष के बाद चनेहटी हुआ बरेली कैंट





बरेली : बरेली जंक्शन से बमुश्किल चार किलोमीटर दूर स्थित चनेहटी स्टेशन लगभग 13 साल के लंबे संघर्ष के बाद आखिरकार बरेली कैंट स्टेशन का नाम मिल ही गया। उत्तर रेलवे मुख्यालय से अधिकृत स्वीकृति के बाद मुरादाबाद डिवीजन से गुरुवार को उत्तर रेलवे की डिप्टी चीफ कॉमर्शियल मैनेजर रीता राज ने इसका गजट नोटिफिकेशन और स्टेशन का कोड जारी कर दिया गया। दैनिक जागरण ने जनवरी 2004 में चनेहटी को बरेली कैंट का दर्जा दिलाने के लिए मुहिम शुरू की थी। पूर्व सैनिक दौलत सिंह धौनी और आमजन ने इस मुहिम को अंजाम तक पहुंचाने के लिए किया लंबा संघर्ष।
शहर में बदायूं रोड की तरफ स्थित चनेहटी गांव के नाम पर स्थानीय स्टेशन का नाम चनेहटी रखा गया था। शहर में छावनी क्षेत्र सीधे स्टेशन के पास तक होने के बावजूद चनेहटी पर ज्यादा ट्रेनों का ठहराव और सुविधाएं नहीं थी। इसे बरेली कैंट स्टेशन का दर्जा दिलाने के लिए दैनिक जागरण ने जनवरी 2004 में अभियान शुरू किया। जिससे पूर्व सैनिक दौलत सिंह, कांदरपुर व्यापार मंडल, आसपास के गांवों के प्रधान, बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष घनश्याम शर्मा, अनिल द्विवेदी सहित सैंकड़ों लोग शामिल होते चले गए। स्टेशन की मांग के लिए ट्रेनें तक रोकीं, कलक्ट्रेट पर धरना दिया। लखनऊ से लेकर दिल्ली तक मांग भेजी। आखिर प्रयास रंग लाए।
मंत्रालय से लेकर सरकारों ने टरकाया
चनेहटी से कैंट का दर्जा हासिल करना आसान नहीं रहा। हर मंत्रालय और सरकार ने अपनी जिम्मेदारी को टालने की कोशिश की लेकिन दैनिक जागरण ने आमजन के प्रयासों को जिंदा रखा। इस संघर्ष के सारथी रहे पूर्व सैनिक दौलत सिंह बताते हैं कि शुरू में रेल मंत्रालय को मांग भेजी। कई दिन बाद जवाब आया। जिसमें बताया गया कि यह मामला गृह मंत्रालय के अनुमोदन के बिना नहीं हो सकता। तो गृह मंत्रालय से कई बार पत्राचार किया। वहां से भी इसे राज्य सरकार के पाले में सरका दिया। कहा गया कि राज्य सरकार एनओसी दे तभी आगे बात बढ़ सकेगी। छह साल बाद 2012 में अखिलेश सरकार आई। जिसने हमारी मांग पर विचार किया। सरकार ने यहां के डीएम से इस पर पूरी रिपोर्ट मांगी। डीएम की रिपोर्ट के बाद एनओसी जारी कर गृह मंत्रालय भेजी गई लेकिन, रेल मंत्रालय ने इस बार राज्य सरकार की ओर से गजट नोटिफिकेशन न जारी करने का कारण बताकर फिर लटका दिया। इस साल जुलाई में सरकार ने गजट अधिसूचना जारी की और उत्तर रेलवे मुख्यालय को भेजी तब रास्ता साफ हो सका। अब रेलवे ने अपनी तरफ से नोटिफिकेशन जारी कर इसे कैंट का दर्जा देने की घोषणा कर दी।
व्यापारियों ने बांटी मिठाई
चनेहटी के बरेली कैंट स्टेशन बनने से स्थानीय लोगों में खुशी का माहौल है। कांदरपुर व्यापार मंडल और आमजन ने एक दूसरे को और दैनिक जागरण को बधाई दी। मिठाई बांटी। व्यापार मंडल अध्यक्ष मनोहर सिंह यादव, कोषाध्यक्ष धर्म प्रकाश, संगठन मंत्री राजेश कुमार, महामंत्री इसरार अहमद, पूर्व प्रधान डॉ. लक्ष्मी नारायण आदि ने खुशी जाहिर की।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | 93 हजार पाक फौजियों ने रखे थे हमारे सामने हथियार







बदायूं : सर्जिकल ऑपरेशन हुआ तो मुझे अपना वक्त आ गया। बात 1965 में हुए पाकिस्तान से युद्ध की भी है और 16 दिसंबर 1971 की भी। इन दोनों ही युद्ध में मुझे भारतीय सेना के पराक्रम का हिस्सा बनने का मौका मिला। पैसठ में तो ऑपरेशन रिडल के अंतर्गत मुझे पहले जालंधर से सियालकोट भेजा गया उसके बाद खेमकरन भेज दिया गया था। आर्मी सर्विस कोर के अंतर्गत रिटायर्ड लेफ्टिनेंट आरपी शर्मा जिस सेना के कोर में थे उसमें उनके पास जिम्मेदारी थी कि वह ब्रिज कंपनी के अंतर्गत सेना के जवानों की टोली के लिए पुल बनाने का काम अन्य साथियों के साथ करते चलें। इस युद्ध में भारत को कामयाबी मिली और देश ने पाकिस्तान को मुहंतोड़ जवाब दिया। बदायूं के सिविल लाइंस निवासी रिटायर्ड लेफ्टिनेंट श्रीशर्मा ने बताया कि जब पूर्वी पाकिस्तान 16 दिसंबर 1971 को बांग्लादेश बना तब भी ढाका के रेसकोर्स मैदान में पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने हमारे सामने आत्मसमर्पण किया था। अभी तो सात ट्रे¨नग कैंप नेस्तानाबूत किए गए है। भारतीय सेना ने अब रुख किया है। पाकिस्तान को भी भुगतना पड़ जाएगा।
अब पूरा लिया जाए आसूं और दर्द का हिसाब

 करगिल शहीद की पत्नी ने दर्द किए जज्बात

टीवी पर अचानक खबर आई कि सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए सेना ने आतंकी देश पाकिस्तान में दो किलोमीटर अंदर घुस कर हमला किया है। फिर वही मंजर जो एक जुलाई 1999 को आंखों के सामने आया था वहीं सब कौंध गया। सरकार ने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के साथ सही सलूक किया। यह दिखना जरूरी था कि हम अ¨हसा के पुजारी जरूर हैं पर हथियारों की बारी आए तो फिर किसी से पीछे नहीं हैं।
बगरैन के पास इटौआ में पले बढ़े शहीद हवलदार हरिओम ¨सह पुत्र महिपाल ¨सह एक जुलाई 1999 को करगिल में दुश्मनों से लोहा लेते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे। विडंबना यह कि एक जुलाई को वह शहीद हुए पर उनके परिवार को सुबह चार जुलाई को पता चला कि घर का वीर अब नहीं रहा। शहीद हरिओम की पत्नी गुड्डो देवी बताती हैं कि उस वक्त काटो तो जैसे खून नहीं वाली स्थिति थी। गत दिनों जब सत्रह जवानों के शहीद होने की जानकारी टीवी पर फ्लैश हुई तो वहीं मंजर आंखों के सामने कौंध गया। बेटा प्रताप बहादुर और बेटी सुप्रिया पढ़ रहे हैं। टीवी देखते पर ही गुड्डो देवी के मुंह से अनायास निकला कि सरकार इजाजत दे तो बार्डर पर जाकर मैं ही सबक सिखा आऊं। सत्रह शहीदों की ¨चता की अग्नि ठंडी पड़ते ही आज जब केंद्र सरकार ने अप्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक के आदेश दिए तो लगा कि जैसे अब आसूं और दर्द का अब पूरा हिसाब होना चाहिए। पति की शहादत के बाद बच्चों की पढ़ाई की खातिर गुड्डो देवी बरेली के डीडीपुरम् में रहती है और सांत्वना स्वरूप मिले पेट्रोल पंप का संचालन कर रही हैं।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | मुंहतोड़ जवाब पर भाजपाइयों ने मनाया जश्न

 पाकिस्तान के खिलाफ जवाबी हमले की खुशी को भाजपाइयों ने जश्न की तरह मनाया। पूर्व विधायक 



बदायूं : पाकिस्तान के खिलाफ जवाबी हमले की खुशी को भाजपाइयों ने जश्न की तरह मनाया। पूर्व विधायक राम सेवक ¨सह पटेल और महेश चंद गुप्ता की मौजूदगी में भाजपाइयों ने आतिशबाजी करते हुए अलग अलग जगहों पर मिष्ठान वितरण किया। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रणनीति को सराहा। देश की जनभावनाओं के मुताबिक लिए गए निर्णय पर सभी ने हर्ष व्यक्त किया।
कश्मीर के उड़ी में सोते समय कायर आतंकियों के हमले में मारे गए सैनिकों के बाद भारतीय सेना ने बुधवार की रात पीओके (पाक अधिकृत कश्मीर) में ऑपरेशन करके बहादुरी का पैगाम दिया है। इस बहादुरी और ऐतिहासिक कदम को पूर्व विधायक रामसेवक ¨सह पटेल ने सलाम करते हुए खुशी में पटाखे छोड़े। कहा कि यदि पाकिस्तान नहीं सुधरा तो देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान को उसकी औकात बता देंगे। पूर्व विधायक पटेल के निवास पर तमाम कार्यकर्ता और समर्थक एकत्र हुए और जश्न मनाते हुए मिष्ठान वितरण किया। इस मौके पर राजेंद्र गुप्ता, रोहिताश पटेल, रूम ¨सह, रोहित सेवक पटेल, आदेश कुमार ¨सह, अर¨वद ¨सह पटेल, त्यागी राजपूत, आर्येंद्र ¨सह फौजी, राजाराम राजपूत, उमाशंकर, संदीप ¨सह आदि तमाम लोग थे। वही मथुरिया चौक पर पूर्व विधायक महेश चंद गुप्ता ने भी आतिशबाजी आदि कर भारतीय सेना के पराक्रम को सलाम किया और मिष्ठान वितरण किया। सुधीर श्रीवास्तव, महेश चंद गुप्ता, अशोक भारती, शरद समेत अन्य भाजपाई मौजूद रहे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | दुश्मन को पाकिस्तान में घुस कर मारो





बदायूँ | देश हित के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं है। कहीं कोई आपसी मतभेद नहीं। मुलायम सिंह यादव ने भी अपने संदेश में पार्टी का नजरिया देश के सामने रख दिया है। यह कार्रवाई देश की जन भावना के अंतर्गत है।
 लोगों की नजरें टीवी सेट पर टिकी रहीं। रात में सर्जिकल स्ट्राइक की प्रक्रिया पूरी होने के बाद जब दोपहर में संदेश मीडिया के जरिए लोगों तक पहुंचा तो बदायूं में रिटायर्ड करीब 2500 पूर्व फौजियों में खुशी की लहर दौड़ गई। टीवी आदि पर लोग चिपक कर बैठ गए कि अब आगे क्या रणनीति पाकिस्तान या भारत अपनाएगा। इसी मसले में चौपालों चाय की दुकानों और रेस्टोरेंट आदि में चर्चा सुनाई देती रही। इस घटनाक्रम पर जनप्रतिनिधियों से बातचीत की गई। सभी ने सही कार्रवाई करार दिया। कहा कि दुश्मन को पाकिस्तान में घुसकर मारो।

                                                                धर्मेंद्र यादव, सांसद।

कहीं कोई शक की गुंजाइश नहीं है कि पाकिस्तान जैसे देश को जवाब तुरंत दिया जाना चाहिए। मेरा तो मानना यह है कि एक्शन पर तुरंत ही रिएक्शन होनी चाहिए तभी सामने वाले को पता चलता है। पाकिस्तान पर एक्शन लिया गया है पर देरी हुई है।

ओमकार ¨सह यादव, राज्यमंत्री।
एक दम सही वक्त पर पाकिस्तान पर हमला किया गया है। पाकिस्तान को सही तरह से संदेश दिया जाना चाहिए ताकि रोज रोज यह होने वाली घटनाएं बंद हों और देश के जवानों का मनोबल ऊंचा हो।

आबिद रजा, सदर विधायक

देर से की गई यह कार्रवाई। प्रधानमंत्री को तुंरत ही यह निर्णय लेकर पड़ोसी मुल्क को करारा जवाब देना चाहिए था। अब कार्रवाई हुई तो यह भी ठीक है, इससे सेना को मनोबल बढ़ेगा। पूरा देश सेना के जवानों के साथ है।

सिनोद शाक्य,
बसपा विधायक
लगातार ही दवाब था तो ऐसा तो होना ही चाहिए था। पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दिया गया है। अब ठीक रहा।
यह भारत की कूटनीतिक जीत भी है। पहले सार्क देशों के सम्मेलन और यूएनओ में नीचा दिखाया और अब घर में घुस कर मारा है। यह शानदार है।



बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्ता | पाकिस्तान में आतंकियों के सफाए पर आतिशबाजी

 उझानी में भाजपा कार्यकर्ता व विश्व ¨हदू परिषद के कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने पाकिस्तान म




 उझानी |  उझानी में भाजपा कार्यकर्ता व विश्व ¨हदू परिषद के कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने पाकिस्तान में आतंकियों के सफाए को चलाए गए ऑपरेशन में 38 आतंकियों के हलाक होने पर घंटाघर चौराहा पर आतिशबाजी दाग कर खुशी का इजहार किया। इस मौके पर राजेश कुमार ¨सह, नगराध्यक्ष राहुल शंखधार, अमित शर्मा, अमित प्रताप ¨सह, योगेश प्रताप ¨सह, राजीव गोयल, जिला उपाध्यक्ष अर¨वद शर्मा नगराध्यक्ष विश्व ¨हदू परिषद डीके मथुरिया आदि मौजूद रहे।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | शौच को गई किशोरी को दबोचा

बिसौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में शौच को गई किशोरी को गांव के ही दो युवकों ने दबोच लिय




बदायूं : बिसौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में शौच को गई किशोरी को गांव के ही दो युवकों ने दबोच लिया। शोर मचाने पर वह फरार हो गए। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। बुधवार की शाम किशोरी गांव के समीप शौच को गई। रास्ते में घात लगाए बैठे दोनों युवकों ने मुंह दबा लिया और पास के ही बाजरे के खेत में ले जाने लगे। काफी मशक्कत के बाद किशोरी दोनों युवकों के चंगुल से छूटकर शोर मचाने लगी। शोर सुनकर गांव के लोग आ गए। लोगों को आता देखकर दोनों युवक भाग गए।



बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | हत्यारे दो सगे भाइयों को उम्रकैद


कोर्ट ने हत्या के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वितीय न्यायाधीश सोनिका चौधरी ने हत्या में न




बदायूं : कोर्ट ने हत्या के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वितीय न्यायाधीश सोनिका चौधरी ने हत्या में नामजद दो सगे भाइयों को सश्रम आजीवन कारावास की सजा समेत प्रत्येक पर पंद्रह-पंद्रह हजार रुपये जुर्माना डाला है। पिता व चाचा को दोषमुक्त कर दिया है।
घटना थाना उघैती में घटी थी। थाना उघैती के गांव भवानीपुर मजरा खंडवा निवासी विनोद कुमार पुत्र रूकुम ¨सह ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। तहेरे भाई मनोज कुमार पुत्र नित्यानंद को गांव का ही मनोज पुत्र श्योराज बिना वजह गाली-गलौज करते हुए मारपीट करने लगे। दोनों का बीच बचाव करके हटा दिया। इतने में ही मनोज कुमार पुत्र श्योराज गालियां देते हुए अपने घर की तरफ भागा और घर से दोनों भाई मंजीत और मनोज हाथों में तमंचा और पौनिया लेकर भागते हुए आए और फाय¨रग कर दी। दरवाजे पर उसका भाई प्रमोद खड़ा था जिसे मनोज ने सीधी गोली मारी जो उसके बाएं तरफ सीने में लगी। वह तुरंत ही गिर पड़ा। इलाज के दौरान अस्पताल में मौत हो गई। न्यायाधीश सोनिका चौधरी ने पत्रावली का अवलोकन किया। अभियोजन पक्ष की ओर से एडीजीसी विलालुद्दीन और बचाव पक्ष के वकीलों को सुनने के बाद हत्या में नामजद मनोज कुमार, मंजीत पुत्रगण श्योराज निवासीगण भवानीपुर मजरा खंडवा, थाना उघैती को आजीवन कारावास की सजा समेत पंद्रह-पंद्रह हजार रुपये जुर्माना डाला है जबकि दो अन्य आरोपी श्योराज ¨सह, रघुराज ¨सह पुत्रगण मोहर ¨सह को बरी कर दिया है।
आजम खां के विवादित बयान के मामले में पंद्रह अक्टूबर तारीख
सीजेएम मोहम्मद असलम सिद्दीकी की अदालत में चले कश्मीर पर आजम खां के विवादित बयान के मामले में गुरुवार को तलबी अर्जी पर सुनवाई कोर्ट की व्यस्तता के चलते टली अब सुनवाई 15 अक्टूबर को होगी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने फूंका पुतला

प्रदेश सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 800 रुपये बढ़ाने की घोषणा की है,



बदायूं : प्रदेश सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 800 रुपये बढ़ाने की घोषणा की है, लेकिन कार्यकर्ता इससे संतुष्ट नहीं हैं। हड़ताल गुरुवार को भी जारी रही। आक्रोशित आंदोलनकारियों ने सरकार से समझौता करने वाली दूसरे गुट की वालेश सैनी का पुतला बनाकर शवयात्रा निकाली और पुतला दहन किया। मनाने पहुंचीं सीडीपीओ से तीखी नोकझोंक भी हुई। धरनास्थल पर उझानी की सीडीपीओ रजनी सक्सेना, कादरचौक की निर्मल कुमारी और म्याऊं की सुमित्रा पहुंचीं। साथ आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और भाकियू नेता राजेश सक्सेना की तीखी नोकझोंक हो गई। महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ की जिलाध्यक्ष मिथलेश कुमारी, ब्रजेश माहेश्वरी, माया देवी शाक्य, शारदा देवी मौर्य, प्रवेश कुमारी चौहान, मोरश्री, मीना शर्मा, रीता ¨सह, अर्चना गुप्ता, अर्चना सक्सेना, प्रेमलता, सरोज देवी, पूनम सक्सेना, मंजू चौहान, रीता ¨सह, किरन देवी, नीलम ¨सह, सरला देवी मौजूद रहीं। 

zhakkas

zhakkas