: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 10/09/16

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार |PMO को 20 महीने में मिलीं 10 लाख अर्जियां, पूछा-क्या संविधान पढ़ते हैं पीएम

PMO को 20 महीने में मिलीं 10 लाख अर्जियां, पूछा-क्या संविधान पढ़ते हैं पीएम



राष्ट्रीय,| पिछले 20 महीनों में प्रधानमंत्री कार्यालय में हर दिन 1500 आरटीआई की अर्जियां मिली हैं। सूचना के अधिकार के तहत मिली एक अर्जी के जवाब में पीएमओ ने इस तरह का जानकारी दी है। पीएमओ द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक 1 जून 2014 से 31 जनवरी
गुरुग्राम के रहने वाले असीम तकयर ने आरटीआई के जरिए पीएमओ से सवाल पूछा था कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के बाद से पीएमओ को कितनी संख्या में आरटीआई मिली हैं। इसके जवाब में पीएमओ द्वारा बताया गया कि मांगी गई जानकारी बेहद विस्तृत है।

हालांकि, पीएमओ ने सवाल के जवाब में बताया है कि इस दौरान 10 लाख याचिकाओं पर काम किया गया। इसके अलावा पीएमओ से बेहद छोटी-छोटी जानकारियां भी मांगी गई हैं। इनमें पीएमों द्वारा इस्तेमाल किए गए सिलेंडर्स की संख्या भी शामिल है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | 2011 में PoK में घुस गई थी सेना, काट लाई थी तीन PAK सैनिकों के सिर






राष्ट्रीय,| साल 2011 की गर्मियों में भारत और पाकिस्तान की सेना के बीच एलओसी पर कुछ हफ्तों के दरम्यान सर्जिकल स्ट्राइक में 13 जवान मारे गए थे, जबकि 6 के सिर काटे गए थे। इनमें से 5 के सिर दोनों देशों के सैनिक अपने-अपने देश ले गए थे। रिपोर्ट के अनुसार, उस वक्त पाकिस्तानी सैनिकों ने 2 भारतीय जवानों के सिर काटे थे, जबकि भारतीय सैनिक 3 पाकिस्तानी सैनिकों के सिर काटकर ले आए थे।

  • अगर हमला हुआ तो जवाबी कार्रवाई में गोलियां नहीं गिनेंगे हम: राजनाथ सिंह


इस ऑपरेशन के आधिकारिक दस्तावेज, वीडियो और तस्वीरें हासिल करने वाले अंग्रेजी अखबार द हिंदू ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है। कुपवाड़ा की 28 डिवीजन के चीफ और इस ऑपरेशन को अमलीजामा पहनाने वाले रिटायर्ड मेजर जनरल एस. के. चक्रवर्ती ने अखबार से इसकी पुष्टि की है।

कुपवाड़ा के गुगलधर में सेना की चौकी पर राजपूत और कुमाऊं रेजिमेंट के 6 जवानों को चौंकाते हुए पाकिस्तानी सेना ने 30 जुलाई 2011 की दोपहर हमला कर दिया। इस समय 19 राजपूत बटालियन को 20 कुमाऊं रेजिमेंट से रिप्लेस किया जाना था। इसी मौके का फायदा उठाते हुए पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) ने हमला कर दिया। हमले के बाद पाकिस्तानी सेना 20 कुमाऊं के हवलदार जयपाल सिंह अधिकारी और लांस नायक देवेंदर सिंह के सिर अपने साथ ले गई। हमले की जानकारी देने वाले 19 राजपूत के एक जवान ने बाद में अस्पताल में दम तोड़ दिया।


  • पाक उच्चायुक्त बोले- हमारी भारत नीति में सेना की अहम भूमिका  



{ बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार } अंतरराष्ट्रीय,यमन: हवाई हमले में 100 लोगों की मौत, 520 घायल





अंतरराष्ट्रीय, | सऊदी अरब के नेतृत्व वाले हवाई हमले में शनिवार को यमन की राजधानी सना में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। वहीं इस हमले में 520 से ज्यादा लोग घायल हो गए। यमन के विद्रोहियों ने इस घटना की जानकारी दी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता तमीम अल-शामी ने अलमासिराह चैनल को बताया कि शनिवार को हवाई हमले में 520 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं, जबकि 100 से ज्यादा लोगों की जान चली गई है। दरअसल, सना पर विद्रोहियों का कब्जा है।

तमीन ने कहा कि मृतकों और घायलों की संख्या में इजाफा हो सकता है। हालांकि मृतकों की संख्या को लेकर कोई पुष्टि नहीं हुई है। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी नसीर अल-अरगाली ने मृतकों की संख्या 82 और घायलों की संख्या 534 बताई थी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | मायावती की रैली में भगदड़: दो की मौत, अखिलेश दो लाख, बसपा पांच लाख देगी मुआवजा

मायावती की रैली में भगदड़: दो की मौत, अखिलेश दो लाख, बसपा पांच लाख देगी मुआवजा



उत्तर प्रदेश, | बसपा सुप्रीमो मायावती की रैली में बवाल व भगदड़ मच जाने से दो की मौत हो गई जब‌कि कई घायल हैं जिसमें तीन की हालत गंभीर है। मामले पर सीएम अखिलेश यादव ने मृतक आश्रितों को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। वहीं, बसपा महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने भी मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख व घायलों का पार्टी की तरफ से इलाज कराने की घोषणा की।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट के खिलाफ एनजीटी में याचिका








उत्तर प्रदेश,| वृंदावन में सुंदरीकरण के खिलाफ पर्यावरणविदों ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) का दरवाजा खटखटाया है। एनजीटी में इस मामले में याचिका दाखिल कर आरोप लगाया गया है कि केशी घाट से यमुना नदी के निचले स्तर तक करीब तीन किमी. क्षेत्र में उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सुंदरीकरण और निर्माण कार्य प्रस्तावित है।
परियोजना के तहत केशी घाट की लंबाई करीब 750 मीटर डूब क्षेत्र में बढ़ाई जानी है। ऐसा करना पर्यावरणीय नियमों का उल्लंघन है। एनजीटी इस मामले पर जल्द ही विचार कर सकता है। गौरतलब है कि ये परियोजना मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है।

सरकार की सुंदरीकरण परियोजना के मुताबिक केशी घाट के क्षेत्र को बढ़ाने के साथ सहायक नदियों की सफाई और ओवरफ्लो होकर नदी में जाने वाले सीवर के लिए नाला निर्माण और पाइपलाइन भी प्रस्तावित है। आकाश वशिष्ठ की ओर से एनजीटी में दाखिल याचिका में कहा गया है कि संवेदनशील यमुना डूब क्षेत्र का सुंदरीकरण जल (संरक्षण और प्रदूषण नियंत्रण ) कानून, 1974 और पर्यावरण प्रभाव मूल्यांकन अधिसूचना, 2006 का उल्लंघन है। इस परियोजना के लिए निर्माण से पहले पर्यावरणीय संबंधी मंजूरी भी नहीं ली गई है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | एक गलती भारत को पड़ गई भारी, न्‍यूजीलैंड को मिला तोहफा





इंदोर टेस्‍ट की पहली पारी भारत ने पांच विकेट के नुकसान पर 557 रन बनाकर घोषित की। भारत की ओर से कप्‍तान विराट कोहली ने सबसे ज्‍यादा 211, अजिंक्या रहाणे ने 188 रन बनाए।
रवींद्र जडेजा की बैटिंग में एक गलती भारत को पड़ गई भारी, न्‍यूजीलैंड को मिला तोहफा
भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच इंदौर टेस्‍ट के दूसरे दिन रवींद्र जडेजा को अंपायर से चेतावनी झेलनी पड़ी।
भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच इंदौर टेस्‍ट के दूसरे दिन रवींद्र जडेजा को अंपायर से चेतावनी झेलनी पड़ी। इसके चलते भारत को पांच रन का नुकसान हुआ और न्‍यूजीलैंड को बिना एक भी रन बनाए उसके खाते में पांच रन जुड़ गए। ये रन एक्‍स्‍ट्रा के नाम उसे कीवी टीम के स्‍कोर में जोड़े गए। दरअसल हुआ यूं कि भारतीय पारी के 168वें ओवर में जडेजा ने ट्रेंट बोल्‍ट की गेंद पर कट मारा। इस पर उन्‍होंने दौड़कर रन पूरा कर लिया लेकिन वे पिच के बीचोंबीच दौड़ पड़े। अंपायर ब्रूस ऑक्‍सनफॉर्ड ने जडेजा को चेतावनी दी और भारत पर पांच रन की पेनल्‍टी लगाई। इसके साथ ही जडेजा की ओर से लिया गया रन भी काट लिया गया। अंपायर के फैसले से जडेजा खुश नजर नहीं आए।

न्यूजीलैंड के कप्तान रॉस टेलर ने मैच के दौरान दी हिंदी में गाली, देख विराट कोहली की भी छूटी हंसी!

जडेजा को इस टेस्‍ट सीरीज में दूसरी बार अंपायर से फटकार मिली है। इससे पहले कोलकाता टेस्‍ट में अपील करने के दौरान भी उन्‍हें चेताया गया था। उस टेस्‍ट में वे दो बार स्‍टंप की लाइन में अपील करने के दौरान दौड़ते पकड़े गए थे। पिच पर स्‍टंप की लाइन पर दौड़ने का नियम है कि अगर बल्‍लेबाज ऐसा करता है तो टीम पर पांच रन की पेनल्‍टी लगाई जाती है। यह रन विपक्षी टीम के खाते में जोड़ दिए जाते हैं। वहीं गेंदबाज ऐसा करता है तो पहली बार ऐसा करने पर चेतावनी दी जाती है। अगर दोबारा से ऐसा किया जाए तो फिर उसको गेंदबाजी से रोक दिया जाता है। यह‍ नियम पिच को नुकसान पहुंचने से रोकने के लिए बनाया गया है।
विराट कोहली ने जड़ा दोहरा शतक, एक साल में दूसरी बार किया कारनामा, तोड़े कई रिकॉर्ड
इंदोर टेस्‍ट की पहली पारी भारत ने पांच विकेट के नुकसान पर 557 रन बनाकर घोषित की। भारत की ओर से कप्‍तान विराट कोहली ने सबसे ज्‍यादा 211, अजिंक्या रहाणे ने 188 रन बनाए। रोहित शर्मा ने लगातार तीसरा अर्धशतक जड़ा। वे 51 और रवींद्र जडेजा 17 रन बनाकर नाबाद रहे। न्‍यूजीलैंड की ओर से ट्रेंट बोल्‍ट व जीतन पटेल ने सबसे ज्‍यादा 2-2 विकेट लिए।
रन मशीन बने अजिंक्य रहाणे, टेस्ट मैचों में भारत के लिए बनाया पिछले तीन साल का सबसे अनोखा रिकॉर्ड

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,पांच अनशनकारियों की हालत बिगड़ी, भर्ती





बरेली | बड़ा बाईपास के लिए अधिग्रहीत जमीन के मुआवजे को लेकर अनशन पर बैठे किसानों में से पांच की हालत शनिवार को बिगड़ गई। पांचों को पीएचसी में भर्ती कराया गया है।
बड़ा बाईपास के 16 गांवों के सैकड़ों भूदाता किसानों में से दर्जन भर से ज्यादा शनिवार को लगातार तीसरे दिन भी सतुइया टोल प्लाजा पर भूख हड़ताल पर बैठे। तेज धूप के बीच 72 घंटे से अनशन पर बैठे इन किसानों में से कलावती, गुलाबो देवी, हशमती, कल्लो बानो और परवीन बानो की हालत शनिवार को काफी बिगड़ गई। प्रशासन की बेरुखी के बीच 108 सरकारी एंबुलेंस से पांचों को पीएचसी में भर्ती कराया गया है। किसान नेता अफरोज आलम ने बताया कि जिला स्तरीय कोई अफसर तीसरे दिन भी अनशन स्थल पर नहीं पहुंचा। हालांकि, अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव और उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष पुरुषोत्तम शर्मा, यमुना एक्सप्रेस वे भूमि अधिग्रहण प्रभावित किसान संघर्ष समिति वाजना मथुरा के संयोजक नत्थीलाल शर्मा ने अनशन स्थल पर पहुंचकर आंदोलन को सक्रिय समर्थन की घोषणा की। बाद में एडीएम प्रशासन से भी बात की। एडीएम ने एसडीएम मीरगंज को बातचीत के लिए अधिकृत किया है। उन्होंने कहा कि मुआवजे की पत्रावली देखने के बाद ही कुछ कह पाएंगे। यदि किसी किसान को 61 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से मुआवजा मिला है तो बाकी किसानों को भी उसी दर से भुगतान किया जा सकता है। 

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,देश में बनेंगे 10 विश्वस्तरीय शिक्षण संस्थान





बरेली  | नालंदा विश्वविद्यालय में दस हजार छात्रों को दो हजार शिक्षक शिक्षा प्रदान करते थे, तक्षशिला विश्वविद्यालय में भी हजारों की छात्रों और शिक्षकों की संख्या सैकड़ोें में थी। भारत समेत पूरी दुनिया के विद्वान यहां शिक्षा ग्रहण करने आते थे। अब ऐसे संस्थानों को फिर अस्तित्व में लाने के लिए फिर पहल हुई है। मानव संसाधन मंत्रालय वर्ल्ड क्लास इंस्टीट्यूशंस के नाम से 10 नए शैक्षिक संस्थान बनाने जा रहा है।
ये संस्थान केंद्रीय, राज्य, डीम्ड यूनिवर्सिटी से अलग होंगे। इसका शैक्षिक ढांचा कैसा होना चाहिए इसके लिए देश के शैक्षिक संस्थान, शिक्षकों और संगठनों से सुझाव मांगे गए हैं। यूजीसी ने वेबसाइट पर पब्लिक नोटिस जारी किया है। वर्ल्ड क्लास इंस्टीट्यूशंस में ऐसी प्रतिभाओं के लिए वही माहौल होगा जो उनको दूसरे देश के संस्थान में नजर आता है। देश-विदेश के चुनिंदा शिक्षक चुने जाएंगे। प्रतिभावान छात्रों को स्लॉकरशिप की सुविधा होगी। इनका संचालन एजेंसी के माध्यम से कराया जाएगा। विदेशी छात्रों के लिए भी इन संस्थानों का रास्ता खुला रहेगा। तमाम कोर्स के साथ यहां ओपन कोर्स भी किए जा सकेंगे। यूजीसी की वेबसाइट से सीधे अपने सुझाव दिए जा सकते हैं। पूरे देश से आने वाले सुझावों को ध्यान में रखते हुए देश में दस चुनिंदा वर्ल्ड क्लास इंस्टीट्यूशंस स्थापित किए जाएंगे जो दुनिया के टॉप टेन संस्थानों को शिक्षा के क्षेत्र में चुनौती देंगे। इन संस्थानों का चुनाव केंद्रीय, राज्य, आईआईटी, प्राइवेट संस्थानों में से इंटरनेशनल रैंक से  किया जाएगा।
वर्तमान में देश के शैक्षिक संस्थानों की गिनती दुनिया के टॉप दो सौ विश्वविद्यालयों में भी नहीं होती। शोध में हम मीलों पीछे हैं। दूसरे देश के छात्र आने की बात दूर की देश के प्रतिभावान छात्र दूसरे देशों को रुख करते हैं।

देश में संस्थान
-47 केंद्रीय विश्वविद्यालय
-353 राज्य विश्वविद्यालय
-123 डिम्ड यूनिवर्सिटी
-246 प्राइवेट यूनिवर्सिटी

कोट
नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालय उदाहरण है कि शिक्षा के क्षेत्र में हम कहां थे। यूजीसी ने अच्छी पहल की है कि वर्ल्ड क्लास संस्थानों का खाका खींचने के लिए पूरे देश के शैक्षिक संस्थानों की राय को शामिल किया है।
-प्रोफसर वीपी सिंह, कोआर्डिनेटर यूजीसी रुहेलखंड विश्वविद्यालय 

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,केंद्र में ठीक से पैरवी नहीं हुई तो फिर पिछड़ गए






बरेली,  | केंद्र सरकार की स्मार्ट सिटी मिशन योजना के दूसरे चरण में चयनित 36 शहरों की सूची में बरेली फिर टॉप 20 में जगह नहीं बना पाया। इस बार फिर 29 वें नंबर आया। टॉप रैकिंग में झांसी, अलीगढ़ और इलाहाबाद को जगह मिल गई लेकिन बरेली इतना पिछड़ गया कि तीसरे राउंड में भी उसकी भरपाई मुश्किल लग रही है। बरेली के पिछड़ने के पीछे प्रबुद्धजन नगर निगम की खामियों के अलावा केंद्र में ठीक से पैरवी न होना मान रहे हैं। उनका कहना है कि नगर निगम में आय के स्रोत न बढ़ना, कूड़ा प्रबंधन, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का ढाई साल से बंद होना, फेरी नीति लागू न होने जैसी खामियां भी इसके लिए जिम्मेदार हैं।
देश के तेजी से विकसित होने वाले 36 शहरों की सूची में बरेली 29 वें नंबर पर है। योजना के दूसरे चरण में 63 शहरों ने स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट केंद्र सरकार को भेजे थे। उनमें 27 के प्रोजेक्ट बेहतर पाए गए और उन शहरों को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने के लिए चुन लिया गया। कंसल्टेंट एजेंसी दराशा एंड कंपनी के स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को 100 में से 50 नंबर मिले हैं। गाजियाबाद 26 वें नंबर पर हमसे ऊपर है। केंद्र की सूची में इलाहाबाद सात, अलीगढ़ छह और झांसी नंबर एक पर रहा। गाजियाबाद मात्र .86 नंबर लेकर बरेली से आगे निकल गया। कंसल्टेंट एजेंसी इसके लिए नगर निगम की कम टैक्स वसूली, कूड़ा प्रबंधन और निस्तारण की खामियों को जिम्मेदार मान रही है। एजेंसी के प्लानिंग हेड मुजीबुर्रहमान का का कहना है कि बरेली को पहले अपनी आमदनी के स्रोत बढ़ाने होंगे। प्राइवेट प्रापर्टी और अन्य संसाधन के अलावा कूड़ा प्रबंधन और निस्तारण को ठीक करना होगा। तभी वह स्मार्ट शहरों की सूची में जगह पा सकेगी।

पहले राउंड में 88 वीं रैंक थी
पहले राउंड में नगर निगम ने ग्रीन फील्ड डेवलपमेंट के तहत रामगंगा नगर को स्मार्ट बनाने का प्रोजेक्ट बनाया था। उसमें बरेली को 88 वीं रैंक मिली थी। अबकी बार के प्रोजेक्ट में रेट्रोफिटिंग पर काम किया गया। इसमें बरेली का 29 वां नंबर आया।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | सीबीगंज बरेली,में अलम की छड़ी को लेकर हंगामा








बरेली,  | कांशीराम कालोनी में मोहर्रम पर अलम की छड़ी निकालने को लेकर शनिवार को दो पक्ष आमने-सामने आ गए। पुलिस दोनों पक्षों के लोगों को थाने ले आई। थाने पर दोनों पक्षों के लोग जमा हो गए। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने मौके पर दोनों पक्षों की सहमति से छड़ी को निकलवा दिया। कांशीराम कालोनी में तनाव की स्थिति बनी हुई है।
शनिवार दोपहर काशीराम कालोनी के सलीम अलम की छड़ी लेकर खानकाहे नियाजिया आ रहे थे। कालोनी में रहने वाले रामसिंह ने इसे नई परंपरा बताकर हंगामा करना शुरू कर दिया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों के लोगों को थाने ले आई। इसके बाद दोनों समुदायों के लोगों की थाने में भीड़ जमा हो गई। एसपी सिटी समीर सौरभ, सीओ द्वितीय स्नेहलता और एसीएम प्रथम भी पहुंच गए। एक पक्ष का कहना था कि छड़ी निकालना नई परंपरा है। वह किसी भी हाल में छड़ी नहीं निकलने देंगे। पिछले साल भी इसी तरह छड़ी निकाली गई थी जबकि दूसरे पक्ष का कहना था कि मन्नत की छड़ी नई परम्परा नहीं है। मन्नत की छड़ी कोई भी किसी इमामबाड़े पर चढ़ाने जा सकता है। अधिकारियों ने दोनों पक्षों में सहमति बनवाकर छड़ी निकलवा दी। यह भी तय हो गया कि दूसरे पक्ष देवी जागरण आदि धार्मिक अनुष्ठान कराएगा तो कोई विरोध नहीं करेगा। एहतियातन हल्का इंचार्ज को कालोनी पर नजर रखने को कहा गया है। एसपी सिटी समीर सौरभ ने बताया कि छड़ निकालने को लेकर विवाद था। दोनों पक्षों को बैठाकर बातचीत की तो सहमति बन गई। इसके बाद छड़ी को निकलवा दिया गया।
मोहर्रम के जुलूस में मारपीट, दो हिरासत में
बरेली। मोहर्रम का जुलूस निकलने के दौरान शनिवार रात बड़ा बाजार में दो पक्षों के बीच मारपीट हो गई। इसका पता लगने पर कई अफसर मौके पर पहुंच गए। मारपीट करने के आरोप में दो युवकों को हिरासत में ले लिया गया है।
ख्वाजा कुतुब से निकला मोहर्रम का जुलूस शनिवार रात करीब साढ़े दस बजे बड़ा बाजार से गुजर रहा था। जुलूस के दौरान खाने पीने की चीजें लुटाने के दौरान एक ही समुदाय के दो पक्षों के युवकों में मारपीट हो गई, जिससे लोग इधर-उधर भागने लगे। जुलूस के साथ मौजूद पुलिस कर्मियों ने दो युवकों को हिरासत में ले लिया। इनमें कोहाड़ापीर के मुन्ना और आसिफ हैं। झगड़ने का पता लगने पर सिटी मजिस्ट्रेट, सीओ सिटी प्रथम सिद्धार्थ मिश्रा और कोतवाल केके मिश्रा समेत कई लोग मौके पर पहुंच गए।  
फतेहगंज पश्चिमी में ताजियों की जुलूस को लेकर हंगामा
फतेहगंज पश्चिमी। वार्ड लोधीनगर की कंचनपुरी नई बस्ती में नई परंपरा बताकर ताजियों के जुलूस का दूसरे समुदाय के लोगों का विरोध करते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। हालांकि विरोध के बाद ताजिये गाजेबाजों के साथ नई बस्ती में घुमाए गए। एसपी देहात यमुना प्रसाद ने बताया कि कोई नई परंपरा नहीं थी। जुलूस त्योहार रजिस्टर में दर्ज है। कुछ लोग बिना वजह विरोध करके माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे थे।  
लोधीनगर वार्ड की कंचनपुरी नई बस्ती में मुस्लिम समुदाय के भी कुछ घर हैं। मोहर्रम पर नई बस्ती में ताजिए बनाकर आसपास में जुलूस की तरफ घुमाते हैं। शनिवार को मोहल्ले के लोगों ने गाजेबाजे के साथ ताजियों का जुलूस निकलना शुरू किया तो दूसरे समुदाय ने विरोध कर दिया। विवाद बढ़ने पर दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए। श्रमिक नेता रामकृष्ण लोधी और जिला पंचायत सदस्य ममता गंगवार भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने नई परम्परा बताकर जुलूस को रुकवाने की मांग करनी शुरू कर दी। इसे लेकर मोहल्ले में हंगामा खड़ा हो गया। एसओ अशोक कुमार यादव पुलिस फोर्स पहुंच गए। विरोध करने वालों ने बताया कि पहले कभी यहां से ताजिए नहीं उठते थे। बच्चे अपने घरों के आसपास छोटे ताजिए घुमा लेते थे। जबकि त्यौहार रजिस्टर में जुलूस दर्ज था। पुलिस ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामला शांत करा दिया।

बरेली,आईएएस अपूर्वा ने दिए कामयाबी के मंत्र





बरेली  | उत्तर प्रदेश सरकार और अमर उजाला की ओर से शनिवार को आईएएम हाल में आयोजित नारी सम्मान समारोह में कला-संस्कृति, शिक्षा, खेल, सामाजिक कार्य, उद्यमिता और बहादुरी के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालीं छह नारियों का सम्मान किया गया। इस मौके पर वेंक्ताओं ने समाज में महिला, पुरुष समानता और नारी सशक्तिकरण पर जोर देते हुए नारी को समाज में सबल बनाने के लिए कई टिप्स दिए।

मुख्य अतिथि कमिश्नर प्रमांशु कुमार ने कहा कि समाज में महिला और पुरुष समान दर्ज पर लाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी यह है कि ज्यादा से ज्यादा महिलाएं आत्मनिर्भर बनें। अपने पैरों पर खड़े होकर आर्थिक रूप से स्वतंत्र हों, तभी वे अपना महत्व साबित कर पाएंगी और समाज में उनके प्रति नजरिए में बदलाव आएगा। उन्होंने कहा कि महिलाओं को आगे बढ़ाने में पुरुषों की भी भूमिका होनी चाहिए। नारी के महत्व को समझना चाहिए। कहीं न कहीं असमानता के लिए महिला खुद भी जिम्मेदार होती है। वह एक पत्नी के रूप में पति के लिए करवाचौथ का व्रत रखती है और एक मां के रूप में भी बेटे के लिए निर्जला व्रत करती है लेकिन बेटी के लिए ऐसा कोई व्रत रखती हो ऐसा सुना नहीं है। महिलाएं बेटी को भी बेटे के समान महत्व देंगी, तभी पुरुषों में बचपन से ही महिलाओं के प्रति सम्मान का भाव जगा पाएंगी।
समारोह की अध्यक्षता समाजसेविका और उद्यमी शारदा भार्गव ने की। उन्होंने नारी सशक्तिकरण के लिए सामाजिक क्रांति का आह्वान करते हुए कहा कि पुत्र वंश बढ़ाएगा, यह धारणा खत्म होनी चाहिए और बेटा-बेटी के बीच अंतर खत्म करने के लिए जब तक महिलाएं आगे नहीं आएंगी, तब तक कुछ नहीं हो सकता। विशिष्ट अतिथि एसडीएम सदर अपूर्वा दुबे ने महिलाओं की शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि महिलाओं को यह भी तय करना होगा कि उनको परिवार और समाज में किस भूमिका में रहना है।  कोई भी राह कठिन नहीं होती। इरादे मजबूत होने चाहिए। नारी यदि आत्मबल जगा ले तो वह समाज को दिशा दे सकती है। पुरुषों का नजरिया भी उसको ही बदलना होगा। बीएसए ऐश्वर्य लक्ष्मी ने कहा कि एक सफल पुरुष के पीछे यदि किसी महिला का हाथ समझा जाता है तो यह भी सच है कि किसी सफल महिला के पीछे किसी न किसी पुरुष का हाथ होता है इसलिए पुरुषों को महिलाओं के लिए प्रेरित करने की जरूरत है। प्रभारी जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. अवनीश यादव ने भी विचार व्यक्त किए। संचालन डॉ. वंदना शर्मा ने किया। मुख्य अतिथि और अन्य मंचासीन अतिथियों ने कला और संस्कृति के क्षेत्र में टेलीविजन कलाकार हिबा नवाब (बरेली), खेल के क्षेत्र में हाकी खिलाड़ी विमला भारती (पीलीभीत), सामाजिक क्षेत्र में निधि मिश्रा (लखीमपुर खीरी), उद्यमिता के क्षेत्र में आरती राना (लखीमपुर खीरी), बहादुरी के लिए अंजली मिश्रा (बरेली) और शिक्षा के क्षेत्र में आईएएस परीक्षा में  239 वां स्थान पाने वालीं आकृति सागर (बरेली) को शाल और प्रतीक चिन्ह प्रदान करके सम्मानित किया। आकृति सागर की ओर से उनके पिता चंद्रसेन सागर ने सम्मान ग्रहण किया। आकृति इन दिनों आईएएस की ट्रेनिंग पर गई हुई हैं। समारोह में बड़ी संख्या में समाज के विभिन्न क्षेत्रों की महिलाएं, कई विद्यालयों की प्रधानाचार्य, शिक्षिकाएं और छात्राएं मौजूद रहीं।

आईएएस अपूर्वा ने दिए कामयाबी के मंत्र
बरेली। नारी सम्मान समारोह के दौरान एसडीएम सदर आईएएस अधिकारी अपूर्वा दुबे ने छात्राओं को कामयाबी के मंत्र भी दिए। उन्होंने कहा कि बेटियों को अपनी इच्छाएं दबानी नहीं चाहिए। अपनी सोच को तवज्जो देनी चाहिए। जब तक लड़कियां आगे नहीं आएंगी, तब तक अपनी पहचान नहीं बना सकतीं। खुद को ही सशक्त बनाना होगा, इसके लिए कोई और आगे नहीं आएगा। अपना रोल तय करिए और अपने लक्ष्य, सम्मान, अधिकार और इच्छाओं के लिए जूझिए।
अपूर्वा ने कहा कि शिक्षा का मतलब सिर्फ किताबी ज्ञान या डिग्री हासिल करने भर तक नहीं होना चाहिए। जरूरी यह है कि लड़कियां भी व्यवहारिक ज्ञान हासिल करें।  अगर आपमें हौसला है और कुछ कर दिखाने का जज्बा है तो आप जीत जाएंगी। सफलता के लिए यह मायने नहीं रखना कि आप किस पृष्ठभूमि से निकले हैं या फिर आपकी परिस्थितियां क्या हैं, कामयाबी उनके कदम चूमती है, जिनमें आत्मबल और कुछ कर दिखाने के इरादे होते हैं, इसलिए अपने सपनों को पूरा करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़नी चाहिए।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बरेली,विश्वविद्यालय के निशानेबाजों को नहीं मिलेगा शस्त्र लाइसेंस





बरेली : भारतीय विश्वविद्यालय संगठन (एआइयू) ने अंतर विश्वविद्यालय शूटिंग कंप्टीशन में ओपन बोर आ‌र्म्स के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। अब सिर्फ एयर पिस्टल और एयर रायफल से प्रतियोगिताएं होंगी। लिहाजा विश्वविद्यालय से जारी होने वाले खेल प्रमाण पत्रों से शस्त्र लाइसेंस जारी नहीं हो सकेंगे। इससे अंतरराष्ट्रीय शूटिंग की तैयारियों में जुटे विवि खिलाडि़यों के लिए मुश्किलें खड़ी गई हैं।

विवि खेल शूटिंग प्रतियोगिताओं में ओपन बोर आ‌र्म्स से भी टूर्नामेंट कराए जाते थे, लेकिन इस बार एआइयू ने सुरक्षा और जिम्मेदारी की दृष्टि से इन्हें खेल से बाहर कर दिया। एआइयू के फैसले से विवि के शूटर्स के सामने शस्त्र लाइसेंस की चुनौती रहेगी, क्योंकि एयर पिस्टल से अभ्यास के आधार पर असलहे का लाइसेंस नहीं जारी होगा।

सामान्य प्रक्रिया से मिलेगा लाइसेंस
विवि के शूटिंग खिलाड़ियों को सामान्य प्लेयर्स की तरह ही अब लाइसेंस के लिए आवेदन करना होगा। विवि से अलग दूसरी प्रतियोगिताओं के दस्तावेज के साथ आवेदन करना होगा। शूटिंग का परीक्षण लिया जाएगा। उसी के आधार पर लाइसेंस जारी किया जाएगा।
विवि कोटे से नहीं बना कोई लाइसेंस
विवि के खेल कोटे से किसी शूटिंग खिलाड़ी के लाइसेंस की अनुमति नहीं दी गई है। विवि ने स्पष्ट किया है कि खिलाड़ियों के भविष्य के साथ सुरक्षा की दृष्टि से लाइसेंस को दूर रखा।
बोले जिम्मेदार
दस मीटर की शूटिंग प्रतियोगिता में एयर पिस्टल और एयर रायफल का ही उपयोग होता है। इतनी दूरी का अभ्यास कराते हैं। ओपन आ‌र्म्स शस्त्र से प्रशिक्षण या प्रतियोगिता अंतर महाविद्यालय और अंतर विवि स्तर पर जरूरी भी नहीं है।
प्रो. एके जेटली, क्रीड़ा प्रभारी रुविवि

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | दैनिक राशिफल से आप जान सकते 09/10/2016

   




  • मेष

व्यापार में इच्छित सफलता प्राप्त करेंगे। स्थायी संपत्ति प्राप्ति के योग हैं। आत्मीयजनों के सहयोग से महत्वाकांक्षाएं फलीभूत होंगी।


  •  वृष

नौकरी में दिन सुधारात्मक रहेगा। क्रोध पर नियंत्रण रखें। महत्वपूर्ण लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। समाज में आपके कार्यों की प्रशंसा होगी।


  •   मिथुन

लापरवाही से काम न करें। व्यापार-धंधे में जितनी चाहिए उतनी सफलता मिलने की उम्मीद कम है। पारिवारिक जीवन में संताप हो सकता है।


  •   कर्क

दांपत्य जीवन सुखद। नया प्रस्ताव मिलेगा। धार्मिक रुचि बढ़ेगी। आपकी दूरदर्शिता और बुद्धिमानी से कार्यों में सफलता प्राप्त होगी।


  •   सिंह

मानसिक शांति बनाए रखना आपके हित में होगा। पारिवारिक सदस्यों से मदद नहीं के बराबर मिलेगी। पारिवारिक जीवन उत्साहपूर्ण रहेगा।


  •  कन्या

दिन प्रसन्नतापूर्वक बीतेगा। सामाजिक क्षेत्र विकसित होगा। व्यापार लाभप्रद रहेगा। दूसरों के कार्यों में हस्तक्षेप से बचें। व्ययों में कमी करें।


  • तुला

नई योजनाएं बनेंगी और क्रियान्वित होंगी। संगीत के क्षेत्र में रुचि बढ़ेगी। जीवनसाथी से संबंध प्रगाढ़ होंगे। व्यापारिक यात्रा लाभप्रद होगी।


  •  वृश्चिक

भागीदारी के व्यापार-व्यवसाय में सावधानी बरतें। आपकी बातों का विरोध सहन करना पड़ेगा। आर्थिक स्थिति में अवरोध उत्पन्न होने की आशंका है।


राशि फलादेश धनु
प्रयत्नों का पूरा फल आपको मिलेगा। मांगलिक कार्य की रूपरेखा बनेगी। व्यवहारकुशलता से व्यापार में सफलता प्राप्त करेंगे। संतान की चिंता रहेगी।


राशि फलादेश मकर
व्यापार, कारोबार ठीक चलेगा। आर्थिक परिस्थिति में अनुकूलता का आभास होगा। वाहन, मकान आदि की खरीदी का योग बनेगा।


राशि फलादेश कुंभ
अच्छे दिन का लाभ उठाना आपके हाथ में है। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति में सुधार होगा। व्यावहारिकता से कार्य करने पर सफलता मिलेगी।


राशि फलादेश मीन
पराक्रम व सुख समृद्धि बढ़ने से अनेक रुके कार्य पूर्ण होंगे। परिवारजनों से मतभेद हो सकता है। निर्णय लेने में विलंब न करें।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आजम ने भी छोड़ा आबिद का साथ!






बदायूं : नगर विकास मंत्री आजम खां की सदर विधायक आबिद रजा से निकटता किसी से छिपी नहीं है। विगत कई वर्षों से आजम खां जब भी बदायूं आते वह आबिद रजा के घर जरूर जाते। मंचों पर भी वह उनका कद बढ़ाते रहे। जब से विधायक सपा से निष्कासित हुए हैं तब से आजम खां कहीं नजर नहीं आए हैं। सियासी सूत्र बताते हैं, आजम खां आबिद के एवज में पार्टी से दुश्मनी हरगिज नहीं लेंगे। यही वजह है, विधायक अलग-थलग पड़े हुए हैं।

कुछ दिनों पहले तक जिले की राजनीति में विधायक आबिद रजा का अच्छा-खासा दखल रहा है। ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान सपा के प्रत्याशियों को लेकर कई सीटों पर विवाद उत्पन्न हुए थे। सांसद धर्मेंद्र यादव के खिलाफ उनका मोर्चा खोलना भारी पड़ गया। उसके पहले के अधिकांश कार्यक्रमों में आजम खां भी यहां आते रहे। बिना कार्यक्रम के जब भी इधर से गुजरे तो आबिद रजा के आवास पर जरूर पहुंचे। मीडिया को दिए कश्मीर संबंधी एक बयान पर आजम खां खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा बदायूं में ही चल रहा है। हालांकि, सांसद-विधायक विवाद के बाद से आजम खां ने बदायूं का रुख नहीं किया। सपा मुखिया मुलायम ¨सह यादव के परिवार से भी आजम खां का गहरा रिश्ता है। धर्मेंद्र यादव, मुलायम ¨सह के भतीजे हैं। यही वजह है, वे पार्टी और नेताजी के आगे आबिद को भाव देते नहीं दिख रहे। अब इंतजार उनके बोलने का, जिसके लिए आजम खां जाने जाते हैं।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बगरैन,पेंपल गांव में मिला कन्याभ्रूण

बगरैन पुलिस चौकी क्षेत्र के गांव पेंपल में सड़क किनारे कन्याभ्रूण मिलने से लोगों की भीड़ जुट ग



बदायूं: बगरैन पुलिस चौकी क्षेत्र के गांव पेंपल में सड़क किनारे कन्याभ्रूण मिलने से लोगों की भीड़ जुट गई। काफी देर तक लोग मौके पर मामले को लेकर तमाम कयास लगाते रहे। बाद में पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने भ्रूण का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम को भेजा है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | प्रांतीय प्रतियोगिताओं में शिवदेवी के छात्रों को जलवा





बदायूं : शिशु शिक्षा समिति की प्रांतीय खेलकूद प्रतियोगिताएं एटा में कराई गईं। शिवदेवी सरस्वती विद्या मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के तरुण वर्ग के छात्र शैलेश शर्मा ने भाला फेंक व कक्षा 12 के आदित्य आजाद ने गोला फेंक में पहला स्थान प्राप्त किया। नितिन कश्यप ने सौ मीटर दौड़ में दूसरा, हरी प्रकाश ने त्रिकूद में तीसरा स्थान प्राप्त किया। प्रधानाचार्य रामनिवास राजपूत ने पहला स्थान पाने वाले खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया। जिसमें शैलेश शर्मा, आदित्य आजाद हापुड़ में होने वाली क्षेत्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे। इस मौके पर मुकेश बाबू, दिनेश प्रताप ¨सह, कृष्ण हरि शर्मा, सोवरन ¨सह, विनय चौहान, माखनलाल, सीताराम, वेदप्रकाश, रामकुमार ¨सह चौहान आदि उपस्थित रहे।

आरएसएस का शिक्षा वर्ग शुरू

शिव देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्राथमिक संघ शिक्षा वर्ग का उद्घाटन हुआ। शिक्षा वर्ग 15 अक्टूबर तक चलेगा। वर्ग में दातागंज, समरेर, जगत, सालारपुर विकास क्षेत्र व नगर के शिक्षार्थी प्रतिभाग करेंगे। प्रशिक्षण का विषय दंड, समता, पद विन्यास, नियुद्ध, खेलकूद, शारीरिक व्यायाम आदि रहेंगे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बिसौली, हाईवे जाम करने वाले आठ सौ लोगों पर मुकदमा








बिसौली  | बिसौली मे ंचौबीस घंटे के बाद पुलिस ने हाईवे जाम करने वाले धनगर समाज के आठ सौ लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। इस बात की जानकारी होने पर धनगर संगठन के पदाधिकारियों ने इसे प्रशासन का दोहरा चरित्र बताया है। उन्होंने पूरी ताकत से दुबारा आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

अनुसूचित जाति का प्रमाणपत्र जारी करने को लेकर धनगर समाज के लोग पिछले एक अगस्त से तहसील में धरना दे रहे थे। कोई भी समाधान न होने पर शुक्रवार को धनगर समाज के सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आए। चार घंटों से ज्यादा हाईवे को जाम किया। एडीएम संजय श्रीवास्तव ने पात्रता की जांच करने का आश्वासन देकर जाम खुलवा दिया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस के उच्चाधिकारियों के बीच लंबी वार्ता चली। हां और न के बाद शनिवार देर शाम चौकी इंचार्ज हर¨सह पाल की रिपोर्ट पर धनगर समाज के आठ सौ लोगों के खिलाफ धारा 144 का उल्लंघन करने और हाईवे जाम करने का आरोपी मानते हुए रिपोर्ट दर्ज की गई। अहिल्याबाई यूथ ब्रिगेड के जिला उपाध्यक्ष नेत्रपाल ¨सह ने कहा कि प्रशासन ने समस्या का निस्तारण करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। कोतवाली जमीरुल हसन ने बताया कि अभी मुकदमा दर्ज हुआ है। सीडी देखकर कार्रवाई की जाएगी।

एक डग भी नहीं हुई जांच

बिसौली : 67 दिनों का धरना भी प्रशासन की नींद नहीं खोल पाया। डीएम द्वारा गठित कमेटी साठ दिनों में एक कदम भी नहीं चली। तत्कालीन डीएम सीपी त्रिपाठी ने पात्रता की जांच के लिए एक कमेटी गठित की लेकिन इस कमेटी ने धरातल पर कोई काम ही नही किया। जब भी आंदोलनकारी जिले पर उच्चाधिकारियों से मिलने जाते तो उन्हे कार्यवाही का आश्वासन मिल जाता। साठ दिनों बाद भी इस मामले में कागजी कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हुआ।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | इस्लामनगर मोहर्रम पर शांति व्यवस्था बनाए रखने को कहा






बदायूं: इस्लामनगर में मोहर्रम माह पर निकलने वाले अलम, मेंहदी, मोहर्रम जुलूस निकलने को लेकर थाना इस्लामनगर में मोहर्रम माह पर निकलने वाले अलम, मेंहदी, मोहर्रम जुलूस निकलने को लेकर थाना परिसर में मोहर्रम व अखाड़े निकालने वालों की शांति व्यवस्था बनाने के लिए पीस कमेटी की बैठक आयोजित हुई। मी¨टग में थानाध्यक्ष सीपी ¨सह ने कहा कि कोई नई परंपरा नहीं डाले, प्रस्तावित मार्गों से ही मोहर्रम जुलूस निकाले और किसी प्रकार का विवाद न करें, प्रेमभाव के साथ मिलकर शांति कायम रखे। पूर्व चेयरमैन वाहिद खां एडवोकेट ने भी लोगों से मोहर्रम, अलम, मेंहदी जुलूस समय से निकालने एक ही साथ मोहर्रम करबला में दफन करने की बात कही। मी¨टग चेयरमैन वीरेंद्र कुमार लीडर ने भी संबोधित किया। इस मौके पर हाजी विकारूद्दीन सिद्दीकी, राशिद कुरैशी, वसीम सकलैनी, चुन्ना खां, महबूब खां सहित कस्बे व ग्रामीण क्षेत्र के लोग मौजूद थे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | प्रतिबंधित पशुओं से भरा ट्रक पलटा, कई पशु मरे






बदायूं: प्रतिबंधित पशुओं को भरकर जा रहे ट्रक की सूचना पर पुलिस ने ट्रक का पीछा शुरू कर दिया। इस बीच पशु तस्करों ने एसओ की गाड़ी को रौंदने का प्रयास किया तो किसी तरह से एसओ ने अपनी जान बचाई। पुलिस की घेराबंदी से घबराया चालक संतुलन खो बैठा इससे ट्रक पलट गया। ट्रक में सवार 18 गोवंशीय पशुओं की मौत हो गई, जबकि 18 पशुओं को ट्रक के अंदर से ¨जदा निकाला गया। पुलिस ने अज्ञात तस्करों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पशुओं को ग्रामीणों की सुपुदर्गी में दिया है।

शुक्रवार की रात करीब दो बजे एसओ हरिभान ¨सह को किसी ने सूचना दी कि फर्रुखाबाद की ओर से एक ट्रक में प्रतिबंधित पशु भरकर लाए जा रहे हैं। सूचना मिलते ही एसओ ने पुलिस फोर्स के साथ ट्रक की घेराबंदी शुरू कर दी। अलग-अलग ठिकानों पर बेरियर लगाकर चे¨कग शुरू कर दी। एसओ ने अटैना घाट पर घेराबंदी की तो ट्रक ने उनकी जीप रौंदने का प्रयास किया। इसके बाद भी पुलिस लगातार ट्रक का पीछा करती रही। गांव खेड़ा जलालपुर के पास जंगल में ट्रक को ओवरटेक कर आगे से रास्ता घेर लिया गया। इससे ट्रक चालक का संतुलन बिगड़ गया और ट्रक पलटता हुआ खाई में जा गिरा। इसी बीच पुलिस को चकमा देते हुए ट्रक चालक फरार हो गया। पुलिस ने आनन-फानन में ट्रक का डाला खोला तो उसके अंदर 36 गोवंशीय पशु भरे हुए थे। उसमें 18 पशुओं की मौत हो गई जबकि 18 ¨जदा बचा लिए गए।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | ग्रामीण,विधायक करवा सकते हैं हत्या






बदायूं : सपा से निष्कासित विधायक आबिद रजा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने वाले ग्रामीण ने विधायक से जान को खतरा बताया है। उसने कहा है कि विधायक किसी भी वक्त उसके परिवार के किसी सदस्य की हत्या करा सकते हैं, इसलिए अगर उसका एक्सीडेंट भी हुआ तो सीधे तौर पर विधायक जिम्मेदार होंगे। वादी ने बताया कि उसने जायदाद समेत अपनी संपत्ति के कागज पुलिस को भी मुहैया करा दिए हैं। आरोप लगाया है कि विधायक ने ही गलत तरीके से आय और संपत्ति अर्जित की है। शुक्रवार को विधायक के ऊपर मुकदमा दर्ज कराने वाले निहालुद्दीन के बेटे पप्पू ने बताया कि उसके खिलाफ विधायक के ही इशारे पर धोखाधड़ी से जमीन का बैनामा कराने का मुकदमा दर्ज किया गया था। इस बात की जानकारी होने पर वह अपने पिता और चचेरे भाई के साथ विधायक से मदद मांगने गया था। मदद के बजाय बंधक बनाकर परिवार के जेवरात भी बिकवा दिए गए। कहा कि अब उसकी हैसियत की बात कर रहे हैं। उसने कहा है कि विधायक के पास इतनी संपत्ति कहां से आई इसकी जांच होनी चाहिए।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | कुंवरगांव,रातों-रात हो रहा अवैध खनन







बदायूँ, | कुंवरगांव शासन के आदेश के बावजूद पुलिस की मिलीभगत से क्षेत्र के गांव ईसुफनगर, वनगढ़, अहरूईय
 कुंवरगांव शासन के आदेश के बावजूद पुलिस की मिलीभगत से क्षेत्र के गांव ईसुफनगर, वनगढ़, अहरूईया, हसनपुर, दुगरैया आदि में रातों-रात जेसीबी व ट्रैक्टर- ट्रॉली से मिट्टी का अवैध खनन एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाई जाती है। क्षेत्रवासियों ने उच्चाधिकारियों से अवैध खनन की शिकायत की है।

पेयजल व्यवस्था फेल

कुंवरगांव : नगर पंचायत प्रशासन की लापरवाही से तीन दिनों से कस्बा की के बा¨शदे पानी को तरस रहे हैं, जिसकी लोगों ने कई बार नगर पंचायत में शिकायत की लेकिन नगर पंचायत के अधिकारियों व कर्मचारियों ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | विधायक आबिद रजा की अब हकीकत सामने आने लगी







बदायूँ | सदर विधायक आबिद रजा की अब हकीकत सामने आने लगी है। जब तक वह सत्ता में थे तब तक उनके क्रिया-कलापों पर पर्दा पड़ जा रहा था, सत्ता से दूर होते ही उनकी असलियत जनता के सामने आने लगी है।
हरीश शाक्य, जिलाध्यक्ष भाजपा
सदर विधायक आबिद रजा के मामले से बसपा का कोई लेना देना नहीं है। इस प्रकरण में हम कोई कमेंट नहीं करेंगे।
हेमेंद्र गौतम, जिलाध्यक्ष बसपा
सदर विधायक आबिद रजा का मामला सपा में चल रही आपसी खींचतान का नतीजा है। इसके बारे में तो वह खुद और सपा के लोग ही कुछ कह सकते हैं।
 साजिद अली, जिलाध्यक्ष कांग्रेस
कहावत नहीं बल्कि हकीकत है कि जो जैसा बोएगा वह वैसा ही काटेगा। सदर विधायक आबिद रजा के मामले में भी वैसा ही दिखाई दे रहा है।
 सुरेश पाल ¨सह चौहान, जिला महासचिव सपा
सदर विधायक की बात..

दरअसल सांसद मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। गत दिनों तीन ¨सतबर को एक कार्यक्रम में उनके समर्थकों ने यह बात उठाई थी और उसमें उन्होंने समर्थकों को टोकने के बजाए मौन स्वीकृति दी। इसी सम्मेलनन में आजम खां के खिलाफ भी बोलेन पर तालियां बजवाई गई जबकि सपा में आजम खां के योगदान को कोई नहीं भूल सकता। मेरे ऊपर फर्जी मुकदमे की आहट मुझे पूर्व में ही थी इसलिए मैनें कोर्ट में इस बात की आशंका जाहिर करते हुए अर्जी दे रखी है। दिल्ली बुला कर यह तहरीर लिखवाई गई है। जो शख्स आरोप लगा है उसकी इतनी हैसियत ही नहीं है कि वो लाखों रुपये मुझे दे सके। यह सब साजिश है। कही मेरी सपा में वापसी न हो जाए इसलिए मेरी लोकप्रियता को ठेस लगाने के लिए यह कुचक्र रचा गया है। किसी को मैने इतना ही धमकाया था तो आज दो साल तक वो चुप क्यों रहा? मुझसे इस बात की जलन भी है मैं सांसद को बुरा क्यों कहता हूं? मुख्यमंत्री, नेताजी या प्रदेश अध्यक्ष व आजम साहब के लिए कुछ गलत क्यों नहीं कहता हूं?


आबिद रजा, सदर विधायक

zhakkas

zhakkas