: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 10/15/16

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | सरकार का अनूठा फैसला, अब से डाकिया आपके घर लाएगा सस्ती दाल





राष्ट्रीय  | खुदरा बाज़ार में दालों के बढ़ते दाम और सरकारी बिक्री केन्द्रों की कमी को देखते हुए मोदी सरकार एक बेहद ही क्रिएटिव और मददगार कदम उठाने जा रही है। अभी तक डाकघर आपको चिट्ठियां और पार्सल पहुंचाने का काम करते आए हैं लेकिन जल्दी ही डाकिया आपके घर दाल लेकर भी आएगा। जी हां सरकार डाकघर के इस बढ़िया नेटवर्क का इस्तेमाल लोगों को सस्ती दाल उपलब्ध कराने के लिए करने वाली है।

बता दें कि राज्य सरकारों के पास उतने बिक्री केन्द्र मौजूद ही नहीं हैं जितनी दाल की मांग वहां देखने को मिल रही है। ऐसे में केन्द्र सरकार देश भर में सब्सिडी प्राप्त दलहनों की बिक्री डाकघरों के विशाल नेटवर्क के जरिये करेगी। इन दलहनों में तुअर, उड़द और चना के दाल शामिल होंगे और सरकार का मकसद चालू त्यौहारों के दौरान इन दालों की उपलब्धता को सुनिश्चित कराना है। उपभोक्ता मामला विभाग के सचिव हेम पांडे की अगुवाई वाले अंतरमंत्रालयीय समिति की आज यहां हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। इस बैठक में खाद्य, उपभोक्ता मामला विभाग, कृषि, वाणिज्य एवं वित्त मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे। इसमें सरकारी उपक्रम एमएमटीसी और नाफेड के भी अधिकारीगण थे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | कलाम जयंती: भारत के मिसाइल मैन को इन कारणों से नहीं भूला जा सकता







राष्ट्रीय  | भारत के लोकप्रिय राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम का आज जन्मदिन है। बतौर राष्ट्रपति तो उनके योगदान को कोई भूल नहीं सकता, लेकिन एक शिक्षक और एक वैज्ञानिक के तौर पर भी उन्होंने भारत को बहुत कुछ दिया है। हमारे देश की रक्षा, शिक्षा और राजनीति में उनका अहम योगदान रहा है।

उन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में अहम भूमिका निभाई है। अनुभवी राजनीतिविद, शिक्षक और एक वैज्ञानिक के रूप में उन्होंने मिशाल कायम की है। इन्हें बच्चों का टीचर और बैलेस्टिक मिसाइल, प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास कार्यों के लिए भारत में मिसाइल मैन के रूप में भी जाना जाता है।

साल 2015 की 27 जुलाई को देश ने अपना 11वां राष्ट्रपति खो दिया। उनकी यादें जिस तरह से हमारे साथ हमेशा रहेंगी, ठीक वैसे ही पूरा देश उन्हें कभी नहीं भूल पाएगा। देश के लिए, देश के बच्चों के लिए हम उनके योगदान को हमेशा याद रखते हैं। राजनीतिक स्तर पर कलाम की चाहत थी कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की भूमिका विस्तार हो और भारत ज्यादा से ज्यादा महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाये।

भारत को महाशक्ति बनने की दिशा में कदम बढ़ाते देखना उनकी दिली चाहत थी। आज उनकी जयंती के अवसर पर हम उनके योगदान पर एक नजर डालते हैं।


शिक्षा को समर्पित था उनका जीवन

उन्होंने कई प्रेरणास्पद पुस्तकों की भी रचना की थी और वे तकनीक को भारत के जनसाधारण तक पहुंचाने की हमेशा वक़ालत करते रहे थी। बच्चों और युवाओं के बीच डाक्टर क़लाम अत्यधिक लोकप्रिय थे। वह भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के कुलपति भी थे।

वैसे तो उन्होंने एक जीवन में कई भुमिकाएं निभाईं लेकिन शिक्षक के तौर पर उनका योगदान काफी अहम रहा। युवाओं के बीच अत्यधिक लोकप्रिय रहे कलाम ने अपने विचारों से उन्हें खूब प्रेरित किया। उनका मानना था कि आने वाली पीढ़ी हमें तभी याद रखेगी, जब हम अपनी युवा पीढ़ी को एक समृद्ध और सुरक्षित भारत दे सकेगें जो सांस्कृतिक विरासत के साथ-साथ आर्थिक समृद्धि के परिणाम स्वरूप प्राप्त हो। उनका मानना था कि हम जैसा समाज चाहते हैं हमें वैसी ही शिक्षा अपने बच्चों को देनी चाहिए।

विश्वविद्यालयों द्वारा मानद डॉक्टरेट की उपाधि, पद्मभूषण और पद्मविभूषण व भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारतरत्न' से सम्मानित होने वाले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की पूरी जिंदगी शिक्षा को समर्पित थी। बच्चों से रूबरू होना, स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में जाना व छात्र-छात्राओं से प्रेरणा दायक बातें करना, डॉ. कलाम को बेहद पसंद था। उनका पूरा जीवन अनुभव और ज्ञान का निचोड़ था।
विज्ञान को दी नई पहचान
मिसाइल मैन के नाम से मशहूर कलाम ने साल 1998 में परमाणु हथियार टेस्ट में अहम भूमिका निभाई थी।
जब वे डीआरडीओ में कार्यरत थे, साल 1992 से साल 1998 तक वे प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार थे। इस दौरान उन्होंने कई अहम कदम उठाए। इसरो और डीआरडो में कार्यरत होने के दौरान उन्होंने कई अहम कदम उठाए।
मिशन 2020

डॉक्टर कलाम दूरदर्शी थे और देश को महाशक्ति बनाने के लिए कई सपने देखे थें। उन्होंने सपना देखा था कि साल 2020 तक भारत महाशक्ति में शामिल हो जाएगा और एक विकसित देश के रूप में जाना जाएगा। 

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बलूचिस्तान में सितम ढहा रहा पाक, दस साल में 30 हजार लोग गायब किए






अंतरराष्ट्रीय  | बलूचिस्तान की प्रोफेसर नायला बलूच ने बताया कि वहां दस साल में 30 हजार से ज्यादा बच्चे, महिलाएं और पुरुष गायब हो चुके हैं। जहां-जहां पाकिस्तानी पुलिस की चौकियां बनती गई, अपराध और जुल्म बढ़ते गए। उन्होंने कहा कि 70 साल के बाद नरेंद्र मोदी के रूप में किसी प्रधानमंत्री ने बलूचिस्तान को उम्मीद की किरण दिखाई है। उनके 15 अगस्त के भाषण के बाद वहां जश्न मनाए गए।

शनिवार को आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार से मिलने पहुंचीं नायला का दर्द फूट पड़ा। उन्होंने कहा कि बलूचिस्तान में मिलिट्री ऑपरेशन के नाम पर हजारों का कत्लेआम किया जा चुका है। महिलाओं से दुष्कर्म होते है। उन्होंने बलूचिस्तान में पाकिस्तान के अत्याचार को इंसानियत के लिए खतरा करार दिया। नायला बलूच फिलहाल कनाडा में रह रही हैं। कहती हैं कि वह पूरे विश्व में बलूचिस्तान की आजादी के लिए सुभाष चंद्र बोस की राह पर निकली हैं। उन्होंने हिंदुस्तान को दुनिया का स्वर्ग बताया।

पाक को बड़ा सबक मिले
प्रो. नायला ने कहा कि पहली बार भारत की ओर से पाकिस्तान को सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए जवाब दिया गया है। पाकिस्तान को तीनों तरफ से जवाब देने की जरूरत है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | ये हैं 10 विध्वंसक मिसाइलें, मिनटों में कर देंगी दुश्मन को नेस्तनाबूद





अंतरराष्ट्रीय | शनिवार को भारत और रूस के बीच अत्याधुनिक लॉंग रेंज एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम को लेकर करार हुआ। यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम अपनी तरफ आ रहे दुश्मन के विमानों, मिसाइलों और यहां तक कि ड्रोनों को 400 किलोमीटर तक के दायरे में मार गिराने की क्षमता है। चीन के बाद रूस से इस मिसाइल सिस्टम का सौदा करने वाला भारत दूसरा देश है। आपको बता दें कि दुनिया में ऐसे कई खतरनाक मिसाइल मौजूद हैं जो मिनटों में किसी देश को तबाह कर सकते हैं। ऐसे में सीमा पर पाकिस्तान और चीन से जारी तनाव के बीच भारत के लिए यह सौदा बेहद अहम माना जा रहा है।

द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद और शीत युद्ध के दौरान दुनिया की महाशक्तियों ने परंपरागत तरीके से युद्ध लड़ने के अलावा कई रास्तों की खोज की। इसमें मिसाइल हमला आज के दौर में बेहद कारगर और सफल है। परमाणु हथियारों लैस ये मिसाइलें एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक लक्ष्य भेदने में सक्षम है। दुनिया में ऐसे कई विवादित क्षेत्र है जहां युद्ध का खतरा हमेशा मंडराता रहता है। अमेरिका, रूस, भारत, चीन, इजराइल और फ्रांस जैसे देशों के पास विध्वंसक मिसाइलों का जखीरा है और आज के दिन वो किसी भी देश को निशाना बनाने की ताकत रखते हैं।  

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | क्या आप भी चाय बनाने के बाद फेंक देते हैं चायपत्ती? ये हैं 8 फायदे




हर घर में रोज चाय बनती है। चाहे वह ग्रीन टी हो या ब्लैक टी और या फिर दूध वाली चाय। चाय बनने के बाद अक्सर हम चाय की पत्तियां फेंक देते हैं। हमें यह नहीं पता होता कि यूज होने के बाद चायपत्ती का क्या किया जाए, इसलिए अक्सर लोग चाय की पत्तियों को कूड़े में डाल देते हैं। क्या आप जानते हैं दोबारा इन चाय की पत्तियों का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो न केवल आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है बल्कि आपके घर के अन्य कामों में भी आसानी से प्रयोग में लाई जा सकती है। आइए आज हम आपको बताएंगे कि कैसे चाय की पत्तियों का इस्तेमाल दोबारा कर सकते हैं?

चाय की पत्ती के फायदे


  1. बालों में चमक और दमक के लिए यूज होने वाली चायपत्ती बेहद ही फायदेमंद होती है। यह एक तरह से प्राकृतिक कंडिशनर का काम करती है। चाय की बची हुई पत्तियों को एक बार धो लें और इन्हें दोबारा पानी में उबाल लें। और फिर इस पानी से अपने बालों को साफ करें। नियमित ऐसा करने से बालों में प्राकृतिक चमक आएगी।
  2. गमले में पौधों को समय-समय पर खाद की जरूरत होती है। ऐसे में आप बची हुई चायपत्ती को साफ कर लें और गमले में डाल दें। इससे आपके पौधे स्वस्थ रहेगें।
  3. चायपत्ती का एक और फायदा यह है कि आप इससे लकड़ी से बनी हुई चीजों को चमकदार बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। बची हुई चायपत्तियों को दोबारा से पानी में उबाल लें और इसे किसी शीशी या फिर स्प्रे की बोतल में डाल दें। अब इससे लकड़ी से बने सामानों की सफाई करें। इससे शानदार चमक आती है।
  4. चायपत्ती चोट व घावों को जल्दी ठीक करने और उन्हें भरने का काम करती है। चाय की पत्ती एंटीआक्सीडेंट होती है। यदि आपके घाव या चोट लगी हो तो उस पर चायपत्ती लगाते ही वे जल्दी ठीक हो जाते हैं। सबसे पहले आप चायपत्तियों को उबाल लें और इसे चोट के ऊपर लगा दें। या फिर आप चायपत्ती के पानी से चोट और घावों को धो सकते हैं। यह संक्रमण से भी आपको बचाती है।
  5. आप चायपत्ती का इस्तेमाल काबुली चना बनाने के लिए भी कर सकते हैं। इसके लिए आप चायपत्तियों को सुखा लें और काबुली चना बनाते समय उबलते हुए पानी में चायपत्ती की पोटली को उसमें डाल दें। ऐसा करने से काबुली चनों का रंग अधिक आकर्षक दिखता है।
  6. बनी हुई चाय की पत्ती दुबारा पानी में डाल कर उबालें। उस पानी से घी और तेल के डब्बे साफ करें। इससे डब्बे की दुर्गंध जाती रहेगी।
  7. जिस स्थान पर अधिक मक्खियां बैठ रही हों। वहां धोयी हुई चाय की पत्ती को गीला करके रगड़ दें।
  8. चाय की पत्ती में थोड़ा सा विम पाउडर मिलाकर क्राकरी साफ करें। उसमें चमक आ जाएगी।

भारत और रूस के बीच 200 मिलिट्री हेलीकॉप्टर, एयर डिफेंस सिस्टम, न्यूक्लियर एनर्जी समेत 16 समझौते





गोवा  | गोवा में ब्रिक्स समिट से पहले भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय बातचीत के बाद 16 अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए हैं. इन समझौतों से रक्षा क्षेत्र में भारत और रूस के बीच नया आयाम स्थापित होगा. समझौतों के अनुसार भारत को कोमोव मिलिट्री हेलीकॉप्टर मिलेगा. साथ ही एस-400 सिस्टम भी रूस भारत को देगा. दोनों देशों के बीच गैस पाइपलाइन पर स्टडी, न्यूक्लियन एनर्जी, आंध्र प्रदेश और हरियाणा में स्मार्ट सिटी, शिक्षा, रेल की स्पीड बढ़ाने समेत कई क्षेत्रों में अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए.


भारत में सामानों की बिक्री घटी, बौखलाया चीन
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने दोनों देशों के बीच 17वें सालाना द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के बाद कहा, "भारत व रूस के बीच साझेदारी ने एक नई ऊंचाई को छुआ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व राष्ट्रपति पुतिन दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में 16 समझौतों तथा तीन घोषणाओं के साक्षी बने." समझौतों में एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम की खरीद तथा भारत में 1135 श्रृंखला के युद्धपोतों का निर्माण शामिल है.

एयर डिफेंस सिस्टम का कवच
भारत और रूस के बीच एयर डिफेंस समझौते पर भी हस्ताक्षर हुआ. एयर डिफेंस सिस्टम एस-400 ट्राइअम्फ लंबी रेंज की क्षमता वाले होते हैं. इन मिसाइलों में अपनी तरफ आ रहे दुश्मन के विमानों, मिसाइलों और यहां तक कि ड्रोनों को 400 किलोमीटर तक के दायरे में मार गिराने की क्षमता है. इसकी खरीद से भारत की रक्षा प्रणाली मजबूत होगी.


हेलीकॉप्टरों के निर्माण के लिए एक उपक्रम
हेलीकॉप्टरों के निर्माण के लिए एक उपक्रम स्थापित करने के लिए भी समझौता किया गया है. एक अरब डॉलर के निवेश फंड की स्थापना के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है. आंध्र प्रदेश, हरियाणा में स्मार्ट सिटी के विकास तथा ऐसे शहरों में ट्रांसपोर्ट लॉजिस्टिक के विकास के लिए भी समझौते किए गए हैं. रूस से भारत तक गैस पाइपलाइन के संयुक्त अध्ययन के लिए भी समझैता किया गया है.

वाराणसी: जय गुरुदेव के समागम में मची भगदड़, 24 की मौत, CM अखिलेश ने दिए जांच के आदेश







वाराणसी  | धार्मिक नगरी वाराणसी में पुल पर मची भगदड़ में 24 लोगों की मौत हो गई है. ये हादसा राजघाट पुल पर हुआ. जय गुरुदेव के भक्त समागम के लिए जमा थे और राजघाट पुल पर भीड़ के कारण ये हादसा हुआ. मरने वालों में 20 महिलाएं 4 पुरुष हैं.

वाराणसी में भगदड़, 19 की मौत
खबर के मुताबिक, रविवार को डुमरिया में जय गुरुदेव की गद्दी पर स्थापित बाबा पंकज दास का दो दिन का सत्संग समागम होना था. इसके लिए कई शहरों के लाखों अनुयायी वाराणसी पहुंचे थे. शनिवार सुबह से ही राजघाट पुल पर गुरुदेव के अनुयायियों का पैदल मार्च चल रहा था. इससे वहां ट्रैफिक पर रोक लगा दी गई, जिससे पूरे शहर में जाम लग गया. इस बीच अचानक पड़ाव के पास भगदड़ मच गई.

खुद को बचाने की कोशिश में लोग एक-दूसरे को कुचलकर आगे बढ़ने लगे, जिससे 24 लोगों की मौत हो गई. मौके पर बचाव और राहत कार्य जारी है. घायलों को नजदीकी अस्पताल पहुंचाया जा रहा है. सीएम अखिलेश ने कमिश्नर स्तर की जांच के आदेश दे दिए हैं. वाराणसी प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर 2508464 जारी किया है.

घटना की होगी जांच
अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) दलजीत चौधरी ने लखनउ में बताया कि राजघाट पुल काफी संकरा है और गर्मी और घुटन की वजह से पुल पर एक व्यक्ति की मौत के बाद भगदड़ मची थी, जिससे इतना बड़ा हादसा हो गया. उन्होंने बताया कि बाबा जयगुरदेव संस्थान ने जितनी भीड़ का अनुमान लगाकर आयोजन की अनुमति ली थी, उससे कई गुना ज्यादा भीड़ एकत्र हो गई थी. हम घटना की जांच कर रहे हैं. गुनहगारों को बख्शा नहीं जाएगा.
सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान
यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने हादसे में मृतकों के परिवार के लोगों के लिए 5-5 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है. गंभीर रूप से घायलों के लिए यूपी सरकार ने 50-50 हजार रुपये की मदद का ऐलान किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये देने की घोषणा की है.

पीएम ने दिया मदद का भरोसा
वाराणसी रेंज के आईजी एसके भगत ने कहा कि पुल पर भीड़ ज्यादा होने पर हादसा हुआ. 3000 लोगों की अनुमति थी, जबकि ज्यादा लोग पहुंचे थे. रास्ता भी बेहद सकरा था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. पीएम ने घायलों के लिए प्रार्थना भी की है. पीएम ने संबंधित अधिकारियों से भी बात की है और हरसंभव मदद का भरोसा दिया है.

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | दैनिक राशिफल 15/10/2016





  • मेष

आजीविका के क्षेत्र में उन्नति होगी। व्यापार में महत्वपूर्ण सौदे आपके पक्ष में होने की संभावना है। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

  •   वृष

अधिकारी सहयोग करेंगे। प्रयास, परिश्रम का उचित फल मिलेगा। दूस्साहसपूर्ण कार्यों से दूर रहना चाहिए। जीवनसाथी से विवाद की आशंका है।


  •  मिथुन

कार्यों के मनचाहे परिणाम मिल सकेंगे। परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। नई योजनाओं का सूत्रपात होगा। स्वास्थ्य मध्यम रहेगा।

  कर्क
संतान पक्ष के कामों की चिंता रहेगी। वाणी प्रभावी होने के कारण आप लोगों से अपनी बात आसानी से मनवा सकेंगे। सुख-समृद्धि बढ़ेगी।


  •  सिंह

व्यापार में नए कार्यों, योजनाओं की शुरुआत हो सकती है। आपकी बुद्धिमानी और कार्य के प्रति लगन की अधिकारी प्रशंसा करेंगे।
 
  •  कन्या

अच्छे व्यक्तियों के साथ अच्छे संबंध रहेंगे। आपकी ख्याति और प्रतिष्ठा-सम्मान बढ़ेगा। अपनी वाणी पर संयम रखें। यात्रा सफलतादायक रह सकती है।


  •  तुला

आमदनी में इजाफा होगा। रुके कार्य पूर्ण होने की संभावना है। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। खर्चों में वृद्धि से चिंता होगी।


  •  वृश्चिक

कामकाज अच्छा चलेगा। आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। पारिवारिक उन्नति होगी। स्वजनों, प्रिय व्यक्तियों से मेल-मिलाप के योग हैं।


  • धनु

व्यापार-व्यवसाय मध्यम रहेगा। घर में किसी से विवाद हो सकता है। योजनाएं क्रियान्वित नहीं हो पाएंगी। परिश्रम अधिक करना पड़ेगा।


  •  मकर

प्रयास-परिश्रम करें तो कार्य में सफलता मिलने के योग हैं। नौकरी में कार्य की प्रशंसा होगी। आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। आलस्य का त्याग करें।


  •  कुंभ

साझेदारी में नए अनुबंध हो सकते हैं। नई वस्तु क्रय करने की संभावना है। साहित्य में रुचि बढ़ेगी। व्यापार में लाभ मानसिक प्रसन्नता देगा।


  •  मीन

परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। मान-प्रतिष्ठा में कमी आएगी। कामों को समय पर करने का प्रयत्न करें।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | राशन कालाबाजारी की हकीकत जानने पहुंची टीम





बदायूं : उसावां में सरकारी चावल कालाबाजारी की हकीकत परखने को पूर्ति विभाग की तीन सदस्यीय जांच टीम गुरुवार को बरैनिया गांव पहुंची। तहकीकात में जांच टीम को कोटेदार का स्टॉक कम मिला है। महिला कोटेदार के न मिलने पर टीम ने जांच रिपोर्ट बनाई। साथ ही दुकान के गांव में उपभोक्ताओं से बातचीत कर आंकड़े जुटाए। लोगों का कहना है कि कार्ड धारकों से अभद्रता की जाती है और ओवररे¨टग और घटतौली भी हो रही है। टीम ने ग्रामीणों के बयानों की वीडियोग्राफी भी कराई।

विकास क्षेत्र के गांव बरैनिया की राशन दुकान को दबंगों की ओर से संचालन की शिकायतें तो काफी समय से हो रही थीं। मगर एक सफेदपोश के दबाव के चलते जिम्मेदार शिकायतों को नजरअंदाज कर रहे थे। सोमवार को ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस ने कालाबाजारी को जा रहा इसी दुकान का 28 कट्टे चावल पकड़ा था। कालाबाजारी के मामले की जांच में बरैनिया पहुंची टीम ने जब हकीकत परखी तो व्यवस्थाओं की पोल खुल गई। पूर्ति निरीक्षक राजेश कुमार ने बताया कि कोटेदार ईश्वरवती अपने परिवार के साथ दिल्ली रहती हैं। दुकान का संचालन गांव के ही पवन और मैकू द्वारा होना पाया गया है। स्टॉक भी कम पाया गया है।

अन्य लोग भी जांच के दायरे में

कालाबाजारी के मामले में टीम की जांच भले ही कोटेदार के इर्द-गिर्द घूम रही हो लेकिन इसमें कई अन्य लोगों की भी गर्दन नप सकती है। इनमें गोदाम कर्मचारी एवं पर्यवेक्षक भी जांच के दायरे में फंस रहे हैं। कोटेदार की अनुपस्थिति में राशन का उठान और सकुशल वितरण इनकी संदिग्ध भूमिका को उजागर कर रहा है। मजेदार बात यह है कि ग्राम पंचायत का आरक्षण बदलकर सामान्य हो गया परंतु दुकान अब भी एससी में ही चल रही है। नियमानुसार दुकान का आवंटन नए रिजर्वेशन के मुताबिक होना चाहिए।
जांच टीम की रिपोर्ट अग्रसारित कर दी गई है। कोटेदार के अलावा और कौन-कौन दोषी है इसकी भी जांच कराएंगे। रिजर्वेशन के बारे में भी पूर्ति निरीक्षक से बात करेंगे।

हरिराम यादव,एसडीएम दातागंज ।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बिल्सी,लापरवाही बरतने पर 16 बीएलओ को वेतन रोका







बिल्सी  | बिल्सी के एसडीएम ने पुनरीक्षण अभियान में लापरवाही बरतने वाले 14 बीएलओ का वेतन व मानदेय रोकने की कार्रवाई की है। संबंधित विभाग के अधिकारियों को सूचित किया गया है। कर्मचारियों ने फार्म जमा ही नहीं किए हैं। तो कुछ ने बहुत कम संख्या में जमा किए हैं और अधिकारियों का सहयोग नहीं कर रहे हैं। तीन दिन में तहसील में उपस्थित होकर निर्वाचन नामावली कार्य करने के निर्देश दिए हैं।

विभिन्न केंद्रों पर पुनरीक्षण का कार्य चल रहा है। जिलाधिकारी के सख्त आदेश के बाद भी विभिन्न विभागों के कर्मचारी लापरवाही बरत रहे हैं। ऐसे बीएलओ बनाए गए कर्मचारियों पर एसडीएम बिल्सी विधान जायसवाल ने कार्रवाई की है। जिसमें रोजगार सेवक राकेश, देवपाल ¨सह, किताब ¨सह, शिक्षामित्र श्वेता रानी, आंगनबाड़ी भगवान देवी, तोसी रानी, संतोष कुमारी, ¨पकी देवी, रजनी शाक्य, कंचन बाला, प्रियंबदा, अनुदेशक ममता प्रभाकर, उमेश कुमार का मानदेय रोका गया है। एसडीएम विधान जायसवाल ने बताया कि पुनरीक्षण कार्यक्रम में किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। जिलाधिकारी की ओर से कार्य पूर्ण कराने का निर्देश दिया गया है। इसके बाद भी संबंधित कर्मचारियों ने फार्म 6, 7 व 8 जमा नहीं किए हैं। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, खंड विकास अधिकारियों को सूचना देकर कार्रवाई करते हुए पुनरीक्षण कार्य में सहयोग कराने को कहा गया है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | महिला ने एंबुलेंस में ही दिया बच्चे को जन्म






बिसौली  | बिसौली क्षेत्र के गांव ¨पदारा निवासी कमलेश पत्नी दुर्गेश ने एंबुलेंस में ही पुत्र को जन्म दिया। बताते हैं कि कमलेश की तबियत बिगड़ने पर दुर्गेश ने एंबुलेंस को फोन करने बुलाया। कमलेश को अस्पताल में भर्ती करने से पहले उसकी हालत बिगड़ गई। । डॉक्टर को एंबुलेंस में बुला किया गया। थोड़ी ही देर में एंबुलेंस में बच्चे का जन्म हो गया। इस बात की चर्चा रही। डाक्टर नवनीत कुमार ने बताया कि मां और बेटे स्वस्थ हैं।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बैंक में लोन के 52 मामले लंबित, डीएम खफा

15 दिनों में सभी मामले निस्तारण करने के निर्देश  



बदायूँ  | समाजवादी युवा स्वरोजगार योजना के अंतर्गत चार बैंकों के स्तर पर 52 ऋण पत्रावलियां लंबित मिलने पर डीएम पवन कुमार ने रोष व्यक्त किया। साथ ही आवेदकों को ऋण उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।
विकास भवन में सीडीओ अच्छेलाल सिंह यादव, संबंधित बैंकों के जिला समन्वयक तथा उद्योग केंद्र के उपायुक्त वीरेंद्र कुमार के साथ डीएम ने समाजवादी युवा स्वरोजगार योजना अंतर्गत चयनित लाभार्थियों को दिए जाने वाले ऋण के संबंध में समीक्षा की। इसमें पंजाब नैशनल बैंक के स्तर पर 22, एसबीआई 14, सर्व यूपी ग्रामीण बैंक 12 तथा इंडियन बैंक के स्तर पर चार आावेदन लोन के लिए लंबित पड़े हैं। डीएम ने लाभार्थियों का ऋण स्वीकृति पत्र जारी करने के निर्देश दिए हैं।
उद्योग केंद्र उपायुक्त ने बताया कि प्रदेश सरकार की यह योजना जुलाई में शुरू हुई थी। इसमें उद्योग अथवा सेवा उद्योग लगाने के लिए 25 लाख रुपये तक का ऋण दिए जाने का प्रावधान है। लाभार्थी को दिए गए लोन पर 25 फीसदी सब्सिडी दी जाएगी। जिले में 35 यूनिट की स्थापना सब्सिडी के रूप में 70 लाख रुपये की धनराशि जनपद को प्राप्त हो चुकी है। चयनित समिति द्वारा प्राप्त 250 आवेदन पत्रों में 76 आवेदनकर्ताओं को चयन कर ऋण स्वीकृति हेतु पत्रावलियां बैंकों को भेजी जा चुकी हैं, जिसमें विभिन्न बैंकों ने 24 आवेदनों पर स्वीकृति के बाद केवल सात लाभार्थियों को ही अब तक ऋण दिया है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | इस्लामनगर में तीन दिन से बवाल, पुलिस मौन





इस्लामनगर  | इस्लामनगर कस्बे के मोहल्ला मछली बाजार में तीन दिन से दो पक्षों के बीच बार-बार फायरिंग हो रही है। अब तक दोनों पक्षों के 10 लोग घायल हो चुके हैं। इसके बाद भी पुलिस मौन पड़ी है। शुक्रवार रात फिर से फायरिंग होने के बाद पांच लोगों के खिलाफ कातिलाना हमले का मुकदमा दर्ज किया गया है। बार-बार हो रही फायरिंग के बाद कस्बे में तनाव बढ़ता जा रहा है। एहतियात के तौर पर अब पुलिस तैनात कर दी गई है।
इस्लामनगर के मछली बाजार के यासीन और इसरार पक्ष के बीच दो दिन पहले मोहर्रम जुलूस के अखाड़े को लेकर विवाद हो गया था। दोनों पक्षों के बीच जमकर पथराव और फायरिंग हुई। इसमें यासीन पक्ष के इमरान, सबलू, गोसनी, तोसिफ जबकि दूसरे पक्ष के इसरार, आबिद, स्वाले और कासिम घायल हो गए। फायरिंग से इलाके में दहशत फैल गई। इस्लामनगर पुलिस पूरे मामले को डकार गई। गुरुवार को भी दोनों पक्षों के बीच फायरिंग हुई। इसके बाद भी पुलिस मौन रही।
शुक्रवार को दोनों पक्ष एक बार फिर से आमने-सामने आ गए। दोनों ओर से जमकर पथराव और फायरिंग में इसरार पक्ष के गुफरान और सुनील गोली लगने से घायल हो गए। बात बढ़ी तो पुलिस तो हरकत में आना पड़ा। पुलिस मौके पर पहुंची। उससे पहले फायरिंग करने वाले भाग चुके थे। एसओ सीपी सिंह मौके पर पहुंचे। यहां से उन्होंने तीन लोगों को हिरासत में ले लिया। दोनों घायलों को अस्पताल भेजा है। मामले में रिपोर्ट कातिलाना हमले की धाराओं में दर्ज की गई है। एहतियात के तौर पर मोहल्ले में पुलिस को तैनात किया गया है।

फायरिंग नहीं हुई है। एक ही समुदाय के दो पक्षों के बीच मारपीट का मामला है। रिपोर्ट दर्ज कर घायलों को मेडिकल के लिए भेजा गया है। उच्च अधिकारियों को इस बारे में बता दिया गया है। तनाव जैसी कोई स्थिति नहीं है।-सीपी सिंह, एसओ इस्लामनगर


मामले में अभियोग पंजीकृत है। तीन लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। एसओ इस्लामनगर को जरूरी निर्देश दिए गए हैं। बाकी के आरोपियों की भी गिरफ्तारी कर ली जाएगी।-संजय राय, एसपी देहात

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बहन को मारने जा रहे थे, विरोध पर भाई को मार डाला





दातागंज  | दातागंज के गांव प्रसिद्घपुर में गुरुवार रात हुई वारदात प्रधानी चुनाव के बाद से ही दोनों परिवारों में चल रही थी रंजिश
दातागंज कोतवाली के गांव प्रसिद्घपुर में कुछ लोगों ने एक किशोरी को जान से मारने की नीयत से पकड़ लिया। शोरशराबा होने पर किशोरी का चचेरा भाई सुभाष उसे बचाने पहुंचा तो हमलावरों ने सुभाष को गोली से उड़ा दिया। उसकी मौके पर मौत हो गई। मृतक के भाई ओमेंद्र ने छह लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है। खबर मिलने पर एसपी सिटी अनिल यादव ने मौका मुआयना किया। बताते हैं कि दोनों परिवारों में गहरी रंजिश चली आ रही है।
दातागंज कोतवाली के गांव प्रसिद्घपुर के ब्रजपाल का गांव के ही पूर्व प्रधान धर्मवीर उर्फ फौजी से विवाद चल रहा था। गुरुवार रात करीब आठ बजे ब्रजपाल की 16 वर्षीय बेटी ज्योति शौच को जा रही थी। रास्ते में धर्मवीर उर्फ फौजी पुत्र रघुनाथ, सौरभ पुत्र धर्मवीर, श्यामवीर पुत्र रघुनाथ, अनुज पुत्र श्यामवीर, होशियार पुत्र महावीर और धर्मवीर के भांजे पवन ने ज्योति को जान से मारने की नीयत से पकड़ लिया। सभी के पास असलहे थे। ज्योति के शोर मचाने पर उसका चचेरा भाई सुभाष (28) पुत्र सत्यपाल मौके पर पहुंचा। गांव का ही अवध बिहारी उर्फ बबलू भी आ गया। सुभाष को देखते ही धर्मवीर उर्फ फौजी ने रायफल से फायर कर दिया। होशियार और श्यामवीर ने भी फायरिंग की। गोली लगने से सुभाष की मौके पर मौत हो गई। अवध बिहारी बाल-बाल बचा। इसके बाद हमलावर तमंचे लहराते हुए भाग गए। सुभाष के भाई ओमेंद्र ने धर्मवीर उर्फ फौजी, सौरभ, होशियार, श्यामवीर, अनुज और पवन के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने सुभाष का शव उसके परिवार के सुपुर्द कर दिया।

अगस्त में सुभाष के चचेरे भाई को मारी गई थी गोली
बदायूं। दातागंज कोतवाली के गांव प्रसद्घिपुर में रंजिश करीब ढाई महीने पुरानी है। सुभाष के चचेरे भाई रनवीर को चार अगस्त को गोली मारकर घायल कर दिया गया था। उस वक्त धर्मवीर, श्यामवीर और अनुज के खिलाफ कातिलाना हमले का मुकदमा दर्ज कराया गया था। धर्मवीर पक्ष के लोगों को अब तक पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया है। पुलिस मामले को संदिग्ध बता रही थी। इसी दौरान धर्मवीर ने रनवीर पक्ष के खिलाफ रिवाल्वर और 2.50 लाख रुपये लूट का मुकदमा दर्ज कराया था। बाद में धर्मवीर का लाइसेंसी रिवाल्वर झाड़ियों से बरामद हो गया। 2.50 लाख रुपये लूटने की बात भी गलत निकली थी। इस मामले में रनवीर पक्ष ने जमानत करा ली थी। यह लोग बार-बार उच्च अधिकारियों से मिलते रहे, लेकिन इसके बाद भी कातिलाना हमले में नामजद धर्मवीर पक्ष के लोगों की गिरफ्तारी पुलिस ने नहीं की।

सुभाष का किसी से नहीं था विवाद
बदायूं। गौर करने वाली बात यह है कि रंजिश की भेंट चढ़े सुभाष का किसी से विवाद नहीं था। चार अगस्त को सुभाष के चचेरे भाई रनवीर को गोली मारी गई थी। धर्मवीर ने भी रनवीर पक्ष के खिलाफ लूटपाट का मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद भी सुभाष का धर्मवीर पक्ष के लोगों के घर आना-जाना था। सुभाष अपने परिवार में काफी सुलझा और सीधा-साधा था। उसकी हत्या के बाद गांव के लोगों का यही कहना है कि सुभाष बेवजह रंजिश की भेंट चढ़ गया।


तहरीर के आधार पर छह लोगों को नामजद करते हुए रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। पूरे मामले में पड़ताल की जा रही है। विवेचना में सच्चाई सामने आ जाएगी। आरोपियों की गिरफ्तारी को छापामारी की जा रही है।-अनिल यादव, एसपी सिटी

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बाइक सवार दंपती व भाभी से आभूषण नकदी लूटे







बदायूं : नूरपुर पिनौनी क्षेत्र में रिश्तेदारी में जा रहे दंपती व उसकी भाभी से लुटेरों ने कुंडल, पाजेब मोबाइल समेत ढाई सौ रुपये की नकदी लूट ली। जिसकी पीड़ित ने पुलिस को तहरीर दी है। क्षेत्र के गांव पतीसा निवासी निरंजन ¨सह अपनी पत्नी नीरज और भाभी गीता के साथ गुरुवार देर शाम संभल जनपद के ईसापुर गांव स्थित अपनी रिश्तेदारी में बाइक से जा रहे थे। जैसे ही वह सैफुल्लागंज गांव के निकट पहुंचे तभी बाइक सवार लुटेरों ने निरंजन की बाइक रूकवा कर दोनों महिलाओं से कुंडल, पाजेब और निरंजन से मोबाइल व ढाई सौ रुपये की नकदी लूट ली। जिसकी पीड़ित ने पुलिस को तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | मतदाता शुद्धीकरण में लापरवाही बरतने पर वेतन रोकने के आदेश





बिल्सी  | बिल्सी में मतदाता सूची के फार्म 6, 7, 8 व 8क के शुद्धीकरण के लिए बीएलओ बूथ लेबिल अधिकारी पुनरीक्षण कार्य में लगाए गए थे। जिसमें उपजिलधिकारी विधान जायसवाल ने मतदाता शुद्धीकरण लापरवाही बरतने वाले बीएलओ राकेश कुमार, स्वेता रानी, देवपाल, भगवान देवी, तोसीरानी, किताब ¨सह, संतोष कुमारी, ममता प्रभाकर, ¨पकी देवी, उमेश कुमार, कंचनवाला, रजनी शाक्य आदि के अग्रिम आदेशों तक वेतन रोकने के आदेश दिए हैं। जिसकी आख्या बेसिक शिक्षा अधिकारी बीडी अंबियापुर व जिला कार्यक्रम अधिकारी को भेजकर कहा कि शीघ्र कार्य पूर्ण न करने पर उक्त बीएलओ के विरूद्ध लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1950 की धारा 32 के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज कराने की कार्रवाई की जाएगी।

zhakkas

zhakkas