: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 10/29/16

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | जाने सही मतलब दीपावली का वीडियो जरूर देखै धन्यबाद



                                                   happy diwali to all of you
                             जाने सही मतलब दीपावली का वीडियो जरूर देखै धन्यबाद    

INDvsNZ : टीम इंडिया का देशवासियों को दीवाली तोहफा, वनडे सीरीज पर जमाया कब्जा : बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार





विशाखापट्टनम: भारत और न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीमों के बीच पांच मैचों की एकदिवसीय सीरीज का पांचवां और अंतिम मुकाबला शनिवार को विशाखापटनम के एसीए-वीडीसीए स्टेडियम में खेला गया. टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराकर सीरीज पर कब्जा जमाया. टीम इंडिया ने 190 रन से जीत दर्ज की. न्यूजीलैंड की पूरी टीम 23.1 ओवर में 79 रन पर ढेर हो गई.

अमित मिश्रा ने पांच विकेट लिए
भारत की ओर से अमित मिश्रा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 6 ओवर में दो मेडन ओवर फेंके और 18 रन देकर पांच विकेट लिए. टीम इंडिया की गेंदबाजी इस कदर हावी रही कि कीवी टीम के पांच बल्लेबाज शून्य पर आउट हुए जबकि 4 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके. न्यूजीलैंड की ओर से केवल कप्तान केन विलियमसन ने सर्वाधिक 27 रन बनाए. शानदार गेंदबाजी के लिए अमित मिश्रा को मैन ऑफ द मैच घोषित दिया गया. इस सीरीज में कुल 15 विकेट लेने के लिए अमित मिश्रा को मैन ऑफ द सीरीज भी घोषित किया गया.


(न्यूजीलैंड के खिलाड़ी का विकेट लेने के बाद अमित मिश्रा) फोटो सौजन्य : एएफपी

भारत ने जीत के लिए दिया था 270 रनों का लक्ष्य
इससे पहले भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था. भारत ने 50 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 269 रन बनाए और न्यूजीलैंड के सामने जीत के लिए 270 रनों का लक्ष्य रखा था. भारत की ओर से रोहित शर्मा ने 70 जबकि उपकप्तान विराट कोहली ने 65 रनों की पारी खेली. इसके अलावा, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 41 रनों का योगदान दिया. वहीं, न्यूजीलैंड की ओर से ईश सोढ़ी और बोल्ट को दो-दो जबकि सैंटनर और नीशाम को एक-एक विकेट मिला.

फिर फेल रहे अजिंक्य रहाणे
न्यूज़ीलैंड के खिलाफ मौजूदा वनडे सीरीज़ में भी रहाणे का प्रदर्शन निराशाजनक बना हुआ है. विशाखापटनम वनडे में भी उनका बल्ला खामोश रहा और कोई बड़ी पारी खेलने में नाकम रहे. अजिंक्य रहाणे ने आज 39 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 20 रन बनाए. इससे पहले रांची वनडे में उन्होंने 57 रन बनाए थे जो इस सीरीज में उनका सर्वोच्च स्कोर है. मोहाली वनडे में उन्होंने 5 तो कोटला वनडे 28 जबकि धर्मशाला वनडे में 33रनों की पारी खेली थी.

टीम इंडिया की बैटिंग का ओवर-दर-ओवर अपडेट

अक्षर पटेल आउट! बोल्ट की गेंद को भांपने में असफल रहे अक्षर पटेल. भीतरी किनारा लेती हुए गेंद स्टंप से टकराई. अक्षर ने 18 गेंदों में 1 चौके और 1 छक्के की बदौलत 24 रन बनाए.

छक्का! इस बार केदार जाधव ने 50वें ओवर की दूसरी गेंद पर वाइड लॉन्ग ऑन पर खूबसूरत छक्का जड़ा. केदार जाधव फिलहाल 36 रन बनाकार खेल रहे हैं.

सिक्स! 49वें ओवर की पांचवी गेंद पर अक्षर पटेल ने साउदी की गेंद पर शानदार गगनचुंबी छक्का लगाया. इस छक्के के साथ भारत का स्कोर बढ़कर 257/5 रन हो गया.

पिछले 9 ओवर में गंवाएं 3 विकेट भारत ने पिछले 9 ओवर में तीन महत्वपूर्ण विकेट खोए हैं. जबकि इस दौरान महज 51 रन बनाए हैं.

धीमी पड़ी रनों की रफ्तार कोहली के जाने के बाद रनों की गति पर विराम लग गया है. दो नए युवा बल्लेबाज केदार जाधव और अक्षर पटेल मैदान पर हैं जो एक-एक रन के लिए तरस रहे हैं. हालांकि धीमी रन गति से भारत मैच की शुरुआत से ही जूझता रहा है.

विराट कोहली आउट! 44वें की पहली गेंद को विराट कोहली ने बाउंड्री के बाहर भेजने की कोशिश की लेकिन असफल रहे और मार्टिन गप्टिल ने उनका कैच लपक लिया. विराट कोहली 65 रन बनाकर आउट हुए. ईश सोढ़ी ने उनका बहुमूल्य विकेट लिया. ईश सोढ़ी दो विकेट ले चुके हैं. धोनी का विकेट भी उनके खाते में गया था. विराट ने अपनी पारी में 4 चौके और 1 छक्का लगाया. अक्षर पटेल बल्लेबाजी करने आए हैं.

40वें ओवर के बाद भारत 199/4
पिछले 10 ओवर में भारत ने दो महत्वपूर्ण विकेट गंवाएं हैं. ये विकेट महेंद्र सिंह धोनी और मनीष पांडे का है. हालांकि विराट कोहली मैदान पर डटे हैं लेकिन भारतीय टीम की रनों की रफ्तार कमजोर बनी हुई है. 36 से 40 ओवर के बीच भारत ने केवल 16 रन बनाए जबकि इस दौरान दो विकेट खोए.

मनीष पांडे आउट! टीम इंडिया को चौथा झटका लग चुका है. मनीष पांडे, ईश सोढ़ी को गेंद पर एक बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में अपना विकेट गंवा बैठे. मनीष पांडे इस सीरीज में कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके हैं. मनीष की जगह युवा बल्लेबाज केदार जाधव मैदान पर आए हैं. भारत का स्कोर 195/4

धोनी आउट! 38वें ओवर की तीसरी गेंद पर सैंटनर की गेंद पर आउट हुए महेंद्र सिंह धोनी. धोनी ने गेंद को स्वीप करने का प्रयास किया लेकिन नाकाम रहे और एलबीडब्लू आउट हो गए. सैंटनर को मिली पहली सफलता. धोनी के आउट होने के बाद मनीष पांडे मैदान पर आए हैं. भारत का स्कोर 190/4

कोहली का अर्धशतक पूरा कोहली ने 38वें ओवर की दूसरी गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया.कोहली का यह 38वां अर्धशतक है.

कप्तान और उपकप्तान अर्धशतक की ओर विराट कोहली इस समय 53 गेंदों पर 44 रन बनाकर तो कप्तान धोनी 51 गेंदों पर 39 रन बनाकर खेल रहे हैं

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | अबैध रूप से ले जा रहे ट्रक में प्रतिबंधित पशुओं का मांस ट्रक को दबोचा




आज दिनांक 29-10-2016 को चौकी प्रभारी मंडी उप निरीक्षक परमेन्द्र कुमार थाना सिविल लाइन को मुखबीर द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि एक ट्रक में प्रतिबंधित पशुओं का मांस लादकर ले जाया जा रहा है जिस पर उपनि0 परमेन्द्र कुमार द्वारा हमराह का0 अबरार, का0 उरवीर ने ट्रक को मय चालक सहिद उर्फ़ रशीद पुत्र आबिद हुसेन निवाशी ग्राम रोरा कला थाना मिलक जिला रामपुर को पकड़ लिया। ट्रक में लगभग 40 कुंतल गो मॉस बरामद किया गया। चौकी प्रभारी मंडी उप निरीक्षक परमेन्द्र कुमार थाना सिविल लाइन एवम् हमराह कांस्टेबल के द्वारा किये गये सराहनीय कार्य की उच्चअधिकारी एवं जनता द्वारा प्रशंसा की गयी है

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | गुन्नौर में 40 गाय को गोली से मारकर हत्या






 गुन्नौरकल रात गुन्नौर के गावं सिहोरा मे कुछ दुष्टो ने लगभग चालीस गाय को गोली से मार दिया उसमे हिन्दुत्यावादी भाजपा नेता श्री अजीतकुमार राजू य़ादव ने पहुछकर सी ओ गुन्नौर को बुलाकर दोशियो के विरुध् कार्यवाही कडी से कडी कार्यवाही कारने को कहा


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बदायूं-मेरठ हाईवे पर हादसा, चार की मौत





बदायूं  : त्योहार पर एक परिवार में मातम छा गया। बदायूं-मेरठ हाईवे पर जरीफनगर थाने के नजदीक तेज रफ्तार स्कार्पियो ने बाइक में टक्कर मार दी। हादसे में दंपती समेत उनकी पुत्री और एक बुजुर्ग ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। घटना के बाद कार सवार दो युवक फरार हो गए।

हादसा जरीफनगर थाने के समीप शुक्रवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे हुआ। दिल्ली की तरफ से एक तेज रफ्तार में कार बदायूं साइड जा रही थी। अचानक कार का नियंत्रण खोया और बाइक सवारों को टक्कर मार दी। इतना ही नहीं, कार बाइक सवारों को घसीटते हुए करीब डेढ़ सौ मीटर तक हाईवे पर दौड़ती रही। फिर पेड़ से जा टकराई। हादसा इतना जबर्दस्त था कि बाइक चालक भूदेव ¨सह (30), गीता देवी (28) पत्नी भूदेव ¨सह, मिथलेश

(8) पुत्री भूदेव ¨सह निवासी गांव भोजीपुरा पावई थाना, जरीफनगर बदायूं, गांव अकबरपुर कोतवाली गुन्नौर जिला सम्भल निवासी शिवनारायण ¨सह (55) ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

सूचना पर ग्रामीणों की भीड़ इकठ्ठा हो गई। आक्रोशित होकर लोगों ने जाम लगा दिया। वाहनों की लंबी कतारें लग गई। पुलिस ने किसी तरह जाम खुलवाना चाहा तो ग्रामीण भिड़ गए। जानकारी पर पहुंचे ग्राम्य विकास राज्यमंत्री ओमकार ¨सह यादव ने मौके पर ग्रामीणों को समझाया और जाम खुलवाया। बताते हैं, भूदेव ¨सह अपनी पत्नी को मायके छोड़ने जा रहे थे।

हादसे की वजह

बताते हैं, शिव नारायण ¨सह अपनी बेटी भूरी देवी को बुलाने भोजीपुरा आए हुए थे। इसी दौरान शिवनारायण के दामाद मनोज ने भूदेव से उन्हें भी बाइक पर बैठा कर गुन्नौर तक छोड़ने का आग्रह किया। एक बाइक पर चार लोग बैठना भी हादसे की वजह बन गया।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | पुलिस की हिरासत में फांसी पर झूल गया जैनुल





बदायूं : शातिर जैनुल ने जिंदगी की खातिर झूठ बोला, कातिल तक बन बैठा लेकिन, कानूनी फंदे में फंसा तो खुद ही मौत को गले लगा लिया। वह इस्लाम नगर थाने के भीतर फांसी पर झूल गया। मामला हिरासत में मौत का था। खलबली मचनी ही थी। सुरक्षा के लिहाज से थाने से लेकर पोस्टमॉर्टम हाउस तक को छावनी में तब्दील कर दिया गया। पूरे मामले में ढिलाई बरतने पर एसओ इस्लामनगर समेत तीन पुलिसकर्मियों को एसएसपी महेंद्र यादव ने निलंबित कर दिया। मामले की रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है।

तीन महीने पहले इस्लामनगर थाना क्षेत्र के गांव बेहटा पाठक के पास मारुति वैन के अंदर युवक की जली हुई लाश मिलने के बाद सहसवान के मुहल्ला शहबाजपुर के लोगों ने उसकी शिनाख्त जैनुल पुत्र नन्हे के रूप में की थी। जैनुल के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की तो पता चला कि जैनुल ¨जदा है। उसने शादाब हत्याकांड में सजा से बचने के लिए किसी और की हत्या कर खुद को मृत दर्शाने का ड्रामा किया है। असलियत का पता चलते ही पुलिस ने जैनुल की तलाश शुरू कर दी। तीन दिन पहले उसको दिल्ली रोड पर डिबाई के पास से हिरासत में ले लिया गया। पूछताछ में उसने बताया था कि दिल्ली के ही रहने वाले सलमान की हत्या कर उसको अपने कपड़े और अंगूठी पहना दी थीं ताकि किसी को उसकी मौत पर संदेह न हो। इसके बाद उसने कार समेत उसको जला दिया था। पुलिस दो दिन तक उसको लेकर दिल्ली में सलमान का घर तलाशती रही लेकिन, कोई नतीजा हासिल नहीं हुआ। गुरुवार को दोपहर के वक्त इस्लामनगर पुलिस जैनुल को थाने लेकर पहुंची और रात में करीब 12 बजे खाना खिलाने के बाद उसको हवालात में बंद कर दिया गया।

खुद पर कानूनी शिकंजा कसता देख जैनुल बुरी तरह डर गया। रात करीब तीन बजे मौका पाकर उसने कंबल से फंदा बनाया और उससे झूल गया। कंबल का फंदा टूटकर नीचे गिरा तो आवाज होने पर पहरेदार ने हवालात खोलकर उसे बाहर निकाला। पुलिस उसको लेकर जिला अस्पताल पहुंची जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इसकी जानकारी होते ही मृतक के परिजन भी जिला अस्पताल पहुंच गए। पंचनामा प्रक्रिया पूरी होने के बाद पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टरों ने मौत की वजह हैंगिंग पुष्ट की।
पोस्टमार्टम रिपोर्ट में वजह हैं¨गग आई है। फिलहाल मामले को लेकर इस्लामनगर पुलिस की लापरवाही उजागर हुई है। एसओ, मुंशी समेत पहरा को निलंबित कर दिया है। जांच की जा रही है जो भी सच निकलकर आता है उस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।


  •  महेंद्र यादव, एसएसपी

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | रंगोली में अनुराधा, दीप सजाओ में प्रियल अव्वल





स्कूल-कॉलेज में बृहस्पतिवार को दीपावली के कार्यक्रम की धूम के साथ छात्र और छात्राओं ने मनमोहक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। उन्हें त्योहार का महत्व भी समझाते हुए तेज आवाज के पटाखों से सजग रहने की सलाह दी गई। एपीएम पीजी कॉलेज में रंगोली में अनुराधा और दीप सजाओ प्रतियोगिता में प्रियल माहेश्वरी ने पहला स्थान पाया।

एपीएम पीजी कॉलेज में कार्यक्रम शुरू होने पर प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष विष्णु भगवान अग्रवाल ने बच्चों को त्योहार के महत्व पर प्रकाश डाला। कहा कि सच्चाई का उजरिया बिखेरने के लिए बच्चों को भी समाज में अहम भूमिका निभानी चाहिए। रंगोली प्रतियोगिता में अनुराधा प्रथम, अपूर्वा द्वितीय और प्रगत ने तृतीय स्थान पाया। दीप सजाओ प्रतियोगिता में प्रियल माहेश्वरी प्रथम, रीनू राठौर द्वितीय और दीक्षा माहेश्वरी को तृतीय स्थान मिला। विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। इस मौके पर डॉ. एमएसए अग्रवाल, शिल्पी अग्रवाल, अभिषेक अग्रवाल, रामप्रकाश शर्मा, नरेंद्र सिंह और शिशुपाल सिंह आदि मौजूद थे।
सांईनाथ कॉलेज ऑफ टीचर एजुकेशन में प्रशिक्षु छात्राओं ने दीप सजाओ प्रतियोगिता में शामिल होकर अपना हुनर दिखाया। उन्होंने पूजा के थाल भी सजाए। निदेशक वीके शर्मा ने प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया। अदिति सिंह प्रथम, तृप्ति गुप्ता द्वितीय, प्राची और प्रतिभा यादव ने तृतीय स्थान पाया। कार्यक्रम प्रभारी नवीन कुमार, रूचि गुप्ता, सुबुही, श्वेता सिंह, व्रिकम सिम्मी, अमित कुमार, अरविंद और जोगेंद्र आदि मौजूद थे। आरके पब्लिक स्कूल में बच्चों ने रंग-बिरंगे कार्ड बनाए। आरव, आइजा, ऐंद्रिय आकिफ ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। थाल सजाओ में अभिमन्यु और रूद्राक्ष अव्वल रहे। कलश प्रतियोगिता में अखिलेश ने पहला स्थान पाया। प्रबंधक आशीष अग्रवाल ने बच्चों को पुरस्कृत किया।
न्यू लिटिल एंजिल जूनियर हाईस्कूल में दीपावली के काड बनाकर मोहम्मद शाकिब, दक्षिता, अदिति सागर, साक्षी, निखिल, अनिष्क, दीपांशी, श्रुति और अनुष्का प्रथम, हर्षवर्धन, अनिरूद्घ, सुचि, न्यासा, मोहम्मद फैक, हर्षिता, मान्या मिश्रा, अफसजनाज और सोनी द्वितीय, निष्ठा वर्मा, विधि अग्रवाल, उरुज, अंबिका मित्तल, आराध्या यादव, करीमा सैफी, सौम्या शर्मा, रिवांशी और दिव्यांशी जैन को तृतीय स्थान मिला। प्रधानाचार्या शशि भार्गव और प्रबंधक ओमशंकर भार्गव ने विजेता बच्चों को पुरस्कृत किया। मदरशील मेमोरियल अकादमी में बच्चों ने मनमोहक कार्यक्रम से समां बांध दिया।  दीप सजाओ और कलश प्रतियोगिता में भी बच्चे जुटे। सीनियर और जूनियर वर्ग के विजेताओं को प्रबंधक नरसिंह थरेजा और रेनू थरेजा ने पुरस्कार वितरित किए।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | त्योहार पर खरीददारी को निकले लोग तो लगा जाम





धनतेरस पर शहर सहित जिले भर के बाजारों में खूब धन वर्षा हुई। लोगों ने बर्तन, जेवर, वाहन, इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं के साथ झाड़ू की खरीदारी भी की। सुबह से लेकर देर रात तक दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ कम नहीं हुई। एक दिन में करोड़ों रुपयों की खरीदारी की गई। वाहनों की बिक्री ने तो रिकार्ड तोड़ दिया। शहर में पुराना बाजार से लेकर हलवाई चौक के बीच बर्तनों की सर्वाधिक बिक्री हुई। अधिकांश बर्तनों की दुकानें सड़कों पर सजी नजर आईं। इससे लोगों का सड़कों से निकलना मुश्किल हो गया। डमरू की डिजायन वाले गिलासों ने लोगों को खूब लुभाया। सराफा बाजार भी गुलजार रहा। इस बार लोगों ने न सिर्फ चांदी के सिक्के खरीदे, बल्कि चांदी के स्टेच्यू, बर्तन आदि की बिक्री भी धड़ल्ले से हुई। इसमें अंगूठी, बाली, नेकलेस आदि तमाम आभूषण खूब खरीदे गए।  इलेक्ट्रॉनिक्स बाजार की दिवाली भी रंगीन रही। ग्राहकों ने एलईडी, फ्रिज, वाशिंग मशीन, मिक्सी सहित तमाम वस्तुओं की बिक्री हुई।

खूब बिकीं बाइक्स और स्कूटी 
बदायूं। धनतेरस पर वाहनों की बिक्री ने रिकार्ड तोड़ दिया। इस बार भी हमेशा की तरह बाइकों की बिक्री सबसे ज्यादा हुई। जीएस हीरो मोटर्स पर 1150, बजाज आहूजा पर 700, हांडा एजेंसी पर 376 दो पहिया वाहनों की बिक्री हुई। कार, टैक्सी, बोलेरो आदि चौपहिया वाहन भी खूब बिके। आयशर ट्रैक्टर्स एजेंसी पर 10 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई। वहीं, बालाजी ट्रैक्टर्स पर 11 किसानों ने ट्रैक्टर खरीदे, जबकि पांच खरीदारों को कानपुर डिपो भेजना पड़ा। अब्बास ट्रैक्टर्स के मालिक अब्बास अली ने बताया कि उनके यहां ट्रैक्टरों की रिकार्ड बिक्री हुई। धनतेरस पर शुभ मुहूर्त में खरीदारी करने वालों को की संख्या भी ज्यादा रही।
धनतेरस की खरीदारी करने को उमड़े ग्राहकों की भारी भीड़ को देखते हुए आधे से ज्यादा शहर जाम की जद में जकड़ा नजर आया। पुलिस ने बाजारों के रास्तों पर बैरियर लगाकर लोगों को रोक दिया, लेकिन भारी भीड़ की वजह से पैदल चलना भी मुश्किल हो गया। शार्टकट अपनाकर कुछ वाहन चालक भीड़ भरे रास्तों में घुसे तो और फंस गए।
 आतिशबाजी की दुकानों पर लगी भीड़ 
 धनतेरस के दिन आतिशबाजी की बिक्री भी खूब हुई। गांधी ग्राउंड में लगीं आतिशबाजी की दुकानों पर ग्राहकों की खासी भीड़ उमड़ी। बच्चों ने जहां फिरकी, फुलझड़ी की खरीदारी की तो युवा वर्ग ने रॉकेट, बम खरीदने पर जोर दिया।
उझानी । दीपावली के मद्देनजर घरेलू और धनतेरस का सामान खरीदने के निकले लोगों के लिए शुक्रवार को बाजार में भीड़भाड़ अधिक होने की से परेशानी का सामना करना पड़ा। सर्वाधिक दिक्कत महिलाओं को बच्चों को हुई।
मेन मार्केट में त्योहार के खरीददारी के लिए निकले लोगों में सर्वाधिक संख्या ग्रामीण महिला-पुरुषों की रही। जाम की शुरूआत यूं तो पूर्वाह्न से देखने को मिली लेकिन दोपहर बाद हालात बिगड़ गए। हलवाई चौक और पुरानी अनाज मंडी के आसपास वाहनों के बेतरतीब निकालने से लोगों को पैदल गुजरना भी मुश्किल हो गया। ऐसा ही नजारा घंटाघर चौराहे पर देखने को मिला। चौराहे से बिल्सी रोड बाजार और स्टेशन रोड की ओर आने-जाने वाले ई-रिक्शा चालकों ने राहगीरों की परेशानी बढ़ाने का काम किया। राहगीरों और ई-रिक्शा चालकों के बीच नोकझोंक भी हुई। जाम के झमले में फंसे राहगीरों में खासकर महिलाओं ने बताया कि ठेला-खोमचा वालों ने सड़क पर कब्जा कर रखा है। ज्यादातर दुकानदारों ने भी अपने प्रतिष्ठान के सामने तख्त आदि रख कर लोगों को परेशानी में डाले रखा।
भीड़भाड़ वाले इलाके से पुलिस नदारद
मेन मार्केट में जाम के झमेले से परेशान लोगों को उसी स्थिति में राहत मिल सकती थी जब पुलिस कर्मी हलवाई चौक और पुरानी अनाज मंडी मोड के साथ घंटाघर चौराहे पर तैनात रहे। बावजूद पुलिसकर्मियों ने खुद को भीड़ से दूर ही रखा। एक-दो जगह पुलिसकर्मी दिखे भी लेकिन मूकदर्शक बने रहे।
बाजार में महिला का पर्स गायब
घरेलू सामान की खरीददारी के लिए अल्लापुर चमारी गांव से पहुंची ओमवती पत्नी रामस्वरूप का पर्स गायब हो गया। पर्स में डेढ़ हजार रुपये थे। हलवाई चौक मोड़ पर पर्स गायब होने की भनक लगते ही ओमवती काफी देर तक उचक्के की तलाश में जुटी रही। उसने बकरियों वाले नखासे में भी खोजबीन की।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बिना हेलमेट बाइक पर चार सवारी, हादसे में सबकी जान गई





बदायूं-मेरठ हाइवे पर बेकाबू स्कॉर्पियो की चपेट में आने से बाइक सवार दंपति, उनकी एक बेटी समेत चार लोगों की मौत हो गई। हादसा रविवार सुबह करीब 10 बजे हाईवे पर जरीफनगर और कादराबाद गांव के बीच हुआ। स्कार्पियो में सवार सभी लोग दुर्घटना के बाद भाग निकले। हादसे के बाद शव बिखरने से हाइवे पर जाम लग गया। गौरतलब है कि एक बाइक पर चार लोग सवार थे, कोई भी हेलमेट नहीं पहने था। खबर मिलने पर ग्राम्य विकास राज्यमंत्री ओमकार सिंह भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मदद का आश्वासन दिया।

जरीफनगर थाने के गांव भोजीपुरा पावई निवासी भूदेव (30) पुत्र अमर सिंह अपनी पत्नी गीता (28) और छह वर्षीय बेटी कमलेश के साथ रविवार सुबह बुलंदशहर जिले के थाना नरौरा के गांव नदोई स्थित अपनी ससुराल के लिए निकले थे। उनके साथ संभल के थाना गुन्नौर के गांव अकबरपुर निवासी शिवनारायण (60) पुत्र झम्मन भी थे। शिवनारायण भोजीपुरा पावई में अपनी बेटी से मिलकर लौट रहे थे। उन्हें गुन्नौर में उतरना था। बाइक जरीफनगर-कादराबाद के बीच थी। इसी दौरान दिल्ली की ओर से आ रही तेज रफ्तार स्कॉर्पियो गाड़ी ने बाइक को रौंद दिया। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि स्कॉर्पियों कई पलटी खाकर पोल से जा भिड़ी। हादसे में भूदेव, गीता, कमलेश और शिवनारायण की मौके पर मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद चार शव परिवार वालों के सुपुर्द कर दिए गए हैं।
हाइवे के गड्डे बने हादसे का सबब

दहगवां। मेरठ-बदायूं हाईवे पर जरीफनगर से कादराबाद तक तमाम गड्डे हो गए हैं। इस ओर लोक निर्माण विभाग का ध्यान नहीं जाता। गौर करने वाली बात यह है कि हाइवे के यही गड्डे इस दर्दनाक हादसे का कारण बने। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो दिल्ली की ओर से आ रही तेज रफ्तार स्कॉर्पियो गाड़ी का चालक गड्ढ़ा बचाने के चक्कर में संतुलन हो बैठा। इसके बाद स्कॉर्पियो ने सामने से आ रही बाइक को रौंद दिया। अगर हाइवे पर यह गड्डे नहीं होते तो दर्दनाक हादसा भी नहीं हुआ होता।
मौत पर गमगीन गांव



बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | पुलिस हिरासत में मौत, एसओ समते तीन सस्पेंड



इस्लामनगर ।बीमा की रकम हड़पने के लिए खुद की मौत का ड्रामा रचने वाले सहसवान के कालीन व्यापारी जैनुल आब्दीन की पुलिस हिरासत में गुरुवार रात मौत हो गई। पुलिस और घरवाले मौत की वजह हार्टअटैक बता रहे थे, जबकि पोस्टमार्टम के अनुसार फंदे पर लटकने से जान गई। हिरासत में मौत से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। एसएसपी महेंद्र यादव ने मौका मुआयना करने के बाद एसओ इस्लामनगर सीपी सिंह, कांस्टेबल गौरव कुमार और विशु कुमार को सस्पेंड कर दिया। आब्दीन ने ढाई महीने पहले अपनी मारुति वैन में अज्ञात व्यक्ति को जिंदा जलाकर खुद को मृत दर्शाया था। उसके नाम 65 लाख रुपये की कई बीमा पॉलिसी थीं, जिसे वह हड़पना चाहता था। मामले की पड़ताल के दौरान जैनुल पुलिस के हत्थे चढ़ गया। दो दिन तक उससे पूछताछ की गई। गुरुवार रात इस्लामनगर थाने की हवालात में जैनुल की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। डॉ. हरपाल सिंह, डॉ. राजेश वर्मा और डॉ. कप्तान सिंह के पैनल ने शुक्रवार दोपहर को पोस्टमार्टम किया। सूत्रों के मुताबिक हवालात में आब्दीन को कंबल दिया गया था। इसी कंबल के एक सिरे को फाड़कर उसने फांसी लगा ली। पुलिस को जब पता चला तो आननफानन में उसका शव उतारकर जिला अस्पताल लाया गया। हालांकि अभी पुलिस अधिकारी साफ कहने से बच रहे हैं।

प्रथम दृष्टया लापरवाही पाए जाने पर एसओ इस्लामनगर और ड्यूटी पर तैनात दो सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया है। मामले में जांच की जा रही है। अभी पीएम रिपोर्ट मुझे मिली नहीं है। इस बारे में ज्यादा नहीं कह सकता।-महेंद्र यादव, एसएसपी

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आज का राशिफल 29/10/2016




  • मेष राशि

स्वामी – मंगल
अराध्य देव – श्री गणेशजी
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – अ, ल, इ
शुभ रत्न – मूंगा
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी
मेष राशि के जातक जन्म से ही नेतृत्व में निपुण होते है. प्रायः ऊर्जा और अति- उत्साह से सभर रहते है. हालाँकि स्वच्छ प्रकृति के मगर अधिक आत्म केंद्रित रहते है. किसी भी कार्य को योजनापूर्वक करने में माहिर हैं. संघर्ष से उचित पद, इज्जत और नाम कमाते है. किसी को अपने पक्ष में खींचने में निपुण है. जो लोग आपके अनुसार कार्य नहीं करते उनके प्रति आपकी धारणा नकारात्मक रहती है. किन्तु मेष राशि के जातक जिन पर प्रसन्न हो जाते हैं उन पर जान भी न्योछावर कर देते हैं.


  • वृषभ राशि

स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुलस्वामिनी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ब, व और ऊ
शुभ रत्न – हीरा
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
वृषभ राशि के जातकों का स्वभाव गंभीर, स्थिर और व्यव्हार कुशल रहताहै. सौंदर्य से प्रेम करने वाले और शिष्टप्रिय होते है. पुराने विचारों में मानते है. धन और नाम हासिल करते हैं. अपने पुराने विचारों की वजह से लोगों से उंच नीच रहती है. प्रभावपूर्ण वाणी आपकी विेषेषता है. सफलता प्राप्त करने के बाद भी लोगों को साथ में रख कर चलना आपकी आदत है. आप भावुक और ह्रदय से सच्चे है. तत्काल लाभ की अभिलाष रखते हैं मगर उपेक्षा के पात्र बनते है.


  • मिथुन राशि

स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – हवा
नाम के पहले अक्षर – क, छ, घ
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
मिथुन राशि के जातकों में दुसरो की प्रकृति तथा व्यवहार को तीव्रता से समझ लेते हैं. मिलनसार स्वभाव की वजह से बहुत मित्र होते हैं. किसी भी कठिन बात को बुद्धिपूर्वक आसानी से बोल लेते हैं. आकर्षक और मनोरंजक व्यक्तित्व इनकी विशेषता हैं.

किन्तु अंद्रोनी तौर पर शुभ आचार विचार वाले और एकाग्र होते हैं. किन्तु बुरी सांगत को ले कर अपनी प्रतिभा को नुक्सान करते हैं. साथ ही कुछ मित्रों की संगत से मदद भी मिलती हैं. मिथुन राशि के जातक अधिकतम उदार दिल, बलशाली, चतुर तथा भोग विलास में रस रखनेवाले होते हैं.


  • कर्क राशि

स्वामी – चन्द्रमा
अIराध्य देव – शंकर भगवान
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – ड, ह
शुभ रत्न – मोती
शुभ रुद्राक्ष – दो मुखी रुद्राक्ष
इस राशि के लोग सौन्दर्यवान और घर परिवार से अत्यधिक मोह रखने वाले होते हैं. भावनात्मक रूप से अपने आप को सुरक्षित रहना चाहते है. इसी वजह से अपनी भावनाओं को सही मायने में प्रस्तुत करने से डरते है.

यह राशि वाले रिश्तों और परिवार में रचे रहते हैं. प्रकृति से लोगों को सुरक्षा देने वाले और अन्य लोगो को पालन पोषण देते हैं. जज्जबाती और देशभक्त तथा मातृभक्त रहते हैं. इनकी प्रकृति लोगों की समझ में जल्द नहीं आती. ऊपर से भावनाहीन मगर अंदर से मोम जैसा व्यक्तित्व और प्रेमी स्वभाव रहता हैं.


  • सिंह राशि

स्वामी – सूर्य
अIराध्य देव – सूर्य भगवान
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – म, ट
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – एक मुखी रुद्राक्ष
सिंह राशि के जातक किसी के सामने झुकना पसंद नहीं करते. स्वभाव से उत्साही, निर्भयी, क्रोधी, वीर, स्वतन्त्र और कठिन परिस्थितियों में भी विचलित न होने वाले व्यक्ति होते हैं. सन्तोषपूर्ण होने के कारन आर्थिक उन्नति नहीं कर पाते. अकेले रहना अधिक पसंद करते हैं जिसकी वजह से जीवन में कठिनाइयां रहती है. सिंह राशि के जातक अधिकतम अपने शोख़ को अपना पेश बनाते हैं. ह्रदय से आप दूसरों का भला हमेशा चाहते हैं मगर आपका अहंकार आपको दुसरो से जोड़ने में रुकावटें पैदा करता हैं. जन्म से ही आप संचालन और नेतृत्व की शक्तियां रखते हैं.


  • कन्या राशि

स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – प, ठ, ण
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
कन्या राशि के जातक स्वभाव से अधिक दृढ़ निश्चयी और कुछ अंश तक जिद्दी भी होते हों. एक बार जो सोच लेते है उसे पूरा कर के ही दम लेते हैं. सञ्चालन में कुशल, कलाओं में निपुण और धनी रहते हैं. वाणी में मधुरता, बुद्धिमता, विचारशीलता और व्यवहारिकता इनकी खासियतें हैं. स्वच्छता के अति आग्रही और हर कार्य को व्यवस्थापूर्ण करना चाहते हैं. मेहनती और सफलता को तीव्रता से पाने वाले व्यक्ति हैं. किन्तु सांसारिक जीवन में भाग्यशाली नहीं होते. ह्रदय से रोमांटिक रहते हैं किन्तु भावनाओं को प्रदर्शित करने में विश्वास नहीं रखते. इसकी वजह से प्रेम सम्बन्धो और वैवाहिक सम्बन्धो में सफलता नहीं मिलते.


  • तुला राशि

स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुल स्वामिनी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – र, त
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
तुला राशि के जातक जन्मजात कुशल राजनीतिज्ञ, विचारशील और चतुर होते हैं. स्वभाव संतुलित रहता है और हर वस्तु को सम्पूर्ण समीक्षा और परिक्षण के बाद समझते हैं. आज्ञा के पालक रहते हैं. सौंदर्य और सुघड़ता को बहुत पसंद करते हैं. दूरदर्शिता से भरपूर आपका स्वभाव कार्य क्षेत्र में अच्छी तरक्की करवाता हैं.

वाणी और स्वभाव आनंदित रहने की वजह से लोगों में प्रिय बने रहते हैं. सभी राशियों में अत्यधिक आकर्षण पैदा करने वाला व्यक्तित्व रखते हैं. किन्तु कुछ परिस्थितियों में अत्यधिक हताश हो जाते हैं. निर्णय लेने से पहले आयाम और अंजाम के विषय में अत्यधिक सोचते हैं.


  • वृश्चिक राशि

स्वामी – मंगल
अIराध्य देव – गणेशजी
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – न, य
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी रुद्राक्ष
वृश्चिक राशि के जातक तीक्ष्ण बुद्धि के मालिक होते है. बोले हुए वचन को दृढ़ता से पालनेवाले, थोड़े घमंडी, किसी भी विषय का बारीकी से निरिक्षण करने में निपुण और महत्वकांशी रहते हैं. धार्मिक विचार रखते हैं और हर कार्य को कुशलतापूर्वक करते हैं. अन्य लोगो के स्वभाव, शक्तियों और कमजोरियों को तीव्रता से समझने का गुण रखते हैं. मित्र बनाने के शौकीन और प्रशंसा पाने के अभिलाषी रहते हैं. इनकी दोस्ती जितनी लाभदायी रहती है उतनी ही इनकी दुश्मनी कष्टदायक रहती हैं. मन में जो विचार है उसे प्रस्तुत करने में हिचकिचाते नहीं. स्वभाव से ईर्ष्यालु भी रहते हैं.


  • धनु राशि

स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – भ, ध, फ, ढ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
धनु राशि के लोग शांतिप्रिय, स्पष्टवक्ता, सत्य के आग्रही, मिलनसार, निडर, वफादार और जिज्ञासु रहते हैं. सत्य और ज्ञान की खोज आपकी प्रकृति है. नेतृत्व का कौशल रखते हैं. मौज शौख के शौकीन होते है और जहाँ जाते हैं लोगों के आकर्षण का केंद्र बनते हैं. अपने कौशल्य और स्वभाव से इन्हे दूसरों पर अधिकार जाताना काफी अच्छा लगता है. शौकीन और दूसरों का ख्याल रखने की प्रकृति निजी सम्बन्धो में सफलता दिलाती है. ह्रदय से बहुत दयालु और मदद करने की भावना रखते हैं.


  • मकर राशि

स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ख, ज
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
मकर राशि वाले धनि और सुन्दर होते हैं. कार्य को अपना जीवन मानते हैं और कार्यस्थल पर समय व्यतीत करना अधिक पसंद करते हैं. मौज शौख में काम रूचि रहती है. इस राशि के लोग दोहरे विचार रखते हैं. अपने लक्ष्य के प्रति सम्पूर्ण सम्भान और प्रयत्नशील रहते हैं. रहस्यों और आध्यात्मिक बातों में रूचि रखते हैं. कार्यों को स्वयं पूरा करने में विश्वास रखते हैं. दूसरों का हस्तक्षेप पसंद नहीं करते. ऊँचे विचार वाले और धन कमाने का अच्छा सामर्थ्य रखते हैं. उपकारों को कभी भूलते नहीं.


  • कुम्भ राशि

स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – ग, स, श, ष
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
कुम्भ राशि के लोग अधिकतर परोपकारी और प्रेमी स्वभाव के होते है. किसी पर जल्दी मोहित हो जाते है. परोपकारी होने पर भी किसी के विरुद्ध षड़यंत्र रच सकते है. ह्रदय की बातों को छुपाने में माहिर होते है. कला, संगीत, शिल्प और साहित्य में रूचि रखने वाले हैं. भावनाओं और बातों को गुप्त रखने की वजह से मानसिक और शारीरिक रूप से कष्ट उठाते है. सौंदर्य के पुजारी होते है और आगे बढ़ने की इच्छा हमेशा रखते हैं. जो भी कार्य करते है उसे पुरे दिल से संपन्न करते हैं. किन्तु तीव्र क्रोध आपका सबसे बड़ा अवगुण है.


  • मीन राशि

स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – द, च, थ, झ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
मीन राशि के लोग अत्यंत शांत, सौम्य, करुणामय स्वभाव के और आकर्षक व्यक्तित्य के मालिक हैं. अपनी हर गलती पर माफ़ी मांग लेते हैं. अध्यात्म और ईश्वर भक्ति में लीन रहते हैं. गंभीर और दोहरे स्वभाव के बावजूद भी आपके विचार हमेशा सरल और अच्छे रहते हैं. दूसरों के बारे में इतना अधिक सोचते हैं की दुसरो के दर्द को स्वयं बर्दाश्त कर लेते है. अन्य के लिए अपने खुशियों को त्यागना पसंद करते हैं. गलत और सही के बीच में निर्णय लेने में हमेशा मानसिक रूप से त्रस्त रहते हैं. किन्तु सहानुभूति, बेफिक्र और उदार स्वभाव की वजह से लोगों में प्रिय रहते हैं.

zhakkas

zhakkas