: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 10/31/16

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | क्रिकेट हो या हॉकी एशिया का BIG BOSS तो भारत ही है





क्रिकेट | आज से करीब 11-12 साल पहले मैं सौरव गांगुली का एक इंटरव्यू कर रहा था. सौरव तब भारतीय टीम के कप्तान हुआ करते थे. मैंने उनसे पाकिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाले मैचों के मानसिक दबाव को लेकर सवाल किया था. सौरव का जवाब था कि अब भारतीय टीम पाकिस्तान के खिलाफ मैच में मानसिक दबाव वाली स्थिति से बाहर आ चुकी है. उनका कहना था कि पाकिस्तान के खिलाफ मैदान में उतरने से पहले ही हमें इस बात का अहसास रहता है कि हमारी टीम उनसे बेहतर है. हां, अगर मजेदार मुकाबला देखना है तो भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया या भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका का मैच देखिए. पिछले एक दशक में उनकी ये बात बिल्कुल सही साबित हुई है. विश्व क्रिकेट में भारत की बादशाहत के रास्ते में पाकिस्तान की टीम कभी अड़चन नहीं बनी. ज्यादातर बड़े मैचों में पाकिस्तान को भारत ने आसानी से हराया. भारतीय टीम के लिए अगर मुश्किल पैदा की तो ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका जैसी टीमों ने. सौरव गांगुली का वो इंटरव्यू आज इसलिए याद आ रहा है क्योंकि क्रिकेट की कहानी आज हॉकी पर भी लागू हो रही है.

भारत ने पाकिस्तान को हराकर जीती एशियन चैंपियंस ट्रॉफी

भारतीय हॉकी टीम ने दीपावली के दिन पाकिस्तान को 3-2 से हराकर एशियन चैंपियंस ट्रॉफी जीत ली. वो भी तब जबकि भारतीय टीम अपनी पूरी ताकत के साथ मैदान में नहीं उतरी थी. भारतीय टीम के दिग्गज खिलाड़ी वीआर रघुनाथ, सुनील और मनप्रीत सिंह इस मैच में नहीं खेल रहे थे. भारतीय कप्तान पीआर श्रीजेश भी चोट की वजह से फाइनल नहीं खेल पाए. यानि सही मायनों में देखा जाए तो भारतीय टीम के सेकेंड लाइन अप ने भारत को ये जीत दिलाई. स्कोरलाइन में जीत का फर्क भले ही सिर्फ एक गोल का दिख रहा हो लेकिन अगर भारतीय टीम पूरी ताकत के साथ मैदान में उतरी होती तो क्या पता ये अंतर और बड़ा भी होता. खैर, फिलहाल बात इस मुद्दे पर कि पिछले कुछ सालों में ऐसा क्या हुआ कि भारतीय टीम पाकिस्तान के खिलाफ ज्यादा आसानी से जीत हासिल करने लगी. कुछ इक्का दुक्का मौकों को छोड़ दिया जाए तो ज्यादातर बाजियां भारतीय टीम के हक़ में आईं.

बड़े कोच की बड़ी सोच
पिछले कुछ सालों में भारतीय टीम की कोचिंग की कमान विदेशी दिग्गजों ने संभाली है. उनमें से कई बड़े नामों को हटना भी पड़ा. लेकिन रॉलैंट ऑल्टमैंस के आने के बाद भारतीय हॉकी का एक नया चेहरा सामने आता दिख रहा है. पिछले करीब दो साल में भारतीय टीम का प्रदर्शन लगातार बेहतर हुआ है. इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह है रॉलैंट ऑल्टमैंस की बड़ी सोच. उन्हें पता है कि अब भारतीय टीम के खेल का स्तर बाकी की एशियाई टीमों के मुकाबले बेहतर है इसीलिए वो लगातार भारतीय टीम के ऑस्ट्रेलिया, हॉलैंड और जर्मनी जैसी टीमों के खिलाफ खेलने पर जोर देते हैं. एक दौर था जब ये दलील लगातार दी जाती थी कि अगर भारत और पाकिस्तान की टीमों को अपनी हॉकी सुधारनी है तो एक दूसरे के खिलाफ ज्यादा से ज्यादा खेलना चाहिए. ऑल्टमैंस ने इसी सोच को तोड़ा है. उन्होंने खिलाडियों में ये आत्मविश्वास कूट कूट कर भर दिया है कि वो आज की तारीख में पाकिस्तान की टीम से कहीं बेहतर हॉकी खेलते हैं. इससे आगे के स्तर पर जाने के लिए उन्हें यूरोपियन टीमों के खिलाफ पसीना बहाना होगा ना कि एशियाई टीमों के खिलाफ. ये बात गौर करने वाली है कि पिछले कुछ समय में भारतीय टीम एशियाई टीमों के खिलाफ खेले गए कुल मैचों में ना के बराबर हारी है.

रॉलैंट ऑल्टमैंस पाकिस्तान की टीम के भी कोच रहे हैं. उन्हें पाकिस्तान के खिलाड़ियों की सोच, उनकी ताकत और कमजोरियों का पता अच्छी तरह है. उन्हें ये भी पता है कि पिछले करीब ढ़ाई दशक से दोनों ही टीमों ने विश्व स्तर पर कोई बहुत बड़ा खिताब नहीं जीता है, ऐसे में दोनों टीमों के आपस में खेलने का क्या मतलब है? खेलना है तो उस टीम से खेला जाए जो लगातार हमें हरा रही है. भारतीय टीम ने पिछले दो साल में चैंपियंस ट्रॉफी और वर्ल्ड लीग में मेडल जरूर जीता है लेकिन ओलंपिक या वर्ल्ड कप जैसी प्रतियोगिताओं के लिए अभी काफी मेहनत करनी है.

एक नहीं तीन तीन जीत का तोहफा

दीवाली के दिन हॉकी में जीत की हैट्रिक लगी. मलेशिया में भारतीय टीम ने पाकिस्तान को हराकर एशियन चैंपियंस ट्रॉफी जीती. महिलाओं के मुकाबले में भारतीय टीम ने कोरिया को हराया. जूनियर हॉकी टीम ने विश्व कप की तैयारियों के लिए चल रहे 4 नेशन टूर्नामेंट का खिताब जीता. विश्व कप दिसंबर में भारत में ही होना है.

और आखिर में एक दिलचस्प संयोग

1983 के विश्व कप में भारतीय टीम के कप्तान कपिल देव ने जिम्बाव्वे के खिलाफ एतिहासिक 175 रनों की पारी खेली थी लेकिन उस रोज बीबीसी की हड़ताल के चलते वो पारी कोई देख नहीं पाया. ये एक संयोग ही है कि दीवाली की वजह से देश के तमाम अखबारों में कल छुट्टी का दिन था इसलिए आज अखबार नहीं आए. वर

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | श्री गिरिराज जी दर्शन (मथुरा)


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | श्री गिरिराज जी दर्शन (मथुरा)


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | श्री गिरिराज जी दर्शन (मथुरा)


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | dewali wish to all

video

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | ओबामा ने मनाया दिवाली का जश्न, ओवल कार्यालय में जलाया पहला दीया







अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में पहली बार दीया जलाकर दिवाली का जश्न मनाया और उम्मीद जताई कि उनके बाद आने वाले नेता भी इस परंपरा को जारी रखेंगे. वर्ष 2009 में व्हाइट हाउस में निजी तौर पर दिवाली का जश्न मनाने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने अपने ओवल कार्यालय में अपने प्रशासन के कुछ भारतीय-अमेरिकियों के साथ दीया जलाने के बाद इस शानदार क्षण का जिक्र फेसबुक पोस्ट में किया.
ओबामा ने कहा कि मुझे वर्ष 2009 में व्हाइट हाउस में दिवाली के जश्न की मेजबानी करने वाला पहला राष्ट्रपति बनने का गौरव प्राप्त हुआ था. मिशेल और मैं कभी नहीं भूल सकते कि भारत के लोगों ने किस तरह बांहें फैलाकर और दिल खोलकर हमारा स्वागत किया था और दिवाली पर मुंबई में हमारे साथ डांस किया था. उन्होंने व्हाइट हाउस के फेसबुक पेज पर कहा, 'इस साल, मुझे ओवल कार्यालय में पहली बार दीया जलाने का सम्मान मिला. यह दीया इस बात का प्रतीक है कि किस तरह से प्रकाश हमेशा ही अंधकार पर विजय हासिल करता आया है. मैं उम्मीद करता हूं कि भविष्य के राष्ट्रपति इस परंपरा को जारी रखेंगे.'

ओबामा ने कहा कि पूरे ओबामा परिवार की ओर से मैं आपको और आपके प्रियजन को इस दिवाली पर शांति एवं खुशियों की शुभकामनाएं देता हूं. अमेरिका और दुनियाभर में जो भी लोग रोशनी के इस त्योहार को मना रहे हैं, उन्हें दिवाली मुबारक हो. चूंकि हिंदू, जैन, सिख और बौद्ध दीया जलाते हैं, प्रार्थनाओं में इन्हें शामिल करते हैं, अपने घर सजाते हैं और प्रियजन का स्वागत करने के लिए एवं जश्न मनाने के लिए अपने द्वार खोलते हैं. हम मानते हैं कि यह दिन बुराई पर अच्छाई की और अग्यान पर ग्यान की विजय का प्रतीक है.

उन्होंने कहा कि यह हमारे साझा अमेरिकी अनुभव के बारे में व्यापक सत्य भी बोलता है. यह इस बात की याद दिलाता है कि जब हम मतभेदों से परे देखते हैं तो कितना कुछ संभव हो जाता है. यह उन उम्मीदों और सपनों की झलक है, जो हमें बांधती हैं. ओबामा ने कहा कि यह समय इन संबंधों को गहरा करने के साझा कर्तव्य का नवीकरण करने का है, एक दूसरे की जगह खुद को रखकर देखने का और एक दूसरे की नजर से दुनिया को देखने का और दूसरों को भाइयों एवं बहनों और साथी अमेरिकियों की तरह अपनाने का है.

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | बांग्लादेश: फेसबुक पोस्ट का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने हिंदुओं के घरों और मंदिरों पर किया हमला और लूटपाट





बांग्लादेश | नासिरनगर पूजा कमेटी के जनरल सेक्रेटरी पोद्दार के अनुसार करीब 15 हिंदू मंदिरों और 200 हिंदू घरों पर हमले और लूट-पाट किए गए।
बांग्लादेश: फेसबुक पोस्ट का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने हिंदुओं के घरों और मंदिरों पर किया हमला और लूटपाटबांग्लादेशी सुरक्षा बल बांग्लादेश में कम से कम 15 हिंदुओं के घरों और मंदिरों पर रविवार (30 अक्टूबर) को हिंसक हमला किया गया। बांग्लादेशी मीडिया के अनुसार ये हमले तब हुए जब कुछ संगठन मक्का स्थित मस्जिद अल-हरम के ऊपर की गई एक फेसबुक पोस्ट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। बांग्लादेशी अखबरा डेली स्टार के अनुसार हिफाजत-ए-इस्लाम और अहले सुन्नत के कार्यकर्ताओं समेत हजारों लोगों ने ब्राह्मणबाड़िया जिले के नासिरनगर में रविवार को अलग-अलग विरोध रैली निकाली। प्रदर्शनकारी फेसबुक पोस्ट लिखने वाले को मौत की सजा देने की मांग कर रहे थे। ब्राह्मणबाड़िया के पुलिस अधीक्षक मिजानुर रहमान ने अखबार को बताया कि करीब 150-200 लोगों ने पांच मंदिरों की सात-आठ मूर्तियां तोड़ दीं। दो लोग इस दौरान घायल हो गए और पुलिस ने छह लोगों को हिरासत में लिया है। करीब 500 अज्ञात लोगों पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है।
 नासिरनगर पूजा कमेटी के जनरल सेक्रेटरी खईलपदा पोद्दार के अनुसार करीब 15 हिंदू मंदिरों पर हमला किया गया और उन्हें लूट लिया गया। पोद्दार ने दावा किया कि करीब 200 हिंदू घरों पर हमले किए गए और लूट-पाट की गई। पुलीस अधिक्षक के अनुसार पुलिस ने हालात पर काबू पा लिया है और इलाके में शांति व्यवस्था बहाल हो चुकी है। पुलिस दोषियों को गिरफ्तार करने के लिए छापे भी मार रही है। इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल, रैपिड एक्शन बटालियन और पैरामिलिट्री बॉर्डर गॉर्ड, बांग्लादेश के जवानों को तैनात किया गया है।
वीडियो: दिल्ली के डीएनडी पर स्मॉग की वजह से दुर्घटनाग्रस्त हुईं पांच गाड़ियां-
बांग्लादेशी पुलिस ने डेली स्टार अखबार को बताया कि करीब 500 लोगों पर दो अलग-अलग मामले दर्ज किए गए हैं। नासिरनगर थाने के प्रभारी ने अखबार को बताया कि ये हमले काशीपारा, दासपारा, घोषपारा, दत्तापारा और नोमोशुद्रापारा इलाके में हुए। वहीं हिंदू मंदिरों और घरों पर हमले के विरोध में भी स्थानीय नागरिक “संप्रति समाबेष” के बैनर तले एक रैली निकालने वाले हैं।
बांग्लादेश में पिछले कुछ सालों में कट्टरपंथियों ने कई ब्लागरों की हत्या कर दी है। वहीं बांग्लादेश की अदालत ने कई 1971 के युद्ध अपराधियों के लिए कई कट्टरपंथियों मौत की सजा दी है। बांग्लादेश में कई आतंकवादी संगठनों का कुख्यात आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से भी संपर्क पाया गया है। अभी हाल ही में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में एक संभ्रांत इलाके में आतंकवादियों ने हमला करके कई विदेशी नागरिकों की जान ले ली थी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | भोपाल जेल से भागे सिमी के सभी 8 आतंकी मुठभेड़ में ढेर, भोपाल के पास हुआ एनकाउंटर





सभी आतंकी आरोपी ठहराए जा चुके थे और इनका ट्रायल रहा था। आतंकियों ने जेल के एक गार्ड की हत्या कर इस घटना को अंजाम दिया था।
भोपाल जेल से भागे सिमी के सभी 8 आतंकी मुठभेड़ में ढेर, भोपाल के पास हुआ एनकाउंटरभोपाल सेन्ट्रल जेल से फरार सिमी के आतंकी
भोपाल सेन्ट्रल जेल से फरार सिमी के सभी 8 आतंकियों को पुलिस ने एक मुठभेड़ में मार गिराया है। भोपाल के बाहरी इलाके में इंटखेडी गांव के पास पुलिस के जवानों ने उसे ढेर कर दिया। ये सभी आतंकी आज (सोमवार) तड़के मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सेन्ट्रल जेल से फरार हो गए थे। ये सभी आतंकी आरोपी ठहराए जा चुके थे और इनका ट्रायल चल रहा था। आतंकियों ने जेल के एक गार्ड की हत्या कर इस घटना को अंजाम दिया था।
दिवाली की रात जेल से फरार होने से पहले आतंकियों ने हेड कांस्टेबल की गला रेतकर हत्या कर दी थी और फिर दीवार फांदकर फरार हो गए थे। जानकारी के अनुसार, तड़के तीन से चार बजे के बीच जेल के बी ब्लॉक में बंद सिमी के आठ आतंकियों ने बैरक तोड़ने के बाद हेड कांस्टेबल रमाशंकर की हत्या कर दी। इसके बाद जेल में ओढ़ने के काम आने वाली चादर की मदद से आतंकी दीवार फांदकर फरार हो गए। फरार होने वाले आतंकियों में शेख मुजीब, माजिद खालिद, अकील खिलची, जाकिर, सलीख महबूब और अमजद शामिल था। इन आतंकियों का सुराग देने पर 5-5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था।
भोपाल जेल से भागे सिमी के सभी 8 आतंकी मुठभेड़ में ढेर

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को फोन कर मामले की जानकारी ली थी और इस मामले की विस्तृत रिपोर्ट सौंपने को कहा था। राज्य सरकार ने भी आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए पूरे राज्य में अलर्ट जारी कर दिया और सभी बस स्टेशन,रेलवे स्टेशन पर सघन तलाशी की गई। खुफिया सूत्रों से मिली सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आखिरकार सभी आतंकियों को मुठभेड़ में ढेर कर दिया।

गोवर्धन पूजा विधि : घर में धन धान्य बनाए रखने के लिए इस शुभ मूहुर्त पर करें पूजा, पढ़ें क्या है सही विधि: बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार





दीपावली के अगले दिन गोवर्धन पर्व मनाया जाता है। इस पर्व के दिन शाम के समय खास पूजा रखी जाती है। बता दें कि इसी दिन श्रीकृष्ण ने आज ही के दिन इंद्र का मानमर्दन कर गिरिराज की पूजा की थी।
गोवर्धन पूजा विधि : घर में धन धान्य बनाए रखने के लिए इस शुभ मूहुर्त पर करें पूजा, पढ़ें क्या है सही विधि

दीपावली के अगले दिन गोवर्धन पर्व मनाया जाता है। इस पर्व के दिन शाम के समय खास पूजा रखी जाती है। बता दें कि इसी दिन श्रीकृष्ण ने आज ही के दिन इंद्र का मानमर्दन कर गिरिराज की पूजा की थी। इस दिन मंदिरों में अन्नकूट किया जाता है। इस दिन गोबर का गोबर्धन बनाया जाता है इसका खास महत्व होता है। इस दिन सुबह-सुबह गाय के गोबर से गोबर्धन बनाया जाता है। यह मनुष्य के आकार के होते हैं। गोबर्धन तैयार करने के बाद उसे फूलों और पेड़ों का डालियों से सजाया जाता है। गोबर्धन को तैयार कर शाम के समय इसकी पूजा की जाती है। पूजा में धूप, दीप, नैवेद्य, जल, फल, खील, बताशे आदि का इस्तेमाल किया जाता है। गोवर्धन में ओंगा यानि अपामार्ग की डालियां जरूर रखी जाती हैं।
पूजा करने के बाद गोवर्धनजी की परिक्रमा की जाती है। सात परिक्रमाएं करते वक्त उनकी (गोवर्धनजी की) जय बोली जाती है। परिक्रमा करते समय एक व्यक्ति हाथ में पानी का लोटा और दूसरे हाथ में खील लेकर चलते हैं। जल लेकर चलने वाला व्यक्ति पानी की धारा गिराते हुए और दूसरे लोग जौ बोते हुए परिक्रमा करते हैं। गोबर्धनजी एक पुरुष के रूप में बनाए जाते हैं। इनकी नाभि की जगह पर अक कटोरी या मिट्टी का दीपक रखा जाता है। फिर इसमें दूध, दही, गंगाजल, शहद, बताशे पूजा के समय डाले जाते हैं। बाद में इसे प्रसाद के तौर पर बांटा जाता है।
अन्नकूट में चंद्र अन्नकूट में चंद्र-दर्शन अशुभ माना जाता है। यदि प्रतिपदा में द्वितीया हो तो अन्नकूट अमावस्या को मनाया जाता है। इस दिन सुबह तेल मलकर स्नान करना चाहिए। इस दिन पूजा का समय कहीं सुबह, कहीं दोपहर तो कहीं शाम के समय है। इस दिन सन्ध्या के समय दैत्यराज बलि का पूजन भी किया जाता है।
गोवर्धन गिरि भगवान के रूप में माने जाते हैं और इस दिन घर में उनकी पूजा करने से धन, धान्य, संतान और गोरस की वृद्धि होती है। आज का दिन तीन उत्सवों का संगम होता है।
इस दिन दस्तकार और कल-कारखानों में काम करने वाले कारीगर भगवान विश्वकर्मा की पूजा भी करते हैं। इस दिन सभी कल-कारखाने तो बंद रहते ही हैं, घर पर कुटीर उद्योग चलाने वाले कारीगर भी काम नहीं करते। भगवान विश्वकर्मा और मशीनों एवं उपकरणों का दोपहर के समय पूजन किया जाता है।

  • गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त : प्रातः 06:36 बजे से 08:47 बजे तक
  • गोवर्धन पूजा सायं काल मुहूर्त : दोपहर बाद 03:21 बजे से सायं 05:32 बजे तक
  • प्रतिपदा तिथि प्रारंभ : रात्रि 11:08 बजे से, 30 अक्तूबर 2016
  • प्रतिपदा तिथि समाप्त : रात्रि 1:39 बजे तक, 1 नवम्बर 2016

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | दैनिक राशिफल 31/10/2016





  • मेष

परिवार में शुभ कार्य का निर्णय होगा। व्यापार के क्षेत्र का विस्तार होगा। दांपत्य जीवन में अनुकूलता रहेगी। भाग्यवश लाभ एवं ख्याति भी मिलेगी।

  •  वृष

सद्भाव से किए गए पुरुषार्थ का प्रतिफल मिलेगा। दुस्साहसपूर्ण कामों से दूर रहना चाहिए। आपकी बुद्धिमानी से समस्या का समाधान हो सकेगा।


  • मिथुन

कार्य पेंडिंग रहेंगे। व्यापार के निर्णय सोच-समझकर लें। मित्रों पर अधिक विश्वास नहीं करें।। परिवार में कोई समस्या आ सकती है।

  •  कर्क

अधिकारियों से संबंध सुधरेंगे। भूमि व संपत्ति संबंधी कार्यों में लाभ की संभावना है। पारिवारिक सुख में वृद्धि के योग हैं। व्यापार अच्छा चलेगा।


  •  सिंह

धन संपत्ति के कामों में प्रबल सफलता मिलने के योग हैं। कार्य करने की स्थिति में गुणात्मकता आएगी। संबंधियों से घनिष्ठता बढ़ेगी।


  •  कन्या

व्यापारिक या निजी कार्य से की गई यात्रा लाभदायक हो सकती है। विवाह के प्रस्ताव आएंगे। आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। विवादों से दूर रहें।

  •  
  •  तुला

स्वजनों, मित्रों से मतभेद हो सकते हैं। क्रोध न करें। संतान के भविष्य की चिंता रह सकती है। सोच-समझकर लिए गए निर्णय शुभ फल देंगे।

  •  वृश्चिक

व्यापार में उन्नति के योग हैं। प्रतिष्ठित व्यक्तियों की उदारता आपकी कार्यक्षमता में वृद्धि करेगी। साझेदारी में नवीन प्रस्ताव लाभदायक रहेंगे।


  •  धनु

अपनी बुद्धि से प्रयत्न करेंगे तो लाभ होगा। खर्च अधिक होंगे लेकिन आमदनी से पूरे पड़ते रहेंगे। व्यवहारकुशलता कार्य में सफलता देगी।


  •  मकर

व्यापार-व्यवसाय में अनायास लाभ के योग हैं। किसी सूचना से प्रसन्नता मिलेगी। दूसरों की देखादेखी नहीं करें। आवश्यक खरीदी होगी।


  • कुंभ

रचनात्मक कार्यों का प्रतिफल मिलेगा। प्रतिष्ठित व्यक्ति से भेंट होगी। आर्थिक कार्यों में सफलता मिलने से हर्ष होगा।


  •  मीन

धन के निवेश की योजना आपके लिए लाभदायक रहेगी। भोग-विलास में रुचि बढ़ेगी। लोकप्रियता में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | SSP महोदय द्वारा अनाथ एवं बेसहारा बच्चों के साथ मिठाई बांटकर दिवाली की बधाई




श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा जनपद बदायूं में अनाथ एवं बेसहारा बच्चों के साथ उन्हें मिठाई बांटकर दिवाली की बधाई दी तथा उनके साथ दिवाली मनाई। अपर पुलिस अधीक्षक नगर महोदय द्वारा भी बच्चों को मिठाई दी गई तथा बच्चों को दीपावली की शुभकामनाएं दी गई।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | पुलिस लाइन बदायूॅ में SSP द्वारा राश्ट्रीय एकता दिवस पर सभी अधिकारी का मार्गदर्षन






आज दिनांक 31-10-2016 को लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल के जन्म दिवस पर पुलिस लाइन जनपद बदायूॅ में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा राश्ट्रीय एकता दिवस पर सभी अधिकारी/कर्मचारीगण का मार्गदर्षन किया। लौह पुरूश सरदार बल्लभ भाई पटेल के जीवन का महत्व के बारे में अवगत कराते हुये बताया कि उन्होने किस तरह अपना सारा जीवन देष की सेवा एवं हमारी आजादी की लडाई में समर्पित कर दिया तथा वरिश्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय, अपर पुलिस अधीक्षक नगर/ग्रामीण, एवं सभी पुलिस कर्मियों द्वारा षपथ ली गयी कि मैं राश्ट्र की एकत, अखण्डता और सुरक्षा को बनाये रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूॅगा ओर अपने देषवासियों के बीच एक संदेष फेलाने का भी भरसक प्रयन्त करूॅगा। मै यह षपथ अपने देष की एकता की भावना से ले रहा हूॅ जिसे सरदार बल्लभ भाई पटेल की दूरदर्षिता एवं कार्यो द्वारा सम्भव बनाया जा सका। मैं अपने देष की आंतरिक सुरक्षा सुनिष्चित करने के लिये अपना योगदान करने की भी सत्यनिश्ठा से संकल्प करता हूॅ।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | एसओ इस्लामनगर और उनकी टीम पर हत्या का मुकदमा








बदायूँ | पुलिस हिरासत में कालीन व्यापारी जैनुल आब्दीन की मौत के मामले में एसओ इस्लामनगर और उनकी हमराह टीम के खिलाफ सीओ बिल्सी अभिषेक यादव ने हत्या का मुकदमा कराया है। एसएसपी के आदेश पर यह कार्रवाई की गई है। एसएसपी ने लापरवाही के आरोप में एसओ इस्लामनगर सीपी सिंह और दो सिपाहियों को शुक्रवार को ही सस्पेंड कर दिया था। एसओ और उनकी पूरी टीम पर हत्या का मामला दर्ज होने के बाद इस्लामनगर थाने में हड़कंप मचा है।

इस्लामनगर थाना क्षेत्र में मुड़ियाधुरेकी-बेहटा पाठक रोड पर 11 जुलाई को एक जली हुई मारुति वैन मिली थी। वैन में जला हुआ एक शव भी था। इस शव की शिनाख्त सहसवान के मोहल्ला शहबाजपुर निवासी जैनुल आब्दीन पुत्र शौकत के रूप में की गई थी। अज्ञात लोगों के खिलाफ इस्लामनगर थाने में उसकी हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। बाद में पुलिस को पता लगा कि जैनुल आब्दीन जीवित है। उसने इंश्योरेंस की 65 लाख की रकम हड़पने को यह ड्रामा किया था। करीब ढाई महीने बाद 26 अक्तूबर को पुलिस ने जैनुल को बुलंदशहर के डिबाई से दबोच लिया था। उसे इस्लामनगर थाने में रखा गया था। मारुति वैन में मिला शव किसका था? इस बारे में पुलिस जैनुल से पूछताछ कर रही थी। गुरुवार रात जैनुल की पुलिस हिरासत में संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इस्लामनगर एसओ सीपी सिंह दावा करते रहे कि उसकी मौत हार्टअटैक से हुई है। तीन डॉक्टर के पैनल ने पोस्टमार्टम किया तो पता लगा कि जैनुल की मौत की वजह हैंगिंग है। इसके बाद एसएसपी महेंद्र यादव ने एसओ इस्लामनगर सीपी सिंह, कांस्टेबल गौरव कुमार और विशु कुमार को सस्पेंड कर दिया था। शनिवार को एसएसपी के आदेश पर सीओ बिल्सी अभिषेक यादव ने एसओ इस्लामनगर सीपी सिंह और उनकी टीम के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद थाने में हड़कंप मचा हुआ है। अब अधिकारी इस मामले में बयान देने से भी बच रहे हैं।
 इस्लामनगर थाने का ड्यूटी अफसर भी सस्पेंड
हिरासत में कालीन व्यापारी की मौत के मामले में एसओ इस्लामनगर सीपी सिंह, कांस्टेबल गौरव कुमार और विशु कुमार को सस्पेंड करने के बाद एसएसपी ने शुक्रवार देर रात थाने के दिवस अधिकारी इतेश तोमर को भी सस्पेंड कर दिया है। सूत्रों की मानें तो मामले में कुछ और लोगों पर भी गाज गिर सकती है। सूत्रों ने बताया कि जैनुल ने थाने की हवालात में खुदकुशी की थी। घटना के वक्त इतेश तोमर बतौर ड्यूटी अफसर तैनात थे। इतेश तोमर ने पूरे मामले को घुमाने की कोशिश की। अधिकारियों को सच्चाई नहीं बताई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जब सच्चाई सामने आई तो अफसर भी दंग रह गए। इसके बाद एसएसपी ने ड्यूटी अफसर इतेश तोमर को भी सस्पेंड कर दिया। 

zhakkas

zhakkas