: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/07/16

अखिलेश-प्रशांत की 3 घंटे चली मीटिंग, 129 सीटों पर हुई चर्चा; CM बोले- सपा-कांग्रेस गठबंधन चाहते हैं तो कौन रोकेगा





लखनऊ. यूपी में महागठबंधन की संभावनाओं के बीच सोमवार को अखिलेश यादव और कांग्रेस स्‍ट्रैटजिस्‍ट प्रशांत किशोर के बीच 3 घंटे तक मीटिंग चली। बताया जा रहा है कि मीटिंग में गठबंधन और 129 सीटों को लेकर चर्चा हुई है। बता दें, इससे पहले अखिलेश ने प्रशांत किशोर को मीटिंग के लिए समय नहीं दिया था। ऐसे में अब इस मीटिंग के बाद फिर से कयास लगने शुरू हो गए हैं कि कांग्रेस और सपा के बीच गठबंधन हो सकता है। मीटिंग में अखिलेश ने चुनावी फायदों को समझा...
- सूत्रों के मुताबिक, अखिलेश और पीके के बीच सीएम आवास पर चली लंबी मीटिंग में सीएम ने प्रशांत से कांग्रेस से गठबंधन के चुनावी फायदों को समझा।
- बताया जा रहा है कि मीटिंग में 129 सीटों को लेकर चर्चा हुई है। साथ ही पीके ने दूसरे दलों के साथ गठबंधन, जातीय समीकरण जैसी चीजों के बारे में भी अखिलेश को बताया।
- मीटिंग के बाद ये भी तय हुआ है कि अगली मीटिंग में सपा और कांग्रेस के कई बड़े नेता भी शामिल होंगे।
पीके से पहले मुलायम से हुई अखिलेश की मीटिंग
- इस मुलाकात से पहले अखिलेश, मुलायम सिंह से भी उनके आवास पर जाकर मिले थे, जहां 45 मिनट तक दोनों के बीच मीटिंग चली।
- मीटिंग से बाहर आने के बाद सीएम ने कहा कि चुनाव नजदीक है। सभी पहलू पर नेताजी विचार कर लें। अगर सपा-कांग्रेस गठबंधन चाहते हैं तो कौन रोकेगा।
- बता दें, इस बीच मुलायम सिंह दो दिन के दौरे पर दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं।
गठबंधन को लेकर मुलायम के टच में हैं प्रशांत किशोर
- बता दें, प्रशांत किशोर यूपी में गठबंधन को लेकर मुलायम सिंह से दो बार मिल चुके हैं।
- 6 नवंबर को शिवपाल यादव की मौजूदगी में दो फेज में दोनों के बीच करीब 6 घंटे तक बातचीत हुई थी। मीटिंग में अखिलेश को भी शामिल होना था, लेकिन वे नहीं पहुंचे थे।
- उस समय ही अखिलेश ने प्रशांत को मिलने का वक्त भी नहीं दिया था।
- वहीं, इसके पहले 1 नवंबर को दिल्‍ली में मुलायम और प्रशांत की मुलाकात हुई थी। इस मीटिंग को कराने में अमर सिंह का बड़ा रोल बताया गया था।
एक मंच पर साथ आए थे बड़े नेता
- लखनऊ में 5 नवंबर को हुए सपा के रजत जयंती प्रोग्राम में मुलायम सिंह ने समाजवादियों को एक मंच पर लाने की कोशिश की थी।
- प्रोग्राम में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव, आरएलडी चीफ अजित सिंह, जेडीयू के सीनियर लीडर केसी त्यागी मौजूद थे।
- एचडी देवगौड़ा ने कहा भी था, 'सांप्रदायिक ताकतों से निपटने के लिए सेक्युलर लोगों को साथ आना होगा।'
- इन सारी स्थितियों को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि यूपी में भी बिहार की तर्ज पर महागठबंधन हो सकता है।

सरकारी बैन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा NDTV इंडिया







हिंदी न्यूज चैनल NDTV इंडिया ने सोमवार को केंद्र सरकार द्वारा लगाए विवादास्पद बैन को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। इसकी जानकारी एनडीटीवी की मैनेजिंग डायरेक्टर सुपर्णा सिंह ने ट्विट के जरिए दी है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा गठित एक अंतर-मंत्रालयी समिति की सिफारिश के बाद एनडीटीवी को आदेश दिया गया कि वह एक दिन यानि 9 नवंबर को प्रसारण रोके। सरकार ने पठानकोट वायुसेना अड्डे पर इस साल जनवरी में हुए आतंकी हमले की कवरेज के संदर्भ में चैनल पर कार्रवाई की सिफारिश की थी।

सरकार ने NDTV इंडिया पर इसी साल जनवरी में पठानकोट एयरफोर्स बेस पर हुए आतंकवादी हमले के दौरान संवेदनशील जानकारी का प्रसारण करने का आरोप लगाया है। ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी चैनल पर राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर कार्रवाई की गई है। सरकार के इस आदेश के बाद विपक्ष, बुद्धिजीवियों और मीडिया से जुड़े लोगों का कहना है कि सरकार अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंट रही है।

इस प्रतिबंध का बचाव करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि यह प्रतिबंध 'देश की सुरक्षा के हित में है', तथा इस मुद्दे पर की जा रही सरकार की आलोचना 'राजनीति से प्रेरित' लगती है।
अपने जवाब में चैनल ने कहा कि यह चीजों को अलग तरह से देखने का मामला है तथा जो सूचना उसने दीं, उनमें से अधिकांश पहले से ही सार्वजनिक रूप से प्रिंट, इलेक्ट्रानिक और सोशल मीडिया पर उपलब्ध हैं।

क्या है पूरा मामला
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने केबल टीवी नेटवर्क (नियमन) अधिनियमन के तहत शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए कहा कि एनडीटीवी इंडिया को आदेश दिया जाता है कि वह 9 नवंबर, 2016 के दिन की शुरूआत (आठ नवंबर की देर रात 12:01 मिनट) से लेकर 10 नवंबर, 2016 के दिन के खत्म होने (नौ नवंबर की देर रात 12:01 बजे) तक के लिए प्रसारण पूरे भारत में हर प्लेटफॉर्म पर बंद रखेगा।

आतंकी हमले की कवरेज के संदर्भ में यह किसी चैनल के खिलाफ इस तरह का पहला आदेश है। इससे जुड़े नियम पिछले साल अधिसूचित किए गए थे। यह मामला पठानकोट हमले की कवरेज से जुड़ा हुआ है। समिति ने माना कि ऐसी महत्वपूर्ण सूचना को आतंकवादियों के आका तत्काल लपक सकते थे और इससे न सिर्फ राष्ट्रीय सुरक्षा को बड़ा नुकसान पहुंचता, बल्कि नागरिकों और रक्षा कर्मियों की जान की भी क्षति हो सकती थी।

स्पोर्टस स्टेडियम में जिला प्रशासन इलेवन ने ब्लू¨मगडेल को हराया






बदायूं : स्पोर्टस स्टेडियम में जिला प्रशासन इलेवन व ब्लू¨मगडेल इलेवन के बीच क्रिकेट मैच खेला गया। प्रशासन की टीम ने ब्लू¨मगडेल की टीम को मात दी।विजेता टीम को प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया गया। जिला प्रशासन की टीम के अमित सक्सेना मैन आफ द मैच और शबाब खान को बेहतर बल्लेबाज का खिताब मिला। वेस्ट फिल्डर ललित व वेस्ट बॉलर अक्षत रहे।
प्रशासन की टीम के कप्तान जिलाधिकारी पवन कुमार ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। बल्लेबाजों के बेहतर प्रदर्शन से टीम का स्कोर बीस ओवर में 130 रन बना। लक्ष्य का परीक्षा करने उतरी ब्लू¨मगडेल की टीम के बल्लेबाज ज्यादा देर तक पिच पर पैर नहीं जमा सके और टीम मात्र 78 रन पर आलआउट हो गई। स्कूल के निदेशक ज्योति मेंहदीरत्ता ने डीएम पवन कुमार, कोषाधिकारी प्रवीण त्रिपाठी व लखनऊ से आए स्वास्थ्य विभाग के प्रभात को प्रतीक चिह्न दिया। कॉलेज प्रशासन की ओर से ईशान मेंहदीरत्ता, अजय शर्मा, दुर्गेश झा, ललित, शौकत, निशांत यादव आदि टीम में रहे। सुमित शर्मा, गौरव शर्मा, सैफउद्दीन, प्रदीप बत्रा, सोमेश सक्सेना, रोहित शर्मा, सलमान खान, राहुल माहेश्वरी, विजय आनंद, तरंग रस्तोगी, अनिल ¨सह, अमित कुमार आदि ने उत्साहर्वधन किया। केडी पाठक ने कंमेंट्री की।


US में हिलेरी की जीत के लिए इंडिया के इस गांव में हवन शुरू,





लखनऊ. | अमेरिका में होने वाले प्रेसिडेंशियल इलेक्‍शन को लेकर इंडिया का भी एक गांव चर्चा में है। दरअसल, लखनऊ के जबरौली गांव में हिलेरी क्लिंटन की जीत के लिए हवन-पूजन शुरू कर दिया गया है। बता दें, 17 जुलाई 2014 को इस गांव में बिल क्लिंटन पहुंचे थे, जिसके बाद उस दौरे को लेकर यहां काफी हलचल हुई थी। 2 साल बाद गांव हिलेरी क्लिंटन के लिए हो रहे हवन को लेकर फिर चर्चा में है और सोशल मीडिया पर वायरल भी हो रहा है। इस गांव को क्लिंटन फाउंडेशन ने गोद लिया था। लोगों ने कहा- हिलेरी भारत आएं तो गांव भी आएं...
- जबरौली गांव के लोगों का मानना है कि जिस वक्‍त बिल क्लिंटन यहां आए थे, उस समय कुछ दिनों के लिए ही सही, लेकिन गांव की सूरत बदल गई थी।
- उसी तरह अगर हिलेरी क्लिंटन इलेक्शन जीतती हैं तो हो सकता है कि वे अपने भारत दौरे के दौरान गांव भी आएं।
- इसीलिए लोग उनकी जीत के लिए भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं और हवन भी कर रहे हैं।
गांव के लोगों को मिलने नहीं दिया गया था...
- बिल क्लिंटन के दौरे के दौरान लोगों को लगा था कि गांव में विदेशी राष्ट्रपति आ रहे हैं तो यहां का कायाकल्प हो जाएगा।
- उनके आने से पहले गांव में थोड़ा-बहुत बदलाव भी हुआ था। कई सरकारी बिल्डिंग्‍स भी पेंट की गई थीं।
- जिस खस्ताहाल सड़क से क्लिंटन को गुजरना था, वो भी टेम्परेरी तौर पर नई बनी थी।
- ग्रामीणों के मुताबिक, बिल ने गांव में करीब 4 घंटे समय बिताया, लेकिन गांव के लोगों को उनसे मिलने नहीं दिया गया था।
बिल के आने को लेकर गांव में मना था जश्‍न
- गांव के प्रधान रमेश चंद्र गौर ने बताया था कि गांव में उस वक्‍त हर घर में बिल क्लिंटन के आने का जश्न मना था।
- हर कोई यही सोचता था कि उनके आने से गांव में एक बड़ा बदलाव होगा, लेकिन ये सब कुछ घंटों की शोबाजी थी।
- गांव का एक भी आदमी उनके पास तक नहीं पहुंच सका था।
कौन हैं डोनाल्‍ड ट्रम्‍प और हिलेरी क्लिंटन?
- बता दें, यूएस इलेक्शन में डोनाल्ड ट्रम्प रिपब्लिकन पार्टी से, तो हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी से प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट हैं।
- ट्रम्प 2001 तक डेमोक्रेटिक पार्टी के रजिस्टर्ड कैंडिडेट थे, जबकि हिलेरी 1968 से पहले तक रिपब्लिकन थीं।
- हिलेरी डेमोक्रेट कैंडिडेट हैं तो ट्रम्प रिपब्लिकन कैंडिडेट हैं, लेकिन पहले दोनों का अपोजिट पार्टी से नाता रहा है।
- हिलेरी बताती हैं कि वे रिपब्लिकन सोच के साथ बड़ी हुई हैं। उनके पिता रिपब्लिकन थे। हिलेरी 1964 में रिपब्लिकन प्रेसिडेंट कैंडिडेट रहे बोरिस मोरिस गोल्डवॉटर से काफी प्रभावित थीं।
- हिलेरी के मुताबिक, 1964 में उन्होंने उस समय के प्रेसिडेंट लिंडन बी जॉनसन से काफी इंस्पायर हुईं। 1968 में वे डेमोक्रेटिक हो गईं।
- डोनाल्ड ट्रम्प पहले डेमोक्रेटिक पार्टी को सपोर्ट करते थे। 2001 तक वे इस पार्टी के रजिस्टर्ड मेंबर थे।
- ट्रम्प ने 2009 में रिपब्लिकन पार्टी में रजिस्ट्रेशन कराया। पहले वे रिपब्लिकन और डेमोक्रेट दोनों पार्टियों को चुनावी चंदा देते रहे हैं।
कोई भी जीते, लेकिन बनेगा रिकॉर्ड
- ट्रम्प जीते तो वे यूएस के सबसे उम्रदराज प्रेसिडेंट होंगे। 14 जून 1946 को उनका जन्म हुआ। 70 साल के हैं।
-

आगरा : दीवार में सुरंग बनाकर 350 किलो की तिजोरी ले उड़े चोर






आगरा | शनिवार और रविवार की दरम्यानी रात, फिल्मी स्टाइल में हुई चोरी की एक वारदात ने शहर में सनसनी फैला दी। चोरों ने कंक्रीट की एक दीवार के जरिए सुरंग बनाकर एक जूलरी शॉप से 350 किलो की तिजोरी पार कर दी। तिजोरी में 5 किलोग्राम चांदी और 50 ग्राम सोने के अलावा कैश भी था। हालांकि यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि कैश कितना था।

चोरी की यह वारदात खैरागढ़ तहसील के सैयां इलाके में हुई जो कि शहर से 25 किलोमीटर दूर है। सैयां इलाका एनएच-44 पर स्थित है, जो आगरा को राजस्थान के धौलपुर जिले से जोड़ता है। जूलरी शॉप के मालिक सोनू वर्मा ने कहा कि उन्हें चोरी का पता तब चला, जब रविवार सुबह रोज की तरह दुकान खोली गई। उन्होंने बताया, 'हमने देखा कि जिस वॉल्ट में हम कैश और कुछ जूलरी रखते है, वह गायब है। दुकान के पीछे कंक्रीट की दीवार में 4 फुट चौड़ा सुराख किया गया है।' उन्होंने कहा कि लगता है चोरों ने रात में चुपचाप, दीवार में बड़ा सा सुराख बनाकर चोरी की इस घटना को अंजाम दिया जिसकी किसी को भनक तक नहीं लगी।

दुकान मालिक और पुलिस दोनों इस बात से हैरान हैं कि आखिर इतनी भारी भरकम तिजोरी को वहां से चोर किस तरह ले गए होंगे। दुकान मालिक ने कहा, 'तिजोरी का वजन 350 किलो से ज्यादा है। उसे अपनी जगह से हिलाने में कम से कम चार लोग लगे होंगे। चोर उसे घसीटकर पीछे बनाए गए सुराख के रास्ते उसे बाहर ले गए होंगे।'

मोदी ने ब्रिटिश पीएम से की मुलाकात, मे ने कहा- कारोबारियों का ब्रिटेन आना आसान करेंगे





नई दिल्ली. ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे ने नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई। मे तीन दिन के भारत दौरे पर हैं। मे के साथ 40 बिजनेस डेलिगेट्स भी आए हुए हैं। सोमवार को मे ने टेक समिट में कहा, "ब्रिटेन की इकोनॉमी के लिए भारतीय इन्वेस्टमेंट मददगार साबित हो रहा है। हम ऐसा सिस्टम बनाने जा रहे हैं, जिससे भारतीय कारोबारियों को ब्रिटेन आने में सहूलियत होगी।" मोदी ने कहा, "ब्रिटेन का भारत से गहरा नाता रहा है। भारत ब्रिटेन में तीसरा सबसे बड़ा इन्वेस्टर है। दोनों देश मिलकर चुनौतियों का सामना करेंगे।" मोदी और मे के बीच कई मुद्दों पर बातचीत होगी।थेरेसा का भारत आना सम्मान की बात...

पीएम मोदी ने सोमवार को टेक समिट में कहा- "थेरेसा का भारत में स्वागत है। उनका यहां आना सम्मान की बात है।"
 "उन्होंने यूरोपियन यूनियन से बाहर दौरे के लिए भारत को पहले देश के तौर पर चुना है। यह भी वाकई सम्मान की बात है।"
 "भारत ब्रिटेन में तीसरा सबसे बड़ा इन्वेस्टर है। अब भारत भी इन्वेस्टमेंट और बिजनेस को लेकर काफी ओपन है।"
 "मेरा मानना है कि साइंस और टेक्नोलॉजी भारत और ब्रिटेन के रिश्तों को बेहतर बनाने में मदद करेंगे।"
 "हेल्थकेयर, एनर्जी और टेक्नोलॉजी कुछ ऐसे सेक्टर हैं, जो भारत और ब्रिटेन के बीच बिजनेस को बढ़ावा दे सकते हैं।"
 "भारत और यूके को मिलकर रिसर्च करनी चाहिए, ताकि चुनौतियों का मुकाबला किया जा सके।"
 "दोनों देश क्लीन एनर्जी के लिए एक आरएंडडी सेंटर बनाने पर राजी हुए हैं।"
 "मुझे लगता है कि मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट दोनों देशों के रिश्तों में एक अहम रोल निभा सकता है।"
क्या बोलीं थेरेसा मे?
 मे ने कहा, "ब्रिटेन भारत के लिए रजिस्टर्ड ट्रैवलर स्कीम लागू करेगा। इसके तहत इंडियन बिजनेसमेन को यूके आने में आसानी होगी।"
 "ब्रिटेन में हम इकोनॉमिक और सोशल रिफॉर्म्स पर काम कर रहे हैं। भारतीय इन्वेस्टमेंट ब्रिटेन की इकोनॉमी के लिए मददगार साबित हो रहा है।"
"भारत और ब्रिटेन के रिश्तों में काफी क्षमता है। दोनों देशों के बीच एक खास किस्म की बॉन्डिंग है।"
द्विपक्षीय बातचीत में ये मुद्दे अहम

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | डीएम के दिए थे कड़े निर्देश, दमकल वाहन भी नहीं आए नजर :मिनी कुंभ





बदायूँ  | मिनी कुंभ से विख्यात ककोड़ा मेले को जहां भव्यता प्रदान करने के लिए मंडल व जिला स्तरीय अधिकारी मुकम्मल तैयारियों के लिए निर्देश दे चुके हैं।  वहीं अधिनस्थों को इसकी कोई परवाह नजर नहीं है। उदाहरण यह है कि सोमवार को  झंडी पूजन होना है और ठीक एक दिन पहले यानि रविवार तक सफाई कर्मचारी नदारद  रहे। जबकि मेला के आरंभ से पहले ही हमेशा सफाई कर्मचारी पहुंचते रहे हैं।  इस बार स्थिति उलट है। दमकल की टीम भी नहीं पहुंच पाई है।

मेला की सफाई  व्यवस्था के लिए लगाए गए सात नोडल अधिकारी, तीन ईओ व चार एडीओ पंचायत,  ग्राम पंचायत अधिकारी नगर पंचायत की ओर से लगाए गए हैं, लेकिन फिर भी सफाई व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं हो पाई हैं। इतना ही नहीं रेत में घास, फूंस में टेंट लगने लगे हैं। दमकल का भी टेंट लग चुका है। फायर ब्रिगेड नदारद है। मेला कोतवाली में रेडियो वायरलेस सेट जहां हमेशा झंडी पूजन से  पूर्व ही लगा दिया जाता था। वह भी अभी तक नहीं लगा है। कंट्रोल रूम बनने के साथ ही मेला मुख्यालय के संपर्क में रहेगा। जबकि प्रकाश व्यवस्था सुदृढ़ होने लगी है। दुकानें सजना शुरू हो गई हैं। आधे से ज्यादा लग भी चुकी हैं। श्रद्धालु भी पहुंचना शुरू हो गए हैं।
वहीं आज मेला ककोड़ा में झंडी पूजन किया जाएगा। ककोड़ा देवी मंदिर से गंगा तट पर झंडी को ले जाया जाएगा।  जिला पंचायत अध्यक्ष मधुचंद्रा, डीएम पवन कुमार, मेलाधिकारी जंगबहादुर  यादव समेत तमाम अधिकारी गण गंगा तट पर हवन पूजन कर और दुग्धाभिषेक कर मेले  को सफल बनाने की कामना करते हुए आह्वान करेंगे। इसके साथ ही मेला आरंभ हो जाएगा। इससे पूर्व सभी तैयारियां पूरी होना आवश्यक है। बता दें कि सभी  विभागों की समीक्षा बैठक भी की
गंगा में नहीं होगा विसर्जन
कादरचौक। गंगा को गंदगी से मुक्त रखने के लिए विशेष सावधानी बरती जाएगी।
अभियंता  संजय शर्मा ने बताया कि गंगा में किसी भी प्रकार का विर्सजन नहीं किया जाएगा। गंगा तट पर गड्ढे खोदे गए हैं। इनमें ही भू-विर्सजन किया जाएगा। ताकि गंगा प्रदूषण मुक्त रहे।
खेल, तमाशे, झूले का सामान पहुंचा
कादरचौक।  मेले में खेल, तमाशे, झूलों का सामान पहुंचने के साथ लगना भी शुरू हो गया  है। वहीं खान-पीन की दुकानें भी सज गई हैं। लोगों ने पहुंचकर इसका लुत्फ भी  लेना शुरू कर दिया है। वहीं श्रद्धालु भी पहुंचना शुरू हो गए हैं। कटरी  में रौनक नजर आने लगी है। इधर,
मेलार्थियों के मनोरंजन के लिए पाकेर  ऐम्यूजमेंट कंपनी के मैनेजर आरके पंडित ने बताया कि मेला में झूला, मौत का  कुआं, ड्रैगन, टोराटोरा, चांदतारा, कलमबाक्स, नाव, मशहूर जादूगर, किंगपासा,  माया जादूगर, पिघलने वाली लड़की, भूतबंगला, शीशे का खजाना, सिनेमा हाल के  अलावा बच्चों के छोटे खेल तमाशे भी पहुंच गए हैं। वहीं भारत सर्कस का सामान भी पहुंचने लगा है। हापुड़ से भी खेल तमाशे का सामान पहुंचना शुरू हो गया  है

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | इस्लामनगर धुंध के चलते हुए सड़क हादसे, तीन लोगों की मौत





इस्लामनगर |  वातावरण में धुंध के चलते जिले में हुए अलग-अलग सड़क हादसों में तीन लोगों की जान चली गई। सड़क हादसे इस्लामनगर, अलापुर और मुजरिया में हुए। इस्लामनगर में कैंटर और ट्रक की टक्कर में ट्रक चालक की मौत हो गई। हादसे के बाद बिसौली-इस्लामनगर रोड पर जाम लग गया। मुजरिया में बोलेरो गाड़ी की टक्कर से कासगंज के निवासी युवक की मौत हो गई। अलापुर में भी एक जान गई है।
इस्लामनगर। बिसौली रोड पर गांव कंदरपुर के पास रविवार सुबह करीब छह बजे ट्रक और कैंटर की आमने-सामने की भिड़ंत हो गई। हादसे में ट्रक चालक रिशु (26) पुत्र मदनपाल की मौत हो गई। इसके बाद जाम लग गया। रिशु सीतापुर के सेतियापुर गांव का निवासी है। वह ट्रक से लकड़ी लेकर अनूपशहर जा रहा था। हादसे के बाद करीब दो घंटे तक बिसौली-इस्लामनगर रोड पर जाम लगा रहा। बाद में पुलिस ने दोनों वाहनों को हटवाकर यातायात सामान्य कराया।
मुजरिया। थाना क्षेत्र में सहसवान रोड पर लहरा की पुलिया के पास बोलेरो गाड़ी ने बाइक सवार युवक को रौंद दिया। हादसे में युवक की मौत हो गई। अनियंत्रित बोलेरो भी खाई में पलट गई। कासगंज के दिहारी गांव निवासी धर्मवीर (45) पुत्र अशर्फीलाल रविवार को मटर का बीज खरीदने बाइक से बिल्सी आया था। बीज खरीदकर वह अपने गांव लौट रहा थ। शाम करीब चार बजे लहरा पुलिया के पास उसकी बाइक को बोलेरो ने रौंद दिया। हादसे में धर्मवीर की मौके पर मौत हो गई। हादसे के बाद बोलेरो सवार तीन लोग यहां से भाग गए।
अलापुर। क्षेत्र के गांव कंचनपुर के पास अज्ञात वाहन की टक्कर से युवक की मौत हो गई। हादसा शनिवार रात हुआ। मृतक की शिनाख्त नहीं हो सकी है। पुलिस ने शव मोर्चरी में रखवा दिया है। शनिवार रात पुलिस को हाईवे पर कंचनपुर गांव के पास युवक का शव पड़ा होने की खबर मिली। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जानकारी जुटाई। यहां पता लगा कि उसको किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी थी। हादसे के बाद वाहन चालक मय वाहन के भाग निकला। पुलिस मृतक की शिनाख्त की कोशिश कर रही है।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | घंटे भर बजा पर उठा नहीं हेल्पलाइन नंबर






बदायूं : जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में शिक्षक-शिक्षिकाओं व परिषदीय विद्यालय संबंधी अन्य समस्याओं के लिए लगाया गया हेल्पलाइन नंबर महज शोपीस बनकर रह गया है। कभी-कभार बस प्रधानाध्यापकों को फोन करके उपस्थिति जरूर ले ली जाती है। तैनात कर्मचारी के गैरहाजिर होने के बाद कोई जिम्मेदार फोन नहीं उठाता। घंटों तक फोन बजता रहा, लेकिन किसी कर्मचारी फोन उठाकर समस्या सुनने की जहमत नहीं उठाई।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | 102 परीक्षा केंद्रों पर होगी बोर्ड की परीक्षा






बदायूं : हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा की तैयारियां शुरू हो गई हैं। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण किया जा रहा है। परीक्षा के लिए 102 परीक्षा केंद्र बनाने की योजना है। पिछले वर्ष की तुलना में इस सत्र में कम परीक्षार्थी होने की वजह से चार परीक्षा केंद्र कम किए जा रहे हैं। जिसके संबंध में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में दो बैठकें हो चुकी हैं और आपत्तियां मांगी जा रही हैं। आपत्तियां प्राप्त होने के बाद तीसरी बैठक के बाद परीक्षा केंद्रों की सूची जारी कर दी जाएगी।

हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा में पंजीकृत 32 हजार 845 और इंटरमीडिएट में 20 हजार 918 छात्र-छात्राएं सम्मलित होंगे। यह संख्या पिछले सत्र की तुलना में लगभग साढ़े आठ हजार कम है। जिसमें तकरीबन 62 हजार परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया था। साथ ही परीक्षा केंद्रों की संख्या कम की जा रही है। परीक्षा केंद्रों के निर्धारण के संबंध में 20 अक्टूबर व 25 अक्टूबर को बैठकें हो चुकी हैं। जिसमें डीएम, एसडीएम, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक मौजूद रहे थे। जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि कॉलेजों से परीक्षा केंद्र के संबंध में आपत्तियां मांगी गई हैं। जो ऑनलाइन व मैनुअली कार्यालय को मुहैया कराई जाएंगी। केंद्रों का निर्धारण करके सूची सार्वजनिक की जाएगी।

दो कॉलेज किए डिबार

बोर्ड परीक्षा के दौरान अनियमितता पाए जाने पर अलापुर और शहर के एक कॉलेज को डिबार किया गया है। इन कॉलेजों को परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जा रहा है।

यह है परीक्षा केंद्र बनाने का मानक

परीक्षा केंद्र बनाने के लिए बोर्ड की ओर से मानक निर्धारित किए गए हैं। जिसके अंतर्गत हाईस्कूल की परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्र 4 से 8 किलोमीटर के बीच होना जरूरी है। साथ ही इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए बनाए गए मानक के अनुसार परीक्षा केंद्र 8 से 12 किलोमीटर के बीच होना जरुरी है। परीक्षार्थी के कॉलेज से परीक्षा केंद्र की दूरी इससे ज्यादा नहीं होगी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | उझानी,युवक की हत्या कर पेड़ पर लटकाई लाश





उझानी में एक युवक की रहस्यमयढंग से लाश पेड़ पर लटकी मिली। मृतक की मां का आरोप है कि बेटे को तीन दिन पहले से अपहरण कर साढ़े पांच बीघा जमीन के लिए हत्याकर शव को पेड पर लटका दिया गया है।
कोतवाली क्षेत्र के गांव मल्लामई निवासी राजन शर्मा (25) पुत्र पप्पू शर्मा के नाम साढ़े सात बीघा जमीन थी। जिसमें कोतवाली क्षेत्र के गांव अहिरवारा निवासी भगवान ¨सह यादव ने दो बीघा जमीन का बैनामा और साढ़े पांच बीघा जमीन का इकरारनामा करा लिया था। मृतक की मां ब्रह्मा देवी शर्मा का आरोप है कि उसके पुत्र को तीन दिन से बंधक बना लिया था। उसने बताया कि राजन की हत्या भगवान ¨सह के अलावा और किसी ने नहीं की है। मृतक की मां कोतवाली के सामने गेट पर यह सब बात चीख-चीख कर कह रही थी। मृतक राजन शर्मा की लाश रविवार की प्रात: गांव के पश्चिम साइड में रास्ते के किनारे खेत में खड़ी शीशम पर प्लास्टिक की रस्सी के सहारे लटकी हुई मिली। जिसके पैर जमीन से लगे हुए थे। वहीं गले पर रस्सी के निशान थे जिससे साफ लग रहा था कि राजन की हत्या गला दबा कर की गई है। वहीं हत्यारों ने पुलिस से बचने को लाश को पेड पर लटका दिया था। पुलिस ने मृतक के शव को सीलकर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया। युवक की मौत से परिवार में कोहराम मच गया है। इस संबंध में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि मामला इत्तफाक में दर्ज किया गया है पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कार्रवाई की जाएगी।
-

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | फैजगंज में बदमाशों का मधुमक्खी प्लांट धावा, 60 पेटियां लूटीं






फैजगंज बेहटा : थाना क्षेत्र में बदमाशों ने एक बार फिर लूटपाट की घटना को अंजाम देने के बाद बदमाशों ने सनसनी फैला दी है। इस बार बदमाशों ने मधुमक्खी प्लांट पर धावा बोलकर 60 पेटियां लूट लीं। करीब तीन लाख की लूट करने के बाद बदमाशों ने इलाके के ही एक प्राचीन मंदिर से दानपात्र उठा लिया। घटना की तहरीर पुलिस को दी गई लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया।
उत्तराखंड के रामनगर निवासी मोहन का फैजगंज बेहटा थाना क्षेत्र के गांव दांबरी में मधुमक्खी का प्लांट है। शनिवार की रात करीब एक दर्जन बदमाशों ने मधुमक्खी प्लांट पर धावा बोल दिया। डीसीएम लेकर आए बदमाशों ने असलाह के बल पर चौकीदार को बंधक बना लिया। इसके बाद करीब 60 पेटियां लूटकर बदमाश फरार हो गए। बदमाशों ने यहां से जाने के बाद हाइवे पर मौजूद गंगोली मंदिर पर धावा बोल दिया। बदमाशों ने यहां से हजारों रुपये से भरा दानपात्र उठा लिया। रविवार की सुबह घटना की जानकारी लोगों को हुई तो वह भयभीत हो गए। लोगों ने थाने जाकर मामले की सूचना पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने हर बार की तरह मुकदमा दर्ज नहीं किया।


बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आज का राशिफ 07/11/2016





  • मेष राशि

स्वामी – मंगल
अराध्य देव – श्री गणेशजी
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – अ, ल, इ
शुभ रत्न – मूंगा
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी
मेष राशि के जातक जन्म से ही नेतृत्व में निपुण होते है. प्रायः ऊर्जा और अति- उत्साह से सभर रहते है. हालाँकि स्वच्छ प्रकृति के मगर अधिक आत्म केंद्रित रहते है. किसी भी कार्य को योजनापूर्वक करने में माहिर हैं. संघर्ष से उचित पद, इज्जत और नाम कमाते है. किसी को अपने पक्ष में खींचने में निपुण है. जो लोग आपके अनुसार कार्य नहीं करते उनके प्रति आपकी धारणा नकारात्मक रहती है. किन्तु मेष राशि के जातक जिन पर प्रसन्न हो जाते हैं उन पर जान भी न्योछावर कर देते हैं.


  • वृषभ राशि

स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुलस्वामिनी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ब, व और ऊ
शुभ रत्न – हीरा
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
वृषभ राशि के जातकों का स्वभाव गंभीर, स्थिर और व्यव्हार कुशल रहताहै. सौंदर्य से प्रेम करने वाले और शिष्टप्रिय होते है. पुराने विचारों में मानते है. धन और नाम हासिल करते हैं. अपने पुराने विचारों की वजह से लोगों से उंच नीच रहती है. प्रभावपूर्ण वाणी आपकी विेषेषता है. सफलता प्राप्त करने के बाद भी लोगों को साथ में रख कर चलना आपकी आदत है. आप भावुक और ह्रदय से सच्चे है. तत्काल लाभ की अभिलाष रखते हैं मगर उपेक्षा के पात्र बनते है.


  • मिथुन राशि

स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – हवा
नाम के पहले अक्षर – क, छ, घ
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
मिथुन राशि के जातकों में दुसरो की प्रकृति तथा व्यवहार को तीव्रता से समझ लेते हैं. मिलनसार स्वभाव की वजह से बहुत मित्र होते हैं. किसी भी कठिन बात को बुद्धिपूर्वक आसानी से बोल लेते हैं. आकर्षक और मनोरंजक व्यक्तित्व इनकी विशेषता हैं.

किन्तु अंद्रोनी तौर पर शुभ आचार विचार वाले और एकाग्र होते हैं. किन्तु बुरी सांगत को ले कर अपनी प्रतिभा को नुक्सान करते हैं. साथ ही कुछ मित्रों की संगत से मदद भी मिलती हैं. मिथुन राशि के जातक अधिकतम उदार दिल, बलशाली, चतुर तथा भोग विलास में रस रखनेवाले होते हैं.


  • कर्क राशि

स्वामी – चन्द्रमा
अIराध्य देव – शंकर भगवान
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – ड, ह
शुभ रत्न – मोती
शुभ रुद्राक्ष – दो मुखी रुद्राक्ष
इस राशि के लोग सौन्दर्यवान और घर परिवार से अत्यधिक मोह रखने वाले होते हैं. भावनात्मक रूप से अपने आप को सुरक्षित रहना चाहते है. इसी वजह से अपनी भावनाओं को सही मायने में प्रस्तुत करने से डरते है.

यह राशि वाले रिश्तों और परिवार में रचे रहते हैं. प्रकृति से लोगों को सुरक्षा देने वाले और अन्य लोगो को पालन पोषण देते हैं. जज्जबाती और देशभक्त तथा मातृभक्त रहते हैं. इनकी प्रकृति लोगों की समझ में जल्द नहीं आती. ऊपर से भावनाहीन मगर अंदर से मोम जैसा व्यक्तित्व और प्रेमी स्वभाव रहता हैं.


  • सिंह राशि

स्वामी – सूर्य
अIराध्य देव – सूर्य भगवान
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – म, ट
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – एक मुखी रुद्राक्ष
सिंह राशि के जातक किसी के सामने झुकना पसंद नहीं करते. स्वभाव से उत्साही, निर्भयी, क्रोधी, वीर, स्वतन्त्र और कठिन परिस्थितियों में भी विचलित न होने वाले व्यक्ति होते हैं. सन्तोषपूर्ण होने के कारन आर्थिक उन्नति नहीं कर पाते. अकेले रहना अधिक पसंद करते हैं जिसकी वजह से जीवन में कठिनाइयां रहती है. सिंह राशि के जातक अधिकतम अपने शोख़ को अपना पेश बनाते हैं. ह्रदय से आप दूसरों का भला हमेशा चाहते हैं मगर आपका अहंकार आपको दुसरो से जोड़ने में रुकावटें पैदा करता हैं. जन्म से ही आप संचालन और नेतृत्व की शक्तियां रखते हैं.


  • कन्या राशि

स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – प, ठ, ण
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
कन्या राशि के जातक स्वभाव से अधिक दृढ़ निश्चयी और कुछ अंश तक जिद्दी भी होते हों. एक बार जो सोच लेते है उसे पूरा कर के ही दम लेते हैं. सञ्चालन में कुशल, कलाओं में निपुण और धनी रहते हैं. वाणी में मधुरता, बुद्धिमता, विचारशीलता और व्यवहारिकता इनकी खासियतें हैं. स्वच्छता के अति आग्रही और हर कार्य को व्यवस्थापूर्ण करना चाहते हैं. मेहनती और सफलता को तीव्रता से पाने वाले व्यक्ति हैं. किन्तु सांसारिक जीवन में भाग्यशाली नहीं होते. ह्रदय से रोमांटिक रहते हैं किन्तु भावनाओं को प्रदर्शित करने में विश्वास नहीं रखते. इसकी वजह से प्रेम सम्बन्धो और वैवाहिक सम्बन्धो में सफलता नहीं मिलते.


  • तुला राशि

स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुल स्वामिनी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – र, त
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
तुला राशि के जातक जन्मजात कुशल राजनीतिज्ञ, विचारशील और चतुर होते हैं. स्वभाव संतुलित रहता है और हर वस्तु को सम्पूर्ण समीक्षा और परिक्षण के बाद समझते हैं. आज्ञा के पालक रहते हैं. सौंदर्य और सुघड़ता को बहुत पसंद करते हैं. दूरदर्शिता से भरपूर आपका स्वभाव कार्य क्षेत्र में अच्छी तरक्की करवाता हैं.

वाणी और स्वभाव आनंदित रहने की वजह से लोगों में प्रिय बने रहते हैं. सभी राशियों में अत्यधिक आकर्षण पैदा करने वाला व्यक्तित्व रखते हैं. किन्तु कुछ परिस्थितियों में अत्यधिक हताश हो जाते हैं. निर्णय लेने से पहले आयाम और अंजाम के विषय में अत्यधिक सोचते हैं.


  • वृश्चिक राशि

स्वामी – मंगल
अIराध्य देव – गणेशजी
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – न, य
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी रुद्राक्ष
वृश्चिक राशि के जातक तीक्ष्ण बुद्धि के मालिक होते है. बोले हुए वचन को दृढ़ता से पालनेवाले, थोड़े घमंडी, किसी भी विषय का बारीकी से निरिक्षण करने में निपुण और महत्वकांशी रहते हैं. धार्मिक विचार रखते हैं और हर कार्य को कुशलतापूर्वक करते हैं. अन्य लोगो के स्वभाव, शक्तियों और कमजोरियों को तीव्रता से समझने का गुण रखते हैं. मित्र बनाने के शौकीन और प्रशंसा पाने के अभिलाषी रहते हैं. इनकी दोस्ती जितनी लाभदायी रहती है उतनी ही इनकी दुश्मनी कष्टदायक रहती हैं. मन में जो विचार है उसे प्रस्तुत करने में हिचकिचाते नहीं. स्वभाव से ईर्ष्यालु भी रहते हैं.


  • धनु राशि

स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – भ, ध, फ, ढ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
धनु राशि के लोग शांतिप्रिय, स्पष्टवक्ता, सत्य के आग्रही, मिलनसार, निडर, वफादार और जिज्ञासु रहते हैं. सत्य और ज्ञान की खोज आपकी प्रकृति है. नेतृत्व का कौशल रखते हैं. मौज शौख के शौकीन होते है और जहाँ जाते हैं लोगों के आकर्षण का केंद्र बनते हैं. अपने कौशल्य और स्वभाव से इन्हे दूसरों पर अधिकार जाताना काफी अच्छा लगता है. शौकीन और दूसरों का ख्याल रखने की प्रकृति निजी सम्बन्धो में सफलता दिलाती है. ह्रदय से बहुत दयालु और मदद करने की भावना रखते हैं.


  • मकर राशि

स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ख, ज
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
मकर राशि वाले धनि और सुन्दर होते हैं. कार्य को अपना जीवन मानते हैं और कार्यस्थल पर समय व्यतीत करना अधिक पसंद करते हैं. मौज शौख में काम रूचि रहती है. इस राशि के लोग दोहरे विचार रखते हैं. अपने लक्ष्य के प्रति सम्पूर्ण सम्भान और प्रयत्नशील रहते हैं. रहस्यों और आध्यात्मिक बातों में रूचि रखते हैं. कार्यों को स्वयं पूरा करने में विश्वास रखते हैं. दूसरों का हस्तक्षेप पसंद नहीं करते. ऊँचे विचार वाले और धन कमाने का अच्छा सामर्थ्य रखते हैं. उपकारों को कभी भूलते नहीं.


  • कुम्भ राशि

स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – ग, स, श, ष
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
कुम्भ राशि के लोग अधिकतर परोपकारी और प्रेमी स्वभाव के होते है. किसी पर जल्दी मोहित हो जाते है. परोपकारी होने पर भी किसी के विरुद्ध षड़यंत्र रच सकते है. ह्रदय की बातों को छुपाने में माहिर होते है. कला, संगीत, शिल्प और साहित्य में रूचि रखने वाले हैं. भावनाओं और बातों को गुप्त रखने की वजह से मानसिक और शारीरिक रूप से कष्ट उठाते है. सौंदर्य के पुजारी होते है और आगे बढ़ने की इच्छा हमेशा रखते हैं. जो भी कार्य करते है उसे पुरे दिल से संपन्न करते हैं. किन्तु तीव्र क्रोध आपका सबसे बड़ा अवगुण है.


  • मीन राशि

स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – द, च, थ, झ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
मीन राशि के लोग अत्यंत शांत, सौम्य, करुणामय स्वभाव के और आकर्षक व्यक्तित्य के मालिक हैं. अपनी हर गलती पर माफ़ी मांग लेते हैं. अध्यात्म और ईश्वर भक्ति में लीन रहते हैं. गंभीर और दोहरे स्वभाव के बावजूद भी आपके विचार हमेशा सरल और अच्छे रहते हैं. दूसरों के बारे में इतना अधिक सोचते हैं की दुसरो के दर्द को स्वयं बर्दाश्त कर लेते है. अन्य के लिए अपने खुशियों को त्यागना पसंद करते हैं. गलत और सही के बीच में निर्णय लेने में हमेशा मानसिक रूप से त्रस्त रहते हैं. किन्तु सहानुभूति, बेफिक्र और उदार स्वभाव की वजह से लोगों में प्रिय रहते हैं.

zhakkas

zhakkas