: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/08/16

500, 1000 रुपये के नोट गैर-कानूनी, 30 दिसंबर तक बैंकों और डाकघरों में जमा करा दें : पीएम मोदी






खास बातें


  • मंगलवार आधी रात से 500 और 1000 के नोट गैरकानूनी होंगे
  • कुछ जगहों पर अगले दो दिनों तक एटीएम काम नहीं करेंगे
  • रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों पर टिकट खरीदने वालों को इस नियम से छूट
  • नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात को राष्ट्र के नाम संबोधन में बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि आज मध्यरात्रि से 500 और 1000 रुपये के नोट गैर-कानूनी हो जाएंगे. उन्‍होंने कहा कि लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है, 30 दिसंबर तक 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बैंकों और डाकघरों में जमा कराए जा सकते हैं.

पानी में रहने वाले राजनैतिक पंडित की भविष्यवाणी, अमेरिका में जीत मिलेगी






चेन्नई: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू होने में कुछ ही घंटे बचे हैं, और चेन्नई के एक "राजनैतिक पंडित " ने दावा किया है कि इस चुनाव में रिपब्लिकन प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप जीतने जा रहे हैं... खास बात यह है कि डेमोक्रेट प्रत्याशी हिलेरी क्लिंटन की हार की भविष्यवाणी करने वाले इस "राजनैतिक पंडित " के शरीर पर हाथ-पांव नहीं, सांस लेने के लिए गिल हैं, और वह अपना सारा समय पानी के भीतर ही बिताता है...

UP चुनाव: मुलायम सिंह से फिर मिले प्रशांत किशोर, तेज हुई अटकलें






लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन की कवायद के बीच कांग्रेस के लिये काम कर रहे चुनावी रणनीतिकार ने आज सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव से एक बार फिर मुलाकात करके हलचलें बढ़ा दी हैं।

प्रशान्त किशोर (पीके) से जुड़े करीबी सूत्रों ने बताया कि पीके ने आज सपा प्रमुख से मुलाकात की। दोनों के बीच लंबी बातचीत हुई। माना जा रहा है कि इस दौरान महागठबंधन बनाने पर बातचीत हुई।
पीके की इस मुलाकात से प्रदेश में सपा, उसके साथ गठबंधन के इच्छुक दलों जदयू, रालोद, राजद तथा कांग्रेस का महागठबंधन बनाये जाने की

मुरादाबाद-बरेली पैसेंजर समेत दो ट्रेन रद





मुरादाबाद-बरेली पैंसेजर समेत दो ट्रेन के रद होने के आए अचानक आदेश से स्टेशन पर जमा यात्रियों में खलबली मच गई। दूरदराज से आए ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों ने रोष व्यक्त करते हुए नाराजगी भी जताई। लोगों को काफी मुश्किलों का सामना कर बस से सफर तय करना पड़ा। वहीं कई पैसेंजरों ने अपनी यात्रा स्थगित कर घर लौट आए। स्टेशन अधीक्षक डीपी सिंह के मुताबिक बरेली से चलने वाली आगरा-बांदीकुई पैसेंजर व मुरादाबाद-बरेली पैसेंजर से रोजाना सैकड़ों यात्री सफर तय करते हैं। बताया कि सोमवार को अचानक हाईकमान से आए आदेश के अनुसार इन दोनों 

मुख्यमंत्री के गृह जनपद में इस वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने ग्रहण किया कार्यभार





बदायूँ, | इसके बाद एसएसपी ने बलराम सिंह चौराहे पर तैनात पुलिस से मुलाकात की तथा उनकी समस्याओं को जाना व उनको ड्यूटी पर असलहा तथा डंडे के साथ तैनात रहने के निर्देश दिये। यहां से कोतवाली का आकस्मिक निरीक्षण करने पहुंचे और तैनात संतरी से उसकी ड्यूटी के बारे में पूछा। उसके बाद सीसीटीएनएस कार्यालय का निरीक्षण किया तथा कार्यालय में साफ सफाई व अपराधों के वर्कआउट के बारे में जानकारी प्राप्त की। मेस का भी निरीक्षण किया तथा खाने की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। कोतवाली में बने पुलिस आवास का भी निरीक्षण किया। सभी उपनिरीक्षकों को अपने काम पर विशेष ध्यान देने को

तीन तलाक : मोदी सरकार के खिलाफ जंतर मंतर पर हल्ला बोलेंगे मुस्लिम संगठन






बदायूँ, | रगाह आला हजरत की सामाजिक एवं धार्मिक संस्था जमात रज़ा-ए-मुस्तफा, मुंबई की रज़ा एकेडमी और दिल्ली की संस्था तंजीम उलेमा-ए-इस्लाम प्रमुख रूप से इस प्रदर्शन में शामिल होंगी। 18 नवंबर के विरोध प्रदर्शन को सफल बनाने के लिए इसका जमकर प्रचार किया जा रहा हैं। जगह जगह पोस्टर लगाकर लोगों से दिल्ली पहुंचने की अपील की जा रही ...

बिल्सी गल्ला मंडी बिना रसीद के खरीदा जा रहा अनाज







बिल्सी गल्ला मंडी अनाज खरीद में अग्रणी मंडी है। धान, गेहूं, बाजरा, मक्का व उर्द की भारी आवक के बाद भी बिना रसीद दिए कृषकों से खरीद कर बाजरा, उर्द, मक्का, सरसों का अवैध भंडारण किया जा रहा है। मंडी समिति के दोनों यार्ड कृषकों के अनाज नीलामी के लिए निर्माण कराए गए पर अनाज भंडारण कराकर समिति प्रशासक धन कमाई में मशगूल है। बिना नीलामी प्रथा के अनाज मंडी में खरीद की जाती है। मंडी समिति में कृषकों की सुविधा के लिए बने शौचालय समिति प्रशासन की साठगांठ से व्यापारियों ने भंडारण गृह बना दिए हैं।

अब फर्जीवाड़ा नहीं चलेगा इंटरनेट पर दिखेंगी सरकारी चल-अचल संपत्तियां





बदायूं : ग्राम पंचायत स्तर पर होने वाले विकास कार्यों में अब फर्जीवाड़ा नहीं चलेगा। सरकारी चल-अचल संपत्तियां पहले से ही इंटरनेट पर सचित्र मौजूद रहेंगी जो नया काम होगा उसे भी फोटो सहित केंद्र सरकार की वेबसाइट पर डालना होगा। मसलन किसी पुराने भवन की मरम्मत या नवनिर्माण के लिए प्रस्ताव तैयार करने से पहले ग्राम पंचायत स्तर पर भी इंटरनेट को टटोलना होगा ताकि कहीं कोई गड़बड़ी न हो जाए। सरकार ने इसके लिए विशेष मोबाइल एप तैयार किया है, जिसके जरिये ग्राम पंचायत अधिकारी ग्राम पंचायत स्तर की स्थिति वेबसाइट पर अपडेट करेंगे।
जिला मुख्यालय से लेकर ग्राम पंचायत स्तर तक पेपरलेस वर्किंग पर जोर दिया जा रहा है। केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार गांवों के विकास के लिए धन सीधे ग्राम पंचायतों को दे रही हैं। किस मद में कितना धन मिला और उसका कहां उपयोग हुआ यह सब फोटो समेत केंद्र सरकार की वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगी। मसलन गांव में क्या हो रहा है यह किसी से पूछने की जरूरत नहीं है। नेट खोलकर कोई भी व्यक्ति देख सकेगा। इसके लिए जीपीडीपी यानी ग्राम पंचायत डेवलपमेंट प्रोग्राम शुरू किया गया है। इसमें सबसे पहले ग्राम पंचायत स्तर पर उपलब्ध सरकारी चल-अचल संपत्तियों का सचित्र ब्योरा मोबाइल एप के जरिये नेट पर डालने की प्रक्रिया शुरू की गई है। इसमें सरकारी स्कूल, पंचायत भवन, आंगनबाड़ी केंद्र के अलावा खाली पड़ी भूमि भी शामिल रहेगी। ग्राम पंचायत अधिकारियों को अक्षांश और देशांतर के साथ यह ब्योरा वेबसाइट पर अपलोड करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है, इसके बाद जो भी धन मिलेगा उसका प्रस्ताव बनाकर अनुमोदन कराना होगा। कार्य पूर्ण होने पर फोटो समेत ब्योरा नेट पर डालना होगा।
ग्राम पंचायतों में सरकारी चल-अचल संपत्ति किस दशा में है, यह नेट पर पता किया जा सकेगा। सभी एडीओ पंचायत और ग्राम पंचायत अधिकारियों को प्रशिक्षण देकर काम शुरू करने के निर्देश दे दिए गए हैं। गांवों में होने वाले विकास कार्यों में पारदर्शिता आएगी। नए कार्यों की फोटो भी नेट पर डालनी होगी, इसलिए धन का दुरुपयोग नहीं होने पाएगा।

 अच्छे लाल ¨सह यादव, मुख्य विकास अधिकारी।

कश्मीर से पहले खत्म कराएं धारा 340 पूर्व जिला महासचिव कांग्रेस ,बदायूं





बदायूं : कांग्रेस के पूर्व जिला महासचिव जावेद सलीम ने कहा कि तीन तलाक में बदलाव हमारी शरीयत में बदलाव है, इसे मुस्लिम समाज बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी के समय उपजे शरीयत के मामले का जिक्र करते हुए कहा कि समान नागरिकता की बात करने वालों को पहले कश्मीर से धारा 340 समाप्त कराना चाहिए। -

उघैती के खंडुआ में देवोत्थान मेला का उद्घाटन





उघैती क्षेत्र के गांव खंडुआ में 24वां देवोत्थान मेला का सोमवार को ग्राम्य विकास राज्यमंत्री ओमकार ¨सह यादव, एमएलसी बनवारी ¨सह यादव और डीसीबी चेयरमैन ब्रजेश यादव ने संयुक्त रूप से उद्घाटन किया। मेला उद्घाटन के दौरान करतार ¨सह यादव प्रधान अध्यक्ष, नेम ¨सह यादव क्षेत्र प्रमुख सहसवान, सतीश चंद्र क्षेत्र पंचायत प्रमुख दहगवां, सुरेश यादव क्षेत्र पंचायत प्रमुख इस्लामनगर, नबाब ¨सह यादव विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष, विसेतम ¨सह यादव जिला अध्यक्ष लौहिया, दयानंद शर्मा प्रधान, कुंवरपाल शर्मा, सौदान ¨सह यादव एवन गुप्ता आदि लोग मौजूद रहे। संचालन राजेंद्र प्रसाद उपाध्याय जिला अध्यक्ष ने किया।

बदायूँ,जिला अस्पताल है जहां इलाज नहीं मिलता इलाज





बदायूं : यह कैसा अस्पताल है जहां इलाज नहीं मिलता। यह सवाल अब मरीज स्टाफ से पूछने लगे हैं। वजह है कि पिछले कुछ समय से हालात इस तरह के बने हैं कि मरीजों को न तो डॉक्टर मिलते हैं और न ही दवाई मिल पाती है। संक्रामक रोगों से जूझ रहे लोग मुफ्त इलाज के लालच में अस्पताल आते हैं तो सुबह से शाम तक लाइन में लगने के बाद भी उन्हें कुछ हासिल नहीं होता। थक हारकर वह बीमारी से जूझते हुए अपने घर लौट जाते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इस वक्त जिले में संक्रामक रोग फैला हुआ है इसके बाद भी जिले के सबसे बड़े अस्पताल में व्यवस्थाएं सुधारने को कोई खास इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं। जिम्मेदारों की लापरवाही से हेकड़ी पर उतरे डॉक्टर निजी नर्सिंग होमों के अलावा यहां पर किसी भी मरीज को देखने तक नहीं आ रहे हैं।
संक्रामक रोगों से जूझ रहे मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा दिलाने का दावा करने वाले अधिकारियों पर ही सवाल खड़े होने लगे हैं। सुबह आठ बजे से ओपीडी खुलती है तो उससे पहले ही मरीजों की लाइन लगना शुरू हो जाती है। सुबह के वक्त ओपीडी में सिर्फ एक फिजीशियन और आर्थों सर्जन के अलावा कोई भी दिखाई नहीं देता। बाल रोग विशेषज्ञ हो या फिर चर्म रोग विशेषज्ञ सभी के कमरों में ताला लटका रहता है। बुखार के जो मरीज आते हैं उन्हें भी परेशानियों से ही दवाई मिल पाती है। एक डॉक्टर और सैकड़ों मरीज इस वजह से दोपहर दो बजे तक कुछ ही मरीजों को इलाज मिल पाता है।
अस्पताल की कहानी, मरीजों की जुबानी
हम तीन दिन से चक्कर लगा रहे हैं। एलर्जी होने पर निजी डॉक्टरों ने बताया कि जिला अस्पताल में मुफ्त इलाज मिल जाएगा, इसलिए यहां आ रहे हैं लेकिन इलाज नहीं मिल पा रहा है।
- रियासत
लोग कहते हैं सरकारी अस्पताल की दवाई अच्छी होती है इस वजह से यहां इलाज कराने आए थे। मगर, यहां तो डॉक्टर ही नहीं है अब किसको अपनी नब्ज दिखाएं। प्राइवेट अस्पताल में ही दवाई लेनी पड़ेगी।
- शिशुपाल ¨सह
जिला अस्पताल में पहले दवाई मिल जाती थी इस वजह से यहां चले आए। चार घंटे से पड़े हैं डॉक्टर ही नहीं है तो दवाई कौन देगा। डीएम से शिकायत करेंगे शायद कुछ सुधार हो जाए।
- मोहित
बाहर इलाज कराने पर मोटी रकम ऐंठी जाती है। इस वजह से सरकारी इलाज कराने के लिए चक्कर लगा रहे हैं। हमको क्या पता था कि यहां पर डॉक्टर आते ही नहीं है। कराया खर्च करके आए हैं अब इलाज कहां कराएं।
  लियाकत
सभी उच्चाधिकारियों को डॉक्टरों के गायब रहने की रिपोर्ट दे दी गई है। रोजाना यह शिकायतें मिल रही हैं कि मरीजों को समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा है। सीएमएस से कई बार कहा जा चुका है। उच्चाधिकारी जो भी निर्णय लेते हैं उस आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
  डॉ. सुनील कुमार, सीएमओ ।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | जम्मू में BSF कैंप पहुंचे अक्षय ने जवानों से कहा- 'मैं सिर्फ रील हीरो, आप हैं असली हीरो'





'बॉलिवुड के खिलाड़ी' अक्षय कुमार ने मंगलवार सीमा सुरक्षा बल (BSF) के कैंप में पहुंच कर जवानों का हौसला बढ़ाया. अक्षय ने इस मौके पर कहा कि वो तो सिर्फ रील लाइफ के हीरो हैं, रीयल लाइफ के असली हीरो आप जवान हैं.
अक्षय ने सीजफायर उल्लंघन और आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी. अक्षय ने कहा कि वो खुद को खुशकिस्मत समझते हैं कि उन्हें जवानों से मिलने का मौका मिला है. अक्षय ने कहा, 'मैं हमेशा कहता हूं कि आप जवान हैं तो हम हैं, आप हैं तो हिंदुस्तान है.' अक्षय ने कहा, मैं पूरी फिल्म इंडस्ट्री और पूरे हिंदुस्तान की ओर से आप सभी जवानों का शुक्रगुजार हूं.
अक्षय को अपने बीच पाकर जवान भी उत्साहित दिखे. अक्षय ने माइक से ही कहा कि वो जवानों के बीच जाकर सबसे हाथ मिलाना चाहते हैं.
अक्षय ने यह भी कहा कि देश में बहुत से लोग हैं जो हमारी सेनाओं की मदद करना चाहते हैं क्यों ना इसके लिए एक ऐप बनाया जाए?

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | आज मेरठ में एंट्री लेगी BJP की परिवर्तन यात्रा, मंदिर में होगी पूजा






मेरठ | भाजपा की परिवर्तन यात्रा आज मेरठ जिले में प्रवेश कर जाएगी। पुरा महादेव मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद यह परिवर्तन यात्रा मेरठ आयेगी। क्रांति धरा पर पहले दिन यह यात्रा सिवालखास और सरधना विधानसभा का दौरा कर पार्टी की नीतियों का प्रचार करेगी और सरधना में ही रात्रि विश्राम होगा।

चार दिन पहले सहारनपुर से प्रारम्भ हुई परिवर्तन यात्रा 13 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करने के बाद मंगलवार की दोपहर को मेरठ पहुंचेगी। मेरठ में परिवर्तन यात्रा के संयोजक संजय त्यागी ने बताया कि मेरठ के भाजपा नेताओं द्वारा पहले बालैनी में परिवर्तन यात्रा का स्वागत किया जाएगा। यहां से वह यात्रा को लेकर पुरा महादेव मंदिर पहुंचेंगे और पुरा महादेव मंदिर में पूजन किया जाएगा।

यहां से निकलकर यह यात्रा मेरठ जिले में सिवालखास विधानसभा के गांव कुकसिया में पहुंचेगी और वहां पर स्वागत किया जाएगा। यहां से यह कैथवाड़ी में पहुंचेगी और वहां पर जनसभा को संबोधित किया जाएगा। यहां से वह विभिन्न गांवो से होती हुई करनाल हाईवे पर भूनी चौराहे से सरधना विधानसभा में प्रवेश कर जाएगी। सरधना में रामलीला ग्राउंड में एक जनसभा को संबोधित किया जाएगा और सरधना में ही परिवर्तन यात्रा का रात्रि विश्राम होगा।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | अक्षय नवमी पर होती है आंवला पेड़ की पूजा,जानें महत्व और पूजन विधि




कार्तिक शुक्ल पक्ष की नवमी को अक्षय नवमी कहते हैं। दिवाली के लगभग 10 दिनों बाद और कार्तिक मास में होने वाली इस पूजा को आंवला नवमी भी कहते हैं। कार्तिक मास में वैसे तो स्नान का अपना ही महत्व होता है, लेकिन इस दिन स्नान करने से अक्षय प्राप्त होता है। हिंदू रीति रिवाज में इस दिन शादी-शुदा महिलाएं व्रत रखती हैं और कथा भी सुनती हैं। इस साल हिंदू पंचांग के अनुसार 9 नवंबर को ये पूजा होगी।

क्या है महत्व

इस दिन स्नान, पूजन, तर्पण तथा अन्न दान करने से हर मनोकामना पूरी होती है। अक्षय नवमी के दिन आंवले के वृक्ष की पूजा करने का नियम है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आंवले का वृक्ष भगवान विष्णु को अतिप्रिय है, क्योंकि इसमें लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए इसकी पूजा करना माना विष्णु लक्ष्मी की पूजा करना। इस दिन व्रत करने से शादीशुदा औरतों की सभी मनोकामना पूरी होती है।


आंवला के पेड़ के नीचे साफ सफाई करके पूजा करें।

क्या करना चाहिए

इस दिन गुप्त दान करना शुभ माना जाता है। आंवला के पेड़ के नीचे 10 दिनों तक भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। दीया जलाया जाता है, एक धागा बांधकर मनोकामनाएं मांगी जाती है। परिक्रमा कर रक्षा सूत्र बांधा जाता है। पंडितों का मानना है कि ये पूजा सालों से चली आ रही है। इसी पेड़ के नीचे बैठकर व्रती खाना भी खाती हैं। ये तिथि बहुत ही शुभ होती है। इसलिए इस दिन कई शुभ काम शुरू किए जाते हैं। नवमी के दिन जगद्धात्री पूजा होती है। पूरे दिन महिलाएं व्रती रहती हैं।


इस विधि से करें आंवला वृक्ष का पूजन

आंवला नवमी के दिन सुबह स्नान कर दाहिने हाथ में जल, चावल, फूल आदि लेकर निम्न प्रकार से व्रत का संकल्प करें।

नवमी के दिन आंवला वृक्ष के नीचे भोजन बनाकर खाने का विशेष महत्व है। यदि आंवला वृक्ष के नीचे भोजन बनाने में असुविधा हो तो घर में भोजन बनाकर आंवला के वृक्ष के नीचे जाकर पूजन करने के बाद भोजन करना चाहिए। भोजन में सुविधानुसार खीर, पूड़ी या मिष्ठान्न हो सकता है।

आंवले के पेड़ के नीचे साफ सफाई करें, धो लें और फिर पूजा करके नीचे बैठकर खाएं। अगर पेड़ ना मिले तो उस दिन आंवला जरूर खाएं। बहुत शुभ होता है।


आंवले का रस मिलाकर नहाएं। ऐसा करने से आपके ईर्द-गिर्द जितनी भी नेगेटिव ऊर्जा होगी वह समाप्त हो जाएगी।सकारात्मकता और पवित्रता में बढ़ौतरी होगी। फिर आंवले के पेड़ और देवी लक्ष्मी का पूजन करें। इस तरह मिलेंगे पुण्य, कटेंगे पाप।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | नए राशन कार्डों का वितरण शुरू





बदायूँ | राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के तहत बनाए गए नए  राशन कार्ड जिलाधिकारी पवन कुमार ने पात्र लाभार्थियों को बांटकर राशन कार्डों के वितरण का कार्य शुरू कर दिया है।
सोमवार को अपने शिविर कार्यालय स्थित जिलाधिकारी पवन कुमार ने स्थानीय मोहल्ला नई सराय की सुरइया  बेगम, शहबाजपुर की सलमा, हसनघेर की परवीन एवं राजवती सहित 23 अंत्योदय  एवं सात पात्र गृहस्थियों को राशन कार्ड वितरित किए। जिलाधिकारी ने सभी  तहसीलों में भी राशन कार्डां का वितरण अतिशीघ्र प्रारंभ कराने के जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए हैं। जिलापूर्ति अधिकारी रामेंद्र प्रताप सिंह ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि जनपद में 46 हजार अंत्योदय राशन कार्ड बनाए जाएंगे, जिसके सापेक्ष 40 हजार कार्ड तैयार होकर प्राप्त हो  चुके हैं। 4 लाख 12 हजार पात्र गृहस्थियों के राशन कार्ड बनाए जा चुके हैं,  जिसमें उन्हें अभी तक 60 हजार कार्ड ही प्राप्त हुए हैं। उन्होंने बताया  कि अंत्योदय कार्ड धारकों को दो रुपये प्रति किलो की दर 20 किलो गेहूं तथा तीन रुपये प्रति किलो की दर 15 किलो चावल दिया जाएगा। पात्र गृहस्थियों को  भी इसी दर पर प्रति यूनिट तीन किलो गेहूं एवं दो किलो चावल दिया जाएगा। इस  अवसर पर पूर्ति निरीक्षक तरमीम अहमद, जयवीर, संजय चौधरी जीतेंद्र कुमार  सहित खाद्य सुरक्षा अधिनियम के लाभार्थी मौजूद रहे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | नि:संकोच करें मताधिकार का इस्तेमाल




बांके बिहारी कन्या पीजी कॉलेज की छात्राओं ने सोमवार को मतदाता जागरुकता रैली निकाल कर नगर समेत आसपास इलाके में राष्ट्रीय महत्व के कार्यक्रम की अलख जगाई। गोष्ठी में उन्हें लोगों को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने में संकोच नहीं करना चाहिए।

मतदाता जागरुकता रैली के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम समन्वयक डॉ. मनवीर सिंह ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली बाइपास से होकर मेन मार्केट और स्टेशन रोड पर पहुंची। छात्राओं ने लोगों को मतदान करने की अलख जगाई साथ ही लोगों को मतदान के जरिए देश का मजबूत करने और स्वच्छ सरकार चुनवाने में अहम भूमिका निभाने पर जोर दिया।
रैली से पहले कॉलेज परिसर में गोष्ठी के दौरान मुख्य अतिथि मनवीर सिंह और डायरेक्टर डॉ. वीके शर्मा ने छात्राओं को राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी। कहा कि राष्ट्र के निर्माण में छात्र और छात्राओं की भूमिका भी अहम होती है। रैली में अजीत शंखधार, ईशा, अवनीश गुप्ता, मोहित मिश्रा, सरनाम सिंह, नवीन कुमार, आरती जैन, सारिका रानी, रूचि गुप्ता और अमित कुमार आदि का सहयोग रहा।

छात्रों ने समझा विधिक शिक्षा का महत्व
उझानी। बांके बिहारी कॉलेज ऑफ ला में सोमवार को विधिक शिक्षा की अलख जगाने के लिए गोष्ठी में कार्यवाहक प्राचार्य डॉ. वीएन शर्मा ने छात्रों को विधिक जानकारियां दीं। कहा कि विधिक शिक्षा से लोगों को न्याय के प्रति सजग किया जा सकता है। छात्रों ने नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया। वक्ताओं में नवीन कुमार, सुषमा सागर और वीरेंद्र कुमार ने अहम जानकारियां दीं।

..दिया हूं प्यार का हिम्मत से जल रहा हूं मैं







बदायूँ | शहर की संस्था स्मृति वंदन की ओर से आयोजित तीन दिवसीय स्मृति वंदन महोत्सव का समापन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन एवं मुशायरा के साथ हो गया। यूनियन क्लब में आयोजित कवि सम्मेलन में रविवार की रात काव्य, हास्य और व्यंग्य की बयार बही। कवियों के काव्यपाठ पर श्रोताओं ने खूब तालियां बजाईं। रविवार रात शुरू हुआ हुआ कवि सम्मेलन सोमवार भोर तक जारी रहा।

अध्यक्षता कर रहे डॉ. वसीम बरेलवी ने सुनाया
सहारा लेना ही पड़ता है मुझको दरिया का, मैं एक कतरा हूं तन्हा तो बह नहीं सकता।
संचालन कर रहे मशहूर व्यंग्यकार डॉ. अशोक चक्रधर ने सुनाया
शेर ने कहा बकरी मैया नमस्ते
बकरी हैरान, बोली ताअज्जुब है भला ये शेर किसी पर रहम खाने वाला है,
लगता है जंगल में चुनाव आने वाला है।
गीतकार डॉ. विष्णु सक्सेना के तरन्नुमी अंदाज को श्रोताओं ने खूब पसंद किया। उन्होंने सुनाया जमीन जल रही है फिर भी चल रहा हूं मैं, खिजा का वक्त है और फूल फल रहा हूं मैं।
हर तरफ आंधियां हैं नफरतों की मैं फिर भी, दिया हूं प्यार का हिम्मत से जल रहा हूं मैं।
एकमात्र कवियित्री अनामिका अंबर ने सुनाया
जहां पर सच, दया, सम्मान और ईमान रहता है, वहीं जाकर वो अल्लाह और वो भगवान रहता है। अगर तूने निकाला है किसी के पांव का कांटा, तो ये तय है तेरे दिल में कोई इंसान रहता है।
विशाल गाफिल ने कुछ इस तरह सियासत पर तंज कसा-
सभी के हाथ में तलवारो खंजर आ गए हैं, सियासी जंग में सारे सिकंदर आ गए हैं।
शुरू होने को ही अब हैं तमाशे बस्तियों में, मदारी लेके अपने-अपने बंदर आ गए हैं।
शायर अकील नोमानी ने फरमाया
बिछड़ने वाले किसी दिन यह देखने आजा, चराग कैसे हवा के बगैर जलता है।
ये वहम मुझको किसी रोज मार डालेगा, कि एक शख्स मेरे साथ-साथ चलता है।
डॉ. अजय अटल ने कहा
नयन में सागर है वरना आंसू नमकीन नहीं होते, कंठ में करुणा है वरना गीत गमगीन नहीं होते।
कवि कमलेश शर्मा ने सुनाया
पहले से ही देश फंसा है उल्टी सीधी चालों में, इन चालों से ही झगड़ा है, मस्जिद और शिवालों में।
आग लगाना बहुत सरल है, लेकिन मेरी चाहत है, मेरा नाम लिखा जाए बस आग बुझाने वालों में।
डॉ. सुरेश अवस्थी ने व्यवस्थाओं पर कटाक्ष करते हुए सुनाया-
जीभों पर कांटे उगे, मन में उगे बबूल, रिश्ते कोई प्यार के कैसे करे कबूल।
डा.अशोक चक्रधर के अनुरोध पर डीएम पवन ने अपनी एक गजल सुनाई। इस पर श्रोताओं की भरपूर दाद मिली। इस मौके पर एसएसपी महेंद्र यादव, सीडीओ अच्छेलाल यादव, एडीएम वीके श्रीवास्तव, अनुपम गुप्ता, हाजी नूरउद्दीन, एम सगीर, महबूब सकलैनी, भानुप्रकाश भानु, अमित यादव, चंद्रपाल सरल, सोमेंद्र यादव, वसीम अहमद अंसारी मौजूद रहे।

डॉ.अशोक और वसीम को स्मृति वंदन सम्मान
बदायूं। कवि सम्मेलन में पहले नूर ककरालवी के गजल संग्रह 'चराग पलकों पर' का विमोचन मुख्य अतिथि विधि आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति वीरेंद्र सिंह और विशिष्ट अतिथि यासीन उस्मानी ने किया। इसके साथ ही फानी शकील स्मृति वंदन सम्मान वसीम बरेलवी और डॉ. ब्रजेंद्र अवस्थी उर्मिलेश स्मृति वंदन सम्मान पद्मश्री डॉ.अशोक चक्रधर को प्रदान किया गया। शायर पुत्तन खां फहमी, डॉ.अरविंद धवल को सम्मानित किया गया। युवा साहित्यकार का पुरस्कार विशाल गाफिल को दिया गया।

शायर-कवियों ने किया सांसद का गुणगान
बदायूं। कवि सम्मेलन और मुशायरे में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किए गए सांसद धर्मेंद्र यादव के न आने के बाद भी कवि-शायरों की बातों में उनकी उपस्थिति बनी रही। लगभग सभी मंचासीन महानुभावों ने सांसद के प्रति आभार प्रदर्शित करते हुए ये समझाने की कोशिश की, वह उनके बुलावे पर आए हैं। उन्होंने (सांसद) यहां न आने के बाद भी उनकी कैफियत जानी। डॉक्टर अशोक चक्रधर, वसीम बरेलवी और विष्णु सक्सेना ने तो यहां तक कह दिया कि समाजवादी पार्टी ही साहित्यकारों को अहमियत देना जानती है। इस बात पर पत्रकार दीर्घा में बैठे खबरनवीस खुसपुसाए कि स्थानीय मीडिया से तो सांसद मोबाइल पर भी बात करने से गुरेज करते हैं और साहित्यकारों से पल-पल की जानकारी...बात कुछ समझ नहीं आई।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | रोडवेज डिपो पर मिलेगी एटीएम की सुविधा






बदायूं : रोडवेज डिपो पर आने वाले लोगों को अचानक रुपये की जरुरत होने पर बाहर नहीं भटकना पड़ेगा। डिपो परिसर में एटीएम लगने जा रहा है। सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक राजेश कुमार ने बताया कि टाटा कंपनी की ओर से एटीएम की मशीनरी आ गई है। बैंक का चयन नहीं किया गया है। चयन करके दस दिनों के भीतर एटीएम की सुविधा दी जाएगी।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | सांसद धर्मेंद्र यादव ककोड़ा मेले का विधिवत उद्घाटन करेंगे





ककोड़ा |  मेले के खुशहाली पूर्वक संपन्न होने की प्रार्थना की। 12 नवंबर को प्रदेश के पंचायती राज मंत्री रामगोविंद चौधरी तथा सांसद धर्मेंद्र यादव मेले का विधिवत उद्घाटन करेंगे।

गंगा तट पर हवन पूजन के बाद डीएम, एसएसपी ने मेला स्थल पर तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। डीएम ने बताया मेले में सरकारी विभागों की ओर से विकास प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। श्रद्धालुओं की सुविधार्थ यातायात व्यवस्था बेहतर बनाए रखने के लिए एआरटीओ तथा सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज को भी आदेश दिए। पर्याप्त संख्या में रोडवेज तथा प्राइवेट बसों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। पशुओं के इलाज के लिए अस्थायी पशु चिकित्सालय भी खोला जाएगा। स्नानघाट पर कपड़े बदलने के लिए चेंजिंग कंपार्टमेंट भी बनाए जा रहे हैं।

अप्रिय स्थिति के लिए झूला, चरख स्वामी होंगे जिम्मेदार
मेला ककोड़ा। डीएम पवन कुमार ने कहा कि मेले में लगने वाले झूले, चरख आदि को लगाने की अनुमति पंचायत विभाग की ओर से देते समय यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि झूले व चरख आदि के कारण कोई भी अप्रिय स्थिति उत्पन्न न होने पाए। अगर होती है तो संबंधित झूला या चरख स्वामी ही इसके जिम्मेदार होंगे। डीएम ने यह भी निर्देश दिए कि मेले में अश्लीलता से संबंधित कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाएंगे। गत वर्ष के सापेक्ष अधिक पुलिस बल भी लगाया जाएगा।

पीएसी, घुड़सवार पुलिस बल भी रहेगा मुस्तैद
मेला ककोड़ा। एसएसपी महेंद्र यादव ने कहा कि गत वर्ष के सापेक्ष इस मेले में अधिक पुलिस बल लगाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में कोतवाली की स्थापना के अलावा छह अस्थाई पुलिस चौकी स्थापित की जाएंगी। दो कंपनी पीएसी की तैनाती के साथ ही घुड़सवार पुलिस, 65 एसआई, 400 कांस्टेबल, 60 हेड कांस्टेबल और 400 पीआरडी के जवानों को लगाया जाएगा। आवश्यकता पड़ी तो और भी पुलिस बल लगाया जा सकता है। मेले में सीडीओ अच्छे लाल सिंह यादव, बिल्सी नगर पालिका परिषद की अध्यक्ष सुषमा मौर्य, एडीएम प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव, एसपी सिटी अनिल कुमार यादव, डीआरडीए के परियोजना निदेशक रविंद्रनाथ यादव, एसडीएम सदर जंग बहादुर यादव सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे। पांडित्य कार्य मनोज कुमार शर्मा, पंडित उमेश चंद्र शंखधार ने संपन्न कराया।

तीन दिन रहेगा रूट डायवर्ट
मेला ककोड़ा। मेले को देखते हुए जाम न लगे। इसके चलते गंजडुंडवारा की ओर से पुल पर आने वाले भारी वाहनों के लिए दो दिन तक रूट डायवर्ट रहेगा। पुल से इस पार आने वाले भारी वाहन दो दिन के लिए कछला होकर निकाले जाएंगे। इसकी जानकारी सीओ पटियाली डीएल सुधीर ने दी।

होम्योपैथी के 17 लोगों का रहेगा स्टाफ
मेला ककोड़ा। मेला में पहली बार होम्योपैथिक चिकित्सालय स्थापित किया जाएगा। इसमें चार डॉक्टर, छह फार्मासिस्ट, सात वार्ड ब्वाय की टीम मेला में नियुक्त की गई है। जो डॉ. रागिनी गुप्ता के बीएचएमओ के साथ डॉ.पीवी वैश्य, डॉ. अंबरीश, डॉ. सौरभ शंखधार के साथ रात दिन चिकित्सा सुविधा देंगे।

दमकल वाहन पहुंचे
मेला ककोड़ा। मेला के लिये दमकल वाहन पहुंच गए हैं। मेला में छह गाड़ी रहेंगी। इनमें दो कोतवाली दो-दो मेला के पूर्व और पश्चिम में रहेगी।

उद्घाटन करने हेलीकॉप्टर से आएंगे मंत्री
मेला ककोड़ा। 12 नवंबर को उद्घाटन करने पहुंच रहे पंचायती राज मंत्री रामगोविंद चौधरी हेलीकॉप्टर से पहुंचेंगे। इसके लिए हेलीपैड बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। पीडब्ल्यूडी विभाग की ओर से हेलीपैड के लिए स्थान को भी देखा गया। उनकी ओर से निर्माण कराया जाएगा। साथ में सांसद धर्मेंद्र यादव भी होंगे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | ध्वज स्थापना, गंगा पूजन के साथ मिनी कुंभ शुरू





 ककोड़ा  | पतित पावनी गंगा तट पर लगने वाले रूहेलखंड के विख्यात मिनी कुंभ मेला ककोड़ा की सोमवार से औपचारिक शुरूआत हो गई। सिद्धपीठ मां ककोड़ा देवी मंदिर से पूजा अर्चना करने के बाद ध्वज को मेला स्थल पर ले जाया गया। डीएम पवन कुमार, एसएसपी महेंद्र यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष मधु चंद्रा समेत जिला स्तरीय अधिकारियों ने पूजन अर्चना के साथ ही गंगा में दुग्ध अर्पण कर झंडी को स्थापित किया। मेले के खुशहाली पूर्वक संपन्न होने की प्रार्थना की। 12 नवंबर को प्रदेश के पंचायती राज मंत्री रामगोविंद चौधरी तथा सांसद धर्मेंद्र यादव मेले का विधिवत उद्घाटन करेंगे।

गंगा तट पर हवन पूजन के बाद डीएम, एसएसपी ने मेला स्थल पर तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। डीएम ने बताया मेले में सरकारी विभागों की ओर से विकास प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। श्रद्धालुओं की सुविधार्थ यातायात व्यवस्था बेहतर बनाए रखने के लिए एआरटीओ तथा सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज को भी आदेश दिए। पर्याप्त संख्या में रोडवेज तथा प्राइवेट बसों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। पशुओं के इलाज के लिए अस्थायी पशु चिकित्सालय भी खोला जाएगा। स्नानघाट पर कपड़े बदलने के लिए चेंजिंग कंपार्टमेंट भी बनाए जा रहे हैं।

अप्रिय स्थिति के लिए झूला, चरख स्वामी होंगे जिम्मेदार
मेला ककोड़ा। डीएम पवन कुमार ने कहा कि मेले में लगने वाले झूले, चरख आदि को लगाने की अनुमति पंचायत विभाग की ओर से देते समय यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि झूले व चरख आदि के कारण कोई भी अप्रिय स्थिति उत्पन्न न होने पाए। अगर होती है तो संबंधित झूला या चरख स्वामी ही इसके जिम्मेदार होंगे। डीएम ने यह भी निर्देश दिए कि मेले में अश्लीलता से संबंधित कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाएंगे। गत वर्ष के सापेक्ष अधिक पुलिस बल भी लगाया जाएगा।

पीएसी, घुड़सवार पुलिस बल भी रहेगा मुस्तैद
मेला ककोड़ा। एसएसपी महेंद्र यादव ने कहा कि गत वर्ष के सापेक्ष इस मेले में अधिक पुलिस बल लगाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में कोतवाली की स्थापना के अलावा छह अस्थाई पुलिस चौकी स्थापित की जाएंगी। दो कंपनी पीएसी की तैनाती के साथ ही घुड़सवार पुलिस, 65 एसआई, 400 कांस्टेबल, 60 हेड कांस्टेबल और 400 पीआरडी के जवानों को लगाया जाएगा। आवश्यकता पड़ी तो और भी पुलिस बल लगाया जा सकता है। मेले में सीडीओ अच्छे लाल सिंह यादव, बिल्सी नगर पालिका परिषद की अध्यक्ष सुषमा मौर्य, एडीएम प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव, एसपी सिटी अनिल कुमार यादव, डीआरडीए के परियोजना निदेशक रविंद्रनाथ यादव, एसडीएम सदर जंग बहादुर यादव सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे। पांडित्य कार्य मनोज कुमार शर्मा, पंडित उमेश चंद्र शंखधार ने संपन्न कराया।

तीन दिन रहेगा रूट डायवर्ट
मेला ककोड़ा। मेले को देखते हुए जाम न लगे। इसके चलते गंजडुंडवारा की ओर से पुल पर आने वाले भारी वाहनों के लिए दो दिन तक रूट डायवर्ट रहेगा। पुल से इस पार आने वाले भारी वाहन दो दिन के लिए कछला होकर निकाले जाएंगे। इसकी जानकारी सीओ पटियाली डीएल सुधीर ने दी।

होम्योपैथी के 17 लोगों का रहेगा स्टाफ
मेला ककोड़ा। मेला में पहली बार होम्योपैथिक चिकित्सालय स्थापित किया जाएगा। इसमें चार डॉक्टर, छह फार्मासिस्ट, सात वार्ड ब्वाय की टीम मेला में नियुक्त की गई है। जो डॉ. रागिनी गुप्ता के बीएचएमओ के साथ डॉ.पीवी वैश्य, डॉ. अंबरीश, डॉ. सौरभ शंखधार के साथ रात दिन चिकित्सा सुविधा देंगे।

दमकल वाहन पहुंचे
मेला ककोड़ा। मेला के लिये दमकल वाहन पहुंच गए हैं। मेला में छह गाड़ी रहेंगी। इनमें दो कोतवाली दो-दो मेला के पूर्व और पश्चिम में रहेगी।

उद्घाटन करने हेलीकॉप्टर से आएंगे मंत्री
मेला ककोड़ा। 12 नवंबर को उद्घाटन करने पहुंच रहे पंचायती राज मंत्री रामगोविंद चौधरी हेलीकॉप्टर से पहुंचेंगे। इसके लिए हेलीपैड बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। पीडब्ल्यूडी विभाग की ओर से हेलीपैड के लिए स्थान को भी देखा गया। उनकी ओर से निर्माण कराया जाएगा। साथ में सांसद धर्मेंद्र यादव भी होंगे।

बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार | नलकूप पर गई किशोरी से दुष्कर्म






बदायूँ | सिविल लाइंस थाने के एक गांव में नलकूप पर गई किशोरी को गांव के ही चोब सिंह नाम के युवक ने पकड़कर दुष्कर्म किया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को मेडिकल के लिए भेजा है। आरोपी अभी पुलिस के हाथ नहीं लगा है। घटना शनिवार दोपहर की है, लेकिन मामले में रिपोर्ट रविवार रात दर्ज हो सकी।

शहर से सटे सिविल लाइंस थाने के एक गांव की 16 वर्षीय किशोरी शनिवार दोपहर नलकूप पर गई थी। वहां कोई और नहीं था। आरोप है कि गांव के ही चोब सिंह नाम के युवक ने किशोरी को अकेला देखकर दबोच लिया। उसे नलकूप की कोठरी में ले गया। वहां उससे दुष्कर्म किया। बाद में धमकी देकर भाग गया। किशोरी ने शाम को अपने घरवालों को घटना की जानकारी दी। आरोपी और पीड़िता एक ही बिरादरी के होने की वजह से पहले तो मामले में समझौते का प्रयास किया गया। जब बात नहीं बनी तो पीड़िता का पिता उसको लेकर रविवार शाम सिविल लाइंस थाने पहुंचा। तहरीर के आधार पर पुलिस ने मामले में नामजद रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पीड़िता को मेडिकल के लिए भेज दिया है। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस रामगोपाल शर्मा ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। आरोपी की तलाश की जा रही है।

जोर जबरदस्ती की हुई पुष्टि
बदायूं। दुष्कर्म के इस मामले में घटनास्थल और मेडिकल रिपोर्ट काफी कुछ हकीकत बयां कर रही है। सिविल लाइंस थाने के एसआई अशोक कालियान ने घटनास्थल का मौका मुआयना किया। आरोपी भले एक है, लेकिन घटनास्थल को देखकर लग रहा था कि किशोरी के साथ दरिंदगी हुई है। वहीं किशोरी की प्राइमरी मेडिकल रिपोर्ट भी इस बात की तस्दीक कर रही है कि उसके साथ जोर जबरदस्ती हुई है। हालांकि, अभी स्लाइड और सप्लीमेंट्री रिपोर्ट का आना बाकी है।

तहरीर के आधार पर मामले में रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को मेडिकल के लिए भेजा गया है। मेहिकल रिपोर्ट आने के बाद ही उम्र के बारे में सही पता लग सकेगा। आरोपी की गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही है।
-एके पांडेय, सीओ सिटी

आज का भविष्य 08/11/2016



मेष राशि
स्वामी – मंगल
अराध्य देव – श्री गणेशजी
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – अ, ल, इ
शुभ रत्न – मूंगा
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी
मेष राशि के जातक जन्म से ही नेतृत्व में निपुण होते है. प्रायः ऊर्जा और अति- उत्साह से सभर रहते है. हालाँकि स्वच्छ प्रकृति के मगर अधिक आत्म केंद्रित रहते है. किसी भी कार्य को योजनापूर्वक करने में माहिर हैं. संघर्ष से उचित पद, इज्जत और नाम कमाते है. किसी को अपने पक्ष में खींचने में निपुण है. जो लोग आपके अनुसार कार्य नहीं करते उनके प्रति आपकी धारणा नकारात्मक रहती है. किन्तु मेष राशि के जातक जिन पर प्रसन्न हो जाते हैं उन पर जान भी न्योछावर कर देते हैं.

वृषभ राशि
स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुलस्वामिनी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ब, व और ऊ
शुभ रत्न – हीरा
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
वृषभ राशि के जातकों का स्वभाव गंभीर, स्थिर और व्यव्हार कुशल रहताहै. सौंदर्य से प्रेम करने वाले और शिष्टप्रिय होते है. पुराने विचारों में मानते है. धन और नाम हासिल करते हैं. अपने पुराने विचारों की वजह से लोगों से उंच नीच रहती है. प्रभावपूर्ण वाणी आपकी विेषेषता है. सफलता प्राप्त करने के बाद भी लोगों को साथ में रख कर चलना आपकी आदत है. आप भावुक और ह्रदय से सच्चे है. तत्काल लाभ की अभिलाष रखते हैं मगर उपेक्षा के पात्र बनते है.

मिथुन राशि
स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – हवा
नाम के पहले अक्षर – क, छ, घ
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
मिथुन राशि के जातकों में दुसरो की प्रकृति तथा व्यवहार को तीव्रता से समझ लेते हैं. मिलनसार स्वभाव की वजह से बहुत मित्र होते हैं. किसी भी कठिन बात को बुद्धिपूर्वक आसानी से बोल लेते हैं. आकर्षक और मनोरंजक व्यक्तित्व इनकी विशेषता हैं.

किन्तु अंद्रोनी तौर पर शुभ आचार विचार वाले और एकाग्र होते हैं. किन्तु बुरी सांगत को ले कर अपनी प्रतिभा को नुक्सान करते हैं. साथ ही कुछ मित्रों की संगत से मदद भी मिलती हैं. मिथुन राशि के जातक अधिकतम उदार दिल, बलशाली, चतुर तथा भोग विलास में रस रखनेवाले होते हैं.

कर्क राशि
स्वामी – चन्द्रमा
अIराध्य देव – शंकर भगवान
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – ड, ह
शुभ रत्न – मोती
शुभ रुद्राक्ष – दो मुखी रुद्राक्ष
इस राशि के लोग सौन्दर्यवान और घर परिवार से अत्यधिक मोह रखने वाले होते हैं. भावनात्मक रूप से अपने आप को सुरक्षित रहना चाहते है. इसी वजह से अपनी भावनाओं को सही मायने में प्रस्तुत करने से डरते है.

यह राशि वाले रिश्तों और परिवार में रचे रहते हैं. प्रकृति से लोगों को सुरक्षा देने वाले और अन्य लोगो को पालन पोषण देते हैं. जज्जबाती और देशभक्त तथा मातृभक्त रहते हैं. इनकी प्रकृति लोगों की समझ में जल्द नहीं आती. ऊपर से भावनाहीन मगर अंदर से मोम जैसा व्यक्तित्व और प्रेमी स्वभाव रहता हैं.

सिंह राशि
स्वामी – सूर्य
अIराध्य देव – सूर्य भगवान
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – म, ट
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – एक मुखी रुद्राक्ष
सिंह राशि के जातक किसी के सामने झुकना पसंद नहीं करते. स्वभाव से उत्साही, निर्भयी, क्रोधी, वीर, स्वतन्त्र और कठिन परिस्थितियों में भी विचलित न होने वाले व्यक्ति होते हैं. सन्तोषपूर्ण होने के कारन आर्थिक उन्नति नहीं कर पाते. अकेले रहना अधिक पसंद करते हैं जिसकी वजह से जीवन में कठिनाइयां रहती है. सिंह राशि के जातक अधिकतम अपने शोख़ को अपना पेश बनाते हैं. ह्रदय से आप दूसरों का भला हमेशा चाहते हैं मगर आपका अहंकार आपको दुसरो से जोड़ने में रुकावटें पैदा करता हैं. जन्म से ही आप संचालन और नेतृत्व की शक्तियां रखते हैं.

कन्या राशि
स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – प, ठ, ण
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
कन्या राशि के जातक स्वभाव से अधिक दृढ़ निश्चयी और कुछ अंश तक जिद्दी भी होते हों. एक बार जो सोच लेते है उसे पूरा कर के ही दम लेते हैं. सञ्चालन में कुशल, कलाओं में निपुण और धनी रहते हैं. वाणी में मधुरता, बुद्धिमता, विचारशीलता और व्यवहारिकता इनकी खासियतें हैं. स्वच्छता के अति आग्रही और हर कार्य को व्यवस्थापूर्ण करना चाहते हैं. मेहनती और सफलता को तीव्रता से पाने वाले व्यक्ति हैं. किन्तु सांसारिक जीवन में भाग्यशाली नहीं होते. ह्रदय से रोमांटिक रहते हैं किन्तु भावनाओं को प्रदर्शित करने में विश्वास नहीं रखते. इसकी वजह से प्रेम सम्बन्धो और वैवाहिक सम्बन्धो में सफलता नहीं मिलते.

तुला राशि
स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुल स्वामिनी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – र, त
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
तुला राशि के जातक जन्मजात कुशल राजनीतिज्ञ, विचारशील और चतुर होते हैं. स्वभाव संतुलित रहता है और हर वस्तु को सम्पूर्ण समीक्षा और परिक्षण के बाद समझते हैं. आज्ञा के पालक रहते हैं. सौंदर्य और सुघड़ता को बहुत पसंद करते हैं. दूरदर्शिता से भरपूर आपका स्वभाव कार्य क्षेत्र में अच्छी तरक्की करवाता हैं.

वाणी और स्वभाव आनंदित रहने की वजह से लोगों में प्रिय बने रहते हैं. सभी राशियों में अत्यधिक आकर्षण पैदा करने वाला व्यक्तित्व रखते हैं. किन्तु कुछ परिस्थितियों में अत्यधिक हताश हो जाते हैं. निर्णय लेने से पहले आयाम और अंजाम के विषय में अत्यधिक सोचते हैं.

वृश्चिक राशि
स्वामी – मंगल
अIराध्य देव – गणेशजी
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – न, य
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी रुद्राक्ष
वृश्चिक राशि के जातक तीक्ष्ण बुद्धि के मालिक होते है. बोले हुए वचन को दृढ़ता से पालनेवाले, थोड़े घमंडी, किसी भी विषय का बारीकी से निरिक्षण करने में निपुण और महत्वकांशी रहते हैं. धार्मिक विचार रखते हैं और हर कार्य को कुशलतापूर्वक करते हैं. अन्य लोगो के स्वभाव, शक्तियों और कमजोरियों को तीव्रता से समझने का गुण रखते हैं. मित्र बनाने के शौकीन और प्रशंसा पाने के अभिलाषी रहते हैं. इनकी दोस्ती जितनी लाभदायी रहती है उतनी ही इनकी दुश्मनी कष्टदायक रहती हैं. मन में जो विचार है उसे प्रस्तुत करने में हिचकिचाते नहीं. स्वभाव से ईर्ष्यालु भी रहते हैं.

धनु राशि
स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – भ, ध, फ, ढ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
धनु राशि के लोग शांतिप्रिय, स्पष्टवक्ता, सत्य के आग्रही, मिलनसार, निडर, वफादार और जिज्ञासु रहते हैं. सत्य और ज्ञान की खोज आपकी प्रकृति है. नेतृत्व का कौशल रखते हैं. मौज शौख के शौकीन होते है और जहाँ जाते हैं लोगों के आकर्षण का केंद्र बनते हैं. अपने कौशल्य और स्वभाव से इन्हे दूसरों पर अधिकार जाताना काफी अच्छा लगता है. शौकीन और दूसरों का ख्याल रखने की प्रकृति निजी सम्बन्धो में सफलता दिलाती है. ह्रदय से बहुत दयालु और मदद करने की भावना रखते हैं.

मकर राशि
स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ख, ज
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
मकर राशि वाले धनि और सुन्दर होते हैं. कार्य को अपना जीवन मानते हैं और कार्यस्थल पर समय व्यतीत करना अधिक पसंद करते हैं. मौज शौख में काम रूचि रहती है. इस राशि के लोग दोहरे विचार रखते हैं. अपने लक्ष्य के प्रति सम्पूर्ण सम्भान और प्रयत्नशील रहते हैं. रहस्यों और आध्यात्मिक बातों में रूचि रखते हैं. कार्यों को स्वयं पूरा करने में विश्वास रखते हैं. दूसरों का हस्तक्षेप पसंद नहीं करते. ऊँचे विचार वाले और धन कमाने का अच्छा सामर्थ्य रखते हैं. उपकारों को कभी भूलते नहीं.

कुम्भ राशि
स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – ग, स, श, ष
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
कुम्भ राशि के लोग अधिकतर परोपकारी और प्रेमी स्वभाव के होते है. किसी पर जल्दी मोहित हो जाते है. परोपकारी होने पर भी किसी के विरुद्ध षड़यंत्र रच सकते है. ह्रदय की बातों को छुपाने में माहिर होते है. कला, संगीत, शिल्प और साहित्य में रूचि रखने वाले हैं. भावनाओं और बातों को गुप्त रखने की वजह से मानसिक और शारीरिक रूप से कष्ट उठाते है. सौंदर्य के पुजारी होते है और आगे बढ़ने की इच्छा हमेशा रखते हैं. जो भी कार्य करते है उसे पुरे दिल से संपन्न करते हैं. किन्तु तीव्र क्रोध आपका सबसे बड़ा अवगुण है.

मीन राशि
स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – द, च, थ, झ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
मीन राशि के लोग अत्यंत शांत, सौम्य, करुणामय स्वभाव के और आकर्षक व्यक्तित्य के मालिक हैं. अपनी हर गलती पर माफ़ी मांग लेते हैं. अध्यात्म और ईश्वर भक्ति में लीन रहते हैं. गंभीर और दोहरे स्वभाव के बावजूद भी आपके विचार हमेशा सरल और अच्छे रहते हैं. दूसरों के बारे में इतना अधिक सोचते हैं की दुसरो के दर्द को स्वयं बर्दाश्त कर लेते है. अन्य के लिए अपने खुशियों को त्यागना पसंद करते हैं. गलत और सही के बीच में निर्णय लेने में हमेशा मानसिक रूप से त्रस्त रहते हैं. किन्तु सहानुभूति, बेफिक्र और उदार स्वभाव की वजह से लोगों में प्रिय रहते हैं.

zhakkas

zhakkas