: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/15/16

नमक या आटा मिले महंगा तो इस नंबर पर करें शिकायत




नोएडा। नोटबंदी के बाद नमक महंंगा होने की अफवाह के फैलते ही किराना बाजार में दुकानदारों ने स्टॉक भर लिया है। इनमें से कुछ अब भी नमक को कर्इ गुना मंहगे दाम पर बेच रहे हैंं। एेसे दुकानदारों को सबक सिखाने आैर पब्लिक को राहत दिलाने के लिए खुद डीजीपी ने अपने नंबर के साथ ही एक हेल्पलाइन नंबर आैर र्इमेल आर्इडी साझा की है। उन्होंने पब्लिक से आग्रह किया है की अगर कोर्इ भी दुकानदार तय सामान की कीमत से अधिक रुपये वसूलता है तो आप इस नंबर पर जानकारी दे सकते हैं, जिससे आरोपी दुकानदार पर तुरंत कार्रवार्इ की जा सके।कहीं कालेधन की पूर्ति के लिए तो नहीं उड़ार्इ जा रही अफवाहपांच सौ व एक हजार रुपए के नोट की बंदी से किराना बाजार पर भी खासा असर पड़ा है। थोक भाव में किराना सामान स्टोर चलाने वाले कर्इ दुकानदार अपने नोटों को नहीं दिखा पा रहे हैंं। यह कहना गलत नहीं होगा की अपने इसी कालेधन को ठिकाने लगाने के लिए कुछ दुकानदार नमक आैर चीनी जैसी जरूरी सामग्रियों के महंंगे होने की अफवाह उड़ा रहे हैंं।तय कीमत से ज्यादा सामान मिलने पर डीजीपी को देंं सूचनाडीजीपी ने यूपी में हो रही सामान के कालाबजारी आैर महंंगे होने की अफवाहों पर विराम लगाने के लिए हेल्पलाइन नंबर 0522-220604 जारी किया है। उन्होंने आम जन की मदद के लिए एेसा किया है। साथ ही सभी से आग्रह किया है कि किसी भी बाजार में तय कीमत से अधिक में सामान मिलने पर आप इन नंबर पर सूचना दें। इससे पुलिस मौके पर पहुंचकर आरोपी दुकानदार के खिलाफ कार्रवार्इ करेगी। बता दें कि हाल ही में बाजारों से नमक के समाप्त होने की अफवाह उड़ी थी, जिसके बाद शहर के बाजारों में 400 रूपए किलो तक नमक बिक गया। हालांकि, इसके तुरंत बाद प्रशासनिक स्तर कदम उठाते हुए लोगों के लिए एडवाइजरी जारी की गई। इसमें नमक की स्थिति को स्पष्ट किया गया। इसके बाद भी शहरों के कुछ दुकानदारों ने नमक के स्टॉक को जमा कर लिया है। वह अपना रुपया वसूल करने के लिए ग्राहक के नमक मांगने पर उसे देने से इंनकार कर रहे है।इन नंबरो आैर मेल आर्इडी पर दे सकते हैं शिकायत
इसी कालाबजारी को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन सर्तक है। ऐसे में यदि कोई भी दुकानदार महंगा नमक बेचता है तो उसकी शिकायत आप सीधे डीजीपी से 9454400101 व 0522-220604 फोन पर कर सकते है। इसके अलावा dignic.in पर मेल कर शिकायत दे सकते हैंं।

अब नोट बदलवाने पर लगेगी उंगली पर स्याही, जानिए 11 नई बड़ी बातें






पुराने नोट बदलने और एटीएम से पैसे निकालने में आ रही दिक्कतों के बीच सरकार ने भरोसा दिलाया है कि देश में नकदी की कोई कमी नहीं है.

संबंधित खबरें

4.3 करोड़ में खरीदा था PM मोदी का सूट, जमा कराए 6 हजार करोड़ के नोट
नोटबंदी पर बोले अखिलेश- मंदी के दौर में अर्थव्यवस्था को बचाता है काला धन
नेपाल को झटका, नोट बदलने से RBI का इनकार
आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने मंगलवार को प्रेस ब्रीफिंग कर बताया कि नोटबंदी के बाद बार-बार बैंक में पैसा बदलवाने के लिए पहुंच रहे लोगों के खिलाफ अब सरकार ने कार्रवाई करने का फैसला किया है.

उन्होंने बताया कि बार-बार पैसे बदलने आ रहे लोगों की अब पहचान की जाएगी. इसके अलावा काला धन जमा कराने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

 बड़ी बातें:-

बार-बार नोट बदलने वालों पर कार्रवाई होगी. ऐसे लोगों की वजह से लंबी कतारें लग रही हैं.
कैश लेने वालों की उंगली पर मतदान की तरह निशान लगेगा. आज से बड़े शहरों में स्याही वाली व्यवस्था शुरू हो रही है.
जन-धन खाते में किसी और का पैसा न डालें. ऐसे खाते पर सरकार पैनी नजर रख रही है. इनमें काला धन आने पर कार्रवाई होगी.
जन-धन खाते में जमा की जाने वाली राशि की सीमा तय की गई. अब केवल 50 हजार ही जमा होंगे. वैध पैसा जमा करने वालों को कोई असुविधा नहीं होगी.
नया नोट थोड़ा रंग छोड़ सकता है. नया नोट अगर रंग नहीं छोड़ रहा है तो जाली नोट का संकेत है.
देश में नमक की कोई कमी नहीं. सोशल मीडिया पर गलत तस्वीरें डाली जा रही हैं. लोग अफवाहों पर ध्यान ना दें.
कर्मचारियों की हड़ताल की बात झूठी.
सरकारी अस्पताल पुराने नोट लेंगे.
शादी में शगुन के लिए चेक का इस्तेमाल करें.
धार्मिक स्थानों से अपील है कि वो चढ़ावे के तौर पर चढ़ने वाले छोटे नोटों को तत्काल बैंकों में जमा कराएं ताकि करेंसी की मात्रा बढ़े.
देश में नकदी की कोई कमी नहीं. ब्रांच पोस्ट ऑफिसों और जिला सहकारी बैंकों में नकदी की उपलब्धता भी बढ़ाई गई है.

कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा तट पर आस्था का सैलाब





पतित पावनी गंगा के पावन तट पर धर्म और संस्कृति का अनूठा संगम देखने को मिला। सोमवार को कार्तिक पूर्णिमा पर उमड़े लाखों श्रद्धालुओं ने मोक्षदायिनी में डुबकी लगाई। अर्घ्य देकर कुशलता की प्रार्थना की। ब्रह्म मुहूर्त से शुरू हुआ स्नान संध्या तक चलता रहा। धरम-करम के साथ बच्चों ने गंगा घाट पर मस्ती भी की। शाम ढले रंग-बिरंगी रोशनी से नहाए मेले की भव्यता देखते ही बनी।

सोमवार प्रात: ही स्नानार्थियों ने डुबकी लगाना आरंभ कर दिया। गंगा मैया को धोती पहनावा के साथ जोत बजाने जैसे धार्मिक आयोजन हुए। संतों ने हवन, यज्ञ किया। भजन, कीर्तन हुए। सहभोज, भंडारे हुए। पहले से तमाम श्रद्धालु कल्पवास कर रहे हैं। जो स्नानार्थी पहुंचे, उनमें से भी अधिकांश रुक गए। द्वितीया से वापसी होना शुरू हो जाएगी। हालांकि मिनी कुंभ में इस बार पिछली बार की अपेक्षा श्रद्धालुओं की भीड़ अधिक जुटी। प्रशासनिक रिपोर्ट के अनुसार इस बार करीब तीन लाख से अधिक गंगा भक्त पहुंचे। जबकि पिछली बार पंचायत चुनाव होने के कारण यह संख्या करीब कम रही थी।

ककोड़ा मेला में आगजनी से हड़कंप
मेला ककोड़ा। मेला ककोड़ा में तीन जगह आग लग गई। बड़ा हादसा होने से टल गया।
गंगा किनारे लगे देवराह बाबा गौ रक्षा आश्रम (तंबुओं) में अचानक आग लग गई। जैसे ही आग लगी वैसे ही लोगों ने पानी से आग पर काबू पा लिया। तंबू का ऊपर का हिस्सा और एक शौचालय भी आग के हवाले हो गया। आग लगने के दौरान ही पुलिस और गायत्री परिवार के लोग पहुंच गए जैसे-तैसे आग पर काबू पाया। आग बुझने के बाद फायर सर्विस स्टेशन की गाड़ी पहुंची। इधर विधायक आशुतोष मौर्य के टेंट के पास एक टेंट में आग लगने से हड़कंप मच गया। आस पास के लोगों ने पानी डालकर आग बुझाई। एक बड़ा हादसा होने से टल गया। वहीं रोहली गांव के गुरुदत्त के कैंप में भी आग लग गई। जिसपर काबू पा लिया गया। यहां भी फायर सर्विस स्टेशन की गाड़ी पहुंची।

zhakkas

zhakkas