: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/24/16

बदायूं पहुंची डायल 100 की 70 गाड़ियां





बदायूं : फास्ट पुलि¨सग के लिए चलाई जा रही डायल 100 योजना के तहत सभी 70 गाड़ियां बदायूं पुलिस को मिल गई हैं। लखनऊ से आए सभी वाहन पुलिस लाइंस में खड़े किए गए हैं। पुलिस अधिकारी शुभारंभ की रणनीति तैयार कर रहे हैं।
मौके पर ही अपराधियों को दबोचने के लिए शुरू की गई पुलिस विभाग की डायल 100 योजना के तहत बदायूं पुलिस को 70 गाड़ियां मिली हैं। यह गाड़ियां पहले दस नवंबर को मिलनी थीं लेकिन किसी वजह से वह तय तारीख में नहीं आ पाईं। मंगलवार देर रात तक लखनऊ से पहुंचीं सभी गाड़ियों को पुलिस लाइंस ग्राउंड में खड़ी कराई गईं। पुलिस अधिकारियों ने गाड़ियां आने के बाद उनका मुआयना किया। इस दौरान शुभारंभ के लिए अभी कोई तारीख मुकर्रर नहीं की गई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि एक दिसंबर के आसपास शुभारंभ किया जा सकेगा। इस सेवा के शुरू होने के बाद पुलिस को जहां रफ्तार मिलेगी वहीं फरियादी को मौके पर ही इंसाफ मिल सकेगा।

अलग-अलग सड़क हादसों में तीन लोगों की मौत




 मंगलवार रात हुए दो सड़क हादसों में तीन लोगों की जान चली गई। सड़क हादसे इस्लामनगर में चंदौसी रोड पर और बिल्सी में बदायूं रोड पर हुए। दोनों घटनाओं में अज्ञात वाहनों ने बाइकों को रौंदा। तीनों शव का पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया है।
बिल्सी और इस्लामनगर में मंगलवार सड़क हादसे
दोनों जगह बाइक को अज्ञात वाहन ने रौंदा
इस्लामनगर। चंदौसी रोड पर धीमरपुरा मोड़ के पास बाइक को अज्ञात वाहन ने रौंद दिया। हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। फैजगंज बेहटा थाना क्षेत्र के गांव ओरछी निवासी नेमपाल (24) पुत्र प्रेम सिंह और विजेंद्र (20) पुत्र सतेंद्र मंगलवार को इस्लामनगर आए थे। रात को दोनों प्लेटिना बाइक से वापस लौट रहे थे। रास्ते में चंदौसी रोड पर धीमरपुरा मोड़ के पास इनकी बाइक को अज्ञात वाहन ने रौंद दिया। हादसे में दोनों की मौके पर मौत हो गई। वाहन चालक मय वाहन के भाग गया। खबर मिलने पर पहुंची पुलिस ने दोनों शव की शिनाख्त के बाद परिवार वालों को सूचना दी। बुधवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिवार वालों के सुपुर्द कर दिए गए। अज्ञात वाहन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।
सिलहरी। बिल्सी रोड पर गांव बदरपुर के पास मंगलवार रात अज्ञात वाहन ने बाइक को टक्कर मार दी। हादसे में अजीत नाम के युवक की मौत हो गई। बिल्सी थाने के गांव खेड़ा शहजादनगर निवासी अजीत (35) पुत्र महेंद्र कुमार मंगलवार को बदायूं आया था। यहां से वापस लौट रहा था। रास्ते में बदरपुर के पास अजीत की बाइक को अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। हादसे में अजीत की मौके पर मौत हो गई। मामले में अज्ञात वाहन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। 

कहां गए रोडवेज बसों की आय के 90 लाख छुट्टे रुपये?



 नोट बंदी से लेकर 21 नवंबर तक परिवहन विभाग के पास आए करीब 90 लाख रुपये के छोटे नोट आखिर कहां चले गए। इस बारे में रोडवेज के अधिकारी कर्मचारी बता नहीं पा रहे हैं। नोटबंदी से 12 दिन तक आए करीब 1.84 करोड़ रुपये में आधे के करीब छोटे नोट शामिल थे, जिन्हें विभागीय कर्मचारियों और अधिकारियों ने पुराने नोट से बदलकर जमा कर दिया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर को हजार और पांच सौ रुपये बंद करने के साथ यात्रा में इन रुपयो को चालू रखने के लिए निर्देश थे, जिससे कि लोगों को आने-जाने में कोई दिक्कत न हो, लेकिन इसका फायदा यात्रियों को न के बराबर मिला। हां, इतना जरूर हुआ कि रोडवेज में कार्यरत चालकों, परिचालकों और विभागीय अधिकारियों के पांच सौ और हजार के नोट वाले लाखों रुपये सौ और 50 के नोट में बदल गए। इससे उनका लाखों का काला धन सफेद हो गया। इसकी पुष्टि इस बात से हो जाती है कि नौ से 21 नवंबर तक रोडवेज को आय के रूप में एक करोड़ 84 लाख रुपये जमा हुए थे, जिसमें चंद लाख को छोड़ दें तो अधिकांश रुपये हजार और पांच सौ के नोट ही जमा किए गए, जबकि इसके दूसरे पहलू पर जाएं तो अधिकांश परिचालकों ने यात्रियों से हजार और पांच सौ रुपये के नोट लेने से साफ मना कर दिया था। हां, इतना जरूर हुआ था कि पांच सौ के नोट में पूरे रुपये से टिकट लेने पर जरूर लेते थे। ऐसे यात्रियों की संख्या बस में बीस से तीस फीसदी के बीच और आय का करीब 40 से 50 फीसदी होती थी, लेकिन रोडवेज के परिचालकों ने आय के रूप में केवल हजार और पांच सौ रुपये के नोट ही जमा किए। अब सवाल यह उठता है कि परिवहन विभाग के पास जो 90 लाख रुपये के करीब 100 और 50 रुपये के नोट आए, आखिर उनका क्या हुआ।
------
रोडवेज परिचालकों ने हजार और पांच सौ रुपये के नोट ही जमा किए हैं। यदि परिचालक के पास कुछ खुले रुपये बचे भी होते हैं, तो वह अगले दिन रुपये एक्सचेंज करने के लिए बचाकर रख लेता है। केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुक्रम में रोडवेज परिचालक तो यात्रियों को टिकट के लिए मना भी नहीं कर सकता है।
राजेश कुमार, एआरएम



रोडवेज के अधिकारी बदलते थे रुपये
बदायूं। बदायूं से दिल्ली, फर्रुखाबाद, बरेली, चंदौसी, मुरादाबाद आदि रूटों पर चलने वाली बसों से जो छोटे नोट आते थे, उन्हें परिवहन विभाग के अधिकारी बदल लेते थे। कुछ परिचालक से मिली जानकारी के मुताबिक विभागीय अधिकारी उन लोगों से शहर में प्रवेश से पहले ही नोट बदल लेते थे और कार्रवाई के डर से वे लोग इसका विरोध भी नहीं कर सकते हैं। वहीं, जो रुपये बचते थे, उनमें से कुछ छोटे रुपये के नोट कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी बदल लेते थे। इससे छोटे नोटों का बंदरबांट करके उनके बदले कैश में पांच सौ और हजार के नोट दे दिए जाते थे।

पीएम मोदी की गैरमौजूदगी पर बिफरा सदन, राज्यसभा कल तक के लिए स्‍थगित




नोटबंदी को लेकर राज्यसभा में आज बहस शुरू हुई। विपक्ष की लंबे समय से चल रही मांग के बाद पीएम मोदी आज राज्यसभा पहुंचे। उनके पहुंचने के बाद नोटबंदी पर बहस शुरू हुई। विपक्ष की तरफ से इस बहस की शुरुआत पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने की।

विपक्ष की तरफ से सदन के नेता प्रतिपक्ष गुलाब नबी आजाद और मायावती ने मांग की थी कि लंच के बाद भी मोदी की इस बहस में भागीदारी करें। लेकिन जब लंच के बाद मोदी यहां नहीं पहुंचे तो सभी विपक्षी पार्टियों ने एकमत से इस बात का विरोध किया।

इस पर सरकार की तरफ से पक्ष रखते हुए वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पीएम लगातार बहस में नहीं बैठ सकते। यह कोई नियम नहीं। उनके इस बयान के बाद हंगामा होना शुरू हो गया और सदन की कार्यवाही तीन बजे तक स्थिगित कर दी गई।

नोटबंदी पर विपक्षी दलों के हंगामे के बीच संसद की कार्यवाही शुरू हुई लेकिन हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। विपक्ष नियम 56 के तहत चर्चा की मांग पर उड़ा है जिसमें वोटिंग का प्रावधान है जबकि सरकार नियम 193 के तहत चर्चा के लिए तैयार है। लंच के बाद पीएम मोदी नहीं तो विपक्ष ने हंगामा किया।  पढ़ें इस मामले पर LIVE अपडेट्स...

- पीएम मोदी की गैरमौजूदगी पर हंगामा, राज्यसभा 3 बजे तक के लिए स्थगित।

-पीएम मोदी के लंच के बाद राज्यसभा में न आने पर सदन में बिफरा विपक्ष, सरकार ने कहा कि सदन की परंपरा के अनुकूल ही पीएम चर्चा में भाग लेंगे।

-राज्यसभा का कार्यवाही शुरू, लंच के बाद सदन में नहीं आए पीएम मोदी

- राज्यसभा की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित।

-टीएमसी सांसद ने पूछा- प्लान सीक्रेट था तो पहले 100 रुपए के नोट क्यों नहीं छपवाए?

- ब्राईन ने कहा, हम लोगों के मुद्दे के लिए लड़ रहे हैं, नोटबंदी का विरोध करने का मतलब ये नहीं है कि हम काले धन का समर्थन कर रहे हैं।

-डेरेक ओ ब्राईन ने कहा कि ममता बनर्जी ने नोटबंदी को बिग ब्लैक स्कैंडल कहा है। हर कोई ब्लैक मनी और करप्शन के खिलाफ है लेकिन केवल नोटबंदी से यह समस्या खत्म नहीं होने वाली है, ब्लैक मनी का केवल 6 प्रतिशत ही कैश में है।

-डेरेक और ब्रायन ने कहा, 'हम भी चाहते हैं कि कैशलेश सोसाइटी हो लेकिन अभी मौजूदा स्थिति ऐसी नहीं है। लाखों लोगों के पास डेबिट कार्ड नहीं है, प्लास्टिक मनी नहीं है।'

- राज्यसभा में टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्राईन बोल रहे हैं।

-  जेएनयू छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी मामले पर  कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने नियम 377 के तहत लोकसभा में नोटिस दिया।

- सपा सांसद ने कहा- सरकार रोज नई-नई घोषणाओं कर देती है और बैंक यह कहकर लोगों को मना कर देते हैं कि उनके पास रिजर्व बैंक का ऐसा कोई सर्कुलर नहीं आया।

-सपा सांसद रामनरेश अग्रवाल ने कहा-प्रशंसा जब चाटुकारिता में बदले तो समझो कुछ गड़बड़ हैं, लेकिन अब ऐसा हो रहा है। मीडिया पर भी इमरजेंसी लगा दी गई है।

मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी पर 60-65 लोग मर चुके हैं, इससे कमजोर तबके का करेंसी और बैंकिंग सिस्टम मे भरोसा कम हुआ है।

मनमोहन सिंह ने कहा- पीएम ने 50 दिन मांगे लेकिन गरीब लोगों के लिए इतने दिन भी घातक ही हैं।

-राज्यसभा में चर्चा शुरू,पूर्व पीएम मनमोहन सिंह बोल रहे हैं।

 -नोटबंदी पर हंगामे के बाद राज्यसभा पहुंचे पीएम मोदी, सदन में चर्चा का जवाब देंगे

-नोटबंदी पर पीएम मोदी राज्यसभा में दोपहर बाद एक बजे देंगे जवाब- वैंकेया नायडू

- लोकसभा में सपा सांसद अक्षय यादव ने स्पीकर की टेबल पर फेंके कागज, सदन स्थगित।

- बसपा सुप्रीमो और राज्यसभा साांसद मायावती ने कहा है कि पीएम मोदी को संसद में आकर विपक्ष की बात सुननी चाहिए, वह सदन से भाग क्यों रहे हैं?

- पीएम मोदी के न आने पर राज्यसभा और लोकसभा में हंगामा, कार्यवाही स्थगित।

-कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने मांग रखी है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को सदन में बोलने की अनुमति दी जाए।

-राज्यसभा में हंगामा, सत्ता और विपक्ष अपने -अपने हिसाब से चर्चा की मांग कर रहे हैं।

- सूत्रों का कहना है कि विपक्ष ने बैठक कर निर्णय लिया है कि 28 नवंबर तक सरकार के साथ बातचीत नहीं की जाएगी।

- विपक्ष ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक का बहिष्कार किया।

-संसद में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के चैंबर में बीजेपी नेताओं की बैठक हो रही है। बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली, वैंकेया नायडू और अनंत कुमार समेत कई अन्य नेता मौजूद हैं।

-बीजेपी सांसद अनंत कुमार ने कहा कि हम सभी दलों को समान तवज्जो दे रहे हैं।

- गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सभी विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है। संसद चलने देने पर सहमति बनाने की कोशिश होगी।

-विपक्षी दलों के सांसदों ने की बैठक।

कार न मिलने पर दहेज की बाइक भी फूंक दी




वजीरगंज |  सिरफिरे एक युवक ने अपनी ससुराल पहुंच कर खूब उत्पात दिया। दहेज में मिली अपनी बाइक को भी आग लगा दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। आरोपी का पहले से ससुरालियों से दहेज उत्पीड़न का मुकदमा चल रहा है।
ससुराल पहुंच कर उत्पात करने वाला पुलिस हिरासत में
पहले से चल रहा है दहेज उत्पीड़न का मुकदमा
वजीरगंज कस्बे के वार्ड नंबर चार नई बस्ती निवासी शमीम ने अपनी बेटी बेबी की शादी सिविल लाइंस थाने के गांव नवादा निवासी सलीम के साथ की थी। शादी में हैसियत के मुताबिक दान दहेज भी दिया। बाइक भी दहेज में दी गई। सलीम दहेज में कार की मांग कर रहा था। कार की मांग पूरी न होने पर सलीम ने बेबी को मारपीट कर घर से निकाल दिया था। बेटी ने उसके खिलाफ सिविल लाइंस थाने में दहेज उत्पीड़न का मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था। बुधवार को सलीम अपनी ससुराल पहुंचा। यहां उनसे काफी हंगामा किया। दहेज में मिली बाइक को भी आग लगा दी। परिवार के लोगों ने किसी तरह आग बुझाई। पुलिस को खबर दे दी गई। पुलिस ने सलीम और उसकी बाइक को कब्जे में ले लिया है। देर शाम तक रिपोर्ट दर्ज नहीं हो सकी थी।

zhakkas

zhakkas