: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/26/16

ट्रंप प्रशासन की थाह लेने में जुटा भारत





नई दिल्ली। अमेरिका के आगामी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भावी नीतियों की थाह लेने में भारत भी जुट गया है। एक तरफ जहां विदेश सचिव एस. जयशंकर ने खुद ही ट्रंप प्रशासन में अहम पद पाने के संभावित उम्मीदवारों से व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात कर उनका मन टटोलने की कोशिश की है तो दूसरी तरफ से भारतीय कूटनीति से जुड़े अन्य लोग भी सीनेट के नवनिर्वाचित सदस्यों से लगातार मुलाकात कर रहे हैं।

इन मुलाकातों के बारे में जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने करीबी लोगों को बताया है कि भारत उनकी भावी विदेश नीति में अहम होगा। ट्रंप की अगुवाई में बन रही टीम में कई ऐसे चेहरों के शामिल होने से भी भारत उत्साहित हैं जिन्हें लंबे समय से भारत के मित्र के तौर पर जाना जाता है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक अमेरिका की आर्थिक और कूटनीतिक नीति के बारे में डोनाल्ड ट्रंप ने जो भी संकेत दिए हैं, उससे भारत बहुत ज्यादा चिंतित नहीं है। ट्रंप ने गैर कानूनी तौर पर अमेरिका में रह रहे विदेशियों के खिलाफ सख्ती करने और आव्रजन नीति को कठोर बनाने के संकेत दिए हैं। लेकिन कई वजहों से भारत पर इन दोनों का बहुत बड़ा असर नहीं होने जा रहा है।

कूटनीतिक नीति को लेकर ट्रंप ने अपने पत्ते पूरी तरह से नहीं खोले हैं लेकिन यह जरूर संकेत दिया है कि आतंकवाद के खिलाफ उनका रवैया बेहद कठोर होगा। लेकिन भारत को यह देखना होगा कि आतंकवाद से जुड़े जो मुद्दे हमें सबसे ज्यादा परेशान कर रहे हैं उन पर ट्रंप प्रशासन का रवैया किस तरह का होता है।

वैसे भारत इस बात से खुश है कि ट्रंप ने माइकल फ्लिन को अपना नया राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बनाया है। फ्लिन को अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ काफी कड़े रुख रखने वाले शख्स के तौर पर जाना जाता है। ट्रंप ने अमेरिका के विभिन्न सेक्टर में विदेशियों को नौकरी देने के मुद्दे पर भी कड़ा रवैया रखने का संकेत दिया है।

यह मुद्दा सीधे तौर पर भारतीय हितों को प्रभावित कर सकता है। विदेश मंत्रालय के अधिकारी इस बारे में कहते हैं कि राष्ट्रपति ओबामा ने भी अपने दूसरे कार्यकाल में आउटसोर्सिंग की नीति के खिलाफ कई बार कठोर प्रस्ताव लाने की चेष्टा की लेकिन अमेरिकी कंपनियों के विरोध की वजह से इसे परवान नहीं चढ़ाया जा सका।

भारत को ज्यादा चिंतित इसलिए भी नहीं होने की जरूरत है कि भारत की अधिकांश सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों ने पिछले एक दशक के दौरान अमेरिका पर अपनी निर्भरता काफी कम कर ली है। साथ ही अमेरिका में ठेका हासिल करने वाली भारतीय आईटी कंपनियों ने वहां के स्थानीय नागरिकों को भी बड़े पैमाने पर नौकरी देनी शुरू कर दी है।

गिनीज बुक में नाम दर्ज कराने के लिए इस लड़की ने निकलवा दीं अपनी पसलियां







दुनिया में कई तरह के लोगं रहते हैं और सभी के शौक कई तरह के होते हैं सभी अपने-अपने अलग अलग शौक रखते हैं। अब अगर महिलओं की बात की जाए तो हर महिला को खुबसूरत दिखने का शौक होता है हर एक महिला खुबसूरत दिखने के लिए न जाने क्या-क्या करती रहती हैं। कुछ ऐसा ही अलग-सा शौक इस लड़की को था। इस लड़की ने भी खुबसूरत दिखने के लिए भी न जाने क्या-क्या किया लेकिन इसकी हरकतें जानकर आप हैरान हो जाएंगे।
दरअसल स्वीडिश माॅडल उत्तर कैरोलिना की रहने वाली 26 साल की पिक्सी फोक्स है। पिक्सी भी अपने आप को पहले से ज्यादा खुबसूरत दिखाना चाहती थी। और इसके लिए वह अपने आपको एक कार्टून की तरह दिखाना चाहती थी और खुद को किसी जिंदा कार्टून कैरेक्टर जैसा बनाने के लिए वह अब तक 100 से ज्यादा प्लास्टिक सर्जरी करवा चुकी है। इस मॉडल ने अपनी कमर को पतला बनाने के लिए अपने शरीर से 6 पसलियां भी निकलवा दी। जिससे उसकी कमर बेहद पतली हो गई।
इतना ही नहीं दुनिया की सबसे पतली कमर बनाने के लिए ये रोजाना कमर पर कसे हुए कपड़े भी पहन रही है। पिक्सी चाहती है कि उसकी कमर की वजह से उसका नाम गिनीज बुक आॅफ वल्र्ड रिकाॅर्डस में लिखाए। लेकिन पिक्सी के घर वाले उसकी यही हरकतों से परेशान है। पिक्सी की मां का कहना है कि मैं अपनी बेटी की ऐसी हालत से परेशान हूंए अभी वह 26 साल की है इसलिए वह ये सब सह लेती हैए लेकिन तब क्या होगा जब वह 62 साल की हो जाएगी और उसका शरीर उसका साथ नहीं देगा।

आजकल बॉलीवुड सेलिब्रिटीज से ज्यादा उनके स्टार किड्स चर्चा में रहते है. इसी सिलसिले में आज हम आपको कुछ फेमस स्टार किड्स के रिलेशनशिप स्टेटस के बारे में बताने जा रहे है. मतलब की, यह स्टार किड्स इस समय किसके साथ रोमांस कर रहे है.

जहान्वी कपूर: श्रीदेवी की बेटी जहान्वी इन दिनों पॉलिटिशियन और एक्स-यूनियन मिनिस्टर सुशील कुमार शिंदे के नाती शिखर पहाड़िया को डेट कर रही है. शिकार को स्मूच करतु हुई जहान्वी की फोटो भी काफी वायरल हुई थी.

नव्या नवेली नंदा: 'बिग बी' अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेली नंदा काफी पॉपुलर स्टार किड है. खबरों के अनुसार वह लंदन बेस्ट हैरी गिलिस नमक अपने सेवन ऑक्स स्कूल के अपने पूर्व क्लासमेट को डेट कर रही है.

कृष्णा श्रॉफ: जैकी श्रॉफ की लाडली बेटी कृष्णा ब्राजील के स्पेंसर जॉनसन को डेट कर रही है. उन्होंने अपने रिलेशनशिप को ओपन करा है. वह एक स्पोर्ट्स कंपनी में फुटबॉल ट्रेनर है.

जुनैद खान: आमिर खान के बड़े बेटे जुनैद कॉलेज गर्ल सोनम वर्मा के साथ रिलेशनशिप में है. यह दोनों काफी समय से एक दुसरे के साथ सीरियस रिलेशनशिप में है.

वरुण धवन: आज के सबसे पॉप्लर एक्टर में से एक वरुण इन दिनों कथित तौर पर नताशा दलाल के साथ रिलेशनशिप में है. हालाँकि उन्होंने अब तक अपने रिश्ते को पब्लिक नहीं किया है.

टाइगर श्रॉफ: कृष्णा के भाई टाइगर श्रॉफ दिशा पटानी को डेट कर रहे है. दोनों को कई मौके पर एक साथ क्वालिटी टाइम स्पेंण्ड करते देखा गया है.

सोनम कपूर: फैशन आइकॉन सोनम कपूर पिछले दो सालों से दिल्ली बेस्ड बिजनेसमैन आनंद आहूजा के साथ है. दोनों ने अपने इस रिलेशनशिप को काफी गुप्त रखा है. आनंद व्हार्टन बिज़नेस स्कूल (यूएस) से पढ़े है, सोनम के बॉयफ्रेंड उनकी ही तरह फैशन इंडस्ट्री से जुड़े है. वह फैशन ब्रांड Bhane के मालिक है.

हर्षवर्धन कपूर: अनिल कपूर के बेटे और सोनम के भाई हर्षवर्धन कपूर अनिल कपूर की टीवी सीरीज 24 में उनकी नस्क्रीन बेटी का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस सपना पब्बी को डेट कर रहे है. दोनों की पहली मुलाकात '24' के सेट पर पर हुई थी. जहाँ से हुई दोस्ती प्यार में बदला गयी.

पैसे के लिए प्रतीक्षा कर रहे लोगो की एक छोटी कहानी | जरूर देखै


26/11 हमले के आठ बरस, मुंबई पहले से सेफ, लेकिन जख्म अब भी जिंदा





नई दिल्ली। मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले को आठ साल हो गए हैं। आज भी मुंबई हमले की याद लोगों के दिलों-दिमाग पर छाई है। 26 नवंबर 2008 की ही वह काली रात थी, जब लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकी समुद्री रास्ते से भारत की व्यावसायिक राजधानी में दाखिल हुए और 170 बेगुनाहों को बेरहमी से गोलियों से छलनी कर दिया था। इस हमले में 308 लोग जख्मी भी हुए। ये वो काला दिन था जिस दिन आंखों के सामने लोगों ने अपनों को देखते-देखेत खोया था। हमले में अजमल कसाब सहित 10 आतंकवादी शामिल थे। हमले में जिंदा पकड़े गए एकमात्र आतंकी अजमल कसाब को पिछले साल 21 नवंबर को फांसी दे दी गई।

मुंबई हमलों की छानबीन से जो कुछ सामने आया है, वह बताता है कि 10 हमलावर कराची से नाव के रास्ते मुंबई में घुसे। इस नाव पर चार भारतीय सवार थे, जिन्हें किनारे तक पहुंचते पहुंचते ख़त्म कर दिया गया। रात के तकऱीबन आठ बजे थे, जब ये हमलावर कोलाबा के पास कफ़ परेड के मछली बाजार पर उतरे। वहां से वे चार ग्रुपों में बंट गए और टैक्सी लेकर अपनी मजिलों का रूख किया।

साढ़े नौ बजे शुरू हुआ मौत का खेल

रात के तकरीबन साढ़े नौ बजे थे। कोलाबा इलाके में आतंकवादियों ने पुलिस की दो गाडिय़ों पर कब्जा किया। इन लोगों ने पुलिस वालों पर गोलियां नहीं चलाईं। सिर्फ बंदूक की नोंक पर उन्हें उतार कर गाडिय़ों को लूट लिया। यहां से एक गाड़ी कामा हा़स्पिटल की तरफ निकल गई जबकि दूसरी गाड़ी दूसरी तरफ चली गई। रात के लगभग 9 बजकर 45 मिनट हुए थे। तकरीबन 6 आतंकवादियों का एक गुट ताज की तरफ बढ़ा जा रहा था। उनके रास्ते में आया लियोपार्ड कैफे। यहां भीड़-भाड़ थी। भारी संख्या में विदेशी भी मौजूद थे। हमलावरों ने अचानक एके 47 लोगों पर तान दी। देखते ही देखते लियोपार्ड कैफे के सामने खून की होली खेली जाने लगी। बंदूकों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका गूंज उठा। लेकिन आतंकवादियों का लक्ष्य यह कैफे नहीं था। यहां गोली चलाते, ग्रेनेड फेंकते हुए आतंकी ताज होटल की तरफ चल दिए।

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के अलावा आतंकियों ने ताज होटल, होटल ओबेरॉय, लियोपोल्ड कैफ़े, कामा अस्पताल और दक्षिण मुंबई के कई स्थानों पर हमले शुरु कर दिया था। आधी रात होते होते मुंबई के कई इलाकों में हमले हो रहे थे। शहर में चार जगहों पर मुठभेड़ चल रही थी। पुलिस के अलावा अर्धसैनिक बल भी मैदान में डट गए थे। एक साथ इतनी जगहों पर हमले ने सबको चौंका दिया था। इसकी वजह से आतंकियों की संख्या की अंदाजा लगाना मुश्किल हो रहा था।

ताज होटल बना सबसे बड़ा निशाना

ताज होटल में घुस कर आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। 9 बजकर 55 मिनट हो चुके थे। ताज से महज दो किलोमीटर दूर आतंकवादियों के दूसरे गुट ने कार्रवाई शुरू की। हमलावर सीएसटी स्टेशन यानी विक्टोरिया टर्मिनल के एक प्लेटफॉर्म पर पहुंच चुके थे। आतंकवादियों की संख्या तीन से ज्यादा थी। इन लोगों ने प्लेटफॉर्म पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। आतंकियों ने हैंड ग्रेनेड भी फेंके। आधे घंटे तक मौत का खेल चलता रहा। इसके बाद यहां मौजूद आतंकियों में से कुछ आतंकी जीटी अस्पताल पहुंच गए। वहां भी इन लोगों ने एके 47 का जी भर कर इस्तेमाल किया। बस पांच मिनट बाद ही रात के दस बजे सीएसटी स्टेशन से लगभग पांच किलोमीटर दूर मझगांव में धमाका हुआ। यहां एक टैक्सी के परखच्चे उड़ गए थे। टैक्सी में बम रखा था।

ताज के बाद ओबेरॉय होटल पर कब्जा

रात के तकरीबन 10 बजकर 15 मिनट हो चुके थे। आतंकियों का वो ग्रुप जो होटल ओबेरॉय के लिए निकला था वो हरकत में आ गया। वो लोग तेजी से गोलीबारी करते हुए होटल के अंदर घुस गए। ये लोग 13 वीं मंजिल पर पहुंच गए। वहां इन लोगों ने कई लोगों को बंधक बना लिया। इस काम में उन्हें तकरीबन एक घंटे लग गए। तकरीबन 11 बजे तक वो लोग होटल में अपनी पोजीशन ले चुके थे। इस वक्त इन लोगों ने एक परिवार को भी बंधक बना लिया। तकरीबन 10 बजकर 25 मिनट पर पुलिस की गाडिय़ों में मौजूद आतंकवादियों ने कामा अस्पताल में घुसने की कोशिश की। लेकिन इन्हें कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद ये लोग अंधाधुंध गोलीबारी करते हुए अंदर की तरफ चले गए। कई लोगों को गोलियां लगीं।æò

..जब सड़कों पर दौड़ी मौत

रात साढ़े दस बज चुके थे। तभी कोलाबा से तकरीबन 20 किलोमीटर की दूरी पर विले पार्ले में टैक्सी में विस्फोट हुआ। इसमें दो की मौत हो गई। अब रात के 10 बजकर 45 मिनट हो चुके थे। कामा हॉस्पिटल में अंदर घुसे आतंकवादी अब बाहर निकल गए। तेजी से गाड़ी से फायरिंग करते हुए वो लोग मेट्रो स्टेशन की तरफ चले गए। मेट्रो स्टेशन पर भी इन लोगों ने गोलीबारी की। वहां से तेजी से गाड़ी भगाते हुए ये लोग गिरगांव चौपाटी की तरफ चले गए। जहां दोनों आतंकियों को पुलिस ने मार गिराया।

-

जन धन खातों में रकम जमा करने में यूपी नंबर वन




नोटबंदी के फैसले के बाद जन धन खातों में रकम जमा करने की बाढ़ आ गई है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस आशय की घोषणा के महज 8 दिन बाद तक जन धन के करीब 25 करोड़ खातों में 18,616 करोड़ रुपये जमा हो गए थे। नोटबंदी की घोषणा से पूर्व जन धन खातों में 45,636 करोड़ रुपये जमा थे। यह रकम 16 नवंबर को बढ़ कर 64,252 करोड़ तक पहुंच गई।
खास बात यह है कि जिन राज्यों के जन धन खातों में सर्वाधिक रकम जमा हुई है उसमें उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर है। उत्तर प्रदेश के 3.79 करोड़ खातों में 16 नवंबर तक 10,670 करोड़ रुपये जमा हो गए थे। दूसरे पायदान पर पश्चिम बंगाल है। यहां के 2.44 करोड़ खातों में 7,826 करोड़ रुपये जमा हो चुके थे।

राजस्थान के 1.89 करोड़ खातों में 5,345 करोड़, जबकि बिहार के 2.62 करोड़ खातों में 4,913 करोड़ जमा हो चुके थे। खास बात यह है कि नोटबंदी के फैसले से पहले जिन 23 फीसदी खातों में कोई रकम जमा नहीं थी, उन खातों में भी हजारों करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं।

वित्त राज्यमंत्री संतोष गंगवार ने लोकसभा में लिखित जवाब में इस आशय की जानकारी देते हुए बताया कि सरकार के पास फिलहाल 16 नवंबर तक के ही आंकड़े हैं। गौरतलब है कि जन धन खातों के माध्यम से काला धन खपाने की हो रही कोशिशों से सतर्क सरकार ने नोटबंदी के फैसले के बाद ऐसे खाताधारकों को किसी लालच में नहीं फंसने के लिए बार-बार आगाह किया है।

चूंकि जन धन का खाता गरीबों का है, ऐसे में इनके खातों में जमा बड़ी रकम के कारण सरकार को कड़ी कार्रवाई से पीछे हटने पर विचार करना पड़ा है।

बरेली में पथराव, दो समुदायों की नई परंपरा पर बवाल





आला हजरत के उर्स में चढ़ाने के लिए आ रहीं चादरों के जुलूस का रूट बदलने पर फरीदपुर के गांव जेड़ में जमकर बवाल हुआ। दो समुदाय आमने-सामने आ गए और पथराव शुरू हो गया जिससे भगदड़ मच गई। तनातनी की खबर फैलते ही पुलिस और प्रशासन में खलबली मच गई। पुलिस ने किसी तरह जुलूस को हाईवे तक पहुंचाया। पथराव में दरोगा समेत दो ग्रामीण घायल हो गए।

भगदड़ में भी कुछ को चोटें आई हैं। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डीआईजी, डीएम और एसएसपी भी मौके पर पहुंचे, तब तक मामला शांत हो गया था। पुलिस ने 11 नामजद और 40 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर प्रधान कृष्णपाल यादव समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। तनाव के चलते गांव में फोर्स तैनात कर दी गई है।

बरेली में तीन दिवसीय आला हजरत का उर्स चल रहा है। इसमें आसपास के गांवों से मुस्लिम समुदाय के लोग चादर चढ़ाने के लिए जुलूस की शक्ल में शहर पहुंच रहे हैं। फरीदपुर के ग्राम जेड़ में शुक्रवार को सुबह करीब 7.30 बजे उर्स में चादर चढ़ाने के लिए लोगों घरों से जुलूस की शक्ल में निकले। ये गांव लंबाई में बसा है। गांव के दोनों ओर मुस्लिम आबादी है, बीच में दूसरे समुदाय के लोग रहते हैं। डीजे बजाते हुए चादर का जुलूस ले जाया जा रहा था।

कार-ट्रक की भिड़ंत में युवक की मौत, तीन साथी घायल






थाना क्षेत्र में स्थित मलगांव रेलवे क्रॉसिंग पर कार और ट्रक की आमने-सामने भिड़ंत हो गई। इसमें एक युवक की मौत हो गई, जबकि उसके तीन साथी घायल हो गए। तीनों को बरेली के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। चारों युवक दोस्त की शादी में शामिल होने के लिए बरेली से उझानी आए थे।
घटना गुरुवार रात दो बजे के करीब बताई जा रही है। बरेली के मोहल्ला किला का कैफ पुत्र सलीम शम्सी अपने साथी अंशु मिश्रा और सचिन निवासी बरेली और मुरादाबाद के शिवम के साथ उझानी में एक दोस्त की शादी में शामिल होने गए था। वह रात करीब दो बजे कार से लौट रहे थे। थाना क्षेत्र में स्थित मलगांव फाटक के पास बरेली की ओर से आर रहे ट्रक से कार की सामने से टक्कर हो गई। इसमें सैफ को गंभीर चोटें आईं, जबकि अंशु, सचिन एवं शिवम भी घायल हो गए। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस चारो को बरेली अस्पताल ले जा रही थी। रास्ते में सैफ ने दम तोड़ दिया, जबकि अन्य तीनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। सैफ के घरवालों ने शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार दिया।

नोटबंदी से रोडवेज के कम हो गए के 31 हजार यात्री





एक हजार और पांच सौ रुपये के नोट बंद करने से रोडवेज की आय भी बीते वर्ष की तुलना में पांच फीसदी कम हो गई है। वहीं, नोटबंदी के 12 दिनों के बीच रोडवेज के 31 हजार यात्री घट गए हैं। इससे परिवहन विभाग के लक्ष्य को पूरा करने में कमी आएगी। नोटबंदी होने के बावजूद रोडवेज में एक हजार औ पांच सौ रुपये के नोट 24 नवंबर तक लेने के निर्देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिए थे। इससे निजी बसों से सफर करने वाले लोगों ने भी रोडवेज बसों से सफर करने में भलाई समझी, लेकिन कम दूरी की टिकट होने पर रोडवेज परिचालक पांच सौ और एक हजार रुपये का नोट लेने से मना कर देते थे। इस वजह से तमाम सवारियों को बसों से उतारा भी गया। इसका प्रभाव रोडवेज की आय पर नजर आया।
वर्ष 2015 में नौ से 21 नवंबर के बीच में बदायूं डिपो की रोडवेज बसों में 2,96,445 यात्रियों ने सफर किया था। इन लोगों से करीब 1.82 करोड़ रुपये वसूल किए गए थे। वहीं, इस साल इन दिनों में रोडवेज की बसों पर 2,65,220 यात्रियों ने सफर किया, जिनसे 1.82 करोड़ रुपये वसूल हुए। ऐसा तब हुआ जब यात्रियों से पांच पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोतरी से रुपये वसूल किए गए थे। इससे रोडवेज को यात्रियों की कमी झेलने के साथ ही अपेक्षाकृत आय में भी नुकसान हो रहा है।


नोटबंदी का असर रोडवेज की आय पर भी नजर आ रहा है। बावजूद इसके इन दिनों रोडवेज कर्मचारियों ने स्थिति को काफी हद तक नियंत्रित किया।
-राजेश कुमार, एआरएम

दैनिक राशिफल 26/11/2016





  • मेष

व्यापार विस्तार के अवसर बनेंगे। परिश्रम का पूरा फल मिलेगा। दूसरों के बारे में गलत धारणा नुकसानदेह हो सकती है।



  •  वृष

यात्रा सुखद एवं सफलता देने वाली होगी। अपनी वस्तुएँ संभालकर रखें। राज्य में आपका प्रभाव बढ़ेगा। भाइयों का सहयोग मिल सकता है।



  •  मिथुन

कार्य के प्रति लापरवाही हानिकारक होगी। हर किसी पर विश्वास न करें। धैर्य, संयम रखकर काम करें। व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा में नहीं उलझें।



  •  कर्क

वरिष्ठ अधिकारियों से संबंध मधुर होंगे। परिवार में कोई शुभ कार्य हो सकता है। उत्साह और उमंग का वातावरण रहेगा। आय से अधिक व्यय नहीं करें।



  •  सिंह

व्यापार, नौकरी के उद्देश्य की गई यात्रा लाभदायी रहेगी। माता के स्वास्थ्य की ओर ध्यान दें। कामकाज में सुधार होगा।



  •  कन्या

सद्भावनाएँ जागृत होंगी। कुछ नवीन योजनाएँ बनेंगी। रचनात्मक कार्यों का प्रतिफल मिलेगा। जीवनसाथी की भावनाओं का अपमान न करें।



  •  तुला

कानूनी विवाद हल होंगे। कामकाज में सुधार होगा। साहस, पराक्रम बढ़ेगा। व्यापार, व्यवसाय में लाभदायक सौदे होंगे। संत-समागम होगा।



  •  वृश्चिक

पठन-पाठन में अभिरुचि बढ़ेगी। महत्व के कार्य सिद्ध होंगे। व्यर्थ के आडंबरों से दूर रहें। कुछ नवीन योजनाएँ बनेंगी। जल्दबाजी में काम न करें।



  •  धनु

पत्नी से सहयोग व समर्थन मिलेगा। व्यवसाय में उन्नति होगी। खान-पान पर नियंत्रण जरूरी है। आपके द्वारा लिए गए निर्णय सही होंगे।



  • मकर

रुका धन प्राप्त होने का योग। व्यावसायिक कार्य सफल होने की संभावना है। हितकारक व्यक्ति से भेंट होगी। वाहन क्रय करने के योग हैं।



  •  कुंभ

जल्दबाजी में कोई काम न करें। आपके कार्यों की प्रशंसा होगी। संतान के कार्यों पर नजर रखना होगी। महत्वपूर्ण व्यक्तियों के संपर्क में आएँगे।



  • मीन

अधूरे कार्य समय पर पूरे होने से संतोष रहेगा। पारिवारिक वातावरण सहयोगात्मक रहेगा। कलात्मक अभिव्यक्ति को प्रकट करने की क्षमता बढ़ेगी।


zhakkas

zhakkas