: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/29/16

दिन का विचार , Thought of the day


अायकर संशाेधन बिल पास, कालेधन वालों को मोदी सरकार ने दिया एक और मौका






नई दिल्ली: लोकसभा में आज विपक्ष के हंगामे के बीच बिना चर्चा के कराधान विधि (दूसरा संशोधन) विधेयक ध्वनिमत से पारित हो गया जिसमें कालाधन रखने वालों को एक और मौका देते हुए नोटबंदी के बाद जमा राशि की घोषणा पर कर, जुर्माना तथा अधिभार के रूप में कुल 50 प्रतिशत वसूली का प्रस्ताव किया गया है।  

सार्वजनिक महत्व वाला विधेयक
वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कल आयकर कानून में संशोधन के लिए लोकसभा में एक विधेयक पेश किया था। यह आयकर अधिनियम, 1961 और वित्त अधिनियम, 2016 का और संशोधन करने वाला विधेयक ‘धन विधेयक’ है। सदन में विपक्ष के हंगामे के बीच स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, ‘यह सार्वजनिक महत्व वाला विधेयक है। मैं चाहती थी कि इस पर विस्तार से चर्चा हो। मौजूदा स्थिति में चर्चा संभव नहीं लगती। इसलिए मैं विधेयक पर सीधे मत विभाजन करा रही हूं।’

अघोषित संपत्ति वालों पर कसेगी नकेल
विधेयक के बारे में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि सरकार आयकर अधिनियम में संशोधन लाई है। इसमें प्रावधान है जो लोग अपना अघोषित धन बैंक में जमा कर उसकी जानकारी देते हैं तो उन्हें 50 प्रतिशत कर, जुर्माना और अधिभार अदा करना होगा। 25 प्रतिशत राशि उन्हें तत्काल मिल जाएगी और शेष 25 प्रतिशत राशि चार साल बाद मिलेगी। जेटली ने कहा कि जो लोग गैरकानूनी तरीके से अघोषित धन रखते पाए गए उन्हें 85 प्रतिशत कर और हर्जाना देना होगा।

कालाधन रखने पर कड़े जुर्माने
उन्होंने कहा कि इससे सरकार को साधन मिलेंगे जिनसे विकास कार्य हो सकेंगे। प्रधानमंत्री ने इसी संबंध मंे गरीब कल्याण कोष की भी घोषणा की है। विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच भर्तृहरि महताब, एन के प्रेमचंद्रन, के सी वेणुगोपाल के विभिन्न संशोधनों को नामंजूर करते लोकसभा में कराधान विधि (दूसरा संशोधन) विधेयक 2016 को ध्वनिमत से मंजूरी मिल गई।   विधेयक मेंं प्रस्ताव किया है कि इस अवधि में धन जमा कराने वालांे के बारे में यदि यह साबित हुआ कि उन्हांेने काला धन रखा है तो उनसे अधिक ऊंची दर और कड़े जुर्माने के साथ कुल 85 प्रतिशत की दर से वसूली की जाएगी। 

IndVsEng: भारत का मोहाली में जीत का चौका





मोहाली:  भारत ने अपने स्पिन तिकड़ी रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा और जयंत यादव के घातक प्रदर्शन के बाद ओपनर पार्थिव पटेल के नाबाद 67 रन के दम पर अपने गढ़ मोहाली में अपना दबदबा कायम रखते हुए इंगलैंड को तीसरे क्रिकेट टैस्ट के चौथे ही दिन मंगलवार को 8 विकेट से पीटकर 5 मैचों की सीरीज में 2-0 की मजबूत बढ़त बना ली।

भारत को मिला था जीत के लिए 103 रनों का टारगेट
भारत ने इंगलैंड को दूसरी पारी में 236 रन पर निपटाया और उसे जीत के लिए 103 रन का लक्ष्य मिला। भारत ने 20.2 ओवर में दो विकेट पर 104 रन बनाकर शानदार जीत अपने नाम की और मोहाली में जीत का चौका लगा दिया। भारत मोहाली के इस मैदान में पिछले 22 वर्षों से अपराजित चल रहा है और इस सिलसिले को उसने इस मुकाबले में भी बरकरार रखा।

मोहाली में हराना मुश्किल
विराट कोहली के धुरंधरों ने मोहाली में टीम इंडिया की जीत का चौका लगाया। भारत ने यहां पिछले 3 मैचों में 2 बार आस्ट्रेलिया को और 1 बार दक्षिण अफ्रीका को हराया था। भारत ने इस बार मोहाली में इंगलैंड का मान-मर्दन कर दिया। 

ट्रंप ने क्यूबा को दी चेतावनी, संबंध सुधारो वर्ना..





वाशिंगटन/ अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अगर क्यूबा अमेरिका के साथ संबंध सुधारने के लिए तैयार नहीं है, तो उसके साथ व्यापार और पर्यटन समझौते को रद्द कर दिया जायेगा। ट्रंप ने अपने ट्विट में यह बात कही। उन्होंने ऐसे समय यह ट्विट किया है जब क्यूबा के लोग अपने गुरिल्ला नेता फिदेल कास्त्रो के निधन का शोक मना रहे हैं।

 कास्त्रो ने अमरीका के खिलाफ 1959 में आंदोलन की शुरूआत की थी और आधी सदी तक कैरिबियाई प्रायद्वीप पर शासन किया था। गत शुक्रवार को कास्त्रो का निधन हो गया  दूसरी तरफ कुछ क्यूबाईयों ने ट्रंप द्वारा अमरीका-क्यूबाई व्यापार और पर्यटन समझौता जिसे  ओबामा ने गत दो वर्षाें के दौरान शुरू किया था, को बंद करने की चेतावनी पर चिंता जताई है।  ओबामा ने ऐतिहासिक फैसले के तहत दशकों पुरानी शीत युद्ध दुश्मनी को खत्म काने और हवाना में एक दूतावास खोलने का निर्णय लिया था।

स्थानीय निकाय चुनावः नोटबंदी के फैसले के बाद अब गुजरात में भी बीजेपी की बड़ी जीत





अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नोटबंदी पहल के बाद बीजेपी  को मजबूती प्रदान करते हुये पार्टी ने गुजारत के स्थानीय निकायों के चुनाव में दो नगर निगमों और एक तालुक पंचायत पर कब्जा कर लिया इन चुनावों के परिणाम आज घोषित किये गये.

विभिन्न नगर निगमों, तालुक और जिला पंचायतों के लिए हो रही मतगणना में भी बीजेपी 31 में से 23 सीटों पर आगे चल रही है. इन जिला पंचायतों की सीटों पर उपचुनाव हुआ है.गुजरात राज्य चुनाव आयोग के अंतिम परिणाम के मुताबिक, बीजेपी  ने वलसाड जिले के वापी नगर निगम में जीत दर्ज की और कुल 44 में से 41 सीटों पर कब्जा जमाया है.

इन स्थानीय निकायों के चुनाव में कांग्रेस के खातों में केवल तीन सीट ही आ सकी. वापी नगर निगम पर पहले भाजपा का कब्जा था.

इसी तरह, सूरत के कनकपुर-कानसाड नगर निगम के चुनाव में भाजपा ने विरोधियों का करीब-करीब सूपड़ा साफ कर दिया और 28 में से 27 सीटों पर जीत दर्ज की. एक सीट पर कांग्रेस को जीत मिली. इस सीट पर भी पूर्व में भाजपा का ही कब्जा था.

राजकोट में भाजपा ने गोंडाल तालुक पंचायत सीट जीत ली है और कुल 22 सीटों में से 18 पर कब्जा जमाया है. यहां पर उपचुनाव हुआ था. कांग्रेस के खाते में केवल चार सीट ही आयी. इससे पहले गोंडाल तालुक पंचायत पर कांग्रेस का कब्जा था.

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नोटबंदी पहल के बाद बीजेपी  को मजबूती प्रदान करते हुये पार्टी ने गुजारत के स्थानीय निकायों के चुनाव में दो नगर निगमों और एक तालुक पंचायत पर कब्जा कर लिया इन चुनावों के परिणाम आज घोषित किये गये.

विभिन्न नगर निगमों, तालुक और जिला पंचायतों के लिए हो रही मतगणना में भी बीजेपी 31 में से 23 सीटों पर आगे चल रही है. इन जिला पंचायतों की सीटों पर उपचुनाव हुआ है.गुजरात राज्य चुनाव आयोग के अंतिम परिणाम के मुताबिक, बीजेपी  ने वलसाड जिले के वापी नगर निगम में जीत दर्ज की और कुल 44 में से 41 सीटों पर कब्जा जमाया है.

इन स्थानीय निकायों के चुनाव में कांग्रेस के खातों में केवल तीन सीट ही आ सकी. वापी नगर निगम पर पहले भाजपा का कब्जा था.

इसी तरह, सूरत के कनकपुर-कानसाड नगर निगम के चुनाव में भाजपा ने विरोधियों का करीब-करीब सूपड़ा साफ कर दिया और 28 में से 27 सीटों पर जीत दर्ज की. एक सीट पर कांग्रेस को जीत मिली. इस सीट पर भी पूर्व में भाजपा का ही कब्जा था.

राजकोट में भाजपा ने गोंडाल तालुक पंचायत सीट जीत ली है और कुल 22 सीटों में से 18 पर कब्जा जमाया है. यहां पर उपचुनाव हुआ था. कांग्रेस के खाते में केवल चार सीट ही आयी. इससे पहले गोंडाल तालुक पंचायत पर कांग्रेस का कब्जा था.

मोदी के आने से भ्रष्टाचार का शब्द डिक्शनरी से गायब





रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने सपा-बसपा से लेकर कांग्रेस पर शब्द प्रहार किए। उन्होंने केंद्र में रही कांग्रेस सरकार को भ्रष्टाचार की जननी बताते हुए कहा कि जब से नरेंद्र मोदी ने पीएम पद की बागडोर संभाली है, भ्रष्टाचार शब्द ही डिक्शनरी से गायब हो गया है। यूपी में परिवर्तन की लहर उठना शुरू हो गई है। अब यूपी के युवा 2017 में 265 सीटें जिताकर भाजपा की सरकार बनवाएं।
भाजपा सांसद सिन्हा सोमवार को मिशन कंपाउंड में आयोजित भाजपा के युवा सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यूपी में प्रमुख तीन दलों ने ताकत लगाई, लेकिन वह हाशिए पर आते जा रहे हैं। राहुल गांधी खाट सभा करने के बाद निराश होकर चले गए। समाजवादियों का खेल खत्म हो गया है। अखिलेश का रथ चलते ही खराब हो गया। विकास के नाम पर अखिलेश लोगों को भ्रमित कर रहे हैं। केंद्र सरकार के पैसे से विज्ञापन निकाले जा रहे हैं। बसपा सुप्रीमो नोटबंदी से परेशान हैं। कह रही हैं कि देश में आर्थिक इमरजेंसी लगा दी गई है, जबकि मोदी सरकार के इस फैसले का 85 प्रतिशत जनता समर्थन कर रही है। इस बार यूपी में भाजपा दो तिहाई बहुमत हासिल करेगी। जिले की छह सीटों पर भाजपा का परचम लहराएगा।
विशिष्ट अतिथि प्रदेश महामंत्री व प्रदेश संयोजक पंकज सिंह ने कहा कि समाजवादी पार्टी को अपनी करतूतों से रथयात्रा को हरी झंडी दिखाने वाला नहीं मिल रहा। बसपा, कांग्रेस, सपा ने तुष्टिकरण की नीति को अपनाते हुए एक वर्ग विशेष को बढ़ाने का काम किया, लेकिन भाजपा सरकार ने गरीबों, किसानों और युवाओं को उनका हक दिलाने की मुहिम शुरू की है। आज राष्ट्रवादी नौजवान भाजपा के साथ खड़ा है। यहां का नौजवान सूद सहित हिसाब वापस लेगा। दंगा भड़काने वाले, गरीबों की जमीनों पर कब्जा करने वाले, गुंडों और भ्रष्टाचारियों को भाजपा सरकार आने पर सबक सिखाया जाएगा। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वह सूबे में भाजपा की सरकार बनाने के लिए अभी से डट जाएं। केंद्र सरकार की नीति रीति को जन-जन तक पहुंचाएं।
सम्मेलन में क्षेत्रीय अध्यक्ष बीएल वर्मा,युवा मोर्चा के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश यादव, मनोज राघव, शिवप्रताप सिंह, डॉ.दुर्विजय शाक्य, पूर्व विधायक अवनीश कुमार सिंह, पूर्व मंत्री भगवान सिंह शाक्य, पूर्व विधायक प्रेमस्वरूप पाठक, रामसेवक सिंह पटेल, महेश चंद्र गुप्ता, दयासिंधु शंखधार, योगेंद्र सागर, पूर्व एमलसी जितेंद्र यादव, राजीव कुमार सिंह, राजीव गुप्ता, महाराज सिंह, दीपमाला गोयल, राणा प्रताप सिंह, नेकपाल सिंह, बागीश पाठक, अरुण धोबी, कुुशाग्र सागर, शैलेष पाठक आदि ने विचार रखे। अध्यक्षता भाजयुमो जिलाध्यक्ष अंकित मौर्य ने की। संचालन सुधीर श्रीवास्तव ने किया। आभार कार्यक्रम संयोजक यदुनेश यादव और जिलाध्यक्ष हरीश शाक्य ने व्यक्त किया।

रेल राज्यमंत्री ने की बदायूं रूट पर तीन ट्रेनों की घोषणा





बदायूं : रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने बरेली-कासगंज रूट पर तीन नई ट्रेनें चलाने की घोषणा की। उन्होंने यह भी कहा कि लालकुंआ से दक्षिण भारत तक बदायूं से होकर ट्रेनें चलाई जाएंगी। साथ ही लखनऊ, मथुरा और दिल्ली से भी ट्रेनों के जरिये बदायूं को जोड़ा जाएगा। नोट बंदी पर सवाल उठा रहे विपक्षी पार्टियों पर तीखे हमले किए। उन्होंने कहा कि विपक्ष ने मिलकर बंद का आह्वान किया था, लेकिन आम आदमी ने उसे नकार दिया है। उन्होंने कहा कि बड़े नोट बंद करके काला धन, आतंकवाद, नक्सलवाद को खत्म करने और देश से गरीबी मिटाने की दिशा में ठोस पहल हुई है। आम आदमी इस फैसले से बहुत खुश है, तकलीफ उन्हीं लोगों को हो रही है जो घोटाला कर काला धन जमा किए हुए हैं। उन्होंने कहा कि सपा में चाचा-भतीजे के बीच का झगड़ा रुपये को लेकर ही था, जिसे मोदी जी ने खत्म करा दिया। मिशन कंपाउंड में वह भाजपा के युवा सम्मेलन को मुख्य अतिथि के तौर पर संबोधित कर रहे थे।
मिशन कंपाउंड में आयोजित युवा सम्मेलन में भीड़ देखकर गदगद हुए मुख्य अतिथि ने विलंब से पहुंचने पर क्षमा याचना के साथ बात शुरू की। जिले के वरिष्ठ नेताओं ने ट्रेनों की समस्या पहले ही उठा दी थी, अब तक बरेली से कासगंज तक दो जोड़ी, बदायूं से कासगंज तक तीन जोड़ी पैसेंजर, रामनगर से बांद्रा तक एक्सप्रेस और रामनगर से आगरा फोर्ट तक एक्सप्रेस ही चल रही है। रेल राज्यमंत्री ने यहां के लोगों की भावनाओं का खयाल रखते हुए पहले ही कह दिया कि बरेली से कासगंज तक तीन नई ट्रेनें चलेंगी। भाजपा की चल रही चार परिवर्तन यात्राओं का जिक्र करते हुए कहा कि उनका असर यहां बदायूं में दिखने लगा है। उन्होंने कहा कि बदायूं में भाजपा के कार्यकर्ता विपरीत परिस्थितियों में कार्य कर रहे हैं, अब इससे मुक्ति पाने का अवसर आ गया है। रेल राज्य मंत्री ने कहा कि विपक्षी मोदी सरकार से ढ़ाई साल के कार्यकाल का हिसाब मांग रहे हैं। मोदी सरकार से पहले कोयला घोटाला, टूजी स्पेट्रम घोटाला, राष्ट्रमंडल खेल घोटाला सुर्खियों में रहते थे, क्या मोदी सरकार में अभी तक कोई घोटाला हुआ है, यह सबसे बड़ी उपलब्धि है। कांग्रेस की तीन पीढि़यों ने गरीबी मिटाने की बात की, लेकिन गरीबी नहीं मिटी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबी मिटाने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। महात्मा गांधी ने छुआछूत को मिटाया था तो मोदी जी ने आर्थिक छुआछूत को खत्म करा दिया। केंद्र सरकार की ओर से चलाई गई युवाओं, किसानों, महिलाओं, बुजुर्गों के उत्थान की योजनाओं का जिक्र करते हुए उत्तर प्रदेश में परिवर्तन की लहर चल पड़ी है। सपा सरकार की विदाई का वक्त आ गया है। राहुल गांधी का नाम लिए बगैर कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री के पुत्र ने खाट सभा की उनकी खटिया खड़ी हो गई। अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र और मौजूदा मुख्यमंत्री ने जर्मनी से महंगी गाड़ी मंगाई थे जो पहले ही दिन खराब हो गई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून का नहीं एक परिवार का राज है। बसपा प्रमुख मायावती पर तंज कसते हुए कहा कि उनका खेल खराब हो गया है। उन्होंने बरेली-कासगंज रूट पर तीन ट्रेनों की घोषणा करते हुए कहा कि लाल कुंआ से बदायूं होकर दक्षिण भारत तक ट्रेन चलाई जाएगी। लखनऊ, दिल्ली से भी बदायूं को जोड़ा जाएगा।
विशिष्ट अतिथि भाजपा के प्रदेश महामंत्री पंकज ¨सह ने भाजपा की चार परिवर्तन यात्राएं चल रही हैं। सपा के रथ में बैठने वाले तो दूर झंडी दिखाने वाले नहीं मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि सपा सरकार का आम जनता की समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है, सपा के नेता जनता का दर्द दूर करने के बजाय सैफई में नाच-गाने में मस्त रहते हैं। जनता ने युवा मुख्यमंत्री को गुंडा, बदमाशों पर चलाने की तलवार सौंपी थी, उसे वह अपने चाचाओं पर चमकाने में उपयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनी तो गुंडों, भ्रष्टाचारियों को उल्टा लटकाया जाएगा। क्षेत्रीय अध्यक्ष बीएल वर्मा ने भी विचार व्यक्त किए। इससे पूर्व मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और युवा कार्यकर्ताओं ने माला पहनाकर, प्रतीक चिह्न देकर स्वागत किया। इस मौके पर पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश यादव, क्षेत्रीय संयोजक मनोज राघव, जिला प्रभारी महराज ¨सह, जिलाध्यक्ष हरीश शाक्य, पूर्व विधायक प्रेमस्वरूप पाठक, अवनीश कुमार ¨सह, महेश चंद्र गुप्ता, रामसेवक ¨सह पटेल, दया¨सधु शंखधार, योगेंद्र सागर, पूर्व मंत्री भगवान ¨सह शाक्य, पूर्व एमएलसी जितेंद्र यादव, दातागंज चेयरमैन राजीव गुप्ता, राजीव कुमार ¨सह, वागीश पाठक, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य शिव प्रताप ¨सह, अशोक भारती, क्षेत्रीय महामंत्री दुर्विजय ¨सह शाक्य, अंकित मौर्य, राणा प्रताप ¨सह, दीपमाला गोयल, राजेश्वर ¨सह पटेल, शारदेंदु पाठक, अरुण पाराशरी, शारदाकां

प्रधानमंत्री देशहित में कर रहे कार्य






बिल्सी के आर्य संस्कारशाला गुधनी के तत्वावधान में भारत बंद के विरोध में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें समाज सुधारक आचार्य संजीव रूप ने भारत बंद के विरोध में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशहित में महती कार्य कर रहे हैं। देश एक लंबे समय से भ्रष्टाचार के दलदल में फंसा हुआ है। जिसे मोदी जी भरसक प्रयत्न करके निकालने का प्रयत्न कर रहे हैं। एक समय था जब अपना भारत देश सोने की चिड़िया, विश्व का गुरु था। हर व्यक्ति संपन्न था और सुखी था। दुर्भाग्य से जब से भ्रष्टाचार का बोलबाला हुआ तब से यह देश रसातल को चलता चला गया। उन्होंने कहा कि चंद राजनेता और प्रशासनिक अधिकारी व व्यापारी इस देश को बुरी तरह से लूटने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि 500 और 1000 के नोटों का वापस लेना निश्चित रूप से भ्रष्टाचार पर एक बहुत बड़ा प्रहार है।यह शुरुआत है इसके बाद वह सब होगा जो निश्चित रूप से लाखों लोगों को जेल के दरवाजे दिखाएगा और यह लाखों लोग कोई गरीब आम व्यक्ति, किसान आदि नहीं होंगे यह वही लोग होंगे जिन्होंने एक लंबे समय से काली कमाई से अपनी तिजोरियां भरी। उन्होंने विपक्ष द्वारा किए जाने वाले भारत बंद को एक अनैतिक और गैर जिम्मेदाराना कार्य बताते हुए सभी से अपील की कि इस बंद का बिल्कुल समर्थन न करें बल्कि मोदी के समर्थन में अपनी दुकानों को दो या तीन घंटे ज्यादा खोलें। इस अवसर पर डा.बद्री प्रसाद आर्य, ओमप्रकाश ¨सह, साहब ¨सह, नौबतराम आर्य, महेंद्र आर्य, अनिल उपाध्याय, सूरजवती देवी, सुखवीर ¨सह सहित प्रज्ञा आर्य संस्कारशाला के 72 बच्चे व अन्य ग्रामीण उपस्थित रहे।

'बीजेपी के सांसद और विधायक बैंक खाते के डिटेल जमा करें'





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों से अपने बैंक अकाउंट के विवरण जमा करने को कहा है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार ये विवरण पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के समक्ष जमा करने हैं.
जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री ने पार्टी के सभी विधायकों से आठ नवंबर से 31 दिसंबर के बीच अपने अकाउंट के सारे विवरण जमा करने को कहा है.
एक जनवरी को सभी विधायकों और सांसदों को ये विवरण जमा करने हैं.
माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने नोटबंदी के अपने फैसले के मद्देनज़र अपने विधायकों-सांसदों को ये निर्देश दिए हैं.
प्रधानमंत्री ने भारतीय जनता पार्टी की संसदीय दल की बैठक में स्पष्ट किया कि इनकम टैक्स संशोधन बिल का उद्देश्य काले धन को सफेद करना नहीं बल्कि गरीबों से लूटे गए धन को उनके हित में लगाना है.
नोटबंदी के नए फैसले के कारण पुराने इनकम टैक्स बिल में संशोधन किए जाने की ज़रूरत है.

आरबीआई ने दी सशर्त ढील, खत्म हुई 24000 रुपये हर हफ्ते निकासी की सीमा



नई दिल्ली: सोमवार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से सर्कुलर जारी कर शर्त के साथ हर हफ्ते 24000 रुपये निकासी की सीमा में ढील दी है। आरबीआई ने इसमें किसी नई लिमिट का जिक्र नहीं किया है। ऐसा माना जा रहा है कि आरबीआई ने बैंकों से कैश निकासी की सीमा इस शर्त के साथ खत्म कर दी है कि कोई भी व्यक्ति 29 नवंबर से वैध करेंसी (10, 20, 50, 100, 500 और 2000 रुपये के नोट) के रूप में जितना कैश बैंकों में जमा करेंगे उतना ही निकाल सकेंगे। यह लिमिट 24000 रुपये हर हफ्ते की मौजूदा लिमिट के ऊपर होगी। लेकिन अगर आप बैंकों में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट जमा कर रहे हैं तो आप पहले के नियम के मुताबिक एक हफ्ते में सिर्फ 24,000 रुपये ही निकाल पाएंगे। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 8 नवंबर को 500 और1000 रुपये के बड़े नोट बैन करने की घोषणा की थी।
सरल भाषा में समझिए तो यदि आपने आज अपने खाते में 5000 रुपये वैध करंसी के रूप में जमा किये। तो आप इस हफ्ते 24000 + 5000 = 29000 रुपये निकाल सकते हैं। यह फैसला लोगों की सैलरी आने से ठीक पहले सिस्टम में करंसी का प्रवाह बढ़ाने के उद्देश्य से लिया गया है।
इसलिए नहीं निकाल सकते पहले की जमा की हुई रकम:
जानकारी के मुताबिक अब तक राशि की पहले जांच की जाएगी और उन खातों को खंगाला जा रहा है जिनमें नोटबंदी के बाद अचानक बड़ी राशि जमा की गई। इसलिए मौजूदा समय में पहले की जमा राशि आप तय सीमा के मुताबिक ही निकाल पाएंगे।
केंद्रीय बैंकों ने बैंकों को दिए निर्देश:
भारतीय रिजर्व बैंक ने इस संबंध में पब्लिक सेक्टर, प्राइवेट सेक्टर सहित सभी बैंकों के चेयरमैन, एमडी, सीईओ को दिशानिर्देश जारी किए। केंद्रीय बैंक का मानना है कि खातों से निकासी की मौजूदा लिमिट को देखते हुए कुछ जमाकर्ता अपना पैसा अकाउंट्स में जमा करने में संकोच कर रहे थे।
आरबीआई ने क्यों किया फैसला:
आरबीआई का मानना है कि कैश विदड्राल की लिमिट के चलते लोग नई करेंसी बैंकों में जमा नहीं कर पा रहे थे। इस वजह से बाजार में नए नोटों का सर्कुलेशन का सामान्य नहीं हो पा रहा था। ऐसा माना जा रहा है कि सैलरी की तारीख नजदीक आने की वजह से आरबीआई ने यह राहत दी है। इसीलिए आरबीआई ने यह राहतभरा फैसला किया है।
बैंकों में जमा हुए इतने करोड़ रुपये:
आंकड़ों के मुताबिक 500 और 1,000 के पुराने नोटों में कुल 8.45 लाख करोड़ रुपये जमा और बदले जा चुके हैं। यह आंकड़ा 27 नवंबर तक का है। रिजर्व बैंक ने एक बयान में यह जानकारी दी। केंद्रीय बैंक ने कहा कि इस दौरान बैंकों ने काउंटर और एटीएम के जरिए 2.16 करोड़ रुपये वितरित किए हैं। 33,948 करोड़ रुपये के पुराने नोट बदले गए हैं। लोगों ने बैंक काउंटरों या एटीएम के जरिए 2,16,617 करोड़ रुपये निकाले हैं।
-

zhakkas

zhakkas