: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 11/30/16

आजमगढ़ के DM सुहास एलवाई ने बीजिंग पैराबैडमिंटन एशियन चैंपियनशिप में जीता गोल्ड मेडल




आजमगढ़. | जिलाधिकारी सुहास एलवाई (आईएएस 2007 बैच) ने चीन की राजधानी बीजिंग में चल रही पैराबैडमिंटन एशियन चैम्पियनशिप 2016 जीत ली है। उन्होंने कड़े मुकाबले में इण्डोनेशिया के हैरी सुशांतो को मात देते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया। यह चैम्पियनशिप 22 से 27 नवम्बर 2016 तक बीजिंग में सम्पन्न हुई। इस प्रतियोगिता में उन्होंने कुल छह सिंगल मैच जीतकर 25 नवंबर 2016 को क्वार्टर फाइनल जीता। 26 नवंबर 2016 को सेमी फाइनल में कोरिया के क्वांग ह्वान सिन को 21-10 व 21-14 से कड़े मुकाबले में हराकर फाइनल में जगह पक्की कर ली। 27 नवंबर 2016 को इंण्डोनेशिया के हैरी सुशांतों को कड़े मुकाबले में 21-4 व 21-21 से मात देते हुए गोल्ड मेडल जीतकर देश को स्वर्णिम सफलता दिलायी। उन्होंने इस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक प्राप्त कर देश, प्रदेश आजमगढ़ जिले का नाम बैडमिंटन के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ऊंचा किया है। इस ऐतिहासिक उपलब्धि से जनपद में जगह-जगह खुशियां मनायी जा रही हैं सुहास एलवाई प्रशासनिक कार्यो के साथ ही साथ खेल में अत्यंत रूचि रखते है। खेल को अपनी दिनचर्या में सम्मिलित करते सुखदेव पहलवान स्पोर्ट स्टेडियम के बैडमिंटन हाल में नियमित रूप से अभ्यास करते हैं। उनके द्वारा एशियन पैराबैडमिंटन प्रतियोगिता में चीन से स्वर्ण पदक लाना देश के खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा है। उन्होंने कहा कि कोई भी कार्य कठिन नहीं है, बशर्ते उसे उसको पूरी निष्ठा, लगन से किया जाय। इस उपलब्धि पर क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी सहित जनपद के खेल संगठनों के पदाधिकारी एवं सभ्रांत नागरिको द्वारा बंधाई देने का क्रम जारी है।
जिलाधिकारी की जीत ऐतिहासिक: चन्द्रमौली पांडेयक्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी चन्द्रमौलि पाण्डेय ने बताया कि जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने चीन की राजधानी बीजिंग में दिनांक 22 से 27 नवम्बर, 2016 तक आयोजित पैराबैडमिंटन एशियन चैम्पियनशिप, 2016 में ऐतिहासिक सफलता अर्जित करते हुए स्वर्ण पदक प्राप्त कर देश का गौरव बढ़ायाश्री पांडेय ने बताया कि उनके द्वारा एशियन पैराबेडमिंटन प्रतियोगिता में चीन से स्वर्ण पदक लाना देश के खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा है। जिलाधिकारी की बैडमिंटन खेल के क्षेत्र में इस ऐतिहासिक स्वर्णिम उपलब्धि पर जनपद के खेल प्रेमियों एवं खिलाड़ियों व खेल संगठनों के पदाधिकारियों ने हर्ष व्यक्त करते हुए बधाई दी। बधाई देने वालों में दीनानाथ श्रीवास्तव, शिक्षाविद् ’बाबूजी’, अजेन्द्र राय, राजेन्द्र यादव, बजरंग त्रिपाठी, सिद्धार्थ सिंह, जवाहर लाल, प्रवीण कुमार सिंह, विजय शंकर यादव, आनंद देव उपाध्याय, सोनू उपाध्याय, अमित राय, परमहंस सिंह एवं क्षेत्रीय खेल कार्यालय आजमगढ़ के समस्त प्रशिक्षक एवं स्टाफ तथा समस्त खिलाड़ियो ने जिलाधिकारी को बंधाई दिया

पेट्रोल 13 पैसे महंगा-डीजल हुआ 12 पैसे सस्ता, नई दरें आज आधी रात से लागू





नई दिल्ली: आज रात 12 बजे के बाद से देश में पेट्रोल 13 पैसे प्रति लीटर महंगा और डीजल 12 पैसे प्रति लीटर सस्ता हो जाएगा। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों की ओर से हर 15 दिन पर की जाने वाली समीक्षा में आज यह निर्णय लिया गया। गौरतलब है कि देश की तीन बड़ी ऑयल मार्केटिंग कंपनियां इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कच्चे तेल के अंतरराष्ट्रीय मूल्यों के आधार पर ईधन कीमतों की हर 15 दिन पर समीक्षा करती हैं। कच्चे तेल की कीमतों आए उतार-चढ़ाव के आधार पर देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें तय की जाती हैं।

मुख्य शहरों में पेट्रोल के दाम-
ऑयल मार्केटिंग कंपनियों की ओर से की गई बढ़ोतरी के बाद देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की नई कीमतें 66.10 रुपए प्रति लीटर हो जाएगी। वहीं मुंबई में यह दाम 72.46 रुपए प्रति लीटर होंगे। चेंन्नई में नई कीमतें65.58 रुपए प्रति लीटर होगी और कोलकाता में भाव 68.81 रुपए प्रति लीटर हो जाएंगे।
इससे पहले 16 नवंबर को सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन ऑयल कंपनी (आइओसी) ने पेट्रोल के मूल्य में 1.46 रुपए और डीजल में 1.53 रुपए प्रति लीटर की कटौती की थी। पिछले सितंबर से पेट्रोल की कीमत में लगातार छह बार बढ़ोतरी के बाद पहली बार गिरावट आई है। डीजल के मामले में तीन बार की बढ़ोतरी के बाद राहत दी गई थी। पिछले दो महीनों में पेट्रोल छह बार में 7.53 रुपए महंगा हुआ जबकि डीजल का मूल्य तीन बार में 3.90 रुपए बढ़ा।
अगस्त महीने से अबतक कई बार बढ़ चुके हैं पेट्रोल के दाम
31 अगस्त को पेट्रोल की कीमत में 3.38 रुपए प्रति लीटर का इजाफा, 15 सितंबर को पेट्रोल डीजल की कीमतों में इजाफा, 1 अक्टूबर को पेट्रोल की कीमत में 58 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी, 15 अक्टूबर में भी पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाए गए थे। पेट्रोल के दाम जहां 1.34 रुपए प्रति लीटर बढ़े थे तो डीजल के दाम में 2.37 रुपए का इजाफा किया गया था। वहीं 5 नवंबर को तेल कंपनियों ने पेट्रोल की कीमत 89 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 86 पैसे प्रति लीटर का इजाफा कर दिया था।
-

रिजर्व बैंक का निर्देश, फिलहाल जन-धन खातों से हर महीने निकाल सकेंगे सिर्फ 10 हजार रुपये



नई दिल्‍ली | नोटबंदी के फैसले के बाद बैन हो चुके पुराने नोटों के रूप में जन-धन खातों में जमा हो रहे पैसों की बाढ़ को देखते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने अब अहम कदम उठाया है। आरबीआई ने इन खातों से पैसे निकालने की लिमिट तय कर दी है। अब हर महीने जन-धन खातों से कोई 10 हजार रुपये ही निकाल पाएगा। हालांकि, खास परिस्थितियों में इस सीमा से ज्‍यादा रकम भी निकाली जा सकेगी।

आरबीआई की तरफ से बुधवार को जारी निर्देश में कहा गया कि केवाईसी (नो योर कस्‍टमर) नियमों का पूरी तरह पालन करने वाले खाताधारक हर महीने अपने अकाउंट से 10 हजार रुपये निकाल सकेंगे। इसमें आगे कहा गया कि बैंकों के ब्रांच मैनेजर 10 हजार रुपये से ज्‍यादा की निकासी को मंजूरी दे सकते हैं, लेकिन दस्‍तावेजों की पूरी तरह पड़ताल करने और यह देखने के बाद ही कि खाताधारक को वास्‍तव में इससे ज्‍यादा पैसों की जरूरत है।

भारत में जन्मे चार सीईओ फाच्र्युन की वर्ष के उद्यमियों की सूची में शामिल




न्यूयार्क, 30 नवंबर :: माइक्रोसॉफ्ट के सत्या नडेला और मास्टरकार्ड के अजय बंगा सहित भारत में जन्में चार सीईओ को फाच्र्युन की बिजनेस पर्सन ऑफ दि ईयर सूची में स्थान मिला है। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग इस सूची में सबसे शीर्ष पर हैं।

फाच्र्युन पत्रिका की वर्ष के उद्यमियों की इस सूची में सत्या नडेला को पांचवां स्थान मिला है। नडेला के अलावा वाटर हीटर के निर्माता मिलवॉकी स्थित ए.ओ. स्मिथ अजिता राजेन्द्र 34वें स्थान पर, एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निदेशक आदित्य पूरी 36वें और
बंगा 40वें स्थान पर हैं। 

BJP आलाकमान को भा गए मनोज तिवारी, मिली दिल्‍ली की कमान




नई दिल्ली (जेएनएन)। उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद और भोजपुरी अभिनेता-गायक मनोज तिवारी को सतीश उपाध्याय की जगह दिल्ली भाजपा का अध्यक्ष बनाया गया है। उन्हें दिल्ली की कमान दिए जाने से स्पष्ट हो गया है कि भाजपा की नजर पूर्वांचली वोटों पर है।
इनके समर्थन से भाजपा अगले वर्ष होने वाले नगर निगमों के चुनाव में जीत हासिल करना चाहती है। तिवारी के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बनने की चर्चा पिछले कई महीने से थी लेकिन किसी न किसी कारणवश हर बार मामला टल जा रहा था।
मनोज तिवारी के सियासी सुर-ताल, गाना गाकर बताया CM केजरीवाल का हाल
बुधवार सुबह पार्टी हाई कमान ने सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए उनके नाम की घोषणा कर दी। जिसके कुछ देर बाद वह प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचकर पदभार ग्रहण कर लिया। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नेताओं के मार्ग दर्शन और कार्यकर्ताओं की मेहनत से आने वाले चुनावों में भाजपा एतिहासिक जीत हासिल करेगी।



कार्यालय में पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। उनके पदभार ग्रहण करते समय निवर्तमान अध्यक्ष सतीश उपाध्याय के साथ ही केंद्रीय मंत्री और चांदनी चौक के सांसद डॉ. हर्षवर्धन व केंद्रीय खेल राज्यमंत्री विजय गोयल सहित सभी सांसद, दिल्ली प्रदेश भाजपा प्रभारी श्याम जाजू, नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता, प्रदेश भाजपा के सभी पदाधिकारी, जिला अध्यक्ष व अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।
जानिए, पूर्वांचल में लोकप्रिय नेता मनोज तिवारी को क्यों मिली दिल्ली की कमान
पूर्वांचल के मतदाताओं को जोडऩे में मिलेगी मदद
फरवरी 2015 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था। पार्टी को 70 में से मात्र तीन सीटें मिली थी जिसके बाद से ही प्रदेश अध्यक्ष बदलने की चर्चा शुरू हो गई थी लेकिन उस समय उपाध्याय ने अपनी कुर्सी बचा ली थी।
मनोज तिवारी पूर्वांचल के लोगों में खासे लोकप्रिय हैं। इसलिए उनके प्रदेश अध्यक्ष बनने से भाजपा को लाभ मिलेगा। दिल्ली की लगभग 40 फीसद आबादी पूर्वांचलियों की हैं और इसमें से बड़ी संख्या अनधिकृत कॉलोनियों और झुग्गी बस्तियों में रहती है। जहां आम आदमी पार्टी का अच्छा जनाधार है।
बताया जा रहा है कि मनोज तिवारी के नाम पर सहमति तीनों एमसीडी के 13 वॉर्डों में हुए उपचुनावों से पहले ही बन गई थी, लेकिन बीच में उप चुनावों की वजह से प्रदेश अध्यक्ष को बदलने के मसले को कुछ समय के लिए टाल दिया गया था। अब जाकर इसका एलान हुआ है।
मनोज तिवारी का सियासी सुर, केजरीवाल को बताया विदेशी दुश्मन का एजेंट
बिहार के रहने वाले हैं
45 वर्षीय मनोज तिवारी मूल रूप से बिहार के कैमूर जिले के रहने वाले हैं। उन्होंने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) से उच्च शिक्षा हासिल की है।
बीएचयू क्रिकेट टीम के कप्तान भी रह चुके हैं। 2009 में उन्होंने समाजवादी पार्टी के टिकट पर गोरखपुर संसदीय क्षेत्र से पहली बार चुनाव मैदान में उतरे थे लेकिन भाजपा के योगी आदित्यनाथ ने उन्हें भारी मतों से हरा दिया था। उसके बाद 2014 में वह भाजपा में शामिल हुए। भाजपा ने उन्हें उत्तर पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा जहां से जीतकर वह संसद पहुंचे।

फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए क्यूबा पहुंचे राजनाथ





। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बुधवार को क्यूबा पहुंच गए हैं। गृहमंत्री के साथ भारतीय प्रतिनिधिमंडल भी है। बता दें कि शनिवार को क्यूबा के क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्रो का 90 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। कास्त्रो भारत के अभिन्न मित्र थे।

संसद में फिदेल कास्त्रो की दी गई श्रद्धांजलि

संसद के दोनों सदनों में फिदेल कास्त्रो को श्रद्धांजलि दी गई थी और कुछ क्षणों के लिए मौन रखा गया था। राज्यसभा में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने फिदेल कास्त्रो को साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद के खिलाफ एक विजेता बताया और उनकी उपलब्धियों के बारे में सदन को बताया। उन्होंने कहा कि फिदेल कास्त्रो का निधन क्यूबा के लोगों और पूरी दुनिया के लिए एक अपरिवर्तनीय क्षति है।

दुनियाभर के ये नेता होंगे फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल

वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदुरो, इक्वाडोर के राफेल कोरिया, बोलीविया के एवो मोरालेस, निकारागुआ के डेनियल ओर्टेगा, साल्वाडोर सांचेज़, कीरीन के राष्ट्रपति सालवाडोरीन, मेक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना निटो, दक्षिण अफ्रीका के जैकब जुमा, जिम्बाब्वे के रॉबर्ट मुगाबे, यूरोपीय संघ की तरफ से ग्रीक प्रधानमंत्री एलेक्सिस टसिप्रास, आयरलैंड के जरमन एडम्स और स्पेन के पूर्व राजा जुआन कार्लोस शामिल होंगे।

फिदेल कास्त्रो काफी वक्त से बीमार चल रहे थे। फिदेल कास्त्रो का अंतिम संस्कार 4 दिसंबर को किया जाएगा। फिदेल का भारत के साथ बेहद खास लगाव था और वह हमेशा भारत को एक महान देश मानते थे।

सिनेमाघरों में राष्ट्रगान को लेकर लंबे समय से लड़ रहे थे BPL के श्याम नारायण चौकसे





भोपाल। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा है कि देश के सभी सिनेमा हॉल में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान अनिवार्य है। साथ ही राष्ट्रगान के दौरान स्क्रीन पर राष्ट्रीय ध्वज भी दिखाना होगा। SC ने यह आदेश भोपाल निवासी श्यामनारायण चौकसे की एक याचिका के बाद दिया। 

आज का राशिफल 30/11/2016




मेष राशि
स्वामी – मंगल
अराध्य देव – श्री गणेशजी
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – अ, ल, इ
शुभ रत्न – मूंगा
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी
मेष राशि के जातक जन्म से ही नेतृत्व में निपुण होते है. प्रायः ऊर्जा और अति- उत्साह से सभर रहते है. हालाँकि स्वच्छ प्रकृति के मगर अधिक आत्म केंद्रित रहते है. किसी भी कार्य को योजनापूर्वक करने में माहिर हैं. संघर्ष से उचित पद, इज्जत और नाम कमाते है. किसी को अपने पक्ष में खींचने में निपुण है. जो लोग आपके अनुसार कार्य नहीं करते उनके प्रति आपकी धारणा नकारात्मक रहती है. किन्तु मेष राशि के जातक जिन पर प्रसन्न हो जाते हैं उन पर जान भी न्योछावर कर देते हैं.

वृषभ राशि
स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुलस्वामिनी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ब, व और ऊ
शुभ रत्न – हीरा
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
वृषभ राशि के जातकों का स्वभाव गंभीर, स्थिर और व्यव्हार कुशल रहताहै. सौंदर्य से प्रेम करने वाले और शिष्टप्रिय होते है. पुराने विचारों में मानते है. धन और नाम हासिल करते हैं. अपने पुराने विचारों की वजह से लोगों से उंच नीच रहती है. प्रभावपूर्ण वाणी आपकी विेषेषता है. सफलता प्राप्त करने के बाद भी लोगों को साथ में रख कर चलना आपकी आदत है. आप भावुक और ह्रदय से सच्चे है. तत्काल लाभ की अभिलाष रखते हैं मगर उपेक्षा के पात्र बनते है.

मिथुन राशि
स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – हवा
नाम के पहले अक्षर – क, छ, घ
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
मिथुन राशि के जातकों में दुसरो की प्रकृति तथा व्यवहार को तीव्रता से समझ लेते हैं. मिलनसार स्वभाव की वजह से बहुत मित्र होते हैं. किसी भी कठिन बात को बुद्धिपूर्वक आसानी से बोल लेते हैं. आकर्षक और मनोरंजक व्यक्तित्व इनकी विशेषता हैं.

किन्तु अंद्रोनी तौर पर शुभ आचार विचार वाले और एकाग्र होते हैं. किन्तु बुरी सांगत को ले कर अपनी प्रतिभा को नुक्सान करते हैं. साथ ही कुछ मित्रों की संगत से मदद भी मिलती हैं. मिथुन राशि के जातक अधिकतम उदार दिल, बलशाली, चतुर तथा भोग विलास में रस रखनेवाले होते हैं.

कर्क राशि
स्वामी – चन्द्रमा
अIराध्य देव – शंकर भगवान
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – ड, ह
शुभ रत्न – मोती
शुभ रुद्राक्ष – दो मुखी रुद्राक्ष
इस राशि के लोग सौन्दर्यवान और घर परिवार से अत्यधिक मोह रखने वाले होते हैं. भावनात्मक रूप से अपने आप को सुरक्षित रहना चाहते है. इसी वजह से अपनी भावनाओं को सही मायने में प्रस्तुत करने से डरते है.

यह राशि वाले रिश्तों और परिवार में रचे रहते हैं. प्रकृति से लोगों को सुरक्षा देने वाले और अन्य लोगो को पालन पोषण देते हैं. जज्जबाती और देशभक्त तथा मातृभक्त रहते हैं. इनकी प्रकृति लोगों की समझ में जल्द नहीं आती. ऊपर से भावनाहीन मगर अंदर से मोम जैसा व्यक्तित्व और प्रेमी स्वभाव रहता हैं.

सिंह राशि
स्वामी – सूर्य
अIराध्य देव – सूर्य भगवान
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – म, ट
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – एक मुखी रुद्राक्ष
सिंह राशि के जातक किसी के सामने झुकना पसंद नहीं करते. स्वभाव से उत्साही, निर्भयी, क्रोधी, वीर, स्वतन्त्र और कठिन परिस्थितियों में भी विचलित न होने वाले व्यक्ति होते हैं. सन्तोषपूर्ण होने के कारन आर्थिक उन्नति नहीं कर पाते. अकेले रहना अधिक पसंद करते हैं जिसकी वजह से जीवन में कठिनाइयां रहती है. सिंह राशि के जातक अधिकतम अपने शोख़ को अपना पेश बनाते हैं. ह्रदय से आप दूसरों का भला हमेशा चाहते हैं मगर आपका अहंकार आपको दुसरो से जोड़ने में रुकावटें पैदा करता हैं. जन्म से ही आप संचालन और नेतृत्व की शक्तियां रखते हैं.

कन्या राशि
स्वामी – बुध
अIराध्य देव – कुबेर
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – प, ठ, ण
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – चार मुखी रुद्राक्ष
कन्या राशि के जातक स्वभाव से अधिक दृढ़ निश्चयी और कुछ अंश तक जिद्दी भी होते हों. एक बार जो सोच लेते है उसे पूरा कर के ही दम लेते हैं. सञ्चालन में कुशल, कलाओं में निपुण और धनी रहते हैं. वाणी में मधुरता, बुद्धिमता, विचारशीलता और व्यवहारिकता इनकी खासियतें हैं. स्वच्छता के अति आग्रही और हर कार्य को व्यवस्थापूर्ण करना चाहते हैं. मेहनती और सफलता को तीव्रता से पाने वाले व्यक्ति हैं. किन्तु सांसारिक जीवन में भाग्यशाली नहीं होते. ह्रदय से रोमांटिक रहते हैं किन्तु भावनाओं को प्रदर्शित करने में विश्वास नहीं रखते. इसकी वजह से प्रेम सम्बन्धो और वैवाहिक सम्बन्धो में सफलता नहीं मिलते.

तुला राशि
स्वामी – शुक्र
अIराध्य देव – कुल स्वामिनी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – र, त
शुभ रत्न – पन्ना
शुभ रुद्राक्ष – छह मुखी रुद्राक्ष
तुला राशि के जातक जन्मजात कुशल राजनीतिज्ञ, विचारशील और चतुर होते हैं. स्वभाव संतुलित रहता है और हर वस्तु को सम्पूर्ण समीक्षा और परिक्षण के बाद समझते हैं. आज्ञा के पालक रहते हैं. सौंदर्य और सुघड़ता को बहुत पसंद करते हैं. दूरदर्शिता से भरपूर आपका स्वभाव कार्य क्षेत्र में अच्छी तरक्की करवाता हैं.

वाणी और स्वभाव आनंदित रहने की वजह से लोगों में प्रिय बने रहते हैं. सभी राशियों में अत्यधिक आकर्षण पैदा करने वाला व्यक्तित्व रखते हैं. किन्तु कुछ परिस्थितियों में अत्यधिक हताश हो जाते हैं. निर्णय लेने से पहले आयाम और अंजाम के विषय में अत्यधिक सोचते हैं.

वृश्चिक राशि
स्वामी – मंगल
अIराध्य देव – गणेशजी
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – न, य
शुभ रत्न – माणिक्य
शुभ रुद्राक्ष – तीन मुखी रुद्राक्ष
वृश्चिक राशि के जातक तीक्ष्ण बुद्धि के मालिक होते है. बोले हुए वचन को दृढ़ता से पालनेवाले, थोड़े घमंडी, किसी भी विषय का बारीकी से निरिक्षण करने में निपुण और महत्वकांशी रहते हैं. धार्मिक विचार रखते हैं और हर कार्य को कुशलतापूर्वक करते हैं. अन्य लोगो के स्वभाव, शक्तियों और कमजोरियों को तीव्रता से समझने का गुण रखते हैं. मित्र बनाने के शौकीन और प्रशंसा पाने के अभिलाषी रहते हैं. इनकी दोस्ती जितनी लाभदायी रहती है उतनी ही इनकी दुश्मनी कष्टदायक रहती हैं. मन में जो विचार है उसे प्रस्तुत करने में हिचकिचाते नहीं. स्वभाव से ईर्ष्यालु भी रहते हैं.

धनु राशि
स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – अग्नि
नाम के पहले अक्षर – भ, ध, फ, ढ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
धनु राशि के लोग शांतिप्रिय, स्पष्टवक्ता, सत्य के आग्रही, मिलनसार, निडर, वफादार और जिज्ञासु रहते हैं. सत्य और ज्ञान की खोज आपकी प्रकृति है. नेतृत्व का कौशल रखते हैं. मौज शौख के शौकीन होते है और जहाँ जाते हैं लोगों के आकर्षण का केंद्र बनते हैं. अपने कौशल्य और स्वभाव से इन्हे दूसरों पर अधिकार जाताना काफी अच्छा लगता है. शौकीन और दूसरों का ख्याल रखने की प्रकृति निजी सम्बन्धो में सफलता दिलाती है. ह्रदय से बहुत दयालु और मदद करने की भावना रखते हैं.

मकर राशि
स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – पृथ्वी
नाम के पहले अक्षर – ख, ज
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
मकर राशि वाले धनि और सुन्दर होते हैं. कार्य को अपना जीवन मानते हैं और कार्यस्थल पर समय व्यतीत करना अधिक पसंद करते हैं. मौज शौख में काम रूचि रहती है. इस राशि के लोग दोहरे विचार रखते हैं. अपने लक्ष्य के प्रति सम्पूर्ण सम्भान और प्रयत्नशील रहते हैं. रहस्यों और आध्यात्मिक बातों में रूचि रखते हैं. कार्यों को स्वयं पूरा करने में विश्वास रखते हैं. दूसरों का हस्तक्षेप पसंद नहीं करते. ऊँचे विचार वाले और धन कमाने का अच्छा सामर्थ्य रखते हैं. उपकारों को कभी भूलते नहीं.

कुम्भ राशि
स्वामी – शनि
अIराध्य देव – शनिदेव, हनुमानजी
तत्व – वायु
नाम के पहले अक्षर – ग, स, श, ष
शुभ रत्न – नीलम
शुभ रुद्राक्ष – सात मुखी रुद्राक्ष
कुम्भ राशि के लोग अधिकतर परोपकारी और प्रेमी स्वभाव के होते है. किसी पर जल्दी मोहित हो जाते है. परोपकारी होने पर भी किसी के विरुद्ध षड़यंत्र रच सकते है. ह्रदय की बातों को छुपाने में माहिर होते है. कला, संगीत, शिल्प और साहित्य में रूचि रखने वाले हैं. भावनाओं और बातों को गुप्त रखने की वजह से मानसिक और शारीरिक रूप से कष्ट उठाते है. सौंदर्य के पुजारी होते है और आगे बढ़ने की इच्छा हमेशा रखते हैं. जो भी कार्य करते है उसे पुरे दिल से संपन्न करते हैं. किन्तु तीव्र क्रोध आपका सबसे बड़ा अवगुण है.

मीन राशि
स्वामी – बृहस्पति
अIराध्य देव – दत्तोत्रय
तत्व – जल
नाम के पहले अक्षर – द, च, थ, झ
शुभ रत्न – पुखराज
शुभ रुद्राक्ष – पांच मुखी रुद्राक्ष
मीन राशि के लोग अत्यंत शांत, सौम्य, करुणामय स्वभाव के और आकर्षक व्यक्तित्य के मालिक हैं. अपनी हर गलती पर माफ़ी मांग लेते हैं. अध्यात्म और ईश्वर भक्ति में लीन रहते हैं. गंभीर और दोहरे स्वभाव के बावजूद भी आपके विचार हमेशा सरल और अच्छे रहते हैं. दूसरों के बारे में इतना अधिक सोचते हैं की दुसरो के दर्द को स्वयं बर्दाश्त कर लेते है. अन्य के लिए अपने खुशियों को त्यागना पसंद करते हैं. गलत और सही के बीच में निर्णय लेने में हमेशा मानसिक रूप से त्रस्त रहते हैं. किन्तु सहानुभूति, बेफिक्र और उदार स्वभाव की वजह से लोगों में प्रिय रहते हैं.

zhakkas

zhakkas