: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 12/03/16

जनधन खाते में आए 'अवैध' पैसे को मत निकालिए : मुरादाबाद में परिवर्तन रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील






मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश से गरीबी को मिटाना है तो पहले बड़े राज्यों से गरीबी हटानी होगी.
उन्होंने कहा कि यूपी से चुनाव इसलिए नहीं लड़ा कि पीएम बनूं बल्कि इसलिए कि यह सबसे बड़ा राज्य है. यहां पर गरीबी से लड़ाई लड़ना है, हिंदुस्तान से गरीबी को मिटाना है, इसलिए यहां से चुनाव लड़ा.

पीएम मोदी ने कहा कि विकास होगा तो रोजगार आएगा, बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगा. बुजुर्गों का अच्छा इलाज होगा. घर में बिजली और पानी मिलेगी. पीएम मोदी ने कहा कि विकास हमारी प्राथमिकता है. मुरादाबाद जो पीतल के काम के कारण दुनिया में जाना जाता है उसके आस पास 1000 ऐसे गांव है जहां बिजली नहीं है. उन्होंने कहा कि 'इन गांव से मुझे किसी ने चिट्ठी नहीं लिखी, कि आप यूपी के सांसद हो. अब यहां का काम करो. मैंने खुद अधिकारियों को बुलाया और पूछा कि कितने गांव है यहां पर जहां बिजली का खंभा तक नहीं लगा है. मुझे बताया गया कि 18000 गांव यूपी में ऐसे हैं जहां पर बिजली नहीं है.'

पहले की सरकारों पर हमला करते हुए पीएम ने कहा घोषणा करने वाली बहुत सरकारें देखी होंगी, लेकिन घोषणा करके काम करने वाली यह पहली सरकार है, जनता को काम का और पैसे का पूरा हिसाब दिया जा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि जो काम 70 साल में नहीं हुआ. उसको करने में कुछ समय लगेगा. मैंने 1000 दिन में यह काम पूरा करने की घोषणा की थी. अभी आधे  दिन भी नहीं हुए हैं लेकिन 950 गांव में बिजली पहुंचाने का काम पूरा किया गया है.

पीएम मोदी ने कहा कि जिस गांव में बिजली गई उस गांव में बच्चों की शिक्षा में बदलाव आएगा. मांओं को भी आराम होगा. गेहूं पीसने के लिए दूसरे गांव नहीं जाना होगा. बिजली से किसानों की पानी की समस्या दूर होगी. उन्होंने कहा कि सरकारें घोषणाएं करने के लिए नहीं होती हैं, सरकारें घोषणाएं करने के बाद काम पूरा करने के लिए होती हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश में विकास के काम का जिक्र किया. मध्य प्रदेश में बीजेपी की सरकार की वजह से वह बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर हो गया. पीएम मोदी ने कहा कि मध्य प्रदेश के किसानों ने पानी की कमी के बावजूद दोगुना उत्पादन कर देश की तरक्की में योगदान दिया है.

यूपी की राजनीति पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अपने-अपनों के लिए काम करने वाली सरकारें आपने देखी हैं, लेकिन केवल बीजेपी ही ऐसी सरकार लाएगी जो लोगों के लिए काम करेगी.

पीएम मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार इस देश की सर्वाधिक मुसीबतों की जड़ में है. भ्रष्टाचार को खत्म करना चाहिए. भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए कुछ लोग मुझे गुनाहगार कह रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि हिंदुस्तान की पाई-पाई पर देश के लोगों का हक है.

पीएम मोदी ने कहा कि 'हम तो फकीर आदमी है, झोला लेकर चल पड़ेंगे. ये भ्रष्टाचारी ज्यादा से ज्यादा क्या कर लेंगे. इस फकीरी ने मुझे गरीबों के लिए लड़ने की ताकत दी है. बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ था, गरीबों के नाम पर हुआ था. लेकिन इस देश के गरीबों को बैंक के दरवाजे तक जाने का मौका नहीं मिला.नोटों के बंडल छिपाकर रखे हुए थे, अब इसकी जांच हो रही है, अब यह बाहर आ रहा है.


पीएम मोदी ने कहा कि नोटबंदी के बाद अमीर गरीब के पैर पकड़ रहा है. बैंक में वो जा नहीं सकते है. बेईमान लोग गरीबों के घर के बाहर कतार लगाए हुए. गरीब और ईमानदार लोग बैंकों के सामने लाइन लगाए हुए हैं. पीएम मोदी ने कहा, जनधन खाता लोगों के काम आ रहा है. पहले चीनी, मिट्टी के तेल के लिए लाइन में लोगों का लगना पड़ता था. लेकिन अब यह सब कतारें समाप्त हो गई हैं.

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि 'जनधन खातों में जो भी पैसे आए उनको वहीं रखना. मैं इसे सही करने में लगा हूं. गरीबों को लूटकर यह पैसा इकट्ठा किया गया है.' पीएम मोदी ने कहा कि नोटबंदी के बाद से कई लोगों के चेहरे से रौनक चली गई है. अब वे पूरा दिन मोदी-मोदी कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि देश की जनता को मालूम है कि यह प्रयास ईमानदारी का प्रयास है और देश की जनता इसलिए कष्ट झेलने को तैयार है. सामान्य नागरिक बेईमानी से तंग आ चुका है. पीएम ने कहा कि आम आदमी बेईमानी नहीं चाहता है. पीएम मोदी ने आगे कहा कि ईमानदारी के लिए जो भी रास्ते बनेंगे, हर रास्ते पर देश को ले जाऊंगा.

पीएम मोदी ने कहा कि मोबाइल फोन से बैंकिंग के लिए लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि मोबाइल फोन से सारा खर्च हो सकता है. पीएम मोदी ने कहा कि यहां पर लोग ईवीएम में बटन दबाकर वोट देते हैं जबकि कई विकसित देशों में ठप्पा लगाकर अभी भी वोट दिया जाता है. पीएम मोदी ने 

परिवर्तन यात्रा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मुरादाबाद रैली की 12 बड़ी बातें click




मुरादाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी की परिवर्तन रैली को सम्बोधित करते हुए शनिवार को विरोधियों पर जमकर निशाना साधा. यूपी के मुरादाबाद में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने नोटबंदी से लेकर यूपी के विकास तक की बातें की. जानें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुरादाबाद रैली की 10 बड़ी बातें…



1- ‘डेबिट कार्ड दे दो मैं भीख ले लेता हूं’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले पर लोगों के समर्थन का दावा करते हुए आज सोशल मीडिया पर आए संदेश में एक भिखारी का जिक्र किया, जो भीख के पैसे डेबिट कार्ड से लेने को कहता है. मोदी ने कहा, ”व्हाटस ऐप पर किसी ने दिखाया कि कोई भिखारी कार में भिक्षा मांगने गया. कार में जो बैठे थे, उन्होंने कहा कि छुटटे पैसे नहीं है हालांकि हम तेरी मदद तो करना चाहते हैं. इस पर भिखारी बोला कि चिन्ता मत करो. उसने स्वाप मशीन निकाली और कहा डेबिट कार्ड दे दो, मैं ले लेता हूं.”

2- जनधन खातों का पैसा गरीबों का होगा: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां शनिवार को कहा कि जनधन खाते में अमीर पैसा जमा कर रहे हैं. कोई अमीर कितना ही दबाव बनाए, जनधन खाते से पैसा मत निकालिए, क्योंकि ऐसा कोई रास्ता निकालूंगा कि वो पैसा गरीबों का हो जाए और जिसने जमा कराया, उसे जेल जाना पड़ेगा.

मोदी ने कहा, “भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहा हूं. आज कुछ लोग मुझ पर आरोप लगा रहे हैं. लेकिन ज्यादा से ज्यादा ये लोग मेरा क्या कर लेंगे? हम तो फकीर आदमी हैं, झोला लेकर चल देंगे.”

3- हमारा समर्थन करने के लिए मुरादाबाद को सिर झुका कर नमन

मोदी ने कहा, “मुरादाबाद आने से पहले थोड़ा संकोच कर रहा था, क्योंकि मैं बहुत सालों बाद यहां आ रहा था. 2009 में यहां आया था, उसके बाद मन में संकोच होता था कि जिस मुरादाबाद ने मुझे इतना प्यार दिया, वहां पहुंचने में देरी हुई. हमारा समर्थन करने के लिए मुरादाबाद को सिर झुका कर नमन करता हूं.”



प्रधानमंत्री ने कहा, “मैं प्रदेश की सरकार से पूछना चाहता हूं कि क्या कारण है कि मुरादाबाद पीतल की वजह से पूरी दुनिया में जाना जाता है, लेकिन आएसपीस के गांवों में बिजली नहीं है.” उन्होंने कहा कि यूपी में गरीबों की भलाई करनी है, इसलिए वह यूपी से सांसद बने. उन्होंने कहा, “विकास हमारी पहली प्राथमिकता है. प्रदेश में विकास होगा तो रोजगार आएगा.”

4- जैसे वाट्सएप से मैसेज भेजते हैं, वैसे ही कर सकते हैं ऑनलाइन ट्रांजक्शन

पीएम ने कहा कि इस देश में 70 साल से चली आ रही भ्रष्टाचार की बीमारी को खत्म करने के लिए कैशलेस ट्रांजेक्शन को अपनाना होगा. पिछली सरकारों ने नोट छाप-छाप कर इस देश में भ्रष्टाचार को बढ़ाया है. अब ऐसा नहीं होगा. जैसे आप वाट्सएप से मैसेज भेजते हैं, वैसे ही आप ट्रांजक्शन भी कर सकते हैं.

ज्ञात हो कि इसके पहले मोदी 14 नवंबर को गाजीपुर में, 20 नवंबर को आगरा और 27 नवंबर को कुशीनगर में परिवर्तन रैली की थी. इसके बाद वह 11 दिसंबर को बहराइच व 19 दिसंबर को कानपुर में परिवर्तन रैली को संबोधित करेंगे.

5- आखिरी बार कतार लगवा रहा हूं: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

भारत को ‘बेईमानों’ से मुक्ति दिलाने का संकल्प दोहराते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी के बाद बैंकों और एटीएम के आगे लंबी कतारें लगने पर आज कहा कि मिटटी का तेल और चीनी के लिए 70 साल से कतारें लगा रही जनता से वह आखिरी बार कतार लगवा रहे हैं. देश को नकद लेनदेन से मुक्ति दिलाने का आहवान करते हुए मोदी ने मोबाइल के जरिए खरीद फरोख्त करने का सुझाव दिया और नौजवानों से अपील की कि वे देशवासियों को मोबाइल के जरिए लेनदेन करना सिखायें.

पीएम ने कहा, ”आपने वो सरकारें अब तक देखी हैं जो अपने लिए काम करती हैं. अपनों के लिए करने वाली सरकारें बहुत आयीं. आपके लिए करने वाली सरकार बीजेपी ही हो सकती है.” मोदी ने कहा, ”इस देश को भ्रष्टाचार ने बर्बाद किया है. इस देश को भ्रष्टाचार ने लूटा है. गरीब का सबसे ज्यादा नुकसान किया है. गरीब का हक छीना है. हमारी सभी मुसीबतों की जड में भ्रष्टाचार है.

6- हम तो फकीर आदमी हैं, झोला लेकर चल पडेंगे: PM मोदी

कानून का उपयोग करके बेईमान को ठीक करना होगा. भ्रष्टाचार को ठिकाने लगाना होगा.” उन्होंने पूछा, ”अगर कोई ये काम करता है तो वह गुनाहगार है क्या ? कोई भ्रष्टाचार के खिलाफ लडता तो गुनाहगार है क्या ? मैं हैरान हूं कि आजकल मेरे ही देश में कुछ लोग मुझे गुनाहगार कह रहे हैं. क्या मेरा यही गुनाह है कि भ्रष्टाचार के दिन पूरे होते जा रहे हैं ? क्या यही मेरा गुनाह है कि गरीबों का हक छीनने वालों को अब

7- बैंक के बाहर तो वो कतार लगाता है जिसमें ईमानदारी का माद्दा

मोदी ने कहा कि पहले नोटें छपती थीं और महंगाई बढ़ रही थी और नोटों के बंडल कहीं छिप जाते थे. ”मैं अभी पीछे लगा हूं…निकालो आ रहा है…आपने देखा होगा कोने कोने से. कुछ लोग तो गरीबों के पैर पकड़ रहे हैं. ऐसा करो कि मेरा दो तीन लाख रूपये खाते में डाल दो. कभी किसी अमीर को गरीब के पैर पकड़ते नहीं देखा था. आज जिन बेईमान लोगों ने पैसा जमा किया है वो गरीबों के घर पर भी कतार लगाकर खड़े हैं. बैंक के बाहर तो वो कतार लगाता है जिसमें ईमानदारी का माद्दा होता है. बेईमान गरीबों के घर के बाहर चोरी चुपके कतार लगाये हुए हैं.”

उन्होंने कहा कि जब जनधन खाता खोला गया था तब गरीबों को भी पता नहीं था कि ये कैसे काम आएगा. ”अब बताइये .. काम आ रहा है कि नहीं ? मैं देश के सभी जनधन खाते वाले गरीबों को कहना चाहता हूं कि जिसका भी पैसा बैंक में रखा है वो उठाइये मत. एक रूपया मत उठाइये. वो आपके घर के चक्कर काटेगा, आपके पैर पकडेगा.”

8- कतारों को खत्म करने के लिए मैंने लगायी है ये आखिरी कतार 

मोदी ने नोटबंदी के कारण हो रही परेशानियों के निदान के लिए 50 दिन का समय मांगते हुए कहा, ”ये कतार कतार की चर्चा करने वाले नेताओं से पूछना चाहता हूं…भूल गये कि चीनी के लिए भी कभी कतार में खडा रहना पडता था. मिटटी के तेल के लिए कतार लगानी पडती थी…आपने (अन्य दल) इस देश को कतार में 70 साल तक खड़ा किया है. उन कतारों को खत्म करने के लिए ये मैंने आखिरी कतार लगायी है.”



उन्होंने जनधन खाताधारकों से अपील की कि जितने पैसे उनके बैंक में आये हैं, कोई कितना भी दबाव डाले उसे नहीं निकालें. ”अगर रखे रखा तो मैं कोई रास्ता खोजूंगा. मैं दिमाग लगा रहा हूं अभी. दिमाग खपा रहा हूं. गरीब के खाते में जिन्होंने गैर कानूनी ढंग पैसा से डाला है वो जाए जेल में और गरीब के घर में जाए रूपया.”

9- ”पहले पूरा दिन मनी-मनी करते थे, अब मोदी मोदी बोल रहे हैं”

मोदी बोले, ” मैं हैरान हूं. आपने देखा होगा अच्छे-अच्छे लोगों के चेहरे से चमक चली गयी है. पहले पूरा दिन मनी मनी करते थे अब मोदी मोदी बोल रहे हैं. मैं देशवासियों को फिर कहता हूं कि आपको कष्ट हो रहा है और देश के लिए आप कष्ट झेल भी रहे हैं. लोग आपको आकर भड़काने की कोशिश करते हैं.”


उन्होंने कहा, ”लोग दो तीन घंटे से खडे हैं. बैंक पैसा नहीं दे रहा है लेकिन कोई गुस्सा नहीं कर रहा है क्योंकि देश की जनता के इरादे नेक हैं. जनता को पता है कि ये ईमानदारी का प्रयास है. जब विश्वास हो जाता है तो ये देश कुछ भी सहने को तैयार होता है, ये मैंने अनुभव किया है.” मोदी ने कहा कि देश का सामान्य नागरिक बेईमानी से तंग आ चुका है. आज देश के सवा सौ करोड लोगों ने कष्ट झेलकर भी इस लडाई को अपने कंधों पर उठा लिया है क्योंकि देश का सामान्य नागरिक बेईमानी नहीं चाहता.

10- ”मैं मेरे देशवासियों की तपस्या को बेकार नहीं जाने दूंगा”

मोदी ने कहा कि देश में ऐसी हवा बन गयी थी कि सरकार नाम की कोई चीज नहीं है. नेताओं की जेब भर दो, काम चल जाएगा. अब वो नहीं चलेगा. पुराने रास्ते बंद हो चुके हैं. असहाय लोगों को आज लगने लगा है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लडाई को जीतना है.

उन्होंने कहा, ”मैं देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि आपने जो मेहनत की है…घंटों कतार में बिना खाये पिये खडे रहे हैं…मैं मेरे देशवासियों की तपस्या को बेकार नहीं जाने दूंगा. ईमानदारी के जितने रास्ते मुझे सूझेंगे, मैं देश को उस रास्ते पर ले जाने के लिए कोई कमी नहीं रहने दूंगा, ये विश्वास दिलाना चाहता हूं.”

11- ‘नोट छाप-छाप कर हम बेईमान की मदद नहीं करना चाहते’

मोदी ने जनता से अपील की कि वह मोबाइल पर कारोबार सीखे. ये कोई मुश्किल कार्य नहीं है. बहुत आसानी से पैसे देकर माल खरीदा जा सकता है. वक्त बदल चुका है. ”बेईमानी के सारे दरवाजे बंद करने के लिए मुझे मदद चाहिए. नोट छाप-छाप कर हम बेईमान की मदद नहीं करना चाहते. मैं रात दिन लगा हूं. आपकी तकलीफ मेरी तकलीफ है.


मोदी ने नोटबंदी से किसानों को समस्या होने की विपक्ष की दलील को खारिज करते हुए कहा, ” मैं किसानों का विशेष रूप से वंदन करना चाहता हूं कि तकलीफ के बावजूद बुवाई में कमी नहीं आयी. पिछले साल से बुवाई बढी है. वो (विरोधी) भ्रम फैला रहे हैं और निराशा का वातावरण पैदा कर रहे हैं.”

उन्होंने कहा कि देश सशक्त है और देश का नौजवान सशक्त है. जिस देश के पास 65 प्रतिशत लोग 35 साल से कम उम्र के हों वो नौजवान देश को कहीं से कहीं पहुंचा सकता है.

12- देश के विकास के लिए यूपी की गरीबी मिटाना आवश्यक: मोदी

मोदी ने कहा कि देश के सही विकास के लिए उत्तर प्रदेश की गरीबी हटाना बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा, “हम चाहते हैं कि हिंदुस्तान से गरीबी मिटनी चाहिए. भारत से गरीबी मिटनी चाहिए, बड़े प्रदेश से गरीबी खत्म ह

मुरादाबाद में दो जगह पर होगा पीएम मोदी का स्वागत






मुरादाबाद । प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार पीतलनगरी मुरादाबाद आ रहे नरेंद्र मोदी का आज दो जगह पर स्वागत किया जाएगा। यह शहर आज उनकी अगवानी को लेकर तैयार है।
प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी पहली बार मुरादाबाद आ रहे हैं। उनके आगमन पर मंडल के सभी भाजपाई उत्साहित नजर आ रहे हैं। स्वागत करने वालों की सूची में नामों की काटछांट करने के बाद दोपहर में संगठन ने एसपीजी को वह सूची सौंप दी। प्रधानमंत्री का हेलीपैड पर लोक सभा पालक गोपाल अंजाम समेत 15 लोग स्वागत करेंगे। फ्लीट रुकने से लेकर मंच पर चढऩे के दौरान एक दर्जन लोगों से वह मिलेंगे। मंच पर वहां मौजूद 26 अतिथि उनका स्वागत करेंगे। एक स्थान पर स्वागत करने वाला दूसरे स्थान पर स्वागत नहीं कर पाएगा। सभी जगह एसपीजी की निगरानी में भाजपाई प्रधानमंत्री के नजदीक पहुंच सकेंगे। हेलीपैड एवं मंच के पास स्वागत एवं मिलने वालों के परिचय पत्र जारी किये हैं, बाकी अन्य कोई मोदी के नजदीक नहीं पहुंच सकेगा।
यह भी पढ़ें - आजम खां ने किया मुख्यमंत्री अखिलेश को अपमानित : मायावती
मंचासीन लिस्ट में कट सकते हैं छह नाम
प्रधानमंत्री के साथ मंच साझा करने के लिए 24 लोगों की सूची पहले भेजी गई थी। सूची में सह प्रभारी वीरेंद्र ने संगठन के शिव प्रकाश का नाम शमिल किया । 26 नामों की संशोधित सूची भेजी है। इनमें प्रधानमंत्री, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर, प्रदेश अध्यक्ष कैशव प्रसाद मौर्य, कैबिनेट मंत्री संजीव बालियान, क्षेत्रीय अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह समेत चार विधायक, छह सांसद, छह जिलाध्यक्षों के नाम शामिल हैं। इनमें से छह नाम कट सकते हैं।
भाजपा ने झोंकी ताकत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में अधिक से अधिक लोग पहुंचे। इसके लिए भाजपा कार्यकर्ताओं ने पूरी ताकत झोंक दी। अंतिम दिन-घर जाकर संपर्क कर आमंत्रण दिया। आमंत्रण चौपाल आयोजित करके सभा में पहुंचने का आह्वान किया। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष मनोज गुप्ता के नेतृत्व में मोटर साइकिल रैली काजीपुरा, लोदीपुर, जवाहर नगर आदि क्षेत्रों से निकली। इस दौरान क्षेत्रीय निवासियों से सभा में पहुंचने को आमंत्रण दिया गया। कटघर गोविंद नगर मंडल में अरविंद सिंह ने अपने क्षेत्र में घूमकर लोगों से पहुंचने की अपील किया। वहीं महिला मोर्चा से जुड़ी प्रिया अग्रवाल ने महिलाओं के साथ क्षेत्र में संपर्क कर अधिक से अधिक महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित की।
यह भी पढ़ें - नोटबंदी आजाद भारत में अब तक सबसे बड़ा घोटालाः अरविंद केजरीवाल
मंच पर रहेंगी काली कुर्सियां
मंच के लिए 24 कुर्सियां मंगाई गई हैं। 12-12 कुर्सियों की दो लाइनें रहेंगी। काले रंग की कुर्सियों पर लाल रंग की गद्दी रहेगी। नई कुर्सियों को मुजफ्फरनगर से मंगाया गया है। फाइबर की कुर्सियां वजन में बहुत हल्की हैं।खुलेगा रेलवे का अतिरिक्त बुकिंग काउंटर
प्रधानमंत्री की सभा के बाद ट्रेनों से वापस लौटने वाली भीड़ के लिए अतिरिक्त बुकिंग काउंटर खोला जाएगा। यात्रियों की सूचना देने के लिए इंक्वायरी कक्ष को भी सक्रिय किया गया है। स्टेशन व ट्रेनों की सुरक्षा डीआइजी रेलवे की निगरानी में होगी। प्रधानमंत्री आज परिवर्तन महा रैली की सभा को संबोधित करने महानगर आ रहे हैं। रेलवे प्रशासन ने आने वाली भीड़ और सुरक्षा के लिए कमर कस ली है। रेल प्रशासन ने ट्रेनों से आने वाली भीड़ को सभा स्थल की जानकारी देने की व्यवस्था की है। रैली में जाने वाले यात्री स्टेशन पर स्थित इंक्वायरी कक्ष से जानकारी कर सकते हैं। कर्मचारी रैली स्थल तक पहुंचने की जानकारी देंगे। सभा खत्म होने के बाद ट्रेनों से जाने वाली भीड़ के लिए अतिरिक्त बुकिंग काउंटर खुलेगा। स्टेशन अतिरिक्त स्टाफ लगाया गया है। दूसरी ओर ट्रेनों स्टेशनों की सुरक्षा डीआइजी रेलवे दलवीर सिंह यादव की निगरानी में होगी। यादव सुबह ही मुरादाबाद पहुंच जाएंगे। जिला प्रशासन ने जीआरपी को अतिरिक्त फोर्स व फायर ब्रिगेड भी उपलब्ध कराई है। ट्रेनों की जांच के लिए आरपीएफ के डॉग स्क्वायड लगाया गया है। जीआरपी ने सुरक्षा के लिए सरकुलेटिंग एरिया में दो बंकर बनाए हैं। प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक विवेक शर्मा ने बताया कि रेल प्रशासन ने भीड़ के लिए विशेष व्यवस्था की है।

नेहरू इंटर कॉलेज परौली में पातांजलि योग शिविर में छात्र छात्राएं ने भाग लिया




आज दिनांक 3 -12-2016 को ग्राम परौली में नेहरू इंटर कॉलेज   पातांजलि में योग शिविर लगा जिसमें छात्र छात्राएं में सहयोग किया

धन्य..धन्य नोटबंदी, जन-जन के खाते खुल गए





नौै नवंबर को नोटबंदी के बाद जनधन के 2.90 लाख खाते नए खुल गए। इन खातों में से अधिकांश में धनराशि भी जमा हो गई है। इनमें  एक सौ रुपये से लेकर 48 हजार रुपये तक जमा हुए हैं। इससे पहले खुले जनधन खातों को सक्रिय करने के लिए बैंकों की ओर से इन ग्राहकों को जागरुक किया गया था लेकिन वह एक सौ रूपये भी जमा नहीं करा रहे थे। अब 30 नवंबर तक तेजी से जनधन खाते खुले और उनकी संख्या बढ़कर 11.23 लाख हो गई।

जिले के गांवों और मलिन बस्तियों में जनधन खाते खोलने के लिए बैंकों के कमीशन एजेंट लगा दिए हैं। बैंकों का उद्देश्य से है कि सभी लोगों के खाते खुले और वह बैंक  तथा एटीएम के माध्यम से निकासी कराएं। बैंकों क ो इस प्रयास में अप्रत्याशित सफलता मिल रही है। इसी का परिणाम है कि एक महीने के दौरान इतनी संख्या खाते खुल गए। इनमें से अधिकांश खाते गांव, शहर और कस्बों के मलिन बस्ती वाले इलाकों में खुले हैं।
इन खातों को खुलवाने के पीछे बैंकों और सरकार की मंशा उनकी बेहतरी की है। अब इनके खातों में  एक सौ से लेकर 48 हजार रुपये तक जमा हो रहे हैं। यह आंकड़ा जिले की सभी 525 बैंक शाखाओं का है। इन बैंकों के आंकड़े बताते हैं कि सितंबर - अक्तूबर तक जिले में 8.33 लाख खाते खुले थे। इनमें से 6.75 लाख खातों को रुपे कार्ड (एटीएम) दे दिए गए हैं। इन सभी से थोड़ी - थोड़ी धनरशि की निकासी भी हो गई है।
इन खातों में अब तक की जमा राशि का सही ब्योरा बैंकों से नहीं मिला है। दस दिन पहले तक इन खातों में दो अरब रुपये जमा हो गए थे। उसके बाद करीब 50 करोड़ से अधिक धनराशि नए और पुराने खातों में जमा होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। इतना ही नहीं जमा के साथ-साथ अधिकांश इन खातों से 10-10 हजार रुपये तक की निकासी भी हो चुकी है।
प्रमुख बैंक वार जनधन खातों का ब्योरा
बैंक                          खातों की संख्या(लाख में)
स्टेट बैंक आफ इंडिया          2.10
बैंक आफ बड़ौदा               2..01
ग्रामीण बैंक आफ बडौ़दा        1.99
कैनरा बैंक                       1.85
पीएनबी                          1.02
इलाहाबाद                         0.56
यूको                               0.46
यूनियन बैंक                         0.45
सेंट्रल बैंक आफ इंडिया             0.44  
स्टेट बैंक आफ पटियाला            0. 38
जिला सहकारी बैंक                  0.13
अरबन कोआपरेटिव बैंक            0.12

‘जनधन खातों के लिए लोगों में क्रेज है। शासन के आदेश भी हैं कि सभी के खाते खुले। सभी के खाते खोलने के लिए इस माह कैंप लगाए जाएंगे।’ ओपी वढ़ेरा, प्रबंधक लीड बैंक

चलते रिक्शे में हो गया बेटे का जन्म





प्रसव पीड़ा को दुनिया की सबसे बड़ी पीड़ा माना गया है। नजराना के इस दर्द को कई लोगों ने भरी सड़क पर तब देखा जब वह रिक्शे पर अस्पताल ले जायी जा रही थी। रिक्शे में तड़पती ये मां किसी तरह अपने पेट को संभाले हुए थी। अचानक सलवार के अंदर ही नवजात गर्भ से बाहर आकर रोने लगा तो बेबस मां ने किसी तरह एक हाथ से उसे संभाला। तड़पती मां और रोते हुए नवजात को उसी हाल में अस्पताल में ले जाया गया तब जाकर उसकी सफाई हो पायी।

हैरत की बात ये थी कि परिवार वालों ने न तो 102 एंबुलेंस बुलाई और न ही किसी दूसरे वाहन का इंतजाम किया। दर्द से तड़पती मां रिक्शे में रास्ते में झटके खा-खाकर वह बेहाल हो गई। अस्पताल में बच्चे को देखकर वह सारा दर्द भूल गई। उसने नवजात बेटे को आंचल में छिपा लिया। शुक्र रहा कि जच्चा-बच्चा को कोई नुकसान नहीं हुआ।
  सूफीटोला की 27 वर्षीय नजराना को डॉक्टर ने 17 दिसंबर को डिलीवरी की तारीख दी थी, लेकिन उसे शुक्रवार को ही प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। घर में जेठानी थीं। उन्हाेंने 102 एंबुलेंस को कॉल करने के बजाय देवर आबिद को फोन कर बुला लिया। आबिद वाहन मिस्त्री हैं।  सूचना पाकर वह तुरंत घर पहुंच गए। इसके बाद रिक्शे से ही नजराना को लेकर अस्पताल निकल पड़े। अस्पताल गेट पर पहुंचते ही उसे रिक्शे में ही प्रसव हो गया। इसके बाद रिक्शा रुकवाकर अस्पताल को सूचित किया गया। जानकारी मिलते ही कर्मचारी तुरंत स्ट्रेचर लेकर पहुंच गए। जच्चा और बच्चा अस्पताल में भर्ती हैं। डॉक्टराें ने बताया कि इस लापरवाही से दोनों के लिए बड़ा खतरा पैदा हो सकता था, लेकिन वे स्वस्थ हैं।
जानबूझकर नहीं बुलाई एंबुलेंस
नजराना के पति आबिद ने बताया कि उन्हें 108 और 102 एंबुलेंस के बारे में जानकारी है, लेकिन जानबूझकर नहीं बुलाई। उन्हें आशंका थी कि कहीं शहामतगंज में एंबुलेंस जाम में न फंस जाए। आबिद की एक बेटी भी महिला अस्पताल में हुई थी।
ये भी एक सबक है
डिलीवरी की तिथि डॉक्टर नौ माह यानी 40 हफ्ते प्लस सात दिन को मानते हैं। 40 हफ्ते का गर्भ पूरा होता है, लेकिन अगर 35वें हफ्ते में बच्चा होता है तो इसे भी पूरे माह का बच्चा मानते हैं। गर्भवती महिलाआें को बता दिया जाता है कि 36वें हफ्ते में बच्चा गर्भ में मूवमेंट करेगा, अगर इस दौरान हल्का सा भी दर्द या कुछ दिक्कत हो तो मतलब वह प्रसव पीड़ा के करीब आ रही है। उसे तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए। रक्त या  पानी बहने पर अस्पताल पहुंचने में जरा भी देर न करें।  नजराना के मामले में स्पीड ब्रेकर पर झटका लगने से हो सकता है कि प्रसव हो गया हो। इसलिए, अस्पताल ले जाते समय महिला को लिटाकर ले जाएं और पैर थोड़ी ऊंचाई पर रखें। हल्का दर्द और प्रसव का रास्ता खुलना पहली स्टेज है। इसके 16 घंटे के अंदर प्रसव हो जाता है। वहीं, प्रसव द्वार खुलने के बाद दूसरी स्टेज मात्र दो घंटे की रह जाती है।
- डॉ. भारती सरन, स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ

बेटियों को लखनऊ मेट्रो की स्टेयरिंग संभालते देख सीएम रह गए सरप्राइज्ड,







एक दिसंबर की तारीख लखनऊ मेट्रो के लिए दो वजहों से ऐतिहासिक बन गई। पहला तो यह कि रिकॉर्ड समय में मेट्रो का ट्रायल शुरू हुआ और दूसरा ट्रेन संचालन के लिए दो युवतियों प्राची और प्रतिभा को पायलट चुना गया।

राज्य स्तर पर 20 वें पायदान पर पहुंचा बदायूं







मुख्यमंत्री के प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में बदायूं प्रदेश में 20वीं पायदान पर पहुंच गया है। कार्यक्रम कार्यान्वयन विभाग उत्तर प्रदेश की ओर से जारी जनपदवार रैंकिंग में बदायूं को वर्ष 2016-17 में 20 वें स्थान पर रखा गया है। सितंबर 2016 की प्रगति के आधार पर बदायूं 39 वें पायदान पर था। यह ग्रेडिंग मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले 126 कार्यक्रमों में जिले में किए गए सभी कार्यों के आधार पर तय की गई है।

मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले कुल 126 कार्यक्रमों में से जिले में 97 कार्यक्रम लागू हैं। इनमें 53 कार्यक्रमों में ए ग्रेड, 26 कार्यक्रमों में बी ग्रेड, पांच कार्यक्रमों में सी और 13 कार्यक्रमों में बदायूं को डी ग्रेड प्राप्त हुआ है। ए ग्रेड पाने वाले कार्यक्रमों में मुख्य रूप से वाणिज्य कर वसूली, परिवहन कर वसूली, मनोरंजन कर वसूली, परिषदीय विद्यालयों में समाजवादी पौष्टिक आहार योजना, सोलर पंपों की स्थापना, कन्या विद्याधन वितरण, सौ बैड मैटरनिटी का निर्माण, जननी सुरक्षा योजना के लाभार्थियों का भुगतान, लेबर सेस के अंतर्गत श्रमिकों के कल्याण के लिए लागू योजना एवं तहसील दिवस की शिकायतों का त्वरित निस्तारण है।
बी श्रेणी पाने वाले प्रमुख कार्यक्रमों में आबकारी कर की वसूली, राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना में 701 ग्रामों का विद्युतीकरण, पारदर्शी किसान योजना 205805 कृषकों का पंजीकरण और 86460 कृषकों को विभिन्न योजनाओं में लाभान्वित करना व बालकों का स्वास्थ्य परीक्षण आदि है। डीएम पवन कुमार ने कुशल मार्ग दर्शन एवं पर्यवेक्षण में जिले में शासन के सभी महत्वपूर्ण कार्यक्रमों में तेजी से सुधार हो रहा है।

वैन पलटने से महिला की मौत, तीन लोग घायल





कासगंज जिले में गंजडुडवारा में लग्न चढ़ाकर लौट रहे मारुति वैन सवार महिला-पुरुष हादसे का शिकार हो गए। तेज रफ्तार वैन पलटने से महिला समेत चार लोग घायल हो गए। घायलों में शामिल महिला ने इलाज के दौरान यहां सामुदायिक केंद्र पर दम तोड़ दिया। हादसा गुरुवार रात करीब 8 बजे हुआ।

बिल्सी थाना क्षेत्र के गांव परौली निवासी नन्हू की बेटी ज्योति की शादी कासगंज जिले में गंजडुडवारा में तय हुई है। नन्हू गुरुवार को बेटी की लग्न चढ़कर परिवार के साथ मारूति वैन से लौट रहा था। साथ में नन्हू की ताई कमला (60) पत्नी अनोखेलाल भी थीं। रात में कोहरे की वजह से वैन पलट कर खाई में गिर गई। कमला समेत परिवार के चार सदस्य घायल हो गए। गंभीर हालत में कमला को सीएचसी लाया गया। यहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। नन्हू ने बताया कि बाकी घायलों का निजी डॉक्टर से इलाज कराया जा रहा है। मृतका के परिवार वाले बिना पोस्टमार्टम के ही शव को साथ ले गए।
लग्न की खुशियां हुई काफूर
उझानी। मृतका कमला ने ही देवर के बेटे नन्हू की बेटी ज्योति का रिश्ता तय कराने में अहम भूमिका निभाई थी। यह बात घरवालों के साथ दूसरे पक्ष के लोग भी अच्छी तरह जानते थे। लग्न चढ़ाने के लिए घर वाले इसीलिए कमला को साथ ले गए थे। लग्न समारोह खुशी-खुशी चला। सब कुछ ठीक-ठाक निपट जाने के बाद लौटते में हादसे के दौरान कमला की मौत से वर और वधू पक्ष के घरों में खुशियों का माहौल मातम में तब्दील हो गया।

बैंकों में ग्राहकों की कम नहीं हो रही भीड़







नोटबंदी के 23 दिन बाद भी शहर समेत जिले भर के बैंकों में ग्राहकों की भीड़ कम नहीं हो रही है। कई बैंक शाखाओं में कैश नहीं होने का बोर्ड लगा दिया गया है, इस वजह से ग्राहकों को निराशा ही रही है। जिन बैंकों में भुगतान हो भी रहा है तो वहां ग्राहकों को दो हजार के नोट ही मिल रहे हैं। लिहाजा, लोगों की समस्याएं दूर नहीं हो रही हैं। शहर में शुक्रवार को अधिकांश एटीएम पर भी रकम निकालने के लिए लोगों की देर शाम तक लाइनें लगीं रहीं।

पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट बंद हो जाने के बाद से समाज का हर तबका परेशान हो गया है। वजह है कि उसकी जरूरत के मुताबिक बैंकों से रकम नहीं मिल पा रही है। स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक के अलावा अन्य बैंक शाखाओं पर रुपये निकालने के लिए लोगों की सुबह से ही लाइनें लग जातीं हैं। यह सिलसिला नोटबंदी के दिन से ही बना हुआ है। बैंकों में अब रुपये जमा करने वालों की कम निकालने वालों की ज्यादा भीड़ देखी जा रही है, लेकिन हर रोज ग्राहक घंटों की मशक्कत के बाद दो हजार रुपये तक ही घर लेकर पा रहे हैं। शहर में देखा जा रहा है कि निजी क्षेत्र की बैंकों में कई दिनों से कैश नहीं होने का बोर्ड लगा है। यदि इन बैंकों में कैश आ भी जाता है तो कुछ ही दूर में खत्म हो जाता है। लोग कहने लगे हैं कि व्यवस्था में फिलहाल  सुधार के आसार भी नहीं दिख रहे हैं, क्योंकि उन्हें 23 दिन से घर की जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंक से रुपये नहीं मिल पा रहे हैं। 

हाईवे पर भिड़े चार वाहन, दो घंटे तक लगा जाम





मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाईवे पर कोहरे की वजह से शुक्रवार सुबह तीन वाहन भिड़ गए। हादसे में तीन स्कूली बच्चों समेत छह लोग घायल हो गए। हादसे के बाद करीब एक घंटे तक हाईवे पर जाम की स्थिति बनी रही। बाद में पुलिस ने वाहनों को हटवाकर यातायात सामान्य कराया। हादसा भोलानाथ मंदिर के पास हुआ।

मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाईवे पर एक ट्रक खराबी आने के बाद खड़ा हो गया था। कोहरा होने की वजह से ट्रक में पीछे से एक के बाद एक तीन वाहन घुस गए। इनमें एक वाहन शहर के ब्लूमिंगडेल स्कूल का भी था। यह स्कूल वाहन विद्यार्थियों को लेकर बदायूं आ रहा था। हादसे में ब्लूमिंगडेल स्कूल के कक्षा चार का छात्र शायम पुत्र जमीरुल हसन, कक्षा सात का छात्र मोहिब पुत्र अरशद और वाहन चालक लियाकल पुत्र मैकू घायल हो गया। यह सभी वजीरगंज थाने के कस्बा सैदपुर के रहने वाले हैं। हादसे में दो पिकअप वाहन के चालक भी घायल हुए हैं। खबर मिलने पर पहुंची पुलिस ने वाहनों को हटवाकर यातायात चालू कराया।

बजरी भरे ट्रक ने बाइक रौंदी, युवक की मौत
ओरछी। थाना फैजगंज बेहटा में चंदौसी-इस्लामनगर रोड पर बजरी भरे ट्रक ने बाइक को रौंद दिया। हादसे में हेमेंद्र यादव नाम के युवक की मौत हो गई। चालक ट्रक को मौके पर छोड़कर भाग गया। हादशा शुक्रवार शाम करीब चार बजे हुआ।
संभल जिले के थाना चंदौसी के गांव बर्रई निवासी हेमेंद्र यादव (30) पुत्र रामशेखर यादव शुक्रवार शाम बाइक से अपनी ससुराल जाने के लिए निकला था। रास्ते में चंदौसी-इस्लामनगर रोड पर उसकी बाइक को बजरी भरे ट्रक ने रौंद दिया। हादसे में हेमेंद्र की मौके पर मौत हो गई। खबर मिलने पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेने के बाद शिनाख्त कराई और खबर मृतक के परिवार वालों को दी। ट्रक को पुलिस ने कब्जे में ले लिया है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। मृतक के चार बेटियां हैं। वह अपने माता-पिता का इकलौता बेटा है। उसके परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

दैनिक राशिफल 03/11/2016



मेष
भौतिक सुख-साधनों की प्राप्ति होगी। साहस, पराक्रम में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय में अनुकूल अवसर प्राप्त होंगे। कार्यक्षमता में वृद्धि होगी।


 वृष
माता के स्वास्थ्य की ओर ध्यान देना आवश्यक। कामकाज का बोझ बढ़ने से व्यापार पर विपरीत असर हो सकता है। वाद-विवाद से दूर रहें।


मिथुन
व्यापार में स्थिति मध्यम रहेगी। खर्च की अधिकता से मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। विरोधियों एवं शत्रुओं के कारण अशांति होगी।


 कर्क
व्यापार में स्वयं के निर्णय से काम कर पाएंगे। स्थायी संपत्ति क्रय करने में जल्दबाजी न करें। आर्थिक समस्याओं का निराकरण संभव है।


 सिंह
व्यापार में नई योजनाओं का श्रीगणेश संभव है। व्यापार, कारोबार में नई जवाबदारी बढ़ेगी। अपनी वस्तुओं को संभालकर रखें।


 कन्या
दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। लेन-देन में सावधानी रखें। आर्थिक क्षेत्र में उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे। अनिर्णय की परिस्थिति से दूर रहना चाहिए।


 तुला
प्रसिद्ध व्यक्ति से मेलजोल बढ़ेगा। मकान, वाहन के क्रय-विक्रय की चर्चा संभव है। संतान की प्रगति से मन प्रसन्न रहेगा। चापलूसों से सावधान रहें।


राशि फलादेश वृश्चिक
धर्म में रुचि रहेगी। आर्थिक स्थिति से ऋण की समस्या उभरेगी। अध्ययन में रुचि बढ़ेगी। बुद्धि, विवेक से कार्य करने पर बाधाएं दूर हो सकेंगी।


धनु
रुका पैसा प्राप्त होगा। समाज, परिवार में आपकी सलाह को महत्व मिलेगा। कानूनी कार्रवाई, कोर्ट-कचहरी के मामलों से दूर रहना चाहिए।


मकर
परिवार में शांति का अनुभव होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। क्रोध एवं उत्तेजना पर संयम रखें। अपनी भावनाओं को संयमित रखकर कार्य करें।


 कुंभ
नवीन मुलाकातों से लाभ होगा। पारिवारिक जीवन में मतभेद खत्म होंगे। भागीदारी के कार्यों में आपके द्वारा लिए गए निर्णयों से लाभ होगा।


 मीन
व्यापार-व्यवसाय में उन्नति के योग बनने से लाभ की आशा प्रबल होगी। पारिवारिक समस्याओं का निकाल होकर प्रसन्नता का वातावरण बनेगा।

zhakkas

zhakkas