: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 12/18/16

95 साल के बुजुर्ग ने ट्रैक पर दौड़ लगा छुड़ाए सबके पसीने, दिया ये फि‍टनेस मंत्र




वाराणसी. यूपी कॉलेज के मैदान में चल रहे 26वीं यूपी मास्टर एथलीट चैम्पियनशिप में 95 साल के उम्र में 100 मीटर की दौड़ को 53 सेकेंड में पूरा कर गोल्ड जीतकर सबको चौका दिया। dainikbhaskar.com से विशेष बातचीत में बुजुर्ग सत्यनारायण ने अपने जवां रहने के राज खोले। उन्होंने बताया, ''24 घंटे में एक लीटर दूध, 8 रोटी, ग्रीन वेजीटेबल, दाल, रोज दो किलोमीटर वॉक और 500 रनिंग के साथ योगा मेरी तंदरुस्ती का राज है।''
नशे से दूर रहना जीवन का मूलमंत्र

  • - 95 साल के बुजुर्ग सत्यनारायण ने बताया, ''मेरे 7 बच्‍चे हैं। 15 नाती-पोते और 2 पर पोते हैं।'' 
  • - ''मैं किसान हूं और रोज खेतों में 5 घंटे मेहनत करता हूंं। 
  • - ''जिंदगी में तंदरुस्त रहने के लिए रामायण को दिल से पढ़ता हूं और हर काम भगवान को याद कर करते हैं।'' 
  • - नशे से दूर रहना जीवन का मूलमंत्र है। 
  • - सुबह उठना, कसरत करना और वॉक करना जीवन का हिस्सा है। 
  • - मेरी इच्‍क्षा है जब 100 साल का हो जाऊं तो ट्रैक पर दौड़कर मैडल जीतूं।
  • ऐसे जोश ने जवानों को चौका दिया
  • - एथलीट कोच बेटे नंन्हे सिंह ने बताया, गांवों के कई प्रतियोगिता में पिता जी ने हिस्सा लिया। ये पहला मौका है जब यूपी लेवल टूर्नामेंट खेलें हैं। 
  • - मुझे एथलीट का टिप्स पिताजी ने ही दिया। 
  • - इंटरनेशनल प्लेयर नीलू मिश्रा ने कहा, 95 साल की उम्र में ऐसे जोश ने जवानों को चौका दिया। 
  • - जिंदगी की दौड़ में जो लोग हार मानते है, उन्हें इनसे सीखना चाहिए।

375 टन गोबर से लीपा गया मोदी का रैली स्थल, जाने कार्यक्रम का पूरा शिड्यूल




कानपुर.यूपी के कानपुर के निरालानगर रेलवे मैदान में पीएम मोदी सोमवार को परिवर्तन महारैली को संबोधित करेंगे। मोदी का हेलीकॉप्टर सुबह 11:55 बजे चकेरी एयर फोर्स स्टेशन पर उतरेगा। इसके लिए प्रशासन ने अलग-अलग तरह की तैयारियां की हैं। हेलीकॉप्टर के लैंड करते समय धूल ना उड़े इसलिए रैली स्थल को करीब 375 टन गोबर से लिपा जा रहा है। पीएम का कानपुर आगमन शिड्यूल..
- एसपीजी के एआईजी सुधांशू सिंह ने जिला प्रशासन को पीएम का कार्यक्रम भेजा है। इसने मुताबिक, मोदी का हेलीकॉप्टर सुबह 11:55 बजे चकेरी एयर फोर्स स्टेशन पर उतरेगा।
- इसके बाद दोपहर 12 बजे चकेरी एयर फोर्स स्टेशन से उड़कर भरकर हेलीकॉप्टर 12:20 बजे रैली स्थित हैलीपेड पर उतरेगा। 
- 12:30 से 12:55 के बीच में कौशल विकास कार्यक्रम की प्रदर्शनी और अन्य योजनाओं का उद्घाटन करेंगे। फिर मोदी दोपहर 1 से 2 बजे तक परिवर्तन रैली की जनसभा को संबोधित करेंगे। 
- इसके बाद दोपहर 2:10 बजे तक रैली स्थित हैलीपेड पर पहुंचेंगे और करीब 2:40 से चकेरी एयर पोर्ट से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।
- वहीं पीएम मोदी की सिक्योरिटी में मेटल डिटेक्टर से लेकर जगह-जगह सीसीटीवी कमरें भी लगाए गए हैं।
375 टन गोबर से लीपा गया हेलीपैड एरिया
- मोदी के फ्लीट में 3 हेलीकॉप्टर होंगे, लेकिन पीएम किस हेलीकॉप्टर में होंगे इसकी जानकारी किसी को नहीं दी गई है। 
- तीन हेलीकॉप्टर के लिए रैली स्थल पर 4 हेलीपैड बनाए गए है। अब किस हेलीपैड पर पीएम का हेलीकॉप्टर लैंड करेगा ये भी रहस्य है। 
- चारों हेलीपैड को ईंटे बिछाकर उसपर प्लास्टर किया जा चुका है, जबकि बाकी हेलीपैड एरिया को गोबर से लीपा गया है। 
- नगर निगम में ड्राइवर के पद पर तैनात राम नरेश के मुताबिक, उन्हें शनिवार को दोपहर में अधिकारियों का निर्देश मिला कि रैली स्थल गोबर पहुंचानी है। 
- इसकी माने तो कल से लेकर आजतक में इस मैदान में करीब 375 टन गोबर गिराया जा चुका है।
- वहीं लोगों को टॉयलेट के लिए भी भव्य व्यवस्था की गई है। हेलीपैड से मंच तक पक्के रोड बनाए गए हैं।

हर महीने 73,000 डॉलर कमाता था ये भिखारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार





दुबई में नगर पालिका निरीक्षकों ने हाल ही में प्रतिमाह करीब 2,70,000 दिरहम (करीब 73,500 डॉलर) कमाने वाले एक भिखारी को पकड़ा. स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, दुबई नगर पालिका के मार्केट सेक्शन के प्रमुख फैजल अल बदियावी ने एक बयान में कहा कि इस साल की पहली तिमाही में 59 भिखारियों को गिरफ्तार किया गया.

ये गिरफ्तारियां नगर पालिका द्वारा अमीरात की पुलिस के साथ मिलकर चलाए गए एक अभियान का हिस्सा हैं. इसका मकसद दुबई में भीख मांगना रोकना है.

अल बदियावी ने बताया, 'कुछ भिखारियों के पास से पासपोर्ट और व्यापार तथा टूरिस्ट वीजे भी मिले.' उन्होंने कहा, 'अभियान के दौरान हमने पाया कि अधिकांश भिखारी देश में तीन माह के वीजा के साथ कानूनी रूप से दाखिल हुए थे. उन्होंने ऐसा देश में रहकर ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाने के लिए किया.'

कार्रवाई में एक भिखारी के प्रतिमाह करीब 73,500 डॉलर कमाने की बात सामने आई. अल बदियावी ने कहा, 'जुमे के रोज ज्यादा कमाई होती है. इस दिन भिखारी मस्जिदों के सामने लाइन में खड़े रहते हैं.'

वेनेजुएला में नोटबंदी से हाहाकार, एक हफ्ते में फैसला लिया वापस



वेनेजुएला में एक हफ्ते से चल रही नोटबंदी के फैसले को सरकार ने रद्द कर दिया है. यह फैसला नोटबंदी से पैदा हुई स्थिति को देखते हुए लिया गया. वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदूरो ने नोटबंदी विफल होने के पीछे विदेशी ताकतों का हाथ होने का आरोप लगाया है. राष्ट्रपति निकोलस मदूरो ने 12 दिसंबर को देश में तत्काल प्रभाव से अर्थव्यवस्था की सबसे बड़ी करेंसी 100 बोलिवर को प्रतिबंधित कर दिया है. इसके बदले वेनेजुएला सरकार ने 500, 2000 और 20,000 बोलिवर की नई करेंसी जारी की थी.

बढ़ने लगी कतारें और लूट
वेनेजुएला सरकार ने यह कदम सीमापार कोलंबिया में माफिया द्वारा राष्ट्रीय करेंसी बोलिवर की होर्डिंग और देश में लगातार बढ़ती महंगाई को काबू करने के लिए उठाया था. एक हफ्ते तक नोटबंदी के चलते बड़ी संख्या में लोग बैंकों के बाहर लाइन में खड़े रहे. सरकार के मुताबिक नई करेंसी से भरे तीन हवाई जहाज वेनेजुएला नहीं पहुंच सके जिससे देश में नोटबंदी की स्थिति बेकाबू हो गई. नोटबंदी के पहले हफ्ते में बैंकों के बाहर लंबी-लंबी कतारें लग गई, सैकड़ों दुकानों को लूट लिया गया और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन होने लगे.

करेंसी बदलने के लिए दिए सिर्फ 72 घंटे
वेनेजुएला के आम लोग खाने-पीने की चीजें और ईंधन खरीदने में असमर्थ हो गए. इस फैसले से देश में क्रिसमस की तैयारी में जुटे लोगों के हाथ से एक झटके में पुरानी करेंसी बेकार हो गई. वहीं वेनेजुएला में आधी जनसंख्या बैंकिंग सेवाओं से बाहर है, लिहाजा कैशलेस ट्रांजैक्शन करने में सक्षम नहीं है. वेनेजुएला सरकार ने नोटबंदी का यह फैसला रविवार देर रात लिया और सोमवार सुबह से देश में 100 बोलिवर की इस करेंसी को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया था. नागरिकों को करेंसी बदलने के लिए महज 72 घंटे का समय दिया गया था, लेकिन नई करेंसी की सप्लाई सुस्त रहने के कारण समय बढ़ा दिया गया था.

मौजूदा समय में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा बाजार में वेनेजुएला की करेंसी बेहद कमजोर थी. देश की सबसे बड़ी 100 बोलिवर करेंसी डॉलर के मुकाबले महज 2 से 3 सेंट पर थी. राष्ट्रपति निकोलस मदूरो के विरोधियों का कहना है कि 18 साल से सोशलिस्ट नीतियों से देश की अर्थव्यवस्था गर्त में चली गई है. वेनेजुएला में 2018 में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं, लेकिन इससे पहले ही विपक्ष कोशिश कर रहा है कि देश में रेफेरेंडम कराकर मदूरो को सत्ता से बाहर कर दिया जाए.

राजनीतिक दलों के 2 हजार से ज्यादा के गुप्त चंदे पर लगे रोकः चुनाव आयोग




नई दिल्ली: चुनावों में कालेधन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के प्रयास में चुनाव आयोग ने सरकार से अनुरोध किया है कि राजनीतिक दलों को 2000 रुपये और इससे ज्यादा के अज्ञात चंदे पर पाबंदी के लिए कानून में संशोधन किया जाए. राजनीतिक दलों द्वारा अज्ञात चंदा प्राप्त करने पर कोई संवैधानिक या कानूनी पाबंदी नहीं है. लेकिन जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 सी के तहत चंदे की घोषणा की जरूरत के जरिये अज्ञात चंदे पर ‘‘परोक्ष आंशिक प्रतिबंध’’ है. लेकिन ऐसी घोषणा केवल 20 हजार रूपये से अधिक के चंदे पर अनिवार्य है.

आयोग ने साथ ही यह भी प्रस्ताव दिया है कि सिर्फ उन्हीं राजनीतिक दलों को इनकम टैक्स में छूट मिलनी चाहिए जो चुनाव लड़ती हों और लोकसभा या विधानसभा चुनावों में जीती हों. दरअसल इनकम टैक्स ऐक्ट, 1961 के सेक्शन 13ए के मुताबिक राजनीतिक दलों को आयकर छूट मिली हुई है. आयोग ने कहा कि अगर सभी पॉलिटिकल पार्टी को टैक्स लाभ मिलेगा तो ऐसे मामले हो सकते हैं जहां सिर्फ इनकम टैक्स में छूट का फायदा उठाने के लिए राजनीतिक दल बनाए जा सकती हैं.

चुनावों में काले धन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए चुनाव आयोग चाहता है कि राजनीतिक दल 2,000 रुपये से ज्यादा के चंदों का स्रोत बताएं. आयोग ने सरकार को भेजे अपने सुझाव में कहा है कि पार्टियों को 2 रुपये से ज्यादा के ‘गुप्त’ चंदे मिलने पर रोक लगनी चाहिए. चुनाव आयोग ने सरकार से कानूनों में संशोधन की मांग करते हुए कहा है कि 2000 रुपये और ज्यादा के अज्ञात योगदान को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए.

नोटबंदी के बीच आम लोगों को हो रही परेशानियों के बीच खबरें फैली थीं कि राजनीतिक दलों के अमान्य हो चुके पुराने नोटों को जमा करने पर कोई रोक नहीं है. इसके चलते कल सरकार को सफाई देनी पड़ी और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ऐसी रिपोर्ट्स को भ्रामक बताया. सरकार ने साफ किया कि राजनीतिक दल अब चंदे के रूप में पुराने नोट नहीं ले सकते हैं.

सपा विधायक ने उड़ाया शहीद सैनिकों की पत्नियों का मजाक





मऊ- सपा विधायक सुधाकर सिंह ने अखिलेश सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि अगर जवान मर जाए और इसके बाद सैनिक की पत्नी भाग जाए, तो जवान के मां-बाप का क्या होगा। इसके लिए उनके भरण-पोषण के लिए सरकार ने पांच लाख दिया है। सभा में मौजूद लोगों ने एक स्वर में कहा विधायकजी को यह बात इसतरह से नहीं कहनी चाहिए थी, बल्कि इसी बात को दूसरे सभ्य तरीके से भी कहा जा सकता था। समाजवादी पार्टी से घोसी विधानसभा के विधायक सुधाकर सिंह से जब इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि मैं तो मजाक कर रहा था।
दरअसल जिला प्रशासन ने सपा सरकार की योजनाओं के लिए कैंप लगाया था, इसमें श्रमिकों को साईकिल वितरित, विकलांगों को ट्राई साइकिल वितरित व प्रमाण पत्र वितरण का कार्यक्रम था। इसके तहत आयोजित कार्यक्रम में मंच के माध्यम से सपा विधायक सुधाकर सिंह ने कहा कि हमारी सरकार अन्य प्रदेशों के सापेक्ष शहीदों को ज्यादा राहत पहुंचाती हैं। विधायक ने कहा कि अगर जवान मर जाए और उसकी पत्नी भाग जाए, तो माता-पिता के भरण पोषण के लिए पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता सरकार ने देने का फैसला किया है।

इस विवादित बयान के बाद पत्रकारों से बातचीत में विधायक ने कहा कि मैं तो मजाक कर रहा था, क्योंकि मंच पर हमारी पार्टी की एमएलसी जो कि हमारी क्षेत्र की बहू हैं थी, इसलिए मैंने मजाक में बोल दिया।




कालेधन को लेकर सलमान खान हुए गिरफ्तार




मुंबई की डीएन नगर पुलिस ने एक करोड़ 40 लाख रुपये की रकम 2000 के नोटों में है यानि दो-दो हजार रुपये के पूरे 7 हजार नोट हैं। एक तरफ जहां हर रोज लोगों को एक डेबिट कार्ड से 2000 का सिर्फ एक नोट ही मिल रहा है वहीं हर रोज देश भर में छापेमारी में नई करेंसी का मिलने से लोग हैरान हैं।

शुक्रवार शाम तकरीबन 7 बजे पुलिस ने अंधेरी में जुहू धारा कॉम्प्लेक्स के पास एक टोयोटा कार को चेकिंग के लिए रोका गया। कार का नंबर है एमएच48 एसी 5152।  सफेद रंग की इसी कार से पुलिस ने एक करोड़ 40 लाख की नई करेंसी बरामद की है। पुलिस ने इस सिलसिले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें कार चला रहा सलमान, आसिफ और एक बाप बेटा भी शामिल हैं। पुलिस ने जब उन लोगों से 2000 के नए नोटों के बारे में सवाल किए तो वो कोई जवाब नहीं दे पाए।
पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार लोगों ने अपने आप को बुलियन व्यापारी बताया है। अभी तक की जांच में पुलिस को पता चला है कि ये लोग सोना खरीदने जा रहे थे। मगर नई करेंसी में इतना पैसा इन लोगों के पास कहां से आया अभी तक ये नहीं पता चल पाया है।
 जब्ती के बाद इन नोटों को पुलिस ने कार्टन में सील किया और फिर आयकर विभाग को सौंप दिया। पुलिस ने इस बरामदगी की जानकारी ईडी और आरबीआई को भी दे दी है। नोटबंदी के 38 दिन बाद भी जहां देश के ज्यादातर हिस्सों में बैंक और एटीएम के बाहर कैश हासिल करने के लिए लोग परेशान है। वहीं धन्ना सेठों के पास से लाखों करोड़ों की नई करेंसी मिलना सवाल खड़े करता

बंगाल में जलाए जा रहे है हिन्दुओं के घर,ममता बनर्जी है मौन





ममता बनर्जी की सरकार में पश्चिम बंगाल में हिन्दू नई मुश्किल में फंस गए हैं। यह राज्य एक बार फिर साम्प्रदायिक दंगों की चपेट में हैं।

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में धुलागढ़ क्षेत्र में एक शिव मंदिर को तोडा गया, जिसके बाद इलाके में तनाव का माहौल है। हालांकि इस मामले में सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया अभी तक नहीं आई है।

इस इलाके में तीन दिनों तक लोगो के घरों में हमले हुए, उन्हें लूटा गया। लोगों के साथ मारपीट की गयी। माहौल बिगड़ते देख पुलिस, आरएएफ और फायर ब्रिगेड तैनात किया गया है जो संयुक्त रूप से स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।

इससे पहले 12 अक्टूबर को हिंसा की शुरुआत पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना ज़िले से हुई, जहां कथित तौर पर मुहर्रम के जुलूस में एक बम फेंका गया। हालांकि इसमें कोई जख्मी नहीं हुआ, लेकिन इसके बाद हिंसक भीड़ ने हिंदुओं के घरों को जला दिया। और देखते ही देखते हिंसा की ये आग 5 ज़िलों में फैल गई। पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, पश्चिमी मिदनापुर, हुगली और मालदा जिले हिंसाग्रस्त हुए थे।
पश्चिम बंगाल में हिन्दू
2011 की जनगणना ने खतरनाक जनसंख्यिकीय तथ्यों को उजागर किया है। जब अखिल स्तर पर भारत की हिन्दू आबादी 0.7 फीसदी कम हुई है तो वहीं सिर्फ बंगाल में ही हिन्दुओं की आबादी में 1.94 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है, जो कि बहुत ज्यादा है। राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों की आबादी में 0.8 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, जबकि सिर्फ बंगाल में मुसलमानों की आबादी 1.77 फीसदी की दर से बढ़ी है, जो राष्ट्रीय स्तर से भी कहीं दुगनी दर से बढ़ी है।

पश्चिम बंगाल की कुल आबादी 9.12 करोड़ है, जिसमें हिंदुओं की जनसंख्या 6.4 करोड़ या कहें कि 70.53 फीसदी है। जबकि, मुसलमानों की जनसंख्या 2.4 करोड़ या कहें कि 27.01 फीसदी है। जबकि साल 2001 की जनगणना के आंकड़ों की तुलना में बंगाल में जनसंख्या का धर्म विषमता का तेज होता प्रसार साफ तौर पर देखा जा सकता है।

मुस्लिमों की बढ़ती आबादी

बंगाल के तीन जिले जहां पर मुस्लिमों ने हिन्दुओं की जनसंख्या को भी तेजी से पीछे छोड़ते हुए अपना विस्तार किया है। वे जिले है मुर्शिदाबाद (47 लाख मुस्लिम और 23 लाख हिन्दू), मालदा (20 लाख मुस्लिम और 19 लाख हिन्दू), और उत्तरी दिनाजपुर (15 लाख मुस्लिम और 14 लाख हिन्दू )।

zhakkas

zhakkas