: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 12/21/16

पुलिस से भिड़ने को तैयार थीं आक्रोशित महिलाएं



फिरोजपुर गांव में धार्मिक स्थल पर तोड़फोड़ को लेकर मंगलवार को बड़ा बवाल हो सकता था। ग्रामीणों के प्रदर्शन के दौरान कई बार टकराव के हालात बने। खास यह कि पुरुषों के साथ महिलाओं में भी खासा आक्रोश रहा। पुलिस कार्रवाई पर वे काफी नाराज थीं। पुुलिस और प्रशासन ने सूझबूझ से काम लिया, नहीं तो हालात बिगड़ सकते थे।

जाम लगाने वाले ग्रामीणों और महिलाओं का गुस्सा देखकर पुलिस को कई बार वैकफुट पर आना पड़ा। हालात खराब होने पर आसपास के थानों से भी फोर्स को बुला लिया गया। कई बार गुस्साए लोग पुलिस पर हमलावर भी हुए। उनका कहना था कि पुलिस पक्षपात कर रही है। एक दीवार गिराने पर तो 52 लोगों पर एफआईआर तुरंत कर ली गई और दूसरी दीवार गिराने के मामले में कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। नोकझोंक के दौरान कई बार लाठी चार्ज तक की नौबत आ गई। हालांकि, अधिकारियों ने किसी तहत से लोगों को समझाबुझा कर मामले को निपटा लिया।
दरअसल रविवार रात को वर्ग विशेष के धार्मिक स्थल की दीवार गिराने के मामले में पुलिस ने 52 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की और सोमवार शाम इनमें पुलिस ने 10 लोगों को हिरासत में ले लिया। इस दौरान कई लोगों के घरों में पुलिस ने दबिश दी। आरोप है कि इस दौरान महिलाओं से बदसलूकी भी की गई। महिलाओं में इसका गुस्सा रहा। बरेली रोड पर लाठी-डंडे लेकर जाम लगाने वाली महिलाएं एफआईआर की कार्रवाई वापस लेने और हिरासत मेें लिए गए लोगों को छोड़ने की मांग कर रही थीं। महिलाओं और पुलिस के बीच कई बार तनातनी भी हुई। बाद में एसपी सिटी अनिल यादव ने सभी को छोड़ने का भरोसा दिया तब महिलाएं शांत हुईं।
बाक्स
बाहर से नहीं आएगा कोई धर्मगुरु
दातागंज। अधिकारियों की मौजूदगी में दोनों पक्षों के बीच गांव में ही बैठक हुई। इसमें एक पक्ष के दिनेश, पुष्पेंद्र, सुखराम, तेजराम, दीपक, संदीप, भोगराज, सुरेश और दूसरे पक्ष के बिलाल बहमद, शफीक अहमद, डॉ. उस्मान, सिराजुद्दीन, मौसम अली आदि रहे। तय हुआ कि 52 लोगों के खिलाफ दर्ज मुकदमा वापस लिया जाएगा। गांव में कोई नई परंपरा शुरू नहीं होने दी जाएगी। साथ ही गांव में किसी दूसरे स्थान का धर्मगुरु भी नहीं आएगा।

यह माहौल खराब करने के लिए किसी खुराफाती की हरकत है। दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया है। गांव में तनाव जैसी अब कोई बात नहीं है। एहतियात के तौर पर पुलिस को तैनात कर दिया गया है।
-अनिल कुमार यादव, एसपी सिटी

समाजवादी लैपटॉप गायब, मचा हड़कंप

 


लैपटॉप वितरण के दौरान एक लैपटॉप गायब हो गया। इससे माध्यमिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। विभागीय अधिकारी चोरी-छिपे मामले की जांच कर रहे हैं। इसके चलते इस्लामियां इंटर कॉलेज के स्ट्रांग रूम में जांच की जाएगी, जहां सोमवार को समारोह में बंटने को आए सारे लैपटॉप रखे गए थे। अगर वहां लैपटॉप नहीं मिला तो संबंधित शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है।
शैक्षिक सत्र 2015-16 के 1123 मेधावियों को लैपटॉप देने के लिए चुना गया था। इसके लिए इस्लामियां इंटर कॉलेज के मैदान में कार्यक्रम का आयोजन करके सांसद धर्मेंद्र यादव की मौजूदगी में लैपटॉप वितरित किए गए थे। इस दौरान विज्ञानानंद इंटर कॉलेज में नियुक्त एक शिक्षक की सुपुर्दगी वाला लैपटॉप गायब हो गया, जिसका पता नहीं लगाया जा सका। हालांकि इस मामले में डीआईओएस स्तर से मामले की जांच की जा रही है, लेकिन अभी तक कुछ पता नहीं लग सका। लैपटॉप न मिलने की स्थिति में शिक्षक पर कार्रवाई होने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है।

मामले की जांच कराई जा रही है। इसके लिए इस्लामियां इंटर कॉलेज के स्ट्राॅंग रूम में लैपटॉप की गिनती की जाएगी। जांच के बाद ही निष्कर्ष निकाला जा सकता है।
-राकेश कुमार, डीआईओएस

zhakkas

zhakkas