: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव कार्यक्रम में हुए बदलाव

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव कार्यक्रम में हुए बदलाव



उत्तर प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग की ओर से जारी कार्यक्रम में आंशिक बदलाव हुआ है। कुछ चरणों के लिए चुनाव की अधिसूचना और नामांकन की अंतिम तिथि में बदलाव किया गया है हालांकि सभी चरणों में मतदान की तारीखों में कोई फेरबदल नहीं हुआ है।

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी की ओर से जारी कार्यक्रम के अनुसार छठवें चरण के चुनाव की अधिसूचना सात फरवरी और सातवें चरण की नौ फरवरी को जारी होगी। पहले छठवें चरण की अधिसूचना आठ फरवरी और सातवें चरण की 11 फरवरी को जारी करने का एलान हुआ था। छठवें चरण के लिए नामांकन की आखिरी तारीख अब 14 फरवरी और सातवें चरण के लिए 16 फरवरी होगी। पहले छठवें चरण के लिए नामांकन की आखिरी तारीख 15 फरवरी और सातवें चरण के लिए 18 फरवरी घोषित की गई थी।

स्नातक कोटे की तीन और शिक्षक क्षेत्र दो विधान परिषद की सीटों के चुनाव की तिथियां भी घोषित कर दी गयी हैं। पांच सीटों के लिए इन चुनाव में राज्य के 39 जिले प्रभावित होंगे, इन जिलों में भी आदर्श आचार संहिता लागू कर दी गयी है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी टी वेंकटेश के मुताबिक विधान परिषद की इन पांच सीटों के लिए 10 जनवरी को अधिसूचना जारी की जाएगी। 17 जनवरी तक नामांकन किये जा सकेंगें। 20 जनवरी तक नाम वापस लिये जा सकेंगे।



मतदान तीन फरवरी को और मतगणना छह फरवरी को होगी। देवेन्द्र प्रताप सिंह (गोरखपुर-फैजाबाद खंड स्नातक क्षेत्र), अरुण पाठक (कानपुर खंड) और डॉ.जय पाल सिंह व्यस्त (बरेली-मुरादाबाद) का कार्यकाल 16 नवंबर को खत्म हो गया था। इसी तरह इलाहाबाद-झांसी खंड शिक्षक क्षेत्र के सुरेश कुमार त्रिपाठी व कानपुर खंड के शिक्षक राज बहादुर चंदेल का कार्यकाल 16 नवंबर खत्म हो गया था।

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas