: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 1000 के नए नोट अभी नहीं, ATM में No Cash पर सरकार गंभीर

1000 के नए नोट अभी नहीं, ATM में No Cash पर सरकार गंभीर



1000 के नए नोट आने की खबरों के बीच सरकार ने साफ किया है कि फिलहाल ऐसी कोई योजना नहीं है। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा है कि अभी 1000 के नए नोट नहीं आएंगे। उन्होंने ने कहा है कि बैंक अभी 500 और कम मूल्य वर्ग के नोटों की सप्लाई पर ध्यान दे रहा है।

आरबीआई द्वारा 1000 के नए नोट छापे जाने की अफवाहों के बीच आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने बुधवार को द्वीट करते हुए कहा कि, "1000 के नोट छापने की कोई योजना नही है, सारा ध्यान अभी 500 व अन्य छोटे नोटों के उत्पादन और आपूर्ति पर है।"
एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि एटीएम में 'कैश की कमी' की शिकायतों को नोट किया जा रहा है और लोगों के अनुरोध करते हैं कि वे उतना ही पैसा निकालें जितने की उन्हें जरूरत है।
पिछले दिनों एक अंग्रेजी अखबार ने केंद्र सरकार के सीनियर ऑफिसर के हवाले से कहा था कि नोटबंदी के बाद अमान्य हुए 1000 रुपये के नोटों की जगह नए नोट बाजार में आएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक रिजर्व बैंक ने 1000 रुपये की नई करंसी की प्रिंटिंग का काम शुरू कर दिया है केंद्र सरकार के सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक की योजना 500 और 1000 रुपये की नई करंसी को एक साथ जारी करने की थी, लेकिन 8 नवंबर के बाद 2000 रुपये की करेंसी जारी होने के बाद मची अफरातफरी के बीच रिजर्व बैंक और सरकार ने 500 रुपये की करंसी को जल्दी जारी कर दिया था।
रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया गया था कि बाजार में उतारी जाने वाली नई 1000 रुपये की करंसी में भी सुरक्षा मापदंड के साथ मंगलयान की फोटो देखने को मिलेगी। रिजर्व बैंक ने बेहतर सुरक्षा फीचर्स और मंगलयान की फोटो से युक्त 2000 रुपये और 500 रुपये की नई करंसी जारी की है।
बता दें कि 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और हजार रुपये के नोटों को अमान्य करार दे दिया था, जिसके बाद बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी लाइनें लग गई थीं।

आपको बता दें कि इससे पहले खबर आई थी कि भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार ने एक हजार रुपये का नया नोट मार्केट में लाने की तैयारी शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक हजार रुपये के नए नोटों की छपाई भी शुरू हुई थी।

हालांकि वित्त मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने इस तरह की चर्चाओं को अफवाह करार दिया है। गौरतलब है कि 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा के तहत 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य करार दिया था।

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas