: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : जब राजनाथ को आया गुस्सा, 12 मिनट की देरी पर ली अफसरों की क्लास

जब राजनाथ को आया गुस्सा, 12 मिनट की देरी पर ली अफसरों की क्लास



नई दिल्ली, पीटीआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर सरकारी अफसरों को समय का पालन करने के लिए कहते रहते हैं। मोदी कैबिनेट के मंत्री भी सिस्टम को दुरुस्त करने के लिए अफसरों को समय पर आने की हिदायत देते रहते हैं।
राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में गुरुवार को 11वें सिविल सेवा दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम के देरी से शुरू होने पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह नाराज हो गए। 12 मिनट देरी से कार्यक्रम के शुरू होने पर राजनाथ ने अधिकारियों के सामने अपनी नाराजगी जताते हुए कहा, कार्यक्रम का निर्धारित समय सुबह 9:45 था, परंतु इसकी शुरुआत सुबह 9:57 पर हुई, जबकि ये कार्यक्रम समय से ही शुरू होना चाहिए था। उन्होंने सवाल किया, "अच्छा होता, यदि हम समय से भटके न होते... क्या हमारे दृढ़ निश्चय में कोई ढिलाई आ गई है...?"
राजनाथ सिंह ने पूछा कि क्या इस्पात का फ्रेम कमजोर हो गया है। दरअसल, देश के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल देश की प्रशासनिक सेवा को 'इस्पात का फ्रेम' कहकर पुकारा करते थे।
इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्रालयों और अन्य विभागों के शीर्ष नौकरशाहों ने कार्यक्रम में भाग लिया था। प्रधानमंत्री कार्यालय के वरिष्ठ सदस्यों ने भी इसमें शिरकत की थी।

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas