: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : भ्रष्टाचार के आरोपों पर बोले आजम, दोषी तो फांसी पर चढ़ा दो

भ्रष्टाचार के आरोपों पर बोले आजम, दोषी तो फांसी पर चढ़ा दो



लखनऊ
वक्फ बोर्ड की संपत्तियां हड़पने और अनियमितताओं के आरोपों पर यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने पलटवार किया है। आजम ने यूपी के वक्फ मंत्री मोहसिन रजा और शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद को निशाने पर लिया है। आजम ने इन दोनों को आधुनिक वक्त का 'मीर जाफर' ठहराया। भ्रष्टाचार के आरोपों पर आजम ने शुक्रवार को कहा कि वह किसी भी किस्म की जांच का सामना करने के लिए तैयार हैं। अगर वह दोषी पाए जाते हैं तो फांसी चढ़ने के लिए भी तैयार हैं।
बता दें कि मोहसिन रजा, कल्बे जव्वाद के अलावा मंत्री लक्ष्मी नारायण ने भी आजम पर सवाल उठाए थे। आजम खान का नाम लिए बिना मंत्री ने आरोप लगाया था कि उन्होंने वक्फ और जनता की कई संपत्तियों पर अवैध कब्जे किए हैं। उन्होंने कहा था कि सरकार उन मामलों की जांच कराएगी। वहीं, रजा ने भी आजम खान के खिलाफ मिली शिकायतों की जांच कराने की बात कही थी।

आजम ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के सूर्य नमस्कार और नमाज की तुलना वाले बयान की भी आलोचना की है। आजम खान ने आदित्यनाथ से सवाल किया कि क्या वह नमाज पढ़ना चाहेंगे क्योंकि उनका कहना है कि नमाज और सूर्य नमस्कार समान हैं। खान के मुताबिक, अगर उन्होंने ऐसी टिप्पणियां की होतीं तो उन्हें हथकड़ियां पहना दी गई होतीं। आजम ने कहा कि वह यह नहीं समझ पा रहे हैं कि मुस्लिमों द्वारा पढ़ी जाने वाली नमाज किस तरह से सूर्य नमस्कार के समान है। उन्होंने इस टिप्पणी के पीछे आदित्यनाथ की मंशा पर सवाल खड़े किए। बूचड़खानों पर कार्रवाई पर खान ने कहा, 'मुस्लिमों को यह सुनिश्चित करने के लिए सब्जियां खाने को मजबूर किया जा रहा है कि अन्य की धार्मिक भावनाएं आहत नहीं हों। शेर घास नहीं खाता लेकिन अगर वह जिंदा रहना चाहता तो उसे ऐसा करना पड़ेगा।'

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas