: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : पीएम मोदी पहुंचे इलाहाबाद , सीएम योगी व गवर्नर नाईक ने किया स्वागत

पीएम मोदी पहुंचे इलाहाबाद , सीएम योगी व गवर्नर नाईक ने किया स्वागत



इलाहाबाद । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संगमनगरी में इलाहाबाद हाई कोर्ट की 150वीं जयंती वर्ष के समापन समारोह में आगमन पर राज्यपाल राम नाईक तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीएम की अगवानी करने के लिए इलाहाबाद के बमरौली एयरपोर्ट पर हैं। वहां पर सीएम योगी के साथ ही राज्यपाल राम नाईक ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया।
आगमन से पहले ही कार्यक्रम स्थल पर शार्ट सर्किट हो गया। इलाहाबाद हाई कोर्ट प्रांगण में बने पंडाल में शार्ट सर्किट के तत्काल बाद ही वहां का मुआयना किया गया।
प्रांगण में बने पंडाल के पास तैनात सुरक्षा बल के जवानों से साथ आयोजन समिति से जुड़े लोगों ने तत्काल फायर इस्टिंग्यूशर का प्रयोग कर आग को बुझा दिया। इसके बाद बिजली की व्यवस्था से जुड़े लोगों को तलब किया। इन लोगों ने वहां पर तार को बदलकर बिजली व्यवस्था को सुचारू रूप से चालू कराया।
पीएम नरेंद्र मोदी आज आएंगे इलाहाबाद, छावनी में तब्दील हुआ शहर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आज इलाहाबाद में इलाहाबाद हाई कोर्ट के 150वें वर्ष के समापन समारोह में शिरकत करना है। इनके साथ डिप्टी सीएम केशव मौर्या, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जीएस खेहर और यूपी के गवर्नर राम नाइक भी प्रोग्राम में शामिल होंगे। केन्द्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद भी कार्यक्रम में मौजूद हैं। कोलकाता और मुंबई हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश साथ ही देश की सर्वोच्च अदालत के कई न्यायाधीश भी कार्यक्रम में मौजूद हैं।
सुबह मोदी की अगवानी के लिए रात दीवाली की तरह जगमगा रही संगमनगरी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बमरौली एयरपोर्ट पर मोदी को रिसीव करेंगे। इसके बाद सीधे हाईकोर्ट में आयोजन में हिस्सा लेंगे। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ करीब 12.30 बजे प्रधानमंत्री को इलाहाबाद से दिल्ली रवाना करने वापस बमरौली एयरपोर्ट आएंगे और वहीं पर लंच करने के बाद वापस चले जाएंगे।
ड्रोन कैमरों से रखी जाएगी नजर
- प्रोग्राम की सिक्युरिटी के लिए एसपीजी कई दिनों से इलाहबाद में डेरा डाले है। एयरपोर्ट से लेकर समारोह स्थल तक चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात रहेंगे।
- हाई कोर्ट के आसपास की बिल्डिंग को भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है। इलाहबाद एसएसपी शलभ माथुर के मुताबिक, ड्रोन कैमरों से भी हाईकोर्ट के आसपास नजर रखी जा रही है।
इलाहाबाद हाई कोर्ट का इतिहास
- इलाहाबाद हाई कोर्ट एशिया का सबसे बड़ा और सबसे पुराना हाई कोर्ट है। इसकी स्थापना 17 मार्च 1866 में हुई थी। सर वॉल्टर मॉर्गन इलाहाबाद हाई कोर्ट के पहले चीफ जस्टिस थे।
- उस वक्त सिर्फ 6 जज ही थे, लेकिन अब यहां जजों के 160 पद हैं। इसके अलावा करीब 17 हजार वकील हाईकोर्ट से जुड़े हुए हैं, लेकिन उस वक्त महज दर्जन भर ही वकील थे।

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas