: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : अपर्णा यादव का अखिलेश पर निशाना, मुझे ईवीएम ने नहीं अपनों ने हराया

अपर्णा यादव का अखिलेश पर निशाना, मुझे ईवीएम ने नहीं अपनों ने हराया



लखनऊ । समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद ईवीएम में खामी की बात को सिरे से खारिज कर दिया है। लखनऊ के कैंट क्षेत्र से समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी रहीं अपर्णा ने कहा कि मुझे चुनाव में ईवीएम ने नहीं, अपनों ने हराया है।
अपर्णा यादव के इस बयान से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के ईवीएम पर हार का ठीकरा फोडऩे के अभियान को झटका लगा है।
यह भी पढ़ें: मुलायम का अखिलेश पर हमला, जो पिता का नहीं हुआ तो और किसी का क्या होगा
सपा के संस्थापक अध्यक्ष तथा अब संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने विधानसभा चुनाव में ईवीएम की गड़बड़ी से हार के आरोपों को नकार दिया है। कैंट विधानसभा से सपा प्रत्याशी रहीं अपर्णा ने कहा कि मुझे ईवीएम ने नहीं हराया, बल्कि अपनों ने हराया है।
यह भी पढ़ें: शिवपाल सिंह यादव ने दिया नई पार्टी बनाने का संकेत
कल क्षेत्रीय जनता के लिये आयोजित धन्यवाद समारोह में अपर्णा यादव ने कहा कि अपनों से चोट जब लगती है तो उसके घाव बहुत ही गंभीर होते हैं। हार कभी-कभी आपको बहुत कुछ सिखा जाता है। इस हार से मुझे भी वह चश्मा मिल गया जिससे मैं अपने और पराये की पहचान कर सकती हूं। 'उन्होंने शायराना अंदाज में कहा की 'कश्तियां वहां आकर डूब गईं जहां साहिल करीब था'।
उन्होंने कहा कि आप लोग एक बार महाभारत उठा कर देखिए। भगवान श्री कृष्ण अर्जुन के सारथी थे जो संपूर्ण त्रिलोक के स्वामी थे। वह जब अर्जुन के सारथी बनकर साथ दे सकते थे तो कैंट के बड़े नेता भी श्रीकृष्ण बनकर मेरा साथ दे सकते थे।
यह भी पढ़ें: सीएम योगी की अखिलेश के 'ड्रीम प्रोजेक्ट्स' पर नजरें टेढ़ी, अब होगी जांच
इससे उनकी प्रशंसा ही होती और हम चुनाव जीत गए होते। उन्होंने कहा कि शायद मेरी किस्मत में लोहिया जी जैसे उन बड़े नामों में जुडऩा लिखा है, जो पहली बार हारने के बाद देश के बड़े नेता बनकर उभरे और उनका नाम इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों में लिखा गया। अपर्णा यादव ने कहा कि हार और जीत जीवन का क्रम है और हार से सीखकर हमें आगे बढऩे की जरूरत है।
-

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas