: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : शराब की दुकानों में तोड़फोड़, आग लगाई

शराब की दुकानों में तोड़फोड़, आग लगाई



बदायूं : अवैध तरीके से खोली गईं शराब की दुकानों के खिलाफ आंदोलन जारी रहा। आक्रोशित महिलाओं और पुरुषों ने दो दुकानों में तोड़फोड़ करने के साथ ही आग लगा दी। शहर से लेकर देहात तक शराब की वजह से हुए बवाल पुलिस को दौड़ाते रहे। इससे कानून-व्यवस्था भी काफी हद तक प्रभावित हुई। सुबह से शुरू हुआ बवाल शाम तक जैसे-तैसे शांत हुआ।
हाईवे पर शराब की दुकान बंद होने के बाद शहर के लोटनपुरा में शराब कारोबारियों ने अवैध तरीके से दुकान खोल दी। इसकी भनक लगते ही करीब सात दिन पहले लोगों ने जमकर हंगामा काटते हुए दुकान बंद कराने की मांग की थी। सैकड़ों की संख्या में महिलाओं और पुरुषों ने प्रदर्शन किया तो पुलिस ने उन्हें जल्द ही दुकान बंद कराने का आश्वासन देते हुए शांत कराया था मगर, दुकान बंद नहीं हुई। इससे मुहल्ले के लोग और आक्रोशित हो उठे। रविवार को सुबह से ही तमाम महिलाएं दुकान पर पहुंचीं और दुकान को बंद कराने के लिए कहा। यह सुनते ही दुकान पर मौजूद सेल्समैन ने दुकान बंद कराने का विरोध किया। इस बात पर महिलाओं ने दुकान में तोड़फोड़ शुरू कर दी। तोड़फोड़ शुरू होते ही दुकान पर तैनात सेल्समैन भाग खड़े हुए। कुछ ही देर में शराब माफियाओं के गुर्गे दुकान पर पहुंचे तो उन्होंने महिलाओं को धमकाना शुरू कर दिया। इस बात से आक्रोशित महिलाओं ने उन्हें भी दौड़ा दिया। काफी देर तक हुए बवाल के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने उन्हें समझा-बुझाकर वहां से हटाया। बाद में सभी लोगों ने सदर विधायक महेश चंद्र गुप्ता को ज्ञापन देते हुए कार्रवाई की मांग की। पुलिस अभी यहां का मामला शांत कराकर राहत की सांस ले रही थी कि कबूलपुरा मुहल्ले में लोगों ने शराब की दुकान बंद कराने को प्रदर्शन शुरू कर दिया। महिलाओं ने हंगामा काटते हुए दुकान पर तैनात सेल्समैन को दौड़ा दिया। जैसे-तैसे सेल्समैन अपने आप को बचाते हुए वहां से भाग खड़ा हुआ। शराब माफियाओं को इसकी जानकारी हुई तो पुलिस फोर्स लेकर वह मौके पर पहुंच गए। यहां तीन दिन की मोहलत मांगते हुए लोगों को शांत कराया।
संसू, सिलहरी : मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव अहोरामई में घनी बस्ती के बीच मौजूद शराब की दुकान बंद कराने को सुबह से ही महिलाएं इकट्ठा हो गईं। शराब की दुकान पर पहुंचीं महिलाओं ने कहा कि बस्ती के बीच शराब की दुकान पर शराबियों का जमावड़ा लगा रहता है। वह आए दिन महिलाओं के साथ बदसलूकी करते हैं। आए दिन होने वाले हंगामे की वजह से पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य पर भी असर पड़ रहा है। दुकान को बंद कराने के लिए कई बार प्रशासन से मांग की गई, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। महिलाओं ने सेल्समैन से दुकान बंद करने को कहा तो उसने मना कर दिया। इस बात पर आक्रोशित महिलाओं ने दुकान में तोड़फोड़ करते हुए आग लगा दी। आग लगते ही मौके पर अफरा-तफरी मच गई। कुछ ही देर में आबकारी महकमा और पुलिस विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। पुलिस ने सेल्समैन की तहरीर पर करीब तीस महिलाओं के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas