: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : अखबार में विज्ञापन देकर दिया तलाक, ससुराल वालों ने महिला को घर से निकाला

अखबार में विज्ञापन देकर दिया तलाक, ससुराल वालों ने महिला को घर से निकाला



हैदराबाद । तीन तलाक पर देश में छिड़ी बहस के बीच यहां अजीबोगरीब तरीके से तलाक देने का मामला सामने आया है। हैदराबाद के एक व्यक्ति ने पत्नी को अखबार में विज्ञापन देकर तलाक दे दिया। महिला की शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
पुलिस के अनुसार मुहम्मद मुस्तकुद्दीन ने 25 वर्षीय महिला से जनवरी, 2015 में शादी की थी। दोनों साथ में सऊदी अरब गए थे। बीते मार्च में दंपती दस माह के बच्चे के साथ भारत वापस आया था। बाद में मुस्तकुद्दीन फिर सऊदी अरब चला गया था। पीडि़ता ने दो दिन पहले एक उर्दू अखबार में विज्ञापन देखा, जिसमें मुस्तकुद्दीन ने अपने वकील के जरिये उन्हें तलाक देने की घोषणा की थी।
पीडि़ता ने इसकी शिकायत हैदराबाद के मुगलपुरा थाने में दर्ज कराई है। एसीपी एस गंगाधर ने बताया कि मुस्तकुद्दीन 20 लाख रुपये दहेज के लिए महिला को प्रताडि़त भी करता था। शिकायत के अनुसार मुस्तकुद्दीन के सऊदी जाने के बाद ससुराल वालों ने महिला को घर में आने से भी रोक दिया। गंगाधर ने बताया कि महिला ने कई बार पति से संपर्क साधने की कोशिश की लेकिन मुस्तकुद्दीन ने फोन नहीं उठाया। इसके बाद उन्होंने शिकायत दी।
पुलिस ने मुस्तकुद्दीन के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की धारा 498-ए (पति या उसके रिश्तेदार द्वारा महिला के साथ क्रूरता), धारा 506 (आपराधिक तौर पर डराना-धमकाना) के तहत मामला दर्ज किया है। एसीपी ने बताया कि फिलहाल इसका पता लगाया जा रहा है कि अखबार में विज्ञापन देकर तलाक देना शरई के तहत मान्य है या नहीं।
मालूम हो कि मार्च में शादी के आठ दिन बाद ही पोस्टकार्ड के जरिये तलाक देने के मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। एक अन्य मामले में अमेरिका में रहने वाले एक व्यक्ति ने पत्नी को वाट्सएप से तलाक दे दिया था।
-

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas