Budaun express is an online news portal & news paper news in Budaun .Badaun to keep you updateed with tha latest news of your own district covering

Breaking

July 13, 2017

गंगा के पास कचरा फेंकना बैन,





लखनऊ. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने हरिद्वार से उन्नाव तक गंगा के किनारों से सटा 100 मीटर तक का इलाका नो डेवलपमेंट जोन घोषित कर दिया है। इस एरिया के गंगा किनारों से 500 मीटर तक अगर कोई कचरा डालता है तो उसे एन्वायरन्मेंट कम्पनसेशन के तौर पर 50 हजार रुपए देने होंगे। उत्तराखंड के देव प्रयाग में मां गंगा के पुजारी लोकेश शर्मा (19) बताते हैं कि 1 खरब हिंदुओं द्वारा पूजी जाने वाली ये नदी अब मरने की कगार पर है। देव प्रयाग से भरकर ले जाते हैं पानी...

- भारत की पवित्र गंगा बर्फीले हिमालय में एक क्रिस्टल की तरह साफ दिखाई देती है। लेकिन आगे आते-आते वो औद्योगिक केंद्रों के ज्यादा यूज और लाखों भक्तों की वज‍ह से जहरीले कीचड़ में बदल जाती है।
- लोकेश बताते हैं कि देव प्रयाग एक छोटे सा पहाड़ी शहर है। जहां गंगा दो नदियों से मिलकर बनती है। वो अपने परिवार की चौथी पीढ़ी हैं, जो गंगा के पुजारी हैं।
- 'मैंने कहीं और जाने और बसने के बारे में कभी नहीं सोचा था। देवप्रयाग मेरे लिए एक स्वर्ग है, मुझे मां गंगा के पास पैदा होने का सौभाग्य है मिला।'
- यहां लोग आते हैं और अपनी बोतलों में यहां से पानी भरकर ले जाते हैं। उससे देवताओं की मूर्ति की पूजा करते हैं और विश्वास करते हैं कि गंगा का एक बूंद पानी जीवन भर के पापों से मुक्ति दिला देगा।
कानपुर में बदल जाता है पानी का रंग
- गंगा का पानी जैसे ही उत्तर भारत की घनी आबादी वाले क्षेत्र में आता है, वो मटमैला हो जाता है। यहां ये नदी करीब 2,525 किमी-लंबी (1,570 मील) है।
- कानपुर में नालियों से सीवेज डालने से और फोम फ्लोट डालने से नदी लाल हो जाती है। इतना ही नहीं इसमें चमड़े के कारखाने के कैमिकल्स भी डाले जाते हैं।
काशी में नहाने लायक भी नहीं है पानी
- गंगा की सबसे ज्यादा परेशान कर देने वाली स्थिति हिंदुओं के प्राचीन-पवित्र शहर काशी में है।
- धर्म के नाम पर लोगों ने पानी को गंदा कर दिया है। स्नान घाटों को नदी से जोड़ दिया गया है।
- 58 साल के नाविक अनिल साहनी ने कहा, 'मुझे याद है कि पहले पानी बहुत साफ था और हम इसे पी सकते थे।' अब आप इसमें स्नान भी नहीं कर सकते।'
- मिर्जापुर के 66 साल के पुजारी अशोक कुमार ने कहा, 'गंगा हमारी मां है यदि वो मर जाती है, तो हमारा भी भविष्य में कोई भविष्य नहीं होगा।'

No comments:

Post a Comment

zhakkas

zhakkas