: "width=1100"' name='viewport'/> बदायूँ एक्सप्रेस | तेज रफ़्तार : 01/09/17

पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी और रामवीर उपाध्याय की बढ़ेगी मुश्किल

सतर्कता अधिष्ठान ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी और रामवीर उपाध्याय के खिलाफ अन्वेषण में आय से अधिक संपत्ति का मामला पाया है।


लखनऊ  । आय से अधिक संपत्ति की सतर्कता जांच में आरोपों से घिरे पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी और रामवीर उपाध्याय की मुश्किल बढ़ेगी। शासन इसी हफ्ते उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए हरी झंडी दे सकता है। शासन में अंतिम निर्णय लेने की प्रक्रिया चल रही है।
सतर्कता अधिष्ठान ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी और रामवीर उपाध्याय के खिलाफ अन्वेषण में आय से अधिक संपत्ति का मामला पाया है। अनुपातिक संपत्ति के अन्वेषण में सिद्दीकी के खिलाफ कई आय से अधिक खर्च के साक्ष्य मिले। 1997 से 2012 के बीच उन्होंने 69 लाख रुपये कमाए और 14 करोड़ खर्च किए। उनकी कई संपत्ति उजागर हुई। नसीमुद्दीन सिद्दीकी और उनकी पत्नी हुस्ना सिद्दीकी पर कुर्सी रोड पर वास्तविक मूल्य से कम कीमत पर भूमि खरीदने, करीब 200 करोड़ रुपये की आर्थिक अनियमितता, अवैध धन उगाही और फर्जी तरीके से जमीन खरीदने के भी आरोप की सतर्कता अधिष्ठान ने खुली जांच की थी। इस रिपोर्ट पर भी शासन अग्रिम कार्रवाई के लिए विचार कर रहा है। उधर, पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय पर हाथरस में जमीन और स्टांप चोरी से लेकर कई गंभीर मामले हैं। संकेत मिले हैं कि जल्द ही शासन की ओर से इनके खिलाफ कार्रवाई की हरी झंडी मिल जाएगी। उल्लेखनीय है कि लोकायुक्त की जांच रिपोर्ट पर सतर्कता अधिष्ठान ने मायावती सरकार के कई पूर्व मंत्रियों के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति और भ्रष्टाचार की जांच की थी। इसमें कई लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज हो चुके हैं



9 मार्च से शुरू होगी सीबीएसइ की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा




उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसइ) की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा 9 मार्च 2017 से शुरू होंगी।
नई दिल्ली । सीबीएसइ बोर्ड की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाएं आगामी नौ मार्च से शुरू होंगी। पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए परीक्षा का कार्यक्रम रखा गया है।
सीबीएसइ ने एक बयान में कहा कि परीक्षा एक सप्ताह टालने से पहले काफी विचार विमर्श किया गया। अब छात्रों को परीक्षा की तैयारी करने के लिए और समय मिलेगा। सीबीएसइ की जन सम्पर्क अधिकारी रमा शर्मा ने बताया कि पंजाब, गोवा, मणिपुर, उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सीबीएसइ की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा 9 मार्च 2017 से आयोजित करने का निर्णय किया गया है।
रमा शर्मा ने बताया कि बोर्ड ने परीक्षा की तिथि एक सप्ताह आगे बढ़ाने का निर्णय करने से पहले स्थिति पर सावधानी पूर्वक विचार किया जिससे छात्रों को परीक्षा की तैयारी करने के लिए अधिक समय मिल सकेगा और परीक्षा निर्वाध रूप से दे पायेंगे।
नर्सरी एडमिशन: 298 स्कूलों के लिए जल्द तय हो सकता है दाखिला क्राइटेरिया
शर्मा ने बताया कि बोर्ड ने इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि महत्वपूर्ण विषयों के पत्रों की परीक्षा तिथियों के बीच में व्यावहारिक अंतर हो। सीबीएसइ की 10वीं कक्षा की परीक्षा के कार्यक्रम के अनुसार, 10 मार्च को हिन्दी कोर्स 'ए' और 'बी', 22 मार्च को साइंस , 25 मार्च को संस्कृत, 30 मार्च को अंग्रेजी, 3 अप्रैल को गणित, 5 अप्रैल को फाउंडेशन आफ इंफार्मेशन टेक्नोलॉजी, 8 अप्रैल को सामाजिक विज्ञान और 10 अप्रैल को गृह विज्ञान जैसे विषयों की परीक्षा होगी।

मुलायम सिंह का बड़ा बयान- अखिलेश ही होंगे अगले CM, पार्टी ना टूटी है- ना टूटेगी




लखनऊ.समाजवादी पार्टी के साइकिल सिंबल पर दावेदारी को लेकर मुलायम सिंह यादव सोमवार को इलेक्शन कमीशन पहुंचे। इसके बाद रात को मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने कहा- समाजवादी पार्टी एक ही है। चुनाव के बाद अगले सीएम अखिलेश यादव ही रहेंगे। इसमें कोई कन्‍फ्यूजन नहीं है। समाजवादी पार्टी ना टूटी है और ना टूटेगी। उधर, अखिलेश गुट की तरफ से रामगोपाल ने इलेक्शन कमीशन के अफसरों से मुलाकात की। बता दें कि आयोग ने दोनों पक्षों को पार्टी सिंबल विवाद पर 9 जनवरी तक एफिडेविट देने को कहा था। मुलायम ने कहा था- मैं जाते ही ठीक कर दूंगा...

- मुलायम ने सोमवार को कहा- "आप तो जानते हैं कि एक-दो लोग हैं जिन्होंने हमारे लड़के को बहका दिया है। मेरी अखिलेश से काफी बात हुई। सुबह बात हुई। अब जा रहा हूं। देखता हूं क्या कहता है?
- "हमारे और मेरे पुत्र के बीच कोई विवाद नहीं है। यह मामला मेरे और मेरे बेटे के बीच हैं। एक शख्स है जो मतभेद लाने की कोशिश कर रहा है। मैं जाते ही ठीक कर दूंगा।"
- न्यूज एजेंसी ने पार्टी सूत्रों के हवाले से बताया कि मुलायम ने ईसी को बताया कि रामगोपाल यादव ने जो पार्टी का अधिवेशन बुलाया था। वह पार्टी के संविधान के मुताबिक नहीं था। इसलिए, उसमें लिए गए फैसले वैध नहीं है।
- अमर सिंह और शिवपाल यादव के साथ मुलायम इलेक्शन कमीशन पहुंचे थे।
- इस बीच, मुलायम सिंह ने राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी को लेटर लिखकर रामगोपाल यादव से राज्यसभा में एसपी के नेता का दर्जा वापस लिए जाने की मांग की है।
रामगोपाल ने कहा- ईसी सिंबल पर फैसला जल्द लें
- अखिलेश गुट की तरफ से रामगोपाल यादव ने ईसी से करीब 2:30 बजे मुलाकात की।
- मीटिंग के बाद रामगोपाल ने बताया कि हमने इलेक्शन नजदीक होने का हवाला देते हुए ईसी से जल्द ही सिंबल पर फैसला लेने की अपील की है।
- हालांकि, उन्होंने मुलायम सिंह के किसी भी बयान पर कमेंट करने से मना कर दिया।
सीज हो सकता है सिंबल
- दोनों ही खेमे सिंबल को लेकर अड़े हैं। जानकारों का कहना है कि इलेक्शन कमीशन इस पर जल्दी फैसला नहीं ले सकता है। जांच करने के लिए उसे वक्त चाहिए।
- ऐसे में जांच जारी रहने तक आयोग साइकिल निशान को फ्रीज कर दोनों गुटों को नया चुनाव चिह्न दे सकता है।
मुलायम ने खुद को बताया सपा का राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष
- वहीं, रविवार शाम मुलायम सिंह ने दिल्‍ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। इसमें उन्‍होंने कहा था- "मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष हूं, शिवपाल प्रदेश अध्यक्ष हैं और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री हैं।"
- "हमने रामगोपाल को 30 दिसंबर को छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया था। रामगोपाल ने जो सम्मेलन बुलाया वो फर्जी है।"
मुलायम ने जड़ा पार्टी ऑफिस पर ताला, अखिलेश की नेमप्लेट हटाई
- लखनऊ में मुलायम ने कहा था, "पार्टी के अंदर कोई विवाद नहीं है, तो समझौता कैसा?"
- रविवार को दिल्ली रवाना होने से पहले लखनऊ के पार्टी ऑफिस में मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव की राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और नरेश उत्‍तम की प्रदेश अध्‍यक्ष के नाम से लगी नेमप्‍लेट को हटवा दिया था।
- इसके बाद मुलायम के नाम वाली राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और शिवपाल के नाम वाली प्रदेश अध्‍यक्ष की प्‍लेट दोबारा लगाई गईं। पार्टी ऑफिस के कमरों में ताला लगवाकर मुलायम दिल्‍ली रवाना हो गए।
- मुलायम ने अपने ऑफिसर ऑन स्‍पेशल ड्यूटी (ओएसडी) जगजीवन से ऑफिस की चाबियां लेकर रख लीं। इस दौरान अखिलेश खेमे के वर्कर्स नारेबाजी करते रहे।
- जब मीडिया ने पूछा कि क्या अखिलेश पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनें रहेंगे?" इस पर मुलायम बोले, "क्या मैं इतना बेवकूफ दिखता हूं।"
- मुलायम दिल्ली पहुंचे और सीधे अमर सिंह के घर गए। यहां पार्टी वर्कर्स से भावुक होते हुए कहा, "मेरे पास गिनती के विधायक हैं। अखिलेश विद्रोही है पर मेरा बेटा है। वो जो कर रहा है, उसे करने दो।"
अखिलेश गुट ने डेढ़ लाख से ज्यादा डॉक्युमेंट्स ईसी को सौंपे
- 7 जनवरी को सपा के सिंबल मामले में रामगोपाल यादव अपना पक्ष रखने के लिए इलेक्‍शन कमीशन के ऑफिस पहुंचे थे।
- यहां रामगोपाल 7 बक्सों में करीब डेढ़ लाख से ज्यादा डॉक्युमेंट्स भरकर लाए थे। रामगोपाल ने चुनाव आयोग के सामने 6 बक्‍सों में 4,600 व्‍यक्तिगत एफिडेविट पेश किए।
- उन्होंने कहा, "इलेक्शन कमीशन ने हमें 9 तारीख तक का वक्त दिया था। लेकिन हमने सभी जरूरी कागजात सबमिट कर दिए।"
- उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी और साइकिल पर हमारा हक है।

कमांडो के रोल में दिखेंगे बाबा राम रहीम, सोशल मीडिया पर छाया पोस्टर



बाबा राम रहीम एक बार फिर से अपनी फिल्म को लेकर चर्चा में हैं.राम रहीम सिंह जल्द ही एक बार फिर जल्द ही स्‍क्रीन पर कमांडो की भूमिका में धूम मचाते हुए देखेंगे. शनिवार देर शाम उन्होंने अपनी पांचवीं फिल्म ‘हिन्द का नापाक को जवाब’ का पोस्टर रिलीज किया है। राम रहीम द्वारा ट्विटर रिलीज किए गए इस पोस्टर ने कुछ ही घंटों में सोशल मीडिया पर खूब धूम मचा दी। सर्जिकल स्ट्राइक पर आधारित है ये फिल्म पोस्टर में उनकी बेटी हनीप्रीत भी उनके साथ नजर आ रही हैं. कमांडो की यूनिफार्म में नजर आ रहे  है. बाबा राम रहीमने पोस्टर से ही लोगों का दिल जीत लिया है. यह फिल्म सर्जिकल स्ट्राइक पर है और इसी महीने इस फिल्म का ट्रेलर लॉन्च किए जाने की संभावना है.

zhakkas

zhakkas